हमारे देश का सुधार करने के लिए क्या नेताओं के लिए भी कोई क्वालिफिकेशन की ज़रूरत होनी चाहिए?...


user

Ghanshyam Mehar

Indian Politician

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एजुकेशन की जरूरत नहीं संस्कार की जरूरत है संस्कारवान नेता आनी चाहिए ईमानदार नेता ने दिया धोखा दुश्मन की जरूरत ही क्या जो तेरा मन

education ki zarurat nahi sanskar ki zarurat hai sanskarvan neta aani chahiye imaandaar neta ne diya dhokha dushman ki zarurat hi kya jo tera man

एजुकेशन की जरूरत नहीं संस्कार की जरूरत है संस्कारवान नेता आनी चाहिए ईमानदार नेता ने दिया ध

Romanized Version
Likes  53  Dislikes    views  1470
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Vikas Singh

Political Analyst

1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि क्या हमारे देश का सुधार करने के लिए नेताओं के भी कुछ क्वालिफिकेशन होनी चाहिए जी हां बिल्कुल होनी चाहिए लेकिन कि चाणक्य जी ने बोला है किसी भी समाज को बर्बाद करने में उस समाज के सबसे पढ़े लिखे लोगों का सबसे बड़ा योगदान होता है क्यों होता है जब वह यह भाषा बोलते हैं कि हमारा राजनीति से कोई मतलब नहीं है यानी अपने ऊपर वह अपने से कम पढ़े लिखे लोगों को शासन करने के लिए बोलते तो बताइए वह समाज कैसे आगे बढ़ सकता है हां यह सच है कि ज्यादा डिग्री होगी ज्यादा एजुकेशन होगा इसका मतलब यह है कि आप तो बहुत अच्छे राजनेता भी हो ऐसा नहीं है राजनीति का दांव पेच सीखना पड़ता है यह समाज हमें सिखाता है राजनीति में अगर आप पढ़ लिखकर सक्रिय हो जाते हो मेहनत करते हो कुछ सोशल वर्क करते हो पोस्टर लगाते हो घूमते हो तभी राजनीति सीखने को मिलती है देखी अमित शाह जी थे वह पोस्टर लगा अतिथि राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए गए आज सांसद का चुनाव लड़ने जा रहे हैं तो भारतीय जनता पार्टी के संस्कारों में ही ऐसा है कि गरीब इंसान भी सांसद विधायक मुख्यमंत्री प्रधानमंत्री बन सकता है तो सभी पार्टियों के ऐसी विचारधारा होनी चाहिए लेकिन और सभी पार्टियों की विचारधारा परिवारवाद की विचारधारा है भ्रष्टाचार की विचारधारा है गलत तरीके से राजनीति करने की विचारधारा है नकल कराओ और वोट अपने खाते में करो यह विचारधारा है तो ऐसे ऐसी पार्टी का सपोर्ट करने से आप बचे मैं तो कहूंगा कि अगर आपको अली फाइट है युवाओं को आना पड़ेगा राजनीति में जो अच्छे एजुकेटेड लोग हैं जो वह लोग राजनीति में आएंगे तभी देश तरक्की करेगा तो आइए हम सभी लोग मिलजुलकर अपना महत्वपूर्ण वोट भारतीय जनता पार्टी को करें ताकि युवाओं का मार्गदर्शन अच्छे दिशा में किया जा सके और देश तरक्की कर सके धन्यवाद

