user

Harender Kumar Yadav

Career Counsellor.

0:35
Play

Likes  525  Dislikes    views  5848
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr. Guddy Kumari

UPSC Coach / Ph.d

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्यों यूपीएससी आकांक्षी असफल क्यों होते हैं इस तरह से असफल होते हैं तो टॉप करने वाले रहते हैं जो रिजल्ट निकलता है तो क्या होता ही नहीं होते ऐसे ही पैसे टपक गए होते हैं ऐसा नहीं है जो अच्छा लगता है जो सपना देखता है मेहनत करता है वही सफल होता है सिर्फ सपने देखने से ही कुछ सफल नहीं हो पाता इसलिए इस तरह की नेगेटिव बातें अपने दिमाग से निकाल दिया तैयारी करना चाहते तो पूरी लगन और मेहनत के साथ सकारात्मक सोच के साथ सफल होता है उसके मेहनत कभी बेकार नहीं जाते धन्यवाद

kyon upsc akankshi asafal kyon hote hain is tarah se asafal hote hain toh top karne waale rehte hain jo result nikalta hai toh kya hota hi nahi hote aise hi paise tapak gaye hote hain aisa nahi hai jo accha lagta hai jo sapna dekhta hai mehnat karta hai wahi safal hota hai sirf sapne dekhne se hi kuch safal nahi ho pata isliye is tarah ki Negative batein apne dimag se nikaal diya taiyari karna chahte toh puri lagan aur mehnat ke saath sakaratmak soch ke saath safal hota hai uske mehnat kabhi bekar nahi jaate dhanyavad

क्यों यूपीएससी आकांक्षी असफल क्यों होते हैं इस तरह से असफल होते हैं तो टॉप करने वाले रहते

Romanized Version
Likes  306  Dislikes    views  2877
WhatsApp_icon
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

1:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका पास में क्यों यूपीएससी आकांक्षी असफल क्यों होते हैं इसलिए कि प्रतिस्पर्धा जीवन के हर क्षेत्र में है यूपीएससी में एक राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता है बहुत सारे कैंडिडेट शामिल होते हैं इसलिए पॉइंट 25 भाग से 1000 संख्या मेरिट गिर जाती है इतनी अधिक प्रतिस्पर्धा के कारण कई बार आतंकी असफल हो जाते हैं बहुत सारे लोग कड़ी मेहनत से घबराकर बीच में ही अपना प्रयास अधूरा छोड़ देता है इच्छाशक्ति संकल्प शक्ति और निरंतर प्रयास के लिए अत्यंत आवश्यक है साथ ही क्वालिटी स्तरीय व गुणवत्तापूर्ण जो अध्ययन के घंटे हैं आपके खुद के होने चाहिए जिसमें आप अपना स्वयं का सिलेबस और इंपोर्टेंट पॉइंट जो पाठ करते हैं उनके नोट बनाकर एनरिक उसकी तैयारी है उसके लिए कम से कम 5 से 6 घंटे तक उसकी तैयारी आपकी अनुवाद है इतनी मेहनत की सेटिंग आई बारी है परीक्षार्थी अध्यक्ष कि नहीं कर पाते इस कारण से हो जाते हैं लेकिन जहां चाहे जहां वहां का है जहां इच्छाशक्ति है वहां सफलता

aapka paas me kyon upsc akankshi asafal kyon hote hain isliye ki pratispardha jeevan ke har kshetra me hai upsc me ek rashtriya sthar ki pratiyogita hai bahut saare candidate shaamil hote hain isliye point 25 bhag se 1000 sankhya merit gir jaati hai itni adhik pratispardha ke karan kai baar aatanki asafal ho jaate hain bahut saare log kadi mehnat se ghabarakar beech me hi apna prayas adhura chhod deta hai ichchhaashakti sankalp shakti aur nirantar prayas ke liye atyant aavashyak hai saath hi quality stariy va gunavattaapoorn jo adhyayan ke ghante hain aapke khud ke hone chahiye jisme aap apna swayam ka syllabus aur important point jo path karte hain unke note banakar enrique uski taiyari hai uske liye kam se kam 5 se 6 ghante tak uski taiyari aapki anuvad hai itni mehnat ki setting I baari hai pariksharthi adhyaksh ki nahi kar paate is karan se ho jaate hain lekin jaha chahen jaha wahan ka hai jaha ichchhaashakti hai wahan safalta

