लोग आयुर्वेद की ओर क्यों बढ़ र है हैं?...


user

vivek sharma

BANK PO| Astrologer | Mutual Fund Advisor। Career Counselor

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है लोग आयुर्वेद की और क्यों बढ़ रहे हैं एलोपैथी दवाई जब भी हम लेते हैं तो उनके साइड इफेक्ट होते हैं पहली बार दूसरी बार एलोपैथी दवाई किसी भी बीमारी को जड़ से खत्म नहीं करती है तीसरी चीज हम अगर एलोपैथी दवाई लेते हैं एक बीमारी के लिए देते हैं वह उसमें आराम पड़ता है लेकिन कहीं ना कहीं ब्लड प्रेशर किडनी पर असर पड़ने लगता है यह तीनों जो इसके साइड इफेक्ट हैं एलोपैथी के इसी वजह से लोग बोर्ड द्वारा से बढ़ रहे हैं

aapka prashna hai log ayurveda ki aur kyon badh rahe hain allopathy dawai jab bhi hum lete hain toh unke side effect hote hain pehli baar dusri baar allopathy dawai kisi bhi bimari ko jad se khatam nahi karti hai teesri cheez hum agar allopathy dawai lete hain ek bimari ke liye dete hain vaah usme aaram padta hai lekin kahin na kahin blood pressure KIDNEY par asar padane lagta hai yah tatvo jo iske side effect hain allopathy ke isi wajah se log board dwara se badh rahe hain

आपका प्रश्न है लोग आयुर्वेद की और क्यों बढ़ रहे हैं एलोपैथी दवाई जब भी हम लेते हैं तो उनके

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  430
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr. Charu Gandhi

Ayurvedic Doctor

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उसके दो-तीन वीरेन से एक रीजन के डिफेंडर कौन ऐसा पक्षी है जो मैंने आपको बोला एलोपैथी के साइड इफैक्ट्स आफ दूसरा के लोग बहुत तंग हो गए कि बार-बार लेने के बाद भी लिया कर होता है लेकिन कहीं ना कहीं उस चीज को दबा कर रखता है क्यों नहीं करता है दूसरा आयुर्वेद जड़ मूल से निकलता है सबसे बड़ी बात कि हम ऐसा देखते हैं कि जब बाहर वाले हमको एक्सेप्ट करते हैं हमारी चीजें 1 सप्ताह से सब हमको तुझको ज्यादा जल्दी है

uske do teen viren se ek reason ke defender kaun aisa pakshi hai jo maine aapko bola allopathy ke side ifaikts of doosra ke log bahut tang ho gaye ki baar baar lene ke baad bhi liya kar hota hai lekin kahin na kahin us cheez ko daba kar rakhta hai kyon nahi karta hai doosra ayurveda jad mul se nikalta hai sabse badi baat ki hum aisa dekhte hain ki jab bahar waale hamko except karte hain hamari cheezen 1 saptah se sab hamko tujhko zyada jaldi hai

उसके दो-तीन वीरेन से एक रीजन के डिफेंडर कौन ऐसा पक्षी है जो मैंने आपको बोला एलोपैथी के साइ

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  374
WhatsApp_icon
user
1:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहला कारण तो यह सुलभता से मिल जाती है बाजार में मार्केट में अवेलेबल है अभी कुछ समय पहले आपने देखा होगा कि बहुत सारे लोगों ने मिलकर एक क्रांति जैसा माहौल तैयार कर दिया आयुर्वेद के विषय में जैसे बाबा रामदेव को बढ़ाने में बहुत हद तक मदद की है तीसरा कारण है कि लोगों का फॉर्म है परंतु मैं दूसरों रूप में इस प्रकार के कारण यह वास्तव में आयुर्वेद औषधियां कुछ बड़े-बड़े लोगों के कारण कुछ इसके सकारात्मक परिणाम और कुछ सकारात्मक परिणाम

pehla karan toh yah sulabhata se mil jaati hai bazaar mein market mein available hai abhi kuch samay pehle aapne dekha hoga ki bahut saare logo ne milkar ek kranti jaisa maahaul taiyar kar diya ayurveda ke vishay mein jaise baba ramdev ko badhane mein bahut had tak madad ki hai teesra karan hai ki logo ka form hai parantu main dusro roop mein is prakar ke karan yah vaastav mein ayurveda aushadhiyan kuch bade bade logo ke karan kuch iske sakaratmak parinam aur kuch sakaratmak parinam

पहला कारण तो यह सुलभता से मिल जाती है बाजार में मार्केट में अवेलेबल है अभी कुछ समय पहले आप

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  313
WhatsApp_icon
user

Vedachary Pathak Singrauli

सनातन सुरक्षा परिषद् संस्थापक

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो मित्र नमस्कार देखिए आपने पूछा है लोग आयुर्वेद की ओर क्यों बढ़ रहे हैं तो देखी हमारा भी मिशन यही है हमारा भी खाना यही है कि एलोपैथी को आप क्या करके एलोवेरा बहिष्कार करके आप आयुर्वेद की तरफ बढ़े क्योंकि आज हम आयुर्वेद का उस प्रकार से उपयोग नहीं कर पा रहे हैं जैसा कि चाहिए आयुर्वेद को आयुर्वेद की औषधि को जिस प्रकार से निकालना और उसका उपयोग करना चाहिए बस उस प्रकार से नहीं हो पाती है चाहे वह किसी भी कंपनियों का प्रोडक्ट आयुर्वेद वही है लक्ष्मण को जो शक्तिमान लगी थी शक्ति बाण आपका शक्ति आज के समय का मिसाइल लेकिन सिर्फ सुखेर वैद्य ने जो जड़ी-बूटी उनको पिलाया और पिलाते ही एक सेकेंड के अंदर वह उठ खड़े हुए तो आयुर्वेद का प्रभाव बहुत ही ज्यादा है बहुत ही तीव्र गति से है अंतर इतना हो गया है कि आज हम उसको ना उस पर हम विश्वास करते ना हम उसका पर स्थापन कर रहे हैं जबकि देश में सरकार को आयुर्वेद की तरफ कदम बढ़ाने चाहिए आयुर्वेद के बारे में जानना चाहिए आयुर्वेद के अनुसंधान केंद्र खोलना चाहिए तो हम सबकी जिम्मेदारी है कि आयुर्वेद का बढ़ावा दें आयुर्वेद में किसी भी प्रकार का साइड इफेक्ट रिएक्शन होने का चांस नहीं होते धन्यवाद ज्यादा जानकारी के लिए हमारे फेसबुक आईडी वेदाचार्य सिंगरौली पर संपर्क करें धन्यवाद

