क्या पित्त और असिडिटी समान है?...


user

Dr. Mitramahesh

Ayurvedic Doctors

3:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह सारे रोगों का मूल कारण अशुद्ध खानपान और अशुद्ध विचारों के द्वारा जीवन केंद्र जो ढीलापन होता है जीवन के अंदर जो दुर्बलता की अनियमितता थी उसके कारण यह सारी बातें होती है और मानसिक विचारों से भी व्यक्ति उत्तेजना में आकर की भी स्पेशिलिटी हो जाती है और जो दूसरे और दो से बढ़ जाते हैं और उसको रोकने के लिए हम लोग बार-बार करते हैं कि आप लोग बहुत जल्दी से उठा करिए सुबह में सूर्योदय से दो-तीन घंटे पहले दांतों पर मल मूत्र का विसर्जन करिए आप लोगों के 24 लोटे पानी पीजिए तांबे के घड़े वाला आप लोग दांतों की सफाई करी है जेब की सफाई करिए स्थान करिए व्यायाम करिए परमात्मा के गायत्री मंत्र का जप करिए ओंकार नमः शिवाय का और व्यायाम बकरी योगा देश को तेरी करिए बैटरी करिए करी में यज्ञ हवन करिए और आप लोग जो नाश्ता वगैरह करते हैं तो आप औरों से तथा से दूध वगैरा लेंगे तो आपको तीनों दोषों का शमन होगा शरीर में शक्ति आएगी और सारे नियमों से सभी के अंदर बहुत पावरफुल अनियमितता से शरीर की शक्ति बड़ी करके आपका मानसिक विकास भी होगा और आप अनुसार निरोगी तंदुरुस्त रहेंगे और आप लोगों को भी अच्छी बातों की तरह न दीजिए लोगों को बताइए कि 20 को स्वच्छता के लिए साफ-सफाई अच्छी नियम बहुत जरूरी है और उसके कारण व्यक्ति के जीवन का निर्माण होता है कोई व्यक्ति धन कमाने के लिए नियमित उसको काम करना पड़ता है जो कुछ भी कम गवर्नमेंट है या प्राइवेट या कुछ भी दुकानदारी चले गए तो भी मैं उसको रेगुलर नियमित आना पड़ेगा तभी उसको धन की प्राप्ति होगी ओवर रात के 9:00 बजे जाकर की दुकान खोलें और फिर आधी रात को घर पर वापस आए तो कोई कुछ नहीं मिलेगा उसको याद तो कभी जाए कभी यह भी 1 घंटे में दुकान बंद करके घर चला जाए तो अभी उसको कोई आमदनी नहीं होगी आमदनी होने के लिए सुबह से शाम तक उसको नियमित समय के अनुसार काम करना पड़ेगा अच्छी चीजें रखनी पड़ेगी अच्छा व्यवहार करके लोगों के साथ है चाय बनानी पड़ेगी तब उसका बिजनेस चल सकता है इसी प्रकार से शरीर और समाज और परिवार के अंदर आप लोग अच्छे नीति नियम को पालन करेंगे वही सबसे बड़ी बात है और उसी से के द्वारा आपके शरीर का मन का निर्माण होगा और कोई बेकार बेकार धर्म के तौर पर और जिसे तौर पर छोटे-मोटे व्रत करो यह करो वह करो उसका कोई मीनिंग नहीं है वह करने से कोई फायदा नहीं है और आप ऐसी बातों में फंसी नहीं जो जीवन के अंदर सदाचार के मुख्य अच्छे-अच्छे नियम में शुद्धता के नियम है उसको अपना करके ही आप अपने शरीर को सर रख सकते हैं और समाज में भी अच्छा उदाहरण दे सकते हैं और समाज की रचना भी अच्छी कर सकते हैं और हमेशा निरोगी कर सकते हैं धन्यवाद

