क्यों संयुक्त राज्य अमेरिका की तुलना में भारत में आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक चिकित्सा अधिक प्रमुख हैं?...


user

Dr. Garima Saxena

Founder, Consultant - Sukhayubhava ayurveda integrated clinic

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत की पॉपुलेशन कितनी है इसीलिए अगर आप पूरे विश्व में देखोगे तो जहां पर ज्यादा कॉरपोरेशन होगी वहीं पर तो ज्यादा लोग होंगे तो अगर आप कविता रीजनल ऑफिस भारत में आपको आएंगे तो मत ज्यादा दिखेगा और अगर आप एक और सर्वे देखो आयुर्वेदिक प्रोडक्ट मैन्युफैक्चरर इन चाइना सबसे बड़ा है यह हमारे लिए बहुत बड़ी विडंबना है क्या भारत है ठीक है भारत में ज्यादा आयुर्वेदिक डॉक्टर है क्योंकि जनक है मगर मैंने कक्षा चाइना सबसे ज्यादा क्यों क्योंकि उसे अपॉर्चुनिटी देखिए

bharat ki population kitni hai isliye agar aap poore vishwa mein dekhoge toh jaha par zyada corporation hogi wahi par toh zyada log honge toh agar aap kavita regional office bharat mein aapko aayenge toh mat zyada dikhega aur agar aap ek aur survey dekho ayurvedic product manufacturer in china sabse bada hai yah hamare liye bahut baadi widambana hai kya bharat hai theek hai bharat mein zyada ayurvedic doctor hai kyonki janak hai magar maine kaksha china sabse zyada kyon kyonki use opportunity dekhiye

भारत की पॉपुलेशन कितनी है इसीलिए अगर आप पूरे विश्व में देखोगे तो जहां पर ज्यादा कॉरपोरेशन

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  419
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Dr.Yogesh P Sandu

Ayurveda Specialist

0:14

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रेलवेज का स्रोत यही है ना इंडिया आई है तो जान से ज्यादा हमारे खत्म हो गया है

railways ka srot yahi hai na india I hai toh jaan se zyada hamare khatam ho gaya hai

रेलवेज का स्रोत यही है ना इंडिया आई है तो जान से ज्यादा हमारे खत्म हो गया है

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  621
WhatsApp_icon
user

Dr. Gaurav Kaushal

Homeopathy Doctor

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बिल्कुल ऐसा है कि यह होमपेथी और आयुर्वेदिक चिकित्सा भारत में अधिक इंपॉर्टेंट है इसकी क्योंकि बाहर के देशों में अभी देवरिया मतलब बहुत ज्यादा रिलाई नहीं कर रहे हैं लेकिन और इंडिया में जितना लास्ट के 5 से 7 साल में हमने देखा है वह पति का प्रचार-प्रसार बहुत बड़ा है लोगों का रुझान हो पति किधर है और लोग रिजल्ट से मिले तो

ji bilkul aisa hai ki yah hompethi aur ayurvedic chikitsa bharat mein adhik important hai iski kyonki bahar ke deshon mein abhi devariya matlab bahut zyada rilai nahi kar rahe hain lekin aur india mein jitna last ke 5 se 7 saal mein humne dekha hai vaah pati ka prachar prasaar bahut bada hai logo ka rujhan ho pati kidhar hai aur log result se mile toh

जी बिल्कुल ऐसा है कि यह होमपेथी और आयुर्वेदिक चिकित्सा भारत में अधिक इंपॉर्टेंट है इसकी क्