hello mitra namaskar dekhiye aapne poocha hai log ayurveda ki aur kyon badh rahe hai toh dekhi hamara bhi mission yahi hai hamara bhi khana yahi hai ki allopathy ko aap kya karke aloevera bahishkar karke aap ayurveda ki taraf badhe kyonki aaj hum ayurveda ka us prakar se upyog nahi kar paa rahe hai jaisa ki chahiye ayurveda ko ayurveda ki aushadhi ko jis prakar se nikalna aur uska upyog karna chahiye bus us prakar se nahi ho pati hai chahen vaah kisi bhi companion ka product ayurveda wahi hai lakshman ko jo shaktiman lagi thi shakti baan aapka shakti aaj ke samay ka missile lekin sirf sukher vaidhy ne jo jadi buti unko pilaaya aur peelate hi ek second ke andar vaah uth khade hue toh ayurveda ka prabhav bahut hi zyada hai bahut hi tivra gati se hai antar itna ho gaya hai ki aaj hum usko na us par hum vishwas karte na hum uska par sthapan kar rahe hai jabki desh mein sarkar ko ayurveda ki taraf kadam badhane chahiye ayurveda ke bare mein janana chahiye ayurveda ke anusandhan kendra kholna chahiye toh hum sabki jimmedari hai ki ayurveda ka badhawa de ayurveda mein kisi bhi prakar ka side effect reaction hone ka chance nahi hote dhanyavad zyada jaankari ke liye hamare facebook id vedacharya singrauli par sampark kare dhanyavad

हेलो मित्र नमस्कार देखिए आपने पूछा है लोग आयुर्वेद की ओर क्यों बढ़ रहे हैं तो देखी हमारा भ

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  482
WhatsApp_icon
user

Dr Nitin Jain

General Physician and Gynaecologist

1:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरविंद को पकड़ने के लिए करने लगे कि आयुर्वेद में जो उसकी बेल डिजाइन है उनका चोर है और आजकल जो एंटीबायोटिक सो गए स्टेरॉइड सो गए इन सब कितने तारीख तक बोली में देखने को मिलते हैं कि लोग की तरफ भाग रहे हैं वह चाहते हैं कि हमारे ट्रीटमेंट इसके कोई साइड इफेक्ट भी ना हो आयुर्वेद में किसी दवाई का कोई साइड इफेक्ट नहीं है वह पेशेंट की प्रकृति और दो सब देखकर हम पेशेंट को मेडिसिन देते हैं तो उसमें हमें इसमें यह नहीं होता है कि पैकिंग को यह आम करेगी यह पेशंट को काम नहीं करती है एंटीबायोटिक हो गई उनके बहुत ज्यादा साइड इफेक्ट होते हैं लिस्ट एडल्ट्स हो गए किसी चीज को दबाने के लिए दवाई दे दी दे दी जाती है एलोपैथिक में आयुर्वेद में ऐसा नहीं है आयुर्वेद में रोगों को जड़ से खत्म किया जाता है इसलिए लोग आयुर्वेद की तरफ भाग रहे हैं और अपने से ज्यादा विदेशों में 9 कैरेट को त्रिफर कर रहे हैं वह धीरे-धीरे इंडिया में भी लोग आयुर्वेद की तरफ जा रहे हैं थोड़ा रोल है मार्केटिंग कभी की आयुर्वेदिक प्रोडक्ट आप बहुत आ गए हैं और मार्केटिंग हर कंपनी अपनी मार्केटिंग कर रही है पहले होता था कि हां आयुर्वेद वाले मार्केटिंग नहीं करते इतने मार्केटिंग करते हैं तो आयुर्वेद वालों को भी उसकी नहीं हुई और जब लोगों ने इसके बारे में जाना है तो उन्हें अच्छा लगा कि हां हम आयुर्वेद से ट्रीटमेंट कराएं पर यह चीज लोगों में बढ़ रही है कि हम आयुर्वेद के बारे में जाने समझे उसके उसके द्वारा ट्रीटमेंट ले जिससे हम ठीक हो पाए तो लोगों ने समझा कि हां इससे कोई साइड इफेक्ट नहीं है हम ले सकते हो कि इतनी हो जाएंगे तो वही तरफ जा रहे हैं मार्केटिंग का भी बहुत बड़ा रोल है इसमें

arvind ko pakadane ke liye karne lage ki ayurveda mein jo uski bell design hai unka chor hai aur aajkal jo antibiotic so gaye steroid so gaye in sab kitne tarikh tak boli mein dekhne ko milte hain ki log ki taraf bhag rahe hain vaah chahte hain ki hamare treatment iske koi side effect bhi na ho ayurveda mein kisi dawai ka koi side effect nahi hai vaah patient ki prakriti aur do sab dekhkar hum patient ko medicine dete hain toh usme hamein isme yah nahi hota hai ki packing ko yah aam karegi yah patient ko kaam nahi karti hai antibiotic ho gayi unke bahut zyada side effect hote hain list edalts ho gaye kisi cheez ko dabane ke liye dawai de di de di jaati hai allopathic mein ayurveda mein aisa nahi hai ayurveda mein rogo ko jad se khatam kiya jata hai isliye log ayurveda ki taraf bhag rahe hain aur apne se zyada videshon mein 9 carat ko trifar kar rahe hain vaah dhire dhire india mein bhi log ayurveda ki taraf ja rahe hain thoda roll hai marketing kabhi ki ayurvedic product aap bahut aa gaye hain aur marketing har company apni marketing kar rahi hai pehle hota tha ki haan ayurveda waale marketing nahi karte itne marketing karte hain toh ayurveda walon ko bhi uski nahi hui aur jab logo ne iske bare mein jana hai toh unhe accha laga ki haan hum ayurveda se treatment karaye par yah cheez logo mein badh rahi hai ki hum ayurveda ke bare mein jaane samjhe uske uske dwara treatment le jisse hum theek ho paye toh logo ne samjha ki haan isse koi side effect nahi hai hum le sakte ho ki itni ho jaenge toh wahi taraf ja rahe hain marketing ka bhi bahut bada roll hai isme

अरविंद को पकड़ने के लिए करने लगे कि आयुर्वेद में जो उसकी बेल डिजाइन है उनका चोर है और आजकल

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  157
WhatsApp_icon
play
user