aapka sawaal hai ki kya hamare desh ka sudhaar karne ke liye netaon ke bhi kuch qualification honi chahiye ji haan bilkul honi chahiye lekin ki chanakya ji ne bola hai kisi bhi samaj ko barbad karne mein us samaj ke sabse padhe likhe logo ka sabse bada yogdan hota hai kyon hota hai jab vaah yah bhasha bolte hain ki hamara raajneeti se koi matlab nahi hai yani apne upar vaah apne se kam padhe likhe logo ko shasan karne ke liye bolte toh bataye vaah samaj kaise aage badh sakta hai haan yah sach hai ki zyada degree hogi zyada education hoga iska matlab yah hai ki aap toh bahut acche raajneta bhi ho aisa nahi hai raajneeti ka dav patch sikhna padta hai yah samaj hamein sikhata hai raajneeti mein agar aap padh likhkar sakriy ho jaate ho mehnat karte ho kuch social work karte ho poster lagate ho ghumte ho tabhi raajneeti sikhne ko milti hai dekhi amit shah ji the vaah poster laga atithi rashtriya adhyaksh banaye gaye aaj saansad ka chunav ladane ja rahe hain toh bharatiya janta party ke sanskaron mein hi aisa hai ki garib insaan bhi saansad vidhayak mukhyamantri pradhanmantri ban sakta hai toh sabhi partiyon ke aisi vichardhara honi chahiye lekin aur sabhi partiyon ki vichardhara parivaarvaad ki vichardhara hai bhrashtachar ki vichardhara hai galat tarike se raajneeti karne ki vichardhara hai nakal karao aur vote apne khate mein karo yah vichardhara hai toh aise aisi party ka support karne se aap bache main toh kahunga ki agar aapko ali fight hai yuvaon ko aana padega raajneeti mein jo acche educated log hain jo vaah log raajneeti mein aayenge tabhi desh tarakki karega toh aaiye hum sabhi log miljulakar apna mahatvapurna vote bharatiya janta party ko kare taki yuvaon ka margdarshan acche disha mein kiya ja sake aur desh tarakki kar sake dhanyavad

आपका सवाल है कि क्या हमारे देश का सुधार करने के लिए नेताओं के भी कुछ क्वालिफिकेशन होनी चाह

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  359
WhatsApp_icon
user

साकेत कुमार

Senior Software Developer

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए सबसे बड़ी बात तो यह है कि एक बहुत गलत धारणा है कि एक पढ़ा-लिखा नेता बहुत अच्छा नेता होगा अगर आप यह सोच रहे हैं कि कोई व्यक्ति ऑक्सफोर्ड से कैमरे से तेल से पढ़ कर आता है तू बहुत अच्छी तरीके से या योजनाओं का निर्माण करेगा निर्भर करेगा भूल है शिक्षक शिक्षा जो आपको देती है और एक दो नेता बनने के लिए जो चाहिए होता है दोनों में आसमान जमीन का फर्क होता है मैं आपको उदाहरण देता हूं जो सातवीं आठवीं तक पढ़े थे अच्छे से कहने के लिए तो उन्होंने दसवीं दिखा रखा है काम राज की बात करता हूं जो मद्रास के पुराने मुख्यमंत्री रह चुके हैं कामराज कितना पढ़े थे साथ में आठवीं तक पढ़े होंगे और सुनाओ क्या काम राज अच्छे नेता नहीं थे क्या जॉब फर्नांडिस एक अच्छे नेता नहीं थे और दूसरी तरफ से देखूं तो क्या कपिल सिब्बल बहुत अच्छे नेता है चिदंबरम बहुत अच्छे नेता है सलमान खुर्शीद का बहुत अच्छे नेता है इन सब के पास बाहर की डिग्री है ऑक्सफोर्ड कैमरे की डिग्री है तु डिग्री आप आने से आप एक अच्छा नेता बन जाएंगे जो जनता को समझता हो या जरूरी नहीं है भारत एक गरीब देश है और गरीबों को समझने के लिए जमीनी हकीकत जानना बहुत जरूरी है तो अगर आप प्रधानमंत्री मोदी हैं तो आपकी शिक्षा भले ही पेपर पर खराब हो लेकिन व्यावहारिक शिक्षा बहुत अच्छी होती है तू नेता बनने के लिए व्यवहारिक शिक्षा की जरूरत है कार्य शिक्षा की जरूरत नहीं है काल की शिक्षा ब्यूरोक्रेट्स के लिए अधिकारियों के लिए चाहिए क्योंकि