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  107
WhatsApp_icon
user

Dr. Shakeel Akhtar

Homeopathy Doctor

1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयुर्वेद हमारे देश भारत की प्राचीन चिकित्सा पद्धति है इसलिए भारत में यह राधा विख्यात है पहले से ही प्राचीन काल से ही यहां हमारे भारत में जो इलाज किया जाता है वह आयुर्वेद पद्धति पद्धति से ही आयुर्वेदिक चिकित्सा सही इलाज किया जाता था पहले भी और अब भी लोग इसको हमारे भारत में बहुत पसंद करते हैं और जहां तक संयुक्त राज्य अमेरिका का सवाल है कि वहां पर आयुर्वेद को इतनी अहमियत नहीं दी जाती है इतने विख्यात नहीं है अभी तो मैं समझता हूं कि आयुर्वेद का अभी इतना प्रचार हुआ नहीं है इतना एडवर्टाइजमेंट हुआ नहीं है विदेशों में जितनी जरूरत थी कि एडवर्टाइजमेंट होना चाहिए था आयुर्वेद का इतना एडवर्टाइजमेंट अभी भी देखो मैं हुआ नहीं है शायद यही वजह है कि संयुक्त राज्य अमेरिका में यह आयुर्वेद इतनी विख्यात नहीं है अब क्योंकि हिंदुस्तान की प्राचीन चिकित्सा पद्धति है तो इसलिए हिंदुस्तानी लोग हम लोग इसको बहुत ही लाइक करते पसंद करते हैं जहां तक होम्योपैथी का सवाल है तो होम्योपैथी तो संयुक्त राज्य अमेरिका में काफी विख्यात है और अमेरिका में काफी तादाद में होम्योपैथिक मेडिसिंस भी बनाई जाती और अमेरिका में होम्योपैथिक का काफी चलन है थैंक यू

ayurveda hamare desh bharat ki prachin chikitsa paddhatee hai isliye bharat mein yah radha vikhyat hai pehle se hi prachin kaal se hi yahan hamare bharat mein jo ilaj kiya jata hai vaah ayurveda paddhatee paddhatee se hi ayurvedic chikitsa sahi ilaj kiya jata tha pehle bhi aur ab bhi log isko hamare bharat mein bahut pasand karte hain aur jaha tak sanyukt rajya america ka sawaal hai ki wahan par ayurveda ko itni ahamiyat nahi di jaati hai itne vikhyat nahi hai abhi toh main samajhata hoon ki ayurveda ka abhi itna prachar hua nahi hai itna advertisement hua nahi hai videshon mein jitni zarurat thi ki advertisement hona chahiye tha ayurveda ka itna advertisement abhi bhi dekho main hua nahi hai shayad yahi wajah hai ki sanyukt rajya america mein yah ayurveda itni vikhyat nahi hai ab kyonki Hindustan ki prachin chikitsa paddhatee hai toh isliye hindustani log hum log isko bahut hi like karte pasand karte hain jaha tak homeopathy ka sawaal hai toh homeopathy toh sanyukt rajya america mein kaafi vikhyat hai aur america mein kaafi tadad mein homeopathic medisins bhi banai jaati aur america mein homeopathic ka kaafi chalan hai thank you

आयुर्वेद हमारे देश भारत की प्राचीन चिकित्सा पद्धति है इसलिए भारत में यह राधा विख्यात है पह