Yogendra Solanki

Ayurvedic Massage Therapist

0:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर चीजों से निकली है

har chijon se nikli hai

हर चीजों से निकली है

Romanized Version
Likes  115  Dislikes    views  1627
WhatsApp_icon
user

Dr Viral desai

Ayurvedic Doctor

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आफ मॉडर्न साइंस फेल हो रहे हैं मॉडल साइंस का जो मेडिकल सिस्टम है उसका डेवलपमेंट तो बहुत है लेकिन एक कमेंट देने में वह फेल हो रहा है फिर उसका साइड इफेक्ट भी बहुत है कॉम्प्लिकेशंस कौनसी-कौनसी बहुत है और बहुत इजी नहीं है लेकिन बहुत कंपलेक्से और डिपेंडेंसी बहुत रहती है उसमें डॉक्टर हॉस्पिटल रिपोर्ट लेबोरेटरी के सभी के लिए तो एक कॉमन पर्सन को हेल्दी रहना तो यह सभी चीजों को फॉलो करने के बाद भी वह नहीं रह सकता तो उसी लिए आयुर्वेद हस्बैंड फाउंड आउट इन अवर कंट्री हैज वन अल्टरनेटर अल्टरनेटर रियली हेल्पिंग और दूसरी बात यह है कि आयुर्वेद में बहुत सारा प्रीवेंटिव नॉलेज है तो हम बीमार पड़े और ट्रीटमेंट करें तो उससे अच्छा है कि बीमार ही ना पड़े कॉलेज का भी बहुत सारा यूज कर रहे हैं लोग जैसे माय लाइफस्टाइल को ठीक कल एक्सरसाइज कोकोरोक्को बैलेंस नॉलेज का यूज़ हो रहा है तो उसके लिए उसका बहुत बड़ा है दूसरा है कि उसका कुछ हाउस लिए सभी कुछ प्रिपरेशन सकता है कि जो वेल्डिंग के लिए बहुत अच्छा है जैसे मिलिट्री को बढ़ाता है सरकुलेशन को इंप्रूव करता है हार्ड को हिंदू करता है मदन मार्च को बढ़ाता है डाइजेशन को इंप्रूव करता है और बहुत सारा शेर उसका एक बहुत चलाई है उसका कंपेरटिवली तो लोग बहुत ही यूज करते हैं और लोगों को ऐसा क्यों लगता है इसीलिए उसका उसका बड़ा है मुझे ऐसा लगता है विचार द फंडामेंटल रीजन फॉर इंटरेस्ट ऑफ कॉमन पीपल इन आयुर्वैदिक रिटर्न फाइल

of modern science fail ho rahe hain model science ka jo medical system hai uska development toh bahut hai lekin ek comment dene mein vaah fail ho raha hai phir uska side effect bhi bahut hai kamplikeshans kaunsi kaun se bahut hai aur bahut easy nahi hai lekin bahut kampalekse aur dipendensi bahut rehti hai usme doctor hospital report laboratory ke sabhi ke liye toh ek common person ko healthy rehna toh yah sabhi chijon ko follow karne ke baad bhi vaah nahi reh sakta toh usi liye ayurveda husband found out in avar country haij van alternator alternator really helping aur dusri baat yah hai ki ayurveda mein bahut saara priventiv knowledge hai toh hum bimar pade aur treatment kare toh usse accha hai ki bimar hi na pade college ka bhi bahut saara use kar rahe hain log jaise my lifestyle ko theek kal exercise kokorokko balance knowledge ka use ho raha hai toh uske liye uska bahut bada hai doosra hai ki uska kuch house liye sabhi kuch preparation sakta hai ki jo Welding ke liye bahut accha hai jaise miltary ko badhata hai sarakuleshan ko improve karta hai hard ko hindu karta hai madan march ko badhata hai digestion ko improve karta hai aur bahut saara sher uska ek bahut chalai hai uska kamperativali toh log bahut hi use karte hain aur logo ko aisa kyon lagta hai isliye uska uska bada hai mujhe aisa lagta hai vichar the fundamental reason for interest of common pipal in ayurvaidik return file

आफ मॉडर्न साइंस फेल हो रहे हैं मॉडल साइंस का जो मेडिकल सिस्टम है उसका डेवलपमेंट तो बहुत है

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  381
WhatsApp_icon
user

Dr.Pavan Mishra

Naturopath Doctor | Physician

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि लोगों को पता चल चुका है उनका जो जीवन है वह सिर्फ नेचर में ही है और आयुर्वेद नीचे इससे बड़ा कोई इलाज नहीं है नेचुरोपैथी डिटॉक्सिफिकेशन उसके ऊपर काम करता है वेद भी इससे ही रिलेटेड काम करता है जो इसमें पंचकर्म के नाम से जाना जाता है तो आयुर्वेद और नेचरोपैथी अपने आप में बहुत संपूर्ण है किसी भी प्रकार की समस्या का समाधान करने के लिए धन्यवाद

kyonki logo ko pata chal chuka hai unka jo jeevan hai vaah sirf nature mein hi hai aur ayurveda niche isse bada koi ilaj nahi hai naturopathy ditaksifikeshan uske upar kaam karta hai ved bhi isse hi related kaam karta hai jo isme panchkarm ke naam se jana jata hai toh ayurveda aur nechropaithi apne aap mein bahut sampurna hai kisi bhi prakar ki samasya ka samadhan karne ke liye dhanyavad

क्योंकि लोगों को पता चल चुका है उनका जो जीवन है वह सिर्फ नेचर में ही है और आयुर्वेद नीचे इ

Romanized Version
Likes  144  Dislikes    views  1836
WhatsApp_icon
user

Anil Kumar

Ayurveda Specialist

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लोढ़ा से इसके बारे में जानना चाहा पर के लिए छाया जानना चाहता है और कुछ भी लोग अभी आजकल तो बाहर से हमार बाबा रतनवा के रूप में लेने के लिए तैयारी हो रही साउथ साइड में जाकर बनाता है और हमारे इधर भी हमारे पास से आता है जापानी लोग आता है सबसे ज्यादा जापानी लोग एक कैलेंडर को सीखने के लिए आता है हमारे पास

lodha se iske bare mein janana chaha par ke liye chhaya janana chahta hai aur kuch bhi log abhi aajkal toh bahar se humaar baba ratnava ke roop mein lene ke liye taiyari ho rahi south side mein jaakar banata hai aur hamare idhar bhi hamare paas se aata hai japani log aata hai sabse zyada japani log ek calendar ko sikhne ke liye aata hai hamare paas

लोढ़ा से इसके बारे में जानना चाहा पर के लिए छाया जानना चाहता है और कुछ भी लोग अभी आजकल तो

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  619
WhatsApp_icon
user

Dr Meenal Gupta (BAMS)