dekhie sabse badi baat toh yeh hai ki ek bahut galat dharana hai ki ek padha likha neta bahut accha neta hoga agar aap yeh soch rahe hain ki koi vyakti oxford se camera se tel se padh kar aata hai tu bahut acchi tarike se ya yojnao ka nirmaan karega nirbhar karega bhul hai shikshak shiksha jo aapko deti hai aur ek do neta banne ke liye jo chahiye hota hai dono mein aasman jameen ka fark hota hai aapko udaharan deta hoon jo satvi aatthvi tak padhe the acche se kehne ke liye toh unhone dasavi dikha rakha hai kaam raaj ki baat karta hoon jo madras ke purane mukhyamantri reh chuke hain kaamraj kitna padhe the saath mein aatthvi tak padhe honge aur sunao kya kaam raaj acche neta nahi the kya job Fernandis ek acche neta nahi the aur dusri taraf se dekhu toh kya kapil sibbal bahut acche neta hai chidambaram bahut acche neta hai salman khurshid ka bahut acche neta hai in sab ke paas bahar ki degree hai oxford camera ki degree hai tu degree aap aane se aap ek accha neta ban jaenge jo janta ko samajhata ho ya zaroori nahi hai bharat ek garib desh hai aur garibon ko samjhne ke liye zameeni haqiqat janana bahut zaroori hai toh agar aap Pradhanmantri modi hain toh aapki shiksha bhale hi paper par kharab ho lekin vyavaharik shiksha bahut acchi hoti hai tu neta banne ke liye vyavaharik shiksha ki zarurat hai karya shiksha ki zarurat nahi hai kaal ki shiksha bureaucrats ke liye adhikaariyo ke liye chahiye kyonki

देखिए सबसे बड़ी बात तो यह है कि एक बहुत गलत धारणा है कि एक पढ़ा-लिखा नेता बहुत अच्छा नेता

Romanized Version
Likes  488  Dislikes    views  7467
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश को सुधार करने के लिए नेताओं के लिए क्वालिफिकेशन का होना बहुत मस्ती कंपलसरी है होना चाहिए मुझे तो यह सुनकर बड़ा दुख होता है कि देखिए एक चपरासी की दिशा में सरकार नियुक्ति होती है तो उसके लिए भी आज टाइम पास जरूरी है क्या एलडीसी के लिए चीन और अनावश्यक एक टीचर्स के लिए क्वालिफिकेशन है कि नहीं आप बिजी होंगे m.a. B.Ed 1st सॉन्ग एक डॉक्टर के लिए कैमरी पेश होना आवश्यक है किंतु देखिए दुर्गा किस बात का कुछ उस देश का लोडिंग करते हैं जो रूलिंग करते हैं कौन सी ड्रेस के लिए कोई क्वालिफिकेशन मस्ती कंपलसरी नहीं है जबकि ऐसा होना चाहिए कम से कम मेरे विचार से यह होना चाहिए भाई सरपंच के लिए सेकेंडरी होना अनिवार्य है एम एल एस के लिए ग्रेजुएट और एमपी के लिए कम से कम बिजी होना कंपलसरी होना चाहिए क्योंकि जब तक क्वालिफाइड लेता नहीं होंगे तब तक यह धर्म और जाति की राजनीति गंदी निधि करते रहे जिसके कारण से देखते हो कि समाज में दरारें पढ़ी हुई एक दूसरे से लड़ाई दंगे फैलते रहते हैं और नेताओं का क्या है यह तो भाषण देते देते हैं और जनता लड़ती नवीन को तो सिर्फ अपनी बोर्ड चाहिए यह अपनी फोटो के लिए लड़ते हैं यह स्थल पर शंका नहीं है और भारत की जितनी राजनीति गंदी है जितने भारत के राजनीतिक पर संसार में कहीं भी राजनीति गंदी नहीं इसलिए हमारे देश को यदि सुधार करना है उन नेताओं की के लिए कॉल भी अवश्य की जानी चाहिए और बल्कि मैं तो यह मानता हूं कि जो रेलिंग के लीडर हैं उनकी संतानों को भी देश सेवा के लिए सैनिक सेवा अनुवाद कर दी जाए तो कम से कम इस सैनिको के बारे में मतलब रेस्पॉन्सिव नहीं तो करके ध्यान दे देते हैं वह कम से कम उन बयानों पर अंकुश लग जाए तो मैं इस बात का पुरजोर समर्थन करता हूं कि नेताओं के लिए कॉल भी सुनाओ

