जीवन के कितने लक्षण होते हैं?...


play
user

Geet Awadhiya

Aspiring Software Developer

0:31

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नक्शा एवं पहचान चिन्ह को कहते हैं जीवन मैंने लाइफ की तो पहचान जी ना होते हैं वह ऐसी प्रक्रिया होती है जिसके द्वारा कोई भी वस्तु हो व खुद से फैलती है बड़ी होती है तथा अपने कार्य खुद कहती हो जो अप्राकृतिक होती है उसे हम जीवन के लक्षणों में ज्ञात करते हैं जैसे कि इंसानों का साथ लेना किसी जीव का एक जगह से दूसरी जगह चलना पेड़ों का बड़ा होना आदि

naksha evam pehchaan chinh ko kehte hain jeevan maine life ki toh pehchaan ji na hote hain wah aisi prakriya hoti hai jiske dwara koi bhi vastu ho va khud se failati hai badi hoti hai tatha apne karya khud kehti ho jo apraakrtik hoti hai use hum jeevan ke lakshano mein gyaat karte hain jaise ki insano ka saath lena kisi jeev ka ek jagah se dusri jagah chalna pedon ka bada hona aadi

नक्शा एवं पहचान चिन्ह को कहते हैं जीवन मैंने लाइफ की तो पहचान जी ना होते हैं वह ऐसी प्रक्र

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  459
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!