Ayurvedic Doctor

1:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां यह बहुत ही अच्छा पोस्ट है कि सालों से आयुर्वेद भारत के अंदर है पर अभी तक किसी ने आयुर्वेद क्यों इतना ध्यान नहीं दिया कारण क्या है मार्केटिंग सबसे बड़ा कमी थी आयुर्वेद के अंदर मार्केटिंग जो कि मैं सही कहना चाहूंगी रामदेव बाबा के आने के बाद से मार सिटी मार दी थी जो बड़ी है उसके कारण आयुर्वेद पूरे विश्व में जहां जाएं गांधी बाबा हैं या फिर हमारे और गुरुकुल कांगड़ी है ऐसे धूतपापेश्वर ऐसी कई सारी बड़ी फॉर्म हैं जो आयुर्वेद को अब बहुत अच्छे से अब आयुष मंत्रालय जोक मारा है वह भी आयुर्वेद को प्रमोट करने के लिए काफी कुछ कर रहा है मोदी जी के आने के बाद के आयुर्वेद को बहुत प्रमोशन दिया गया है इसके कारण जन जन तक आयुर्वेद पहुंचा है पहले भी था आयुर्वेद पर उसको रिकॉग्नाइज्ड अब मिला है रिकॉर्ड की मार्केटिंग बड़ी है हजारों साल पहले रखा है लेकिन हम उसको फॉलो नहीं कर सकते इसमें मैं आपको बोलना चाहिए जो लोग हैं केसला परिसर में एक काफी क्षति है क्यों क्योंकि लोगों ने अभी तक आयुर्वेद के अंदर कुछ ना कुछ करते रहो अच्छे से पहचान बना चुका

haan yah bahut hi accha post hai ki salon se ayurveda bharat ke andar hai par abhi tak kisi ne ayurveda kyon itna dhyan nahi diya karan kya hai marketing sabse bada kami thi ayurveda ke andar marketing jo ki main sahi kehna chahungi ramdev baba ke aane ke baad se maar city maar di thi jo baadi hai uske karan ayurveda poore vishwa mein jaha jayen gandhi baba hai ya phir hamare aur gurukul kangadi hai aise dhutpapeshwar aisi kai saree baadi form hai jo ayurveda ko ab bahut acche se ab ayush mantralay joke mara hai vaah bhi ayurveda ko promote karne ke liye kaafi kuch kar raha hai modi ji ke aane ke baad ke ayurveda ko bahut promotion diya gaya hai iske karan jan jan tak ayurveda pohcha hai pehle bhi tha ayurveda par usko rikagnaijd ab mila hai record ki marketing baadi hai hazaro saal pehle rakha hai lekin hum usko follow nahi kar sakte isme main aapko bolna chahiye jo log hai KESLA parisar mein ek kaafi kshati hai kyon kyonki logo ne abhi tak ayurveda ke andar kuch na kuch karte raho acche se pehchaan bana chuka

हां यह बहुत ही अच्छा पोस्ट है कि सालों से आयुर्वेद भारत के अंदर है पर अभी तक किसी ने आयुर्

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  343
WhatsApp_icon
user

Dr Vinod Gupta

Ayurvedic Doctor

2:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दवाई दवाई खाने को आएंगे और आयुर्वेद के बारे तो हो जो समझो ना के सबसे पहला आयुर्वेद का जो है सिद्धांत आयुर्वेद का सिद्धांत क्या है उससे तो अच्छा तू रस से रोग निवारण स्वस्थ कैसे रह सकता है रोग को कैसे दूर किया जा सकता है आजम एडजेक्टिव क्षेत्रों में 40 साल से प्रैक्टिस कर रहा हूं हमारे पास ठीक रहने के लिए कोई आया नहीं पूछने रोग निवारण के लिए तो सारे हमारे एडमिन में तो ठीक रहने के लिए दिन में अलग कार्य है रात को अलग कार्य किस समय सोना है किसने जागना है किस ऋतु में क्या खाना चाहिए क्या पहनना चाहिए क्या करना वह बहुत कुछ है इस पर कोई ध्यान नहीं देने को तैयार है तो हम तो जो है रो रो के बारे में काम करना है कर सकते हैं और कोई ठीक रहने दो कोई चर्चा ही नहीं मैं तो यह कहता हूं आज की डेट में आज हमारा यह सब है कि मैं जितने मर्जी गलत काम करूं जितना मर्जी खाओ जितना मर्जी जो मर्जी जैसा फूड पेस्टिसाइड्स जितना कि क्या-क्या खाना करते हैं और कुछ आ जाए नॉनवेज का कितना प्रभाव बढ़ रहा है और नॉनवेज के बारे में आ जाओ जिस जिसको हम खा रहे हैं उसमें क्या क्या रोग है पता है आगे जो है उसको खिलाने के लिए उन्होंने क्या-क्या रंग बदल कर दिया है अब कोई ऐसा फूड का नाम बताओ मेरे को जो कि हम पानी के साथ खाते हैं तू इस तरह का जो है जब तक हमारा दुनिया में जीने के लिए नहीं खाना तो होगा तब तक रोग निवारण हो ही नहीं सकता

dawai dawai khane ko aayenge aur ayurveda ke bare toh ho jo samjho na ke sabse pehla ayurveda ka jo hai siddhant ayurveda ka siddhant kya hai usse toh accha tu ras se rog nivaran swasthya kaise reh sakta hai rog ko kaise dur kiya ja sakta hai azam adjective kshetro mein 40 saal se practice kar raha hoon hamare paas theek rehne ke liye koi aaya nahi poochne rog nivaran ke liye toh saare hamare admin mein toh theek rehne ke liye din mein alag karya hai raat ko alag karya kis samay sona hai kisne jagana hai kis ritu mein kya khana chahiye kya pahanna chahiye kya karna vaah bahut kuch hai is par koi dhyan nahi dene ko taiyar hai toh hum toh jo hai ro ro ke bare mein kaam karna hai kar sakte hain aur koi theek rehne do koi charcha hi nahi main toh yah kahata hoon aaj ki date mein aaj hamara yah sab hai ki main jitne marji galat kaam karu jitna marji khao jitna marji jo marji jaisa food pesticides jitna ki kya kya khana karte hain aur kuch aa jaaye nonveg ka kitna prabhav badh raha hai aur nonveg ke bare mein aa jao jis jisko hum kha rahe hain usme kya kya rog hai pata hai aage jo hai usko khilane ke liye unhone kya kya rang badal kar diya hai ab koi aisa food ka naam batao mere ko jo ki hum paani ke saath khate hain tu is tarah ka jo hai jab tak hamara duniya mein jeene ke liye nahi khana toh hoga tab tak rog nivaran ho hi nahi sakta

दवाई दवाई खाने को आएंगे और आयुर्वेद के बारे तो हो जो समझो ना के सबसे पहला आयुर्वेद का जो

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  110
WhatsApp_icon
user

Dr Bhanu Meta

Ayurvedic Doctors

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तो क्या हुआ है सभी ऐसे क्रॉनिक डिजीज है रिकरेंट होते रहते हैं एलोपैथिक में जीरो डेप इंश्योरेंस को शिक्षा निकलने वाली दवाई होती है तो उसकी वजह से हुआ कि नहीं सही सोचा तो यही है आयुर्वेद वाला पढ़ाई में ध्यान रखना पड़ता है उसका दिनचर्या रियासत चेंज करना पड़ता है उसको

toh kya hua hai sabhi aise chronic disease hai rikrent hote rehte hain allopathic mein zero dep insurance ko shiksha nikalne wali dawai hoti hai toh uski wajah se hua ki nahi sahi socha toh yahi hai ayurveda vala padhai mein dhyan rakhna padta hai uska dincharya riyasat change karna padta hai usko