hamare desh ko sudhaar karne ke liye netaon ke liye qualification ka hona bahut masti compulsory hai hona chahiye mujhe toh yah sunkar bada dukh hota hai ki dekhiye ek chaprasi ki disha mein sarkar niyukti hoti hai toh uske liye bhi aaj time paas zaroori hai kya el dee see ke liye china aur anavashyak ek teachers ke liye qualification hai ki nahi aap busy honge m a B Ed 1st song ek doctor ke liye kaimri pesh hona aavashyak hai kintu dekhiye durga kis baat ka kuch us desh ka loading karte hai jo ruling karte hai kaun si dress ke liye koi qualification masti compulsory nahi hai jabki aisa hona chahiye kam se kam mere vichar se yah hona chahiye bhai sarpanch ke liye secondary hona anivarya hai M el s ke liye graduate aur mp ke liye kam se kam busy hona compulsory hona chahiye kyonki jab tak qualified leta nahi honge tab tak yah dharm aur jati ki raajneeti gandi nidhi karte rahe jiske karan se dekhte ho ki samaj mein dararen padhi hui ek dusre se ladai dange failate rehte hai aur netaon ka kya hai yah toh bhashan dete dete hai aur janta ladati naveen ko toh sirf apni board chahiye yah apni photo ke liye ladte hai yah sthal par shanka nahi hai aur bharat ki jitni raajneeti gandi hai jitne bharat ke raajnitik par sansar mein kahin bhi raajneeti gandi nahi isliye hamare desh ko yadi sudhaar karna hai un netaon ki ke liye call bhi avashya ki jani chahiye aur balki main toh yah manata hoon ki jo railing ke leader hai unki santano ko bhi desh seva ke liye sainik seva anuvad kar di jaaye toh kam se kam is sainiko ke bare mein matlab respansiv nahi toh karke dhyan de dete hai vaah kam se kam un bayanon par ankush lag jaaye toh main is baat ka purjor samarthan karta hoon ki netaon ke liye call bhi sunao

हमारे देश को सुधार करने के लिए नेताओं के लिए क्वालिफिकेशन का होना बहुत मस्ती कंपलसरी है हो

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  516
WhatsApp_icon
play
user

