बचपन के अनुभव स्मृति में क्यों स्थाई होता है?...


user

Shahin Fidai

Counseling as per Neuroscience, www.Youtube.com/Shahintalks www.Thevitalitycafe.com/Counseling

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बचपन के अनुभव स्थिति में इसे स्थाई होते हैं क्योंकि वह और थी और थी और अनुभव होते हैं वह बहुत ही सच्चाई भरे अनुभव होते हैं बचपन में किसी को भी किसी के अंदर कोई गैलरी कोई इज्जत नहीं होती है इसलिए कहा जाता है कि बच्चे बहुत मासूम होते हैं और यह इतनी प्योरिटी भरे अनुभव होते हैं जो हमेशा एक ही बनकर ही रह जाते हैं लेकिन यह बहुत जरूरी है कि आप अभी भी अपने अंदर के जो बच्चे हैं उसको आप अभी भी जिंदा रखो क्योंकि जितना हो अंदर का बचपन और अंदर का बच्चा आपके अंदर जिंदा रहेगा तो आपका हर पल मृत्यु से भरपूर रहेगा और यह बहुत ही इजी चीजें हैं करने के लिए हमें सिर्फ थोड़ी सी हमारी सोच में तब्दीली लानी पड़ती है और हम सोच में हमारी तकदीर इस तरह से लाए कैसे हम अपनी सोच में उर्जा जगाए ताकि हमारा हर एक दिन हंसता हुआ गुजरे स्मृति के साथ गुजरे और हर पल हर वक्त यह जी भर के प्रिय पूरी जो सोचने समझने के लिए प्रतिक्रियाएं है इनके ऊपर ही मेरी अब मेरा पूरा वीडियो है और यह वीडियो सारे यूट्यूब पर है और जब मैंने अपनी प्रोफाइल पर रखा है तो आप मेरे वीडियोस को देख सकते हैं समझ सकते हैं और हर पल हर वक्त आप अपना सुख शांति और समृद्धि के साथ बिता सकते हैं यहां तक कि आप अपने आने वाले दिन में भी प्लानिंग कर सकते हैं ताकि आप अपना जीवन जो है वह खुशियों के साथ बिताए और हर पल अब सुख शांति और समृद्धि के साथ रहे बेस्ट ऑफ लक आपका जीवन शुभ हो

bachpan ke anubhav sthiti me ise sthai hote hain kyonki vaah aur thi aur thi aur anubhav hote hain vaah bahut hi sacchai bhare anubhav hote hain bachpan me kisi ko bhi kisi ke andar koi gallery koi izzat nahi hoti hai isliye kaha jata hai ki bacche bahut masoom hote hain aur yah itni pyoriti bhare anubhav hote hain jo hamesha ek hi bankar hi reh jaate hain lekin yah bahut zaroori hai ki aap abhi bhi apne andar ke jo bacche hain usko aap abhi bhi zinda rakho kyonki jitna ho andar ka bachpan aur andar ka baccha aapke andar zinda rahega toh aapka har pal mrityu se bharpur rahega aur yah bahut hi easy cheezen hain karne ke liye hamein sirf thodi si hamari soch me tabdili lani padti hai aur hum soch me hamari takdir is tarah se laye kaise hum apni soch me urja jagae taki hamara har ek din hansata hua gujare smriti ke saath gujare aur har pal har waqt yah ji bhar ke priya puri jo sochne samjhne ke liye pratikriyaen hai inke upar hi meri ab mera pura video hai aur yah video saare youtube par hai aur jab maine apni profile par rakha hai toh aap mere videos ko dekh sakte hain samajh sakte hain aur har pal har waqt aap apna sukh shanti aur samridhi ke saath bita sakte hain yahan tak ki aap apne aane waale din me bhi planning kar sakte hain taki aap apna jeevan jo hai vaah khushiyon ke saath bitae aur har pal ab sukh shanti aur samridhi ke saath rahe best of luck aapka jeevan shubha ho

बचपन के अनुभव स्थिति में इसे स्थाई होते हैं क्योंकि वह और थी और थी और अनुभव होते हैं वह बह

Romanized Version
Likes  146  Dislikes    views  4877
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!