yah saare rogo ka mul karan ashuddh khanpan aur ashuddh vicharon ke dwara jeevan kendra jo dhilapan hota hai jeevan ke andar jo durbalata ki aniyamitta thi uske karan yah saari batein hoti hai aur mansik vicharon se bhi vyakti uttejna me aakar ki bhi speshiliti ho jaati hai aur jo dusre aur do se badh jaate hain aur usko rokne ke liye hum log baar baar karte hain ki aap log bahut jaldi se utha kariye subah me suryoday se do teen ghante pehle danton par mal mutra ka visarjan kariye aap logo ke 24 lote paani PGA tambe ke ghade vala aap log danton ki safaai kari hai jeb ki safaai kariye sthan kariye vyayam kariye paramatma ke gayatri mantra ka jap kariye onkaar namah shivay ka aur vyayam bakri yoga desh ko teri kariye battery kariye kari me yagya hawan kariye aur aap log jo nashta vagera karte hain toh aap auron se tatha se doodh vagera lenge toh aapko tatvo doshon ka shaman hoga sharir me shakti aayegi aur saare niyamon se sabhi ke andar bahut powerful aniyamitta se sharir ki shakti badi karke aapka mansik vikas bhi hoga aur aap anusaar nirogee tandurust rahenge aur aap logo ko bhi achi baaton ki tarah na dijiye logo ko bataiye ki 20 ko swachhta ke liye saaf safaai achi niyam bahut zaroori hai aur uske karan vyakti ke jeevan ka nirmaan hota hai koi vyakti dhan kamane ke liye niyamit usko kaam karna padta hai jo kuch bhi kam government hai ya private ya kuch bhi dukandari chale gaye toh bhi main usko regular niyamit aana padega tabhi usko dhan ki prapti hogi over raat ke 9 00 baje jaakar ki dukaan kholen aur phir aadhi raat ko ghar par wapas aaye toh koi kuch nahi milega usko yaad toh kabhi jaaye kabhi yah bhi 1 ghante me dukaan band karke ghar chala jaaye toh abhi usko koi aamdani nahi hogi aamdani hone ke liye subah se shaam tak usko niyamit samay ke anusaar kaam karna padega achi cheezen rakhni padegi accha vyavhar karke logo ke saath hai chai banani padegi tab uska business chal sakta hai isi prakar se sharir aur samaj aur parivar ke andar aap log acche niti niyam ko palan karenge wahi sabse badi baat hai aur usi se ke dwara aapke sharir ka man ka nirmaan hoga aur koi bekar bekar dharm ke taur par aur jise taur par chote mote vrat karo yah karo vaah karo uska koi meaning nahi hai vaah karne se koi fayda nahi hai aur aap aisi baaton me fansi nahi jo jeevan ke andar sadachar ke mukhya acche acche niyam me shuddhta ke niyam hai usko apna karke hi aap apne sharir ko sir rakh sakte hain aur samaj me bhi accha udaharan de sakte hain aur samaj ki rachna bhi achi kar sakte hain aur hamesha nirogee kar sakte hain dhanyavad

यह सारे रोगों का मूल कारण अशुद्ध खानपान और अशुद्ध विचारों के द्वारा जीवन केंद्र जो ढीलापन

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  142
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Dr. Amit Hardia

Panchkarma Specialist

0:30

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक बटन है एक बड़ा शब्द है उसके अंतर्गत एसिडिटी आ सकती है एसिडिटी की ऊपर की तरफ जब वह आता है तो उसे एसिडिटी के रूप में कहा जा सकता है बाकी पिक्चर अमर पूरे शरीर में स्थित होता है इसलिए ऐसा नहीं कह सकते कि इसका मतलब ही है इसके और भी अनेक कार्य होते हैं इसलिए

ek button hai ek bada shabd hai uske antargat acidity aa sakti hai acidity ki upar ki taraf jab vaah aata hai toh use acidity ke roop mein kaha ja sakta hai baki picture amar poore sharir mein sthit hota hai isliye aisa nahi keh sakte ki iska matlab hi hai iske aur bhi anek karya hote hain isliye

एक बटन है एक बड़ा शब्द है उसके अंतर्गत एसिडिटी आ सकती है एसिडिटी की ऊपर की तरफ जब वह आता ह

Romanized Version
Likes  116  Dislikes    views  1520
WhatsApp_icon
user

Dr. Anuj Dupta

Director and chief ayurvedic consultant and founder of Mantra Ayurveda.

0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल फिट शिर्डी शैंपू से मिलता है

bilkul fit shirdi shampoo se milta hai

बिल्कुल फिट शिर्डी शैंपू से मिलता है

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  296
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!