Romanized Version
Likes  42  Dislikes    views  508
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्यों संयुक्त राज्य अमेरिका में है काजू आयुर्वेदिक कब चलना है कम है जब की तुलना में भारत में चिकित्सा अधिक है तो मैं आपसे बताना चाहूंगा आयुर्वेद यह भारतवर्ष की विधा है समुद्र मंथन हुआ था पौराणिक कथा है तो समुद्र मंथन के 14 रत्न निकले थे जिसमें आयुर्वेद के जनक भगवान धन्वंतरि आयुर्वेदिक साथ के साथ अब्दुल हुए थे आज योग्य मोड में कैसे करो कपोल कल्पित समझते हैं लेकिन ऐसा नहीं है हाईवेज वह है जिसमें पानी की समस्त आयु को प्रभावित करने की वजह है उसे रोगमुक्त करने की योजना है और जो बिजी बागपत कब 326 मुद्दों के आधार पर चिकित्सा की जाती है उनका शुद्धिकरण की जाता है यह इस आयुर्वेद में ही है और हिंदुस्तान की पर्ची है जांच की जहां पर्ची होती है उसका पिक्चर में जाकर होता है होम्योपैथी और अन्य थी उनके बारे में मैं नहीं बता पाऊंगा लेकिन मैं तो आज के बाद मैं आपसे दोस्ती की है तो उसका जवाब देना जाऊंगा अपनी इच्छा से अपनी क्षमता से की आयुर्वेदिक ऐसी अर्जी है आई बजे के साथ साथ है चिकित्सा शास्त्र है जिसमें मनुष्य की शरीर की जो दोस्त है जो जो के आधार पर चिकित्सा की जाती है और यह आयुर्वेद भी है तो अन्य देशों की तुलना में इस भारत देश की पहली भारत देश में ज्यादा प्रचलित ऐसा मेरा मानना है धन्यवाद

kyon sanyukt rajya america mein hai kaaju ayurvedic kab chalna hai kam hai jab ki tulna mein bharat mein chikitsa adhik hai toh main aapse bataana chahunga ayurveda yah bharatvarsh ki vidhaa hai samudra manthan hua tha pouranik katha hai toh samudra manthan ke 14 ratna nikle the jisme ayurveda ke janak bhagwan dhanvantari ayurvedic saath ke saath abdul hue the aaj yogya mode mein kaise karo kapol kalpit samajhte hain lekin aisa nahi hai haivej vaah hai jisme paani ki samast aayu ko prabhavit karne ki wajah hai use rogmukt karne ki yojana hai aur jo busy bagpat kab 326 muddon ke aadhar par chikitsa ki jaati hai unka shuddhikaran ki jata hai yah is ayurveda mein hi hai aur Hindustan ki parchi hai jaanch ki jaha parchi hoti hai uska picture mein jaakar hota hai homeopathy aur anya thi unke bare mein main nahi bata paunga lekin main toh aaj ke baad main aapse dosti ki hai toh uska jawab dena jaunga apni iccha se apni kshamta se ki ayurvedic aisi arji hai I baje ke saath saath hai chikitsa shastra hai jisme manushya ki sharir ki jo dost hai jo jo ke aadhar par chikitsa ki jaati hai aur yah ayurveda bhi hai toh anya deshon ki tulna mein is bharat desh ki pehli bharat desh mein zyada prachalit aisa mera manana hai dhanyavad

क्यों संयुक्त राज्य अमेरिका में है काजू आयुर्वेदिक कब चलना है कम है जब की तुलना में भारत