Sandeep Kumar

Journalist

2:30

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह सबसे बड़ी बात है क्या हमारे देश के लिए नेता और हमारे बीच में कोई भी काम कोई भी तरक्की के लिए नेताओं की क्वालिफिकेशन भी जरूरी है क्योंकि अभी अभी देखने में आ रहा है 1 यूपी उत्तर प्रदेश सबसे पहले उत्तर प्रदेश स्टेट को लेते हैं आप यहां कमेंट है जो प्राथमिक विद्यालय होता है उनके जो अध्यापक नौकरी दी जाती है उसकी प्रदेश में जो उसी प्रदेश में शिक्षा मंत्री उस एक पल नहीं हो उसके बराबर नहीं होंगे बराबर ज्ञान नहीं रखते हो तो फिर वहां क्या प्रोग्रेस हो सकता है यदि हमारे यहां हमारे देश में हमारे देश में कोई मंत्री इंटर पास हो गया तुम मंत्री ग्रेजुएशन पास हो गया और वह किसी भी है मिनिमम एक भाषा का ज्ञान रखता 2 भाषा का ज्ञान रखता है तो मैं नहीं मानता कि वह भी प्रोग्रेस कर सकते हैं क्यों क्योंकि उनके भी क्षेत्र अलग अलग होते हैं मात्र भाषा राजभाषा और राष्ट्रभाषा यह भी होते हैं एक ही क्षेत्र में दो जगह दो भाषाएं बोली जाती हैं लोग किसी किसी गांव में जाकर एजुकेशन सबसे पहले क्वालीफिकेशन बहुत जरूरी है और पॉलिटिशन के साथ यह नहीं है कि उनकी डी एग्जाम कराए जाएं और एग्जाम कराने के बाद ही उन्हें इस काबिल बनाया जाए इस लायक बनाया था कि वह इलेक्शन में खड़े हो सके उन्हें उम्मीदवार चुना जा सके इस लायक तो सबसे पहले उम्मीदवार चुनने के लिए एग्जाम लगाया टाइम पर परीक्षा की जाए और परीक्षा कराने के बाद ही इन्हें जैसे यहां पर टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट होता है इसी तरह इन पॉलीटिकल एलिजिबिलिटी टेस्ट लगाया जाए उसके बाद यह पॉलीटिकल में खड़े हो जाए खड़े होने के लायक ऐसा मेरा मानना है

yeh sabse badi baat hai kya hamare desh ke liye neta aur hamare beech mein koi bhi kaam koi bhi tarakki ke liye netaon ki qualification bhi zaroori hai kyonki abhi abhi dekhne mein aa raha hai 1 up uttar pradesh sabse pehle uttar pradesh state ko lete hain aap yahan comment hai jo prathmik vidyalaya hota hai unke jo adhyapak naukri di jati hai uski pradesh mein jo usi pradesh mein shiksha mantri us ek pal nahi ho uske barabar nahi honge barabar gyaan nahi rakhte ho toh phir wahan kya progress ho sakta hai yadi hamare yahan hamare desh mein hamare desh mein koi mantri inter paas ho gaya tum mantri graduation paas ho gaya aur wah kisi bhi hai minimum ek bhasha ka gyaan rakhta 2 bhasha ka gyaan rakhta hai toh main nahi manata ki wah bhi progress kar sakte hain kyon kyonki unke bhi kshetra alag alag hote hain matra bhasha rajbhasha aur rashtrabhasha yeh bhi hote hain ek hi kshetra mein do jagah do bhashayen boli jati hain log kisi kisi gaon mein jaakar education sabse pehle qualification bahut zaroori hai aur politician ke saath yeh nahi hai ki unki di exam karae jayen aur exam karane ke baad hi unhein is kaabil banaya jaye is layak banaya tha ki wah election mein khade ho sake unhein ummidvar chuna ja sake is layak toh sabse pehle ummidvar chunane ke liye exam lagaya time par pariksha ki jaye aur pariksha karane ke baad hi inhen jaise yahan par teacher eligibility test hota hai isi tarah in political eligibility test lagaya jaye uske baad yeh political mein khade ho jaye khade hone ke layak aisa mera manana hai

यह सबसे बड़ी बात है क्या हमारे देश के लिए नेता और हमारे बीच में कोई भी काम कोई भी तरक्की क

Romanized Version
Likes  111  Dislikes    views  3392
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल हमारे देश के जन नेता पढ़े-लिखे रहेंगे तभी देश आगे बढ़ेगा नहीं तो अगर वह पढ़े लिखे नहीं रहेंगे तूने समझने की कैसे काम करना शिक्षा पेट कैसे कम करना है हेल्प कैसे काम करना है इसलिए कोई भी पढ़ा लिखा जरूर

bilkul hamare desh ke jan neta padhe likhe rahenge tabhi desh aage badhega nahi toh agar vaah padhe likhe nahi rahenge tune samjhne ki kaise kaam karna shiksha pet kaise kam karna hai help kaise kaam karna hai isliye koi bhi padha likha zaroor

