इंस्टेंट फूड्स खाने के क्या नुक़सान हैं?...


play
user

Narendar Gupta

प्राकृतिक योगाथैरिपिस्ट एवं योगा शिक्षक,फीजीयोथैरीपिस्ट

0:17

Likes  128  Dislikes    views  1468
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

anuj nagar

ईतिहास कार

2:15

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह तो फास्ट फूड की श्रेणी में ही आता है मगर कुछ लोग की मजबूरी भी होती क्यों नहीं खाने पर मजबूर होता है जैसे कोई ऑफिस जाते कोई घर में अकेला हूं वह बता नहीं पाता है तो उसके लिए फूड खाना मजबूरी हो जाती है मगर दोस्तों यह बिल्कुल सही नहीं है बहुत हानिकारक है हमारे वेदों में पुराणों में बोला है कि जो हम आटा घूमते रखते हैं जो मसाबा हटा देता है उसे 1 घंटे 2 घंटे में यूज कर लेना चाहिए पढ़ना उस व्यक्ति से पढ़ना चालू हो जाते हैं तथा जो रोटी होती जो चौपाटी होती है उसे भी हमें तुरंत ही गरम-गरम खा लेना चाहिए या फिर 102 घंटे बाद उसे खा लेने से ही बनना है उसमें भी व्यक्ति या जैसे पढ़ने लग जाते हैं लेकिन आज उस फुट का उपयोग कर रहे हैं जैसे 102 महीने तो स्टोर में पड़े पड़े हो जाते हैं जो कि हमारी मजबूरी है हमें टाइम नहीं है हमें खाना है आप यह भी कर सकते थे आप जिसे रेस्ट ओं से या फिर कोई होटल साहब कुछ खा सकते हैं यह फोटो तो जैसे कॉल एडिट करके बनाया जाता जैसे कोई जोश है तू उसको काला जाता उसे कौन सी टेट करा जाता है उसमें पानी डालकर उसके लेवल के हिसाब से सेटिंग करा जाता है कि वह खराब ना आप चुप भी जा खाते तो पूजा है उसकी ब्रेड एक एक महीने तक खराब पड़ी रहती है जब हमें चपाती का घाटा ही रोटियों से 2 घंटे के अंदर खा लेना चाहिए तो एक-एक महीने की जैसे कर्म खाएंगे तो मैं भी नुकसान नहीं देखा हमारे जो लार्ज इंटेस्टाइन स्मॉल इंटेस्टाइन इसमें डिस्टर्ब मत में यह आपको बहुत ही नुकसानदायक तो आप इसे खाने को फाइट करें जो पैकेज फूड है लेकिन अगर कोई खाता भी है तो उसे आप उसे रोकना भी चाहिए क्योंकि जैसे कई जगह आती आती आती है जिसे आप बस गर्म पानी डालो और आलू मटर टमाटर सूप आते हैं और आजकल कोई भी आना चालू हो गए हैं मुझे जातक मालूम है इसमें स्वाद बिल्कुल भी देता है बस आप पेट भर रहे हैं इससे अच्छा तो आप लोग तो पैसा बर्बाद करने से और अपने शरीर को नुकसान देने से अच्छा है कि आप किसी रेस्टो से खाना बनाई आपका टिफिन मान लिया कर आप कोई अकेले रहते हैं ज्यादातर फास्ट फूड का कॉमेडी करें तो अच्छा है

yeh toh fast food ki shreni mein hi aata hai magar kuch log ki majburi bhi hoti kyon nahi khane par majboor hota hai jaise koi office jaate koi ghar mein akela hoon wah bata nahi pata hai toh uske liye food khana majburi ho jati hai magar doston yeh bilkul sahi nahi hai bahut haanikarak hai hamare vedo mein purano mein bola hai ki jo hum atta ghumte rakhte hain jo masaba hata deta hai use 1 ghante 2 ghante mein use kar lena chahiye padhna us vyakti se padhna chalu ho jaate hain tatha jo roti hoti jo chaupati hoti hai use bhi humein turant hi garam garam kha lena chahiye ya phir 102 ghante baad use kha lene se hi banana hai usme bhi vyakti ya jaise padhne lag jaate hain lekin aaj us feet ka upyog kar rahe hain jaise 102 mahine toh store mein pade pade ho jaate hain jo ki hamari majburi hai humein time nahi hai humein khana hai aap yeh bhi kar sakte the aap jise rest yuvaon se ya phir koi hotel saheb kuch kha sakte hain yeh photo toh jaise call edit karke banaya jata jaise koi josh hai tu usko kala jata use kaun si teat kara jata hai usme pani dalkar uske level ke hisab se setting kara jata hai ki wah kharab na aap chup bhi ja khate toh puja hai uski bread ek ek mahine tak kharab padi rehti hai jab humein chapati ka ghata hi rotiyon se 2 ghante ke andar kha lena chahiye toh ek ek mahine ki jaise karm khayenge toh main bhi nuksan nahi dekha hamare jo large intestine small intestine ismein disturb mat mein yeh aapko bahut hi nukasanadayak toh aap ise khane ko fight karein jo package food hai lekin agar koi khaata bhi hai toh use aap use rokna bhi chahiye kyonki jaise kai jagah aati aati aati hai jise aap bus garam pani dalo aur aalu matar tamatar soup aate hain aur aajkal koi bhi aana chalu ho gaye hain mujhe jatak maloom hai ismein swaad bilkul bhi deta hai bus aap pet bhar rahe hain isse accha toh aap log toh paisa barbad karne se aur apne sharir ko nuksan dene se accha hai ki aap kisi resto se khana banai aapka tiffin maan liya kar aap koi akele rehte hain jyadatar fast food ka comedy karein toh accha hai

यह तो फास्ट फूड की श्रेणी में ही आता है मगर कुछ लोग की मजबूरी भी होती क्यों नहीं खाने पर म

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  70
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!