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  433
WhatsApp_icon
user

Dr. Mitramahesh

Ayurvedic Doctors

9:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल क्लिंटन अमेरिका का राष्ट्रपति था और उसने उस समय अमेरिका में बोला था कि घूमने पर क्या है यह मुझे अब तक समझ में नहीं आई है और मैं समझ न समझ नहीं सकता हूं कि होम्योपैथिक है क्या मुझे बिल क्लिंटन ने ऐसा बोला प्रेसिडेंट ऑफ अमेरिका यूएसए तो पूरे दुनिया में उसका होम्योपैथिक वालों ने भयंकर विरोध किया था तभी तो होम्योपैथी के बारे में बिल क्लिंटन ने बोला अमेरिका का राष्ट्रपति विश्वकर्मा सत्ता वाला व्यक्ति और लोगों को सोच कर के कुछ भी बोलना पड़ा और अभी देना पड़ा परंतु जो आईडी विद है वह विश्व के अंदर जो अनादि पुस्तकें वेज और वेज के चार वेद के यूजर्स किसका उपवेद है और आइज की जो चार्ज है को एक विश्व की कोई एक अपार अदृश्य सकता जिसको परमात्मा बोलिए कुछ भी कहे वह है पूजा गौर और परमात्मा में जमीन आसमान का जो परमात्मा है वह आदि अनादि और एक स्वतंत्र इकाई सर्वव्यापक और जो खुदा है वह चारपाई के घाट के ऊपर पर्दा डालकर कि उसे बैठा हुआ कोई व्यक्ति है और जो गॉड है क्रिश्चन ओ गॉड जो धर्म की बातें करता है तो उसका जीसस क्राइस्ट का बेटा है क्या वह भी है इस प्रकार की शादी कार्तिक बातों के ऊपर ही धर्म नहीं है धर्म में 1 साइंस के अनुसार ए के पूरे वर्ल्ड की पूरी यूनिवर्स यूनिवर्स ऑल अखिल ब्रह्मांड एक सजीव एक्टिव हॉस्पिटल सकता है और इसके नियम शब्द का पर एक समान है कोई सामान नहीं है समझ गए कि चंद्र की धरती पर और मंगल की धरती पर कुछ कारण से जीवन संपन्न नहीं है और कोई भयंकर गर्मी है भयंकर ठंडी है तो वहां पर उसे लाइक किए चेतन तो नहीं होगी लेकिन है उसे होने से वह सृष्टि का एक हिस्सा कुछ विपरीत दिशा में है रिपीट कारण में है ऐसा नहीं होता है वहां भी यदि व्यक्ति जाकर के गर्मी का प्रयोग ठंडी में करेगा तो जीवन में वह संपन्न होगा और भयानक गर्मी होगी वहां जाकर को ठंड की अनुभूति करेगा अभी वह जीवन को वहां पर ला सकता है जैसे आपके घर के अंदर फ्रिज फ्रिज के अंदर इलेक्ट्रिसिटी इलेक्ट्रिसिटी का पिएंगे पाटनी उस काम को करके मर जाएगा और शरीर में से एक ब्लडिंग भी हो जाएगी ऐसा मरेगा जंडली परंतु फ्रिज के अंदर वह इलेक्ट्रिक की अग्निशामक सकता को अग्नि की पावर को उन्होंने ठंड केंद्र परिवर्तन किया है उसमें सपने को ठंड मिलती है और जो इलेक्ट्रिक सिटी की जो रचना होती है वह भयानक गर्मी भी होती है पदार्थों का फेरबदल करना एक साइंटिफिक पाते यह कोई खुदा खुदा बोलने से गॉड गॉड बोलने से या कुछ और करने से नहीं होता है वह जगत की एक आनंद सत्ता की एक सख्त और एक्टिव और लाइट फुल बताइए तो