बिल्कुल हमारे देश के जन नेता पढ़े-लिखे रहेंगे तभी देश आगे बढ़ेगा नहीं तो अगर वह पढ़े लिखे

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

की सबसे बड़ी बात है क्या हमारे देश के लिए नेताओं हमारे बीच में कोई भी काम कोई भी तरक्की के लिए नेताओं की क्वालिफिकेशन भी जरूरी है क्योंकि अभी अभी देखने में आ रहा है यूपी उत्तर प्रदेश सबसे पहले उत्तर प्रदेश स्टेट को लेते हैं यहां तो प्राथमिक विद्यालय उनके जो नौकरी जाती है उसकी प्रदेश में जो उसी प्रदेश में शिक्षा मंत्री उसे कल नहीं हो उसके बराबर नहीं होगा उसे बराबर ध्यान नहीं रखते हो तो फिर वहां क्या प्रोग्रेस हो सकता है यदि हमारे यहां हमारे देश में हमारे देश में कोई मंत्री इंटर पास हो गया तांत्रिक ग्रेजुएशन पास हो गया और वह किसी भी है मिनिमम एक भाषा का ज्ञान रखता दो भाषा का ज्ञान रखता है तो मैं नहीं मानता कि वह भी तो भेज कर सकते हैं क्योंकि उनके पीछे अलग-अलग होते हैं मातृभाषा और राष्ट्रभाषा यह भी होता है एक ही क्षेत्र में दो जगह दो भाषाएं बोली जाती हो गई हमारे गांव में जाकर एजुकेशन पहले सबसे पहले क्वालीफिकेशन बहुत जरूरी हो

ki sabse badi baat hai kya hamare desh ke liye netaon hamare beech mein koi bhi kaam koi bhi tarakki ke liye netaon ki qualification bhi zaroori hai kyonki abhi abhi dekhne mein aa raha hai up uttar pradesh sabse pehle uttar pradesh state ko lete hain yahan toh prathmik vidyalaya unke jo naukri jaati hai uski pradesh mein jo usi pradesh mein shiksha mantri use kal nahi ho uske barabar nahi hoga use barabar dhyan nahi rakhte ho toh phir wahan kya progress ho sakta hai yadi hamare yahan hamare desh mein hamare desh mein koi mantri inter paas ho gaya tantrika graduation paas ho gaya aur vaah kisi bhi hai minimum ek bhasha ka gyaan rakhta do bhasha ka gyaan rakhta hai toh main nahi manata ki vaah bhi toh bhej kar sakte hain kyonki unke peeche alag alag hote hain matrubhasha aur rashtrabhasha yah bhi hota hai ek hi kshetra mein do jagah do bhashayen boli jaati ho gayi hamare gaon mein jaakar education pehle sabse pehle qualification bahut zaroori ho

की सबसे बड़ी बात है क्या हमारे देश के लिए नेताओं हमारे बीच में कोई भी काम कोई भी तरक्की के