तो क्या हुआ है सभी ऐसे क्रॉनिक डिजीज है रिकरेंट होते रहते हैं एलोपैथिक में जीरो डेप इंश्यो

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
user

Dr Nitin Mittal

Ayurvedic Doctors

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अजनबी कारण है ऐसा है कि जैसे पुरानी टाइम में जो आयुर्वेद होता था कृष्ण राधा कृष्ण डीजे फौजी कर दे दे मेडिसिंस था और पेशेंट को देखने के बाद उसकी दोसा को चेक करने के बाद उसको 4G प्लस पर कर दे दे अब क्या हो गया सबके डिवाइड हो गए बॉडी बनाने वाली दूसरी हो गए देखने वाले दूसरे हो गया कब कर रहे हैं डायलॉग कर दें वह हमारा जो नर नारी ज्ञान था वह करने वाले ऐसी बैटरी नहीं अब मिलते जल्दी से जो पढ़ा जाता है आयुर्वेद इस तरह की टाइम्स ने दिखा जा 3:00 वाली कोई जिक्र ही नहीं होता ना दुखा पहले ऐसा होता था पहले की प्रैक्टिकल तो नहीं दिखाते जिसकी सबसे पहले आईएस आईटी सो गई हो गया अब धीरे-धीरे बीमारियों को आराम तो दे रहा है लेकिन ठीक नहीं करता और के साइड इफेक्ट भी हो रहे हैं और दूसरी तरफ झुकाव इसमें बहुत ज्यादा इंप्रूवमेंट आना बाकी है क्योंकि लोग अभी भी फर्स्ट लाइन आफ ट्रीटमेंट जो है ड्यूटी देते हैं कई साल तक इलाज कराते रहेंगे जब उन्हें आराम आना बंद हो जाएगा यह बोला था हम करनी बंद कर देंगे तब सोचेंगे पहले पर आयुर्वेदिक

ajnabee karan hai aisa hai ki jaise purani time mein jo ayurveda hota tha krishna radha krishna DJ fauji kar de de medisins tha aur patient ko dekhne ke baad uski dosa ko check karne ke baad usko 4G plus par kar de de ab kya ho gaya sabke divide ho gaye body banane wali dusri ho gaye dekhne waale dusre ho gaya kab kar rahe hain dialogue kar de vaah hamara jo nar nari gyaan tha vaah karne waale aisi battery nahi ab milte jaldi se jo padha jata hai ayurveda is tarah ki times ne dikha ja 3 00 wali koi jikarr hi nahi hota na dukha pehle aisa hota tha pehle ki practical toh nahi dikhate jiski sabse pehle ias it so gayi ho gaya ab dhire dhire bimariyon ko aaram toh de raha hai lekin theek nahi karta aur ke side effect bhi ho rahe hain aur dusri taraf jhukaav isme bahut zyada improvement aana baki hai kyonki log abhi bhi first line of treatment jo hai duty dete hain kai saal tak ilaj karate rahenge jab unhe aaram aana band ho jaega yah bola tha hum karni band kar denge tab sochenge pehle par ayurvedic

अजनबी कारण है ऐसा है कि जैसे पुरानी टाइम में जो आयुर्वेद होता था कृष्ण राधा कृष्ण डीजे फौज

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  120
WhatsApp_icon
user

Dr. Anurag Dubey

Ayurvedic Doctors

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ठीक है जा रहे हैं जो ट्रैक्टर होता है वह कम हो रहा है

theek hai ja rahe hain jo tractor hota hai vaah kam ho raha hai

ठीक है जा रहे हैं जो ट्रैक्टर होता है वह कम हो रहा है

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  122
WhatsApp_icon
user

Dr. Upendra Singh

Ayurvedic Doctors

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लोगों का मोहभंग हो गया नहीं हो जाता है इससे बचने के लिए लोग है आयुर्वेद में मुंह कर रहा है और आयुर्वेदिक की ओर क्यों है

logon ka mohabhang ho gaya nahi ho jata hai isse bachne ke liye log hai ayurveda mein mooh kar raha hai aur ayurvedic ki aur kyon hai

लोगों का मोहभंग हो गया नहीं हो जाता है इससे बचने के लिए लोग है आयुर्वेद में मुंह कर रहा है

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  151
WhatsApp_icon
user
3:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम जो भी कुछ इस तरह है हमारी समय तक हो जाएगा टेंशन क्यों हो रही है आरा शहर में हम खाना गोयल के नीचे आप हिंदुस्तानी है उसको जाकर वहां पर वह भी जो हेल्पलाइन पुर गांव का मुआवजा तक न्यूज़ हमारा सोना यदि हम रात की शिफ्ट ड्यूटी करेंगे तो पेट डॉक्टर रात्रि को चरण पद्मावती हमारा मस्तिष्क ब्रेन हेमरेज गोगाजी कथा भोजन है उसमें कितने साल तक जाएगा दूसरा उज्जैन में शामिल आज पंजाब में कहीं पेस्टीसाइड कि यहां तक है कि हम गन्ना पैदा करने की से चीनी बनती है कौन एनिमल्स को भी ऊपर का उसका खिलाते हैं उसमें

hum jo bhi kuch is tarah hai hamari samay tak ho jaega tension kyon ho rahi hai aara shehar mein hum khana goyal ke niche aap hindustani hai usko jaakar wahan par vaah bhi jo helpline pur gaon ka muavja tak news hamara sona yadi hum raat ki shift duty karenge toh pet doctor ratri ko charan padmavati hamara mastishk brain hemrej gogaji katha bhojan hai usme kitne saal tak jaega doosra ujjain mein shaamil aaj punjab mein kahin pesticide ki yahan tak hai ki hum ganna paida karne ki se chini banti hai kaun animals ko bhi upar ka uska khilaate hain usmein

हम जो भी कुछ इस तरह है हमारी समय तक हो जाएगा टेंशन क्यों हो रही है आरा शहर में हम खाना गोय

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
user

Dr. Renuka Siddhapura

Ayurvedic Doctor

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि अभी अवैध लोगों ने उसके लिए हमारे बड़े ब्रदर कोई पीएम को ही उसने जो यह प्रमोट किया लोगों के पास काम करता है पहले सब जो रिजल्ट लेने के लिए जाने के लिए लोकल कितने हार्मफुल और कितने समय तक लेनी चाहिए और उसको नहीं तो करता आयुर्वेदिक को दूर करता है और साथ में जो अभी सब लोग कर रहे कर रहे थे डॉक्टर की बेटी

kyonki abhi awaidh logo ne uske liye hamare bade brother koi pm ko hi usne jo yah promote kiya logo ke paas kaam karta hai pehle sab jo result lene ke liye jaane ke liye local kitne harmful aur kitne samay tak leni chahiye aur usko nahi toh karta ayurvedic ko dur karta hai aur saath mein jo abhi sab log kar rahe kar rahe the doctor ki beti