यह उसके अनुसार आयुर्वेद का पूरी दुनिया में दिल क्लिंटन ने उन्हें पर्ची का जो एकमात्र अभी प्रज्ञा और जरूरत हो गया इसका तो हजारों साल से भयानक हीरो तोता है मुसलमानों ने भारत पर आक्रमण किया उसमें तक्षशिला नालंदा उज्जैनी और भारत की जो बड़ी-बड़ी यूनिवर्सिटी थी उसको महीनों और सालों तक जलाया जलाया और लाखों नहीं करोड़ों करोड़ों की सड़कों को भस्म कर दिया 150 है भारतीय और ब्रिटिश की बातें हैं तो यह आयुर्वेद के ऊपर तो भयंकर आक्रमण हुआ आज की तारीख में आएगी द्वारा एक सुई के बराबर कोई एचएचएच भी नहीं रह सकता है उसको सजा हो जाएगी कोर्ट और कानून से और रो लोगे एलोपैथी वाले ऑपरेशन रामपुर के नाम पर हजारों लाखों लाखों लोगों को उल्टा सुलता सीकर केसरी में दूध करके क्या चीज उत्तर के नीचे बर्फ करके लोगों को बुरी मौत से मार देते तो उनके सामने कोई कानून को लड़ने वाले भी बहुत कम है और ठेकेदारों से अधिक देने वाले भी बहुत कम लोग हैं हम जो बातें बता रहे हैं उसके अनुसार आयुर्वेद के ऊपर बहुत भयानक हुआ आयोजित वालों को सर जी करने कि बनाइए सर जी के कल के कटने की मनाई है और सुश्रुत संहिता में 100 से अधिक युवा और व्यापन है आयुष है उसमें से 67 पेपर आज की तारीख में एलोपैथिक साइंस वाले चरक संहिता के लिए अपन को यूज करता है और 30 40 पेपर आज की तारीख में पता नहीं है कि अपन किया है कैसे बनते देख क्या चीज है वह समझ नहीं सके तो पूरी परिपाटी आईविकी लोगों ने समाप्त कर दी आयुष का लाखो हजारों लाखों पुस्तकों का अंत कर दिया चरक संहिता में मिलता है कि भाई हमारे पल्ले फलाने फलाने ऋषि से उसे पहले भी कोई थे इससे पहले भी कोई थे ऐसी पूरी सिस्टम उन्होंने दिखाइए वंशानुक्रम से तो यह सारी बातों के ऊपर होकर के ओरिजिनल जो पुस्तक के ओरिजिनल पुस्तकों के अंदर भी मिक्सिंग हुआ कुछ लिखना पड़ा कि बीएफ तक बनने से पहले 500 1000 2000 साल पहले पुस्तक के स्वरूप में था यह लिखा था वह लिखा था वह लिखा था तो यह पूरे पेपर को इस्लामिका करें मन के अंदर समाप्त कर दिया गया आगे 200 200 300 तक के बिल की आयुर्वेद के नाम पर और ज्यादा कुछ नहीं और जो है वह भी करोड़ों के समान है तो आप यह जो सोचते हैं कि यह कुछ ऐसी जगह पर आज का प्रचार ही के क्रम में ऐसा भी बात नहीं है स्वामी दयानंद सरस्वती विश्व के अंदर पहले किस आदमी हो गया जिन्होंने आर्य समाज का प्रसारण किया यह धर्म का उद्धार किया और व्यक्ति ने आयुध के अंदर हजारों लाखों साल में पहली बार बोला कि पिछले युगों में इतिहास में एक विषय आचार्यों ने केस उल्टे ग्रंथ लिखे हैं तो आज करो आयुर्वेद के नाम पर ओ ग्रंथ है उसको क्या चीज है उसको फेंक दो मिटा दो उसको और और चीटिंग और लर्निंग न्यू पुस्तकें होनी नहीं चाहिए उन्होंने शारंगधर संहिता