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  177
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिंदगी मेरे हिसाब से कोई भी नहीं ताई राजनेता हो उन्हें क्वालिफिकेशन की जरूरत नहीं है क्योंकि उस रात को जनता को खुश रखना है या फिर अगर जनता के हित के लिए काम करना या देश को विकसित करना इश्क ना कोई डिग्री नहीं है बस आप कोई वजह समझ में आना चाहिए की जनता को खुश कैसे रखना है और जनता को क्या चाहिए क्या नहीं चाह देश को विकसित कैसे करना बस आपको इतना ही आपके पास क्या होना चाहिए इसके लिए जो है अगर हम देखते आ रहे हैं कि डेमोक्रेसी में के सौर ऊर्जा की कोई भी जो है नहीं तो बढ़ सकता है जरूरी नहीं है कि उसके एजुकेशन क्वालिफिकेशन चाहिए अगर हमारे देश में सुधरा हुआ है तो हमें इसके लिए हमें अच्छे हिंदू संगीता अच्छे-अच्छे मेंटलिटी के नेता सेवा का कोचिंग मेंटलिटी चाहिए तो खाना खाओ पर आपको समझ में होना चाहिए कि सही क्या है गलत क्या है अगर मुझे इस प्रकार से मोदी कैमरा भारत के राजनेता देख रहे कि किस प्रकार से हो जाए फिल्म पद्मावत हो या फिर वह कोमा से हर हर चीज पर जो है वह इसके खिलाफ हैं वह खाना कहां पर हे मेंटलिटी जय भारत की इसी कारण जो इतना विकसित देश नहीं बन पा रहा है तो मेरे हिसाब से मुझे नहीं लगता कि नेताओं की लिपि कौन सी चीज चाहिए बल्कि नीता और जो है वह हमें या फिर हम भारत की जनता को जो है खुलेंगे हमारी जिम्मेदारी के बच्चे नहीं तो कुछ नहीं जो कि अगर देखा जाए तो भारत में कई सारे अच्छे नेता है अगर हम बात करें सचिन पायलट है या फिर ज्योतिरादित्य सिंधिया है या फिर उनके सकते हैं शशि थरूर है तो यह भी लेता है जो कि आज की क्वालिफिकेशन भी है परंतु उनकी क्वालिफिकेशन चाहता हूं कि जो कुछ आप जो है बहुत ज्यादा अच्छे हैं तो मुझे नहीं लगता नहीं तो फिर कोई कॉल भी के सिंह की जरूरत है जैसे हमारे देश में जो है वह शराब लाने चाहिए और वह भारत की जनता को ही सुधार लाने चाहिए

zindagi mere hisab se koi bhi nahi taii raajneta ho unhe qualification ki zarurat nahi hai kyonki us raat ko janta ko khush rakhna hai ya phir agar janta ke hit ke liye kaam karna ya desh ko viksit karna ishq na koi degree nahi hai bus aap koi wajah samajh mein aana chahiye ki janta ko khush kaise rakhna hai aur janta ko kya chahiye kya nahi chah desh ko viksit kaise karna bus aapko itna hi aapke paas kya hona chahiye iske liye jo hai agar hum dekhte aa rahe hain ki democracy mein ke sour urja ki koi bhi jo hai nahi toh badh sakta hai zaroori nahi hai ki uske education qualification chahiye agar hamare desh mein sudhra hua hai toh hamein iske liye hamein acche hindu sangeeta acche acche mentaliti ke neta seva ka coaching mentaliti chahiye toh khana khao par aapko samajh mein hona chahiye ki sahi kya hai galat kya hai agar mujhe is prakar se modi camera bharat ke raajneta dekh rahe ki kis prakar se ho jaaye film padmavat ho ya phir vaah coma se har har cheez par jo hai vaah iske khilaf hain vaah khana kahaan par hai mentaliti jai bharat ki isi karan jo itna viksit desh nahi ban paa raha hai toh mere hisab se mujhe nahi lagta ki netaon ki lipi kaun si cheez chahiye balki neeta aur jo hai vaah hamein ya phir hum bharat ki janta ko jo hai khulenge hamari jimmedari ke bacche nahi toh kuch nahi jo ki agar dekha jaaye toh bharat mein kai saare acche neta hai agar hum baat kare sachin pilot hai ya phir jyotiraditya sindhiya hai ya phir unke sakte hain shashi tharoor hai toh yah bhi leta hai jo ki aaj ki qualification bhi hai parantu unki qualification chahta hoon ki jo kuch aap jo hai bahut zyada acche hain toh mujhe nahi lagta nahi toh phir koi call bhi ke Singh ki zarurat hai jaise hamare desh mein jo hai vaah sharab lane chahiye aur vaah bharat ki janta ko hi sudhaar lane chahiye

जिंदगी मेरे हिसाब से कोई भी नहीं ताई राजनेता हो उन्हें क्वालिफिकेशन की जरूरत नहीं है क्यों

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  150
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!