क्योंकि अभी अवैध लोगों ने उसके लिए हमारे बड़े ब्रदर कोई पीएम को ही उसने जो यह प्रमोट किया

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  128
WhatsApp_icon
user

Upendra Singhal

Ayurvedic Doctors

2:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैंने तो मेरा भी तरह लगती हो रहा है कि एलोपैथी भी मैंने खूब इस्तेमाल करता देखा तो होने लगा पैसे के लालच में एक सही इलाज मरीज को नहीं देख पाते पाते पेशेंट को उससे ज्यादा पैसा लेने के चक्कर में उसको घुमाया जाता है यह जाती है और ज़्यादातर लोग क्या करते हो बस उनके पीछे वह बढ़िया डिग्री है बढ़िया भीड़ लग रही है वही लग रहा है पीछे पीछे कुछ नहीं बनाते हैं जो बचा था धक्के खाते रहते हैं फिर सरकार की तरफ आते हैं मैं मानता हूं ठीक है चीटिंग करने वाले कर भी रहे थोड़ा मोटा लेकिन इतना नहीं है कहीं ना कहीं इंसान वाली बात आयुर्वेद आयुर्वेद की प्रेक्टिस करने वालों में है पेशेंट जमा लिया मेरे को पेशेंट आता है दैनिक करके इसको सही लाइन पर जाओ पहले कैलकुलेट की तरफ जाता है कुछ हमारी बातें अच्छी नहीं लगती डाइजेस्टिव सिस्टम कहां से जुड़ा हुआ है मारिया भी कम हो जाती है थोड़ी देर में ठीक है बस अपना पैसा कमाओ

maine toh mera bhi tarah lagti ho raha hai ki allopathy bhi maine khoob istemal karta dekha toh hone laga paise ke lalach mein ek sahi ilaj marij ko nahi dekh paate paate patient ko usse zyada paisa lene ke chakkar mein usko ghumaya jata hai yah jaati hai aur zyadatar log kya karte ho bus unke peeche vaah badhiya degree hai badhiya bheed lag rahi hai wahi lag raha hai peeche peeche kuch nahi banate hain jo bacha tha dhakke khate rehte hain phir sarkar ki taraf aate hain main manata hoon theek hai cheating karne waale kar bhi rahe thoda mota lekin itna nahi hai kahin na kahin insaan wali baat ayurveda ayurveda ki practice karne walon mein hai patient jama liya mere ko patient aata hai dainik karke isko sahi line par jao pehle calculate ki taraf jata hai kuch hamari batein achi nahi lagti digestive system kahaan se juda hua hai maria bhi kam ho jaati hai thodi der mein theek hai bus apna paisa kamao

मैंने तो मेरा भी तरह लगती हो रहा है कि एलोपैथी भी मैंने खूब इस्तेमाल करता देखा तो होने लगा

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
user

Abhay Pratap

Advocate | Social Welfare Activist

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उस महान प्रकृति वादी ईश्वर ने जब हम मनुष्यों को बनाया तो हमारी आई हमारी सुख हमारी शांति की रक्षा के लिए हमें औषधि थी उस और सचिव को समावेश ही हमारे प्रकृति में विद्यमान हैं जिससे हम आयुर्वेद के रूप में जानते हैं और आयुर्वेद ही भारत की महान परंपराओं को सजीव बी स जूते हुए राष्ट्र की गरिमा को बनाए रखते हुए हम हिंदू व पूरे विश्व की सुरक्षा का दायित्व शिकार करता रहा आज अनेक पद्धतियां विकसित होने के बाद भी लोगों को फिर यकीन हुआ कि आयुर्वेद ही ऐसा तंत्र है जिससे सारी बीमारियां और सारे और चिंतनीय दुखों का विनाश किया जा सकता है रोका जा सकता है इसीलिए आज लोग आयुर्वेद को फिर से महत्वपूर्ण झा के रूप में अपना रहे हैं और यह राष्ट्र के लिए नहीं पूरे विश्व के लिए गौरव की बात है कि आप अपने जीवन को सुखी और संतुष्ट करने की दिशा में एक सही मार्ग पर चल रहे हैं

us mahaan prakriti wadi ishwar ne jab hum manushyo ko banaya toh hamari I hamari sukh hamari shanti ki raksha ke liye hamein aushadhi thi us aur sachiv ko samavesh hi hamare prakriti mein vidyaman hain jisse hum ayurveda ke roop mein jante hain aur ayurveda hi bharat ki mahaan paramparaon ko sajeev be s joote hue rashtra ki garima ko banaye rakhte hue hum hindu va poore vishwa ki suraksha ka dayitva shikaar karta raha aaj anek paddhatiyan viksit hone ke baad bhi logo ko phir yakin hua ki ayurveda hi aisa tantra hai jisse saree bimariyan aur saare aur chintaniya dukhon ka vinash kiya ja sakta hai roka ja sakta hai isliye aaj log ayurveda ko phir se mahatvapurna jha ke roop mein apna rahe hain aur yah rashtra ke liye nahi poore vishwa ke liye gaurav ki baat hai ki aap apne jeevan ko sukhi aur santusht karne ki disha mein ek sahi marg par chal rahe hain

उस महान प्रकृति वादी ईश्वर ने जब हम मनुष्यों को बनाया तो हमारी आई हमारी सुख हमारी शांति की

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  469
WhatsApp_icon
user

Dr. Brij Bihari Upadhyay

Ayurvedic Doctors

1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

असल में महावीर की चिकित्सा में पहले भी होता था लेकिन उसमें डेवलपमेंट डेवलपमेंट किस लिए हुआ है कि हमारी जो पद्धति है वह पंचमहाभूत पर है तू पंचमहाभूत से चलो सिद्धांत है उस पर कमेंट करते हैं तो जितनी हमारी ना औषधियां हैं सबको बेगम का समन करते हैं जो है वह दूर हो जाता है हमारे यहां जो सब्जी में मसाले पड़ते हैं लेकिन उसकी मात्रा में वोट डालने पर अब उसकी मात्रा बहुत ज्यादा हम दालचीनी से गिरा है धनिया है मिर्ची है पता है यह सब चीजें और अभी जो सच हुआ 11 का प्रचलित हुआ तो इसलिए उस तरह की औषधियों का निर्माण करते अगर हम लोग ऐसा करते हैं तो उसे काफी लाभ होता है कि कंपनियां अब जो है उस तरह का अलग-अलग जगह जूस बनाकर मार्केट में ला देंगे

asal mein mahavir ki chikitsa mein pehle bhi hota tha lekin usme development development kis liye hua hai ki hamari jo paddhatee hai vaah panchamahabhut par hai tu panchamahabhut se chalo siddhant hai us par comment karte hain toh jitni hamari na aushadhiyan hain sabko begum ka saman karte hain jo hai vaah dur ho jata hai hamare yahan jo sabzi mein masale padte hain lekin uski matra mein vote dalne par ab uski matra bahut zyada hum daalchini se gira hai dhania hai mirchi hai pata hai yah sab cheezen aur abhi jo sach hua 11 ka prachalit hua toh isliye us tarah ki aushadhiyon ka nirmaan karte agar hum log aisa karte hain toh use kaafi labh hota hai ki companiya ab jo hai us tarah ka alag alag jagah juice banakar market mein la denge