का विरोध किया कि पढ़ने में और लिवारेस में यह पुस्तक का अनुसरण नहीं करना चाहिए गलत ग्रंथि तो आए इसके अंदर यह भी कुछ हजारों हजारों लाखों साल में से परिवर्तन आए थे उसको बचाने वाले स्वामी दयानंद से और अभी योग और आयुर्वेद का बहुत बड़ा प्रचार है जो व्यक्ति ने किया वह आर्य समाज के एक विद्यार्थी स्वामी रामदेव ने किया है स्वामी रामदेव जी का नाम स्वामी रामदेव है उसको जो बाबा बाबा बोलते हैं ना वह गलत शब्द है स्वामी रामदेव जी का नाम स्वामी रामदेव और हरियाणा के गुरुकुल आर्य समाज के गुरुकुल में पड़े हुए वह आर्य समाजी व्यक्ति है और देश और विश्व में आर्य समाज के विद्वान है वह वीडियो के दीवाने हम लोग भी जॉब परिपाटी से हमारा जो निर्माण हुआ है वह भेजो कि पठन-पाठन की व्यवस्था संभालना निर्माण हुआ है हम लोग एक प्रकार के इनसाइक्लोपीडिया सभी प्रकार की सिस्टर मौका हम लोगों का पूरा स्टडी और उसके बारे में सही-सही जानकारी और स्टडी रहता है आप लोगों यह जॉब में स्टडी होते में स्पीड टेस्टर का अलग ही सही है परंतु आपने जो प्रश्न में उठाया कि आयुर्वेद और नेत्र चिकित्सा आयुर्वेद होम्योपैथी के जमीन आसमान का फर्क है एक बार थे कि जो हमने कह चुके हैं वह अल्कोहलिक चिकित्सा है और आई 20 के अंदर चरक संहिता व दिल्ली के अंदर और बड़ी ग्रंथों में भी हो जो उसके लिए श्लोक मिलते हैं कि जो मध्य है को अग्नि तत्व का पानी है और उसको पीने से शरीर के अंदर कुछ फायदा होता है परंतु उसका अनुसरण करने से व्यक्ति आगे जाकर के बड़बड़ करने लगता है बड़े-बड़े और अवधी भाषा बोलने लगता है जिसको अंग्रेजी मे कहते हो तो माइंड माइंड माइंड उसका कंट्रोल चला जाता है जबकि बकबक करने लगता है व्यक्ति काम ही भोग विलासी और मूर्ख बन जाता है आज की दुनिया में आप देखिए कि जो एरोप्लेन अमेरिकन कंट्री के अंदर शराबी पिए जाती है इस्लामिक कंट्री के अंदर तो खुदा की नदियां बहाते हैं और वहां वहां शराबी मिलता है स्वर्ग का और बुरे दिन मिलते हैं और शेष करने के लिए हीरो के साथ छोटे छोटे लड़के भी मिलते मिला मिथुन के लिए यह सारी जो बातें हैं जब मर्द और काल्पनिक पात्र लोगों ने चलाई एक्नॉलेज्ड करके पूरी एक समाज रचना दी है और हम समाज रचना के अनुसार जो वेदों के विद्वान हैं इन लोगों ने यह जो विज्ञान का उद्धार किया है आयुर्वेद का आज की आज के समय में आज की तारीख में जो सबसे बड़ा और चार और उसका संरक्षण फनी विद विद विद रामदेव जी ने किया है और ऐसे सरकुलेशन कोई विद्वान और भी भेजो पर पड़े हैं जो अपने आप में प्रत्येक विषय में अप्रतिम बुद्धि और ज्ञान रखते हैं आप हमारा संपर्क कर सकते हैं आर्य समाज जाएगी hospitals.com और मोबाइल से और व्यक्तिगत रुकडी मिल करके भी आप संपर्क कर सकते हैं धन्यवाद