आपका पास में क्यों यूपीएससी आकांक्षी असफल क्यों होते हैं इसलिए कि प्रतिस्पर्धा जीवन के हर

Romanized Version
Likes  318  Dislikes    views  3183
WhatsApp_icon
user

Ansh jalandra

Motivational speaker & criminal lawyer

0:24
Play

Likes  132  Dislikes    views  2605
WhatsApp_icon
user

vivek sharma

BANK PO| Astrologer | Mutual Fund Advisor। Career Counselor

1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्यों यूपीएससी आकांक्षी असफल होते हैं यूपीएससी में लगभग 4 से 500000 लोग हर साल देते हैं और 1000 व्यक्ति उसमें सफल 1908 कितनी वैकेंसी होती है लेकिन आप गौर करने वाली बात यह है कि जब एक परसेंट से भी कम का रिजल्ट 125 से भी कम का रिजल्ट है उसमें यदि कोई भी व्यक्ति थोड़ी सी भी कम लगता है अपने पढ़ाई में अपने विचारों में अपनी सत्ता में उनके विचारों में बिल्कुल दम होनी चाहिए और वह पूरी ताकत लगाकर पढ़ाई करनी पड़ती है हर समय अपने लक्ष्य को ध्यान में रखना पड़ता है अगर इस बीच में कहीं भी आपका ध्यान भटका या आप इन पूरे साल के अंदर आप अगर एक महीने के लिए भी डिस्टर्ब रहे या फिर और चीज में लग गए तो कैसे जो कारण होते हैं जिंदगी के अंदर आ जाते हैं लोग डिप्रेशन हो जाते हैं और दूसरे कामों में भी लग जाते हैं या फिर कई दिन के लिए पढ़ाई इसीलिए यूपीएससी में लोगवा असफल हो जाते हैं

kyon upsc akankshi asafal hote hain upsc me lagbhag 4 se 500000 log har saal dete hain aur 1000 vyakti usme safal 1908 kitni vacancy hoti hai lekin aap gaur karne wali baat yah hai ki jab ek percent se bhi kam ka result 125 se bhi kam ka result hai usme yadi koi bhi vyakti thodi si bhi kam lagta hai apne padhai me apne vicharon me apni satta me unke vicharon me bilkul dum honi chahiye aur vaah puri takat lagakar padhai karni padti hai har samay apne lakshya ko dhyan me rakhna padta hai agar is beech me kahin bhi aapka dhyan bhataka ya aap in poore saal ke andar aap agar ek mahine ke liye bhi disturb rahe ya phir aur cheez me lag gaye toh kaise jo karan hote hain zindagi ke andar aa jaate hain log depression ho jaate hain aur dusre kaamo me bhi lag jaate hain ya phir kai din ke liye padhai isliye upsc me logva asafal ho jaate hain

क्यों यूपीएससी आकांक्षी असफल होते हैं यूपीएससी में लगभग 4 से 500000 लोग हर साल देते हैं और

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  343
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोई पीछे कांची परसों में अकाउंट चेक करना कोई बड़ा काम नहीं कोई भी एक अच्छा कर सकता है जिंदगी में कुछ बनने की इच्छा रख सकता है लेकिन जब उसकी तैयारी विधि-विधान और नियम से नहीं होगी एक प्रॉपर चैनल ट्रेनिंग होगी एक सिस्टमैटिक वैसे नहीं होगी तो कितने ही टाइम दे दीजिए कितने ही मिटा दे दीजिए कितने ही पैसे खर्च कर लीजिए इतना ही कोचिंग पढ़ लीजिए सफलता पाने के लिए एक सिस्टमैटिक तरीके से प्रॉपर चैनल से स्टेप बाय स्टेप कदम उठाकर चलना पड़ता है और उन कदमों का दामन थाम का हमें सहयोग के साथ लक्ष्य को हासिल करने के लिए विनोद के ठाठ तक करना पड़ता तो निश्चित रूप से यूपीएससी के कैंडिडेट सफल हो सकते हैं