असल में महावीर की चिकित्सा में पहले भी होता था लेकिन उसमें डेवलपमेंट डेवलपमेंट किस लिए हुआ

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  123
WhatsApp_icon
user
2:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रोमांटिक रोमांटिक नाइट के लिए हमारा पहले मोदी जी के पहले उसको मोदी जी आए तो अलग कर दिया भैया आपका मंत्रालय अलग रहेगा उसके मिस्टर पसंद कर दिए ठीक है ना और भारतीय जो मारे अर्जेंट आते हैं यहां पर पढ़ने के लिए ठीक रखा गया हर कॉलेज में सेंटर यूनिवर्सिटी में एडमिशन के लिए मंत्र कमेंट कर रहा है जहां पर सर्जरी है वहां तो पहले भी था आज से 5 साल पहले पुराना यह शादी हमारे घर घर में है आपका हल्दी में डालते हैं आप चड्डी में डाल में वही हमें देखना है कि गाने लोग मैं कितना आयुर्वेद के प्रति बता रहे कमेंट और मास्टर

romantic romantic night ke liye hamara pehle modi ji ke pehle usko modi ji aaye toh alag kar diya bhaiya aapka mantralay alag rahega uske mister pasand kar diye theek hai na aur bharatiya jo maare urgent aate hain yahan par padhne ke liye theek rakha gaya har college mein center university mein admission ke liye mantra comment kar raha hai jaha par surgery hai wahan toh pehle bhi tha aaj se 5 saal pehle purana yeh shadi hamare ghar ghar mein hai aapka haldi mein daalte hain aap chaddee mein daal mein wahi humein dekhna hai ki gaane log main kitna ayurveda ke prati bata rahe comment aur master

रोमांटिक रोमांटिक नाइट के लिए हमारा पहले मोदी जी के पहले उसको मोदी जी आए तो अलग कर दिया भै

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  439
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए इसके पीछे कारण है कि एक पूर्व तो मन में भावना है कि साइड इफेक्ट नहीं आयुर्वेदिक दवा का और दूसरा है कि बहुत सारी बीमारी ऐसी है कि वहां पर फेल हो जा रहा है जैसे कि आप गैस्ट्राइटिस के लिए अर्थराइटिस के लिए पाइल्स के लिए इंटेक्स वर्ल्ड के लिए एलोपैथी आयुर्वेद काफी तेजी से काम कर रहा है कारगर हो रहा है

dekhiye iske peeche karan hai ki ek purv toh man mein bhavna hai ki side effect nahi ayurvedic dawa ka aur doosra hai ki bahut saree bimari aisi hai ki wahan par fail ho ja raha hai jaise ki aap Gastritis ke liye arthritis ke liye piles ke liye intex world ke liye allopathy ayurveda kaafi teji se kaam kar raha hai kargar ho raha hai

देखिए इसके पीछे कारण है कि एक पूर्व तो मन में भावना है कि साइड इफेक्ट नहीं आयुर्वेदिक दवा

Romanized Version
Likes  41  Dislikes    views  418
WhatsApp_icon
user

Dr Amit Mishra

Ayurveda Dr /Yoga Consultant

1:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल ठीक हूं पूछा क्योंकि अगर हम देखे हैं कि आज ज्यादा कर जो लोग जो बीमार हो गए हैं उसका कारण जो है वह हमारी जीवन शैली है और उसका जीवन शैली का कार्य जिसके लिए वह डॉक्टर को बार बार उनको विजिट करना पड़ रहा है यह खानपान को लेकर हो सकता है मुझे शारीरिक व्यायाम को लेकर सकते हैं और इन सब चीजों में आन विराजो हॉलिस्टिक अप्रोच है परिपूर्ण तरीके से शिक्षा देता है लोगों का आदमी के प्रति झुकाव बढ़ा है हम यह नहीं कहते हैं कि आयुर्वेद में चिकित्सा पिछली बार पड़े हैं इसीलिए आप बीमार नहीं पढ़े निश्चित ज्यादा झुकाव कब है

bilkul theek hoon poocha kyonki agar hum dekhe hain ki aaj zyada kar jo log jo bimar ho gaye hain uska karan jo hai vaah hamari jeevan shaili hai aur uska jeevan shaili ka karya jiske liye vaah doctor ko baar baar unko visit karna pad raha hai yah khanpan ko lekar ho sakta hai mujhe sharirik vyayam ko lekar sakte hain aur in sab chijon mein Aan virajo halistik approach hai paripurna tarike se shiksha deta hai logo ka aadmi ke prati jhukaav badha hai hum yah nahi kehte hain ki ayurveda mein chikitsa pichali baar pade hain isliye aap bimar nahi padhe nishchit zyada jhukaav kab hai

बिल्कुल ठीक हूं पूछा क्योंकि अगर हम देखे हैं कि आज ज्यादा कर जो लोग जो बीमार हो गए हैं उसक

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  463
WhatsApp_icon
user

Dr. Garima Saxena

Founder, Consultant - Sukhayubhava ayurveda integrated clinic

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गूगल बाबा जिंदाबाद हेलो गूगल से पूछ कर करते हैं एलोपैथिक में लोग जाते हैं वह भी होती है उसको गूगल को देखता है यह पहले पेट से नीचे को दुनिया भर की साइड इफेक्ट्स भी लिस्ट में जाती है यह पसंद लोगों को पता चल गया कि दुनिया भर के बेटा के पास आ रहे हैं बीमार नहीं नहीं वह प्यार की ताकत डालें ताकि वह अपनी हेल्थ को मेंटेन कर सके इतनी हंसी आ रही है और केमिकल केमिकल फ्री क्या मेडिसिन मिलेगी

google baba zindabad hello google se puch kar karte hain allopathic mein log jaate hain vaah bhi hoti hai usko google ko dekhta hai yah pehle pet se niche ko duniya bhar ki side effects bhi list mein jaati hai yah pasand logo ko pata chal gaya ki duniya bhar ke beta ke paas aa rahe hain bimar nahi nahi vaah pyar ki takat Daalein taki vaah apni health ko maintain kar sake itni hansi aa rahi hai aur chemical chemical free kya medicine milegi

