दुख हमारे ज़िन्दगी का हिस्सा क्यों है,हमें सिर्फ सुख भोगने का अधिकार क्यों नहीं है?...


user

Dr. Swatantra Jain

Psychotherapist, Family & Career Counsellor and Parenting & Life Coach

3:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारी जिंदगी का हिस्सा क्यों है हमें सिर्फ सुख भोगने का अधिकार क्यों नहीं है अंडरटेकर सिर्फ अच्छे किए होते बहुत अच्छे होते तो सुखी भोगने का डिजाइन कर्म के हिसाब से काम कुछ भी करें सुखी नहीं हो सकता और कुछ मतलब जामुन के बोरा हमेशा में आप मिले कैसे हो सकता है यहां की भौजाई कैसे हो सकते दोस्ती दा दुख-सुख साथ साथ चलते चलते मेरे गीत डॉक्टर को यार किसी के मकसद से रात और दिन जो सबसे ज्यादा देर तक के उजाले की किरण छुपाती है जब याद तुम्हारी बहुत है तो उसके बाद दे देंगे उसके बाद तो खाना उसके बाद दुकान है कुदरत का साइकिल एक्सेप्ट करो स्वीकार कर लो किसको दुख सुख से निकल जाएंगे दुख भरे दिन में सुख से निकल जाएंगे हम स्वीकार कर लेते हॉस्पिटल में करें तो सुख दुख में बदल जाएंगे अपने मन को शांत रखकर दुख समय की वेट करो तो फिर निकल जाएगा उसको से प्यार करो उसको चैलेंज को जो चैलेंज बना दो खोगा परिस्थितियों का उसको चुनौती मानकर हिंदुस्तानी बड़ा कोई देख नहीं सकता होता है और एक बात जीवन में दुख नहीं हो तो सुखी वैल्यू भी नहीं होती अगर 3 दिन को नहीं हो तो दिन की वैल्यू क्या होगी पंचाला ही हो अंधेरा ना हो तो जाने की मेरी कौन करेगा तो इसलिए सुख दुख ना हो जो सुख में कमी आ गई होगी

hamari zindagi ka hissa kyon hai hamein sirf sukh bhogane ka adhikaar kyon nahi hai undertaker sirf acche kiye hote bahut acche hote toh sukhi bhogane ka design karm ke hisab se kaam kuch bhi kare sukhi nahi ho sakta aur kuch matlab jamun ke bora hamesha me aap mile kaise ho sakta hai yahan ki bhaujai kaise ho sakte dosti the dukh sukh saath saath chalte chalte mere geet doctor ko yaar kisi ke maksad se raat aur din jo sabse zyada der tak ke ujale ki kiran chupati hai jab yaad tumhari bahut hai toh uske baad de denge uske baad toh khana uske baad dukaan hai kudrat ka cycle except karo sweekar kar lo kisko dukh sukh se nikal jaenge dukh bhare din me sukh se nikal jaenge hum sweekar kar lete hospital me kare toh sukh dukh me badal jaenge apne man ko shaant rakhakar dukh samay ki wait karo toh phir nikal jaega usko se pyar karo usko challenge ko jo challenge bana do khoga paristhitiyon ka usko chunauti maankar hindustani bada koi dekh nahi sakta hota hai aur ek baat jeevan me dukh nahi ho toh sukhi value bhi nahi hoti agar 3 din ko nahi ho toh din ki value kya hogi panchala hi ho andhera na ho toh jaane ki meri kaun karega toh isliye sukh dukh na ho jo sukh me kami aa gayi hogi

हमारी जिंदगी का हिस्सा क्यों है हमें सिर्फ सुख भोगने का अधिकार क्यों नहीं है अंडरटेकर सिर्

Romanized Version
Likes  765  Dislikes    views  10930
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!