bill clinton america ka rashtrapati tha aur usne us samay america me bola tha ki ghoomne par kya hai yah mujhe ab tak samajh me nahi I hai aur main samajh na samajh nahi sakta hoon ki homeopathic hai kya mujhe bill clinton ne aisa bola president of america usa toh poore duniya me uska homeopathic walon ne bhayankar virodh kiya tha tabhi toh homeopathy ke bare me bill clinton ne bola america ka rashtrapati vishvakarma satta vala vyakti aur logo ko soch kar ke kuch bhi bolna pada aur abhi dena pada parantu jo id with hai vaah vishwa ke andar jo anadi pustakein veg aur veg ke char ved ke users kiska upved hai aur eyez ki jo charge hai ko ek vishwa ki koi ek apaar adrishya sakta jisko paramatma bolie kuch bhi kahe vaah hai puja gaur aur paramatma me jameen aasman ka jo paramatma hai vaah aadi anadi aur ek swatantra ikai sarvavyapak aur jo khuda hai vaah charapai ke ghat ke upar parda dalkar ki use baitha hua koi vyakti hai aur jo god hai christian O god jo dharm ki batein karta hai toh uska jesus Christ ka beta hai kya vaah bhi hai is prakar ki shaadi kartik baaton ke upar hi dharm nahi hai dharm me 1 science ke anusaar a ke poore world ki puri Universe Universe all akhil brahmaand ek sajeev active hospital sakta hai aur iske niyam shabd ka par ek saman hai koi saamaan nahi hai samajh gaye ki chandra ki dharti par aur mangal ki dharti par kuch karan se jeevan sampann nahi hai aur koi bhayankar garmi hai bhayankar thandi hai toh wahan par use like kiye chetan toh nahi hogi lekin hai use hone se vaah shrishti ka ek hissa kuch viprit disha me hai repeat karan me hai aisa nahi hota hai wahan bhi yadi vyakti jaakar ke garmi ka prayog thandi me karega toh jeevan me vaah sampann hoga aur bhayanak garmi hogi wahan jaakar ko thand ki anubhuti karega abhi vaah jeevan ko wahan par la sakta hai jaise aapke ghar ke andar fridge fridge ke andar electricity electricity ka piyenge patni us kaam ko karke mar jaega aur sharir me se ek blooding bhi ho jayegi aisa marega jandali parantu fridge ke andar vaah electric ki agnishamak sakta ko agni ki power ko unhone thand kendra parivartan kiya hai usme sapne ko thand milti hai aur jo electric city ki jo rachna hoti hai vaah bhayanak garmi bhi hoti hai padarthon ka ferabadal karna ek scientific paate yah koi khuda khuda bolne se god god bolne se ya kuch aur karne se nahi hota hai vaah jagat ki ek anand satta ki ek sakht aur active aur light full bataiye toh yah uske anusaar ayurveda ka puri duniya me dil clinton ne unhe parchi ka jo ekmatra abhi pragya aur zarurat ho gaya iska toh hazaro saal se bhayanak hero tota hai musalmanon ne bharat par aakraman kiya usme takshashila nalanda ujjaini aur bharat ki jo badi badi university thi usko mahinon aur salon tak jalaya jalaya aur laakhon nahi karodo karodo ki sadkon ko bhasm kar diya 150 hai bharatiya aur british ki batein hain toh yah ayurveda ke upar toh bhayankar aakraman hua aaj ki tarikh me aayegi dwara ek sui ke barabar koi HHH bhi nahi reh sakta hai usko saza ho jayegi court aur kanoon se aur ro loge allopathy waale operation rampur ke naam par hazaro laakhon laakhon logo ko ulta sulata sikar kesari me doodh karke kya cheez uttar ke niche barf karke logo ko buri maut se maar dete toh unke saamne koi kanoon ko ladane waale bhi bahut kam hai aur thekedaaron se adhik dene waale bhi bahut kam log hain hum jo batein bata rahe hain uske anusaar ayurveda ke upar bahut bhayanak hua ayojit walon ko sir ji karne ki banaiye sir ji ke kal ke katane ki manai hai aur sushrut sanhita me 100 se adhik yuva aur vyapan hai ayush hai usme se 67 paper aaj ki tarikh me allopathic science waale charak sanhita ke liye apan ko use karta hai aur 30 40 paper aaj ki tarikh me pata nahi hai ki apan kiya hai kaise bante dekh kya cheez hai vaah samajh nahi sake toh puri paripati aiviki logo ne samapt kar di ayush ka lakho hazaro laakhon pustakon ka ant kar