गूगल बाबा जिंदाबाद हेलो गूगल से पूछ कर करते हैं एलोपैथिक में लोग जाते हैं वह भी होती है उस

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  440
WhatsApp_icon
user

Dr.Yogesh P Sandu

Ayurveda Specialist

0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

साइड इफैक्ट्स कम रहता है नहीं के बराबर रहता है मैक्सवेल भी रोकने की कोशिश करता रहता है

side effects kam rehta hai nahi ke barabar rehta hai maxwell bhi rokne ki koshish karta rehta hai

साइड इफैक्ट्स कम रहता है नहीं के बराबर रहता है मैक्सवेल भी रोकने की कोशिश करता रहता है

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  595
WhatsApp_icon
user

Dr. Shyam Kumar

Ayurvedic Doctor

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या है पता ही नहीं मिल पाता रिजल्ट सही नहीं आता था दूसरा की इंडिया के लोग तो इंडिया के बारे में भी तुम लोग के दिमाग में आता है रामदेव बाबा आने के बाद तो बहुत चेंज हुआ लोगों का मन मूल्य पर ध्यान देने लगे जो आदमी बात नहीं सुनता था तब योग कर रहा है कि फायदा हो रहा है और स्टार्टिंग मत जा कि अभी अभी तक अभी तक खराबी है

kya hai pata hi nahi mil pata result sahi nahi aata tha doosra ki india ke log toh india ke bare mein bhi tum log ke dimag mein aata hai ramdev baba aane ke baad toh bahut change hua logo ka man mulya par dhyan dene lage jo aadmi baat nahi sunta tha tab yog kar raha hai ki fayda ho raha hai aur starting mat ja ki abhi abhi tak abhi tak kharabi hai

क्या है पता ही नहीं मिल पाता रिजल्ट सही नहीं आता था दूसरा की इंडिया के लोग तो इंडिया के बा

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  521
WhatsApp_icon
user

Mahendra Kumar Jain

Ayurvedic Doctor

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए ऐसा है जो लोग पढ़े लिखे हैं समझदार हैं और उनके परिवार में एलोपैथिक चिकित्सा पर कोई नुकसान हुए हैं उन सब को निरंतर पढ़कर पहचान तक जो गलतियां उनकी एक पीढ़ी पहले हुई है उसका वह सुधार करना है और यह अच्छा है प्रयास है उधर से नया जीवन सुरक्षित होगा

dekhiye aisa hai jo log padhe likhe hain samajhdar hain aur unke parivar mein allopathic chikitsa par koi nuksan hue hain un sab ko nirantar padhakar pehchaan tak jo galtiya unki ek peedhi pehle hui hai uska vaah sudhaar karna hai aur yah accha hai prayas hai udhar se naya jeevan surakshit hoga

देखिए ऐसा है जो लोग पढ़े लिखे हैं समझदार हैं और उनके परिवार में एलोपैथिक चिकित्सा पर कोई न

Romanized Version
Likes  117  Dislikes    views  1514
WhatsApp_icon
user

Pranav Das

Medicine Specialist

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयुर्वेदिक करते लोग और समझ में आ रहा है कि आयुर्वेद जो है जिसमें इंसान ठीक तो होता थोड़ा समय लगता है लेकिन इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है आज की डेट में देखा जाए कि इंसान एक बीमारी को ठीक करने के लिए कोई दवाई लेता है तो पता चल रहा है उसका वह तो ठीक हो जाता लेकिन दूसरी बीमारी दूर हो जाता है लीवर किडनी पर बहुत गलत होता है भैया यह आपको सोचना पड़ेगा दोस्त कम ज्यादा हो जाए तो दिक्कत है

ayurvedic karte log aur samajh mein aa raha hai ki ayurveda jo hai jisme insaan theek toh hota thoda samay lagta hai lekin iska koi side effect nahi hai aaj ki date mein dekha jaaye ki insaan ek bimari ko theek karne ke liye koi dawai leta hai toh pata chal raha hai uska vaah toh theek ho jata lekin dusri bimari dur ho jata hai liver KIDNEY par bahut galat hota hai bhaiya yah aapko sochna padega dost kam zyada ho jaaye toh dikkat hai

आयुर्वेदिक करते लोग और समझ में आ रहा है कि आयुर्वेद जो है जिसमें इंसान ठीक तो होता थोड़ा स

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  176
WhatsApp_icon
user

Dr Alok Kumar Sinha

Ayurvedic Doctor Joint Pain specialist

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयुर्वेद में कोई स्टेटमेंट हमारे यहां लिखा है कि हम लोग खत्म करते हैं कमेंट को पूर्ण करते हैं हमें उम्मीद है कि वह ठीक हो जाता

ayurveda mein koi statement hamare yahan likha hai ki hum log khatam karte hain comment ko purn karte hain hamein ummid hai ki vaah theek ho jata

आयुर्वेद में कोई स्टेटमेंट हमारे यहां लिखा है कि हम लोग खत्म करते हैं कमेंट को पूर्ण करते

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  311
WhatsApp_icon
user

Dr Ashutosh Goyal

Panchkarma Specialist

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या उसके पीछे बहुत सारी विवेचन पहली चीज जो भी अब तक चलता है मैं गलत नहीं करा गलत गलत है कि सही गलत नहीं होती है 20 पॉइंट एक के आजकल साइड इफेक्ट काफी बढ़ गए हैं बॉडी पर लोग ध्यान नहीं देते आयुर्वेद में यह है कि आपको साइड इफेक्ट से आपको ऐड देती तो प्रॉब्लम है आपको नहीं होती है कल डॉक्टर तक आप अपनी बॉडी बना कर चलते एक ही सिद्धांत है और उसके बाद उसको नहीं दोगे बनाना स्पष्ट किया कि वह अपनी टाइम टू टाइम यह सारी चीजें फॉलो करता रहेगा मॉर्निंग वॉक एक्सरसाइज

kya uske peeche bahut saree vivechan pehli cheez jo bhi ab tak chalta hai galat nahi kara galat galat hai ki sahi galat nahi hoti hai 20 point ek ke aajkal side effect kaafi badh gaye hain body par log dhyan nahi dete ayurveda mein yah hai ki aapko side effect se aapko aid deti toh problem hai aapko nahi hoti hai kal doctor tak aap apni body bana kar chalte ek hi siddhant hai aur uske baad usko nahi doge banana spasht kiya ki vaah apni time to time yah saree cheezen follow karta rahega morning walk exercise

क्या उसके पीछे बहुत सारी विवेचन पहली चीज जो भी अब तक चलता है मैं गलत नहीं करा गलत गलत है क

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  337
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!