koi peeche kanchi parso me account check karna koi bada kaam nahi koi bhi ek accha kar sakta hai zindagi me kuch banne ki iccha rakh sakta hai lekin jab uski taiyari vidhi vidhan aur niyam se nahi hogi ek proper channel training hogi ek systematic waise nahi hogi toh kitne hi time de dijiye kitne hi mita de dijiye kitne hi paise kharch kar lijiye itna hi coaching padh lijiye safalta paane ke liye ek systematic tarike se proper channel se step bye step kadam uthaakar chalna padta hai aur un kadmon ka daman tham ka hamein sahyog ke saath lakshya ko hasil karne ke liye vinod ke thaath tak karna padta toh nishchit roop se upsc ke candidate safal ho sakte hain

कोई पीछे कांची परसों में अकाउंट चेक करना कोई बड़ा काम नहीं कोई भी एक अच्छा कर सकता है जिं

Romanized Version
Likes  412  Dislikes    views  5104
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यूपीएससी के अध्यक्ष

upsc ke adhyaksh

यूपीएससी के अध्यक्ष

Romanized Version
Likes  370  Dislikes    views  3009
WhatsApp_icon
user

ganesh pazi

Motivator

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसी भी परीक्षा में सफल होने के लिए जरूरी है क्या उस परीक्षा को अपना घर बना लीजिए किसी के देखा कि कि किसी विषय को मछली ने अपनी क्षमता को पहले देख लीजिए यूं ही आप अपनी क्षमता देखेंगे अपनी क्षमता को पहचानेंगे तो आपको सफलता करीब लगने लगेगी यूपीएससी हो चाहे किसी भी किस्म के एग्जामिनेशन है किसी किस्म की परीक्षा हो उसमें असफलता का कारण है कि हम अपनी क्षमता उसके पीछे लगने वाला समय कुछ के पीछे लगने वाली मेहनत के बारे में ठीक से नहीं विचार करते एक बार इन पर ठीक से विचार करें आप कभी भी किसी भी परीक्षा में सफल नहीं होंगे आज

kisi bhi pariksha mein safal hone ke liye zaroori hai kya us pariksha ko apna ghar bana lijiye kisi ke dekha ki ki kisi vishay ko machli ne apni kshamta ko pehle dekh lijiye yun hi aap apni kshamta dekhenge apni kshamta ko pahachanenge toh aapko safalta kareeb lagne lagegi upsc ho chahen kisi bhi kism ke examination hai kisi kism ki pariksha ho usme asafaltaa ka karan hai ki hum apni kshamta uske peeche lagne vala samay kuch ke peeche lagne wali mehnat ke bare mein theek se nahi vichar karte ek baar in par theek se vichar kare aap kabhi bhi kisi bhi pariksha mein safal nahi honge aaj

किसी भी परीक्षा में सफल होने के लिए जरूरी है क्या उस परीक्षा को अपना घर बना लीजिए किसी क

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  403
WhatsApp_icon
play
user

Sukhvir Singh Yadav

Director @Career Mantra

0:45

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बस यही है कि यूपीएससी के चार ही है तो उसके कॉलिंग नहीं दिखा रहे हैं और उनको लगता है कि हां कि इन्होंने कितना बेटा है उसमें ज्यादा अच्छा के लोगों ने कहा क्वेश्चन के कोडिंग लिखा है और उसे लखनऊ से नंबर मिलते हैं लोग नंबर ज्यादा काम करते हैं और अच्छे अच्छे नंबर प्राप्त करके

bus yahi hai ki upsc ke char hi hai toh uske Calling nahi dikha rahe hain aur unko lagta hai ki haan ki inhone kitna beta hai usme zyada accha ke logo ne kaha question ke coding likha hai aur use lucknow se number milte hain log number zyada kaam karte hain aur acche acche number prapt karke

बस यही है कि यूपीएससी के चार ही है तो उसके कॉलिंग नहीं दिखा रहे हैं और उनको लगता है कि हां

Romanized Version
Likes  82  Dislikes    views  1334
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!