diya charak sanhita me milta hai ki bhai hamare palle falane falane rishi se use pehle bhi koi the isse pehle bhi koi the aisi puri system unhone dikhaiye vanshanukram se toh yah saari baaton ke upar hokar ke original jo pustak ke original pustakon ke andar bhi mixing hua kuch likhna pada ki bf tak banne se pehle 500 1000 2000 saal pehle pustak ke swaroop me tha yah likha tha vaah likha tha vaah likha tha toh yah poore paper ko islamika kare man ke andar samapt kar diya gaya aage 200 200 300 tak ke bill ki ayurveda ke naam par aur zyada kuch nahi aur jo hai vaah bhi karodo ke saman hai toh aap yah jo sochte hain ki yah kuch aisi jagah par aaj ka prachar hi ke kram me aisa bhi baat nahi hai swami dayanand saraswati vishwa ke andar pehle kis aadmi ho gaya jinhone arya samaj ka prasaran kiya yah dharm ka uddhar kiya aur vyakti ne ayudh ke andar hazaro laakhon saal me pehli baar bola ki pichle yugon me itihas me ek vishay acharyon ne case ulte granth likhe hain toh aaj karo ayurveda ke naam par O granth hai usko kya cheez hai usko fenk do mita do usko aur aur cheating aur learning new pustakein honi nahi chahiye unhone sharangadhar sanhita ka virodh kiya ki padhne me aur livares me yah pustak ka anusaran nahi karna chahiye galat granthi toh aaye iske andar yah bhi kuch hazaro hazaro laakhon saal me se parivartan aaye the usko bachane waale swami dayanand se aur abhi yog aur ayurveda ka bahut bada prachar hai jo vyakti ne kiya vaah arya samaj ke ek vidyarthi swami ramdev ne kiya hai swami ramdev ji ka naam swami ramdev hai usko jo baba baba bolte hain na vaah galat shabd hai swami ramdev ji ka naam swami ramdev aur haryana ke gurukul arya samaj ke gurukul me pade hue vaah arya samaji vyakti hai aur desh aur vishwa me arya samaj ke vidhwaan hai vaah video ke deewane hum log bhi job paripati se hamara jo nirmaan hua hai vaah bhejo ki pathan pathan ki vyavastha sambhaalna nirmaan hua hai hum log ek prakar ke encyclopedia sabhi prakar ki sister mauka hum logo ka pura study aur uske bare me sahi sahi jaankari aur study rehta hai aap logo yah job me study hote me speed tester ka alag hi sahi hai parantu aapne jo prashna me uthaya ki ayurveda aur netra chikitsa ayurveda homeopathy ke jameen aasman ka fark hai ek baar the ki jo humne keh chuke hain vaah alcohol chikitsa hai aur I 20 ke andar charak sanhita va delhi ke andar aur badi granthon me bhi ho jo uske liye shlok milte hain ki jo madhya hai ko agni tatva ka paani hai aur usko peene se sharir ke andar kuch fayda hota hai parantu uska anusaran karne se vyakti aage jaakar ke badbad karne lagta hai bade bade aur awadhi bhasha bolne lagta hai jisko angrezi mein kehte ho toh mind mind mind uska control chala jata hai jabki bakbak karne lagta hai vyakti kaam hi bhog villasi aur murkh ban jata hai aaj ki duniya me aap dekhiye ki jo aeroplane american country ke andar sharabee piye jaati hai islamic country ke andar toh khuda ki nadiyan bahate hain aur wahan wahan sharabee milta hai swarg ka aur bure din milte hain aur shesh karne ke liye hero ke saath chote chote ladke bhi milte mila maithun ke liye yah saari jo batein hain jab mard aur kalpnik patra logo ne chalai eknalejd karke puri ek samaj rachna di hai aur hum samaj rachna ke anusaar jo vedo ke vidhwaan hain in logo ne yah jo vigyan ka uddhar kiya hai ayurveda ka aaj ki aaj ke samay me aaj ki tarikh me jo sabse bada aur char aur uska sanrakshan Funny with with with ramdev ji ne kiya hai aur aise sarakuleshan koi vidhwaan aur bhi bhejo par pade hain jo apne aap me pratyek vishay me apratim buddhi aur gyaan rakhte hain aap hamara sampark kar sakte hain arya samaj jayegi hospitals com aur mobile se aur vyaktigat rukdi mil karke bhi aap sampark kar sakte hain dhanyavad

बिल क्लिंटन अमेरिका का राष्ट्रपति था और उसने उस समय अमेरिका में बोला था कि घूमने पर क्या ह

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!