क्या आपने कभी ऐसे मामले का सामना किया है जहां आधुनिक चिकित्सा इलाज की व्याख्या नहीं कर सकती है लेकिन आयुर्वेद ने किया है?...


play
user

Dr Amit Mishra

Ayurveda Dr /Yoga Consultant

4:24

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बात करते तो बहुत से ऐसे ही बैठे थे जहां पर गलत सिस्टम में उसका कोई औरत कल हम आए दिन देखते हैं किस दिशा पर शुरू में पूछा था कि किन को लेकर और हेयर फॉल को लेकर ऐसे कई के और जहां पर हर व्यक्ति के द्वारा उनको काफी अच्छी है रिजल्ट मिले हैं उनके जो प्रेस कॉन्फ्रेंस करते थे वो काफी कम हो गई इसमें जीवन शैली में थोड़ा करेक्शन करना बहुत जरूरी होता है 2017 में दिन को नोबेल प्राइज मिला था मेडिसिन में उन्होंने कहा था कि आप अगर अपने सोने का और अपने खाने का समय ठीक करते हैं तो आपके प्रोटीन जो है वह दिन अच्छे नहीं होते इसका क्या मतलब हुआ इसका यह मतलब हुआ कि हमारे शरीर में जितने भी होटल ऑर्गन सेलिब्रेशन शक्कर जो मेक है जो उनकी जो खास बनावट है वह मास्ट इससे है और यह मांसपेशियां किससे बनी खाना खाते हैं रात में इसके बाद में कोई बीमार थी या कोई रोग से पीड़ित हो सकते हैं महत्वपूर्ण जानकारी और हमारे अध्यक्ष को देखे तो उसमें दिनचर्या बताई गई है दिनचर्या में तो आप दिन बंद है आपको क्या काम करना है उसमें बताया है कि सूर्यास्त के पहले आपको खाना खा लेना चाहिए तुझे अगर हम उसको फॉलो करते हैं और यह नोबेल प्राइज मिला है उसको जरा देखे तो उसमें बहुत मानता है इसलिए करेक्शन भी बदले करा सके तो बहुत सी बीमारियों से बच सकते हैं जिनका श्राद्ध कर्म वाले होते हैं जिनकी वजह से कॉलेज में 98 साल की उन्होंने गर्दन का दर्द हो गया है कि मुझे यह कपड़े में एक पेशेंट है जिनके मुझे भी याद आ रही है तो अपने कहना पेट के लैपटॉप पर काम करते हैं तो वह भूल जाते हैं कि उन्होंने किस जगह बैठे हैं और यह कंटिन्यू चलाती कि मेरे चलते हैं और इसकी वजह से कमर में बहुत भयंकर किस्म का देवता गया बताया गया कि आपका बहुत बढ़ गई है और आपको जो है नहीं हो पाए हम पूरी और कड़ी बच्चे कहते हैं और इससे यह प्रक्रिया करीब करीब साढे तीन चार देने चलेंगे पक्का होता है कि उसके बाद में जीवन शैली को अपना लिया और उसके बाद में वह बीच में से मिलने जरूर है कितने रुपए कभी नहीं जाता है यह हमारी उपयोग है

baat karte toh bahut se aise hi baithe the jaha par galat system mein uska koi aurat kal hum aaye din dekhte hain kis disha par shuru mein poocha tha ki kin ko lekar aur hair fall ko lekar aise kai ke aur jaha par har vyakti ke dwara unko kaafi achi hai result mile hain unke jo press conference karte the vo kaafi kam ho gayi isme jeevan shaili mein thoda correction karna bahut zaroori hota hai 2017 mein din ko nobel prize mila tha medicine mein unhone kaha tha ki aap agar apne sone ka aur apne khane ka samay theek karte hain toh aapke protein jo hai vaah din acche nahi hote iska kya matlab hua iska yah matlab hua ki hamare sharir mein jitne bhi hotel organ celebration shakkar jo make hai jo unki jo khaas banawat hai vaah maast isse hai aur yah manspeshiya kisse bani khana khate hain raat mein iske baad mein koi bimar thi ya koi rog se peedit ho sakte hain mahatvapurna jaankari aur hamare adhyaksh ko dekhe toh usme dincharya batai gayi hai dincharya mein toh aap din band hai aapko kya kaam karna hai usme bataya hai ki suryaast ke pehle aapko khana kha lena chahiye tujhe agar hum usko follow karte hain aur yah nobel prize mila hai usko zara dekhe toh usme bahut manata hai isliye correction bhi badle kara sake toh bahut si bimariyon se bach sakte hain jinka shraddh karm waale hote hain jinki wajah se college mein 98 saal ki unhone gardan ka dard ho gaya hai ki mujhe yah kapde mein ek patient hai jinke mujhe bhi yaad aa rahi hai toh apne kehna pet ke laptop par kaam karte hain toh vaah bhool jaate hain ki unhone kis jagah baithe hain aur yah continue chalati ki mere chalte hain aur iski wajah se kamar mein bahut bhayankar kism ka devta gaya bataya gaya ki aapka bahut badh gayi hai aur aapko jo hai nahi ho paye hum puri aur kadi bacche kehte hain aur isse yah prakriya kareeb kareeb sadhe teen char dene chalenge pakka hota hai ki uske baad mein jeevan shaili ko apna liya aur uske baad mein vaah beech mein se milne zaroor hai kitne rupaye kabhi nahi jata hai yah hamari upyog hai

बात करते तो बहुत से ऐसे ही बैठे थे जहां पर गलत सिस्टम में उसका कोई औरत कल हम आए दिन देखते

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  496
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!