दुनिया गोल क्यों होती है?...


play
user

Utkarsh

smile Distributer

0:34

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दुनिया गोल क्यों होती है आपस वाली है दुनिया गोल आप ब्रह्मांड में हैं यूनिवर्स में है आप दुनिया कैविटी कारण होती है प्रसंस्करण गोल होती है जो हर तरफ से एक बराबर बल से मत लाइए गोला है उसे हर तरफ से भी उसके केंद्र में ग्रेजुएशन कोर्स होता है जो उसे हम तरफ से बराबर खींचता है इसी कारण वह किसी से अपने चौकोर तो होगी नहीं तरफ से जब बराबर उस पर पोस्ट पड़ेगा तो वह गुस्से में आ जाती है इसलिए वह गोलाकार होती है धन्यवाद

duniya gol kyon hoti hai aapas wali hai duniya gol aap brahmaand mein hain Universe mein hai aap duniya Cavity karan hoti hai prasanskaran gol hoti hai jo har taraf se ek barabar bal se mat laiye gola hai use har taraf se bhi uske kendra mein graduation course hota hai jo use hum taraf se barabar khinchata hai isi karan vaah kisi se apne chaukor toh hogi nahi taraf se jab barabar us par post padega toh vaah gusse mein aa jaati hai isliye vaah golaakar hoti hai dhanyavad

दुनिया गोल क्यों होती है आपस वाली है दुनिया गोल आप ब्रह्मांड में हैं यूनिवर्स में है आप दु

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  150
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
1:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड आप का क्वेश्चन है कि दुनिया गोल क्यों होती है तो हर चीज की गोल होने का एक नए कारण होता है जैसे कि पानी की एक बूंद भी गोल होती है इसका भी एक कारण है दुनिया गोल होने का कारण असली कारण उसका गुरुत्वाकर्षण शक्ति है गुरुत्वाकर्षण शक्ति के कारण ही दुनिया का दुनिया पर सभी पदार्थ एक लाइन में खड़े हुए हैं यदि हमारे पृथ्वी गुरुत्वाकर्षण शक्ति कभी भी छोड़ दें तो सब कुछ बिगड़ जाएगा हमारी पृथ्वी टुकड़े-टुकड़े दे जैसे आपने अंतरिक्ष में बहुत से एस्ट्रॉयड उड़ते हुए इधर-उधर भागते हुए देखे होंगे उसी प्रकार हमारी दुनिया पर उपस्थित घर द्वार मनुष्य सब कुछ अंतरिक्ष में उड़ जाएगा यदि गुरुत्वाकर्षण शक्ति नहीं होता तो यही गुरुत्वाकर्षण शक्ति के कारण हमारी पृथ्वी और अन्य ग्रह भी गोल है अब बात आती है कि भर्ती तो पूरी गोल ही नहीं है तो इसका भी जवाब हमने खोज रखा है जैसा कि हमने कहा अब बात आती है कि धरती तो पूरी गोली नहीं है यह तो धुरी पर चपटी है मतलब दोनों ध्रुवों पर चपटी है ऐसा क्यों आपके मन में ऐसा क्वेश्चन उठ रहा होगा तो इसका भी जवाब मेरे पास है इसका कारण है अब केंद्र बल जो पृथ्वी के अपने अक्ष पर घूमने के कारण होता है मैं आशा करता हूं फ्रेंड की आपको हमारा जवाब अच्छा लगा होगा

hello friend aap ka question hai ki duniya gol kyon hoti hai toh har cheez ki gol hone ka ek naye karan hota hai jaise ki paani ki ek boond bhi gol hoti hai iska bhi ek karan hai duniya gol hone ka karan asli karan uska gurutvaakarshan shakti hai gurutvaakarshan shakti ke karan hi duniya ka duniya par sabhi padarth ek line me khade hue hain yadi hamare prithvi gurutvaakarshan shakti kabhi bhi chhod de toh sab kuch bigad jaega hamari prithvi tukde tukde de jaise aapne antariksh me bahut se estrayad udte hue idhar udhar bhagte hue dekhe honge usi prakar hamari duniya par upasthit ghar dwar manushya sab kuch antariksh me ud jaega yadi gurutvaakarshan shakti nahi hota toh yahi gurutvaakarshan shakti ke karan hamari prithvi aur anya grah bhi gol hai ab baat aati hai ki bharti toh puri gol hi nahi hai toh iska bhi jawab humne khoj rakha hai jaisa ki humne kaha ab baat aati hai ki dharti toh puri goli nahi hai yah toh dhuri par chapati hai matlab dono dhruvon par chapati hai aisa kyon aapke man me aisa question uth raha hoga toh iska bhi jawab mere paas hai iska karan hai ab kendra bal jo prithvi ke apne aksh par ghoomne ke karan hota hai main asha karta hoon friend ki aapko hamara jawab accha laga hoga

हेलो फ्रेंड आप का क्वेश्चन है कि दुनिया गोल क्यों होती है तो हर चीज की गोल होने का एक नए क

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  127
WhatsApp_icon
user

Gulnaz

लेवल 1 (बिगिनर)

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह तो अपनी वॉल्यूम के संबंध में सबसे छोटी Star के क्षेत्र के रूप में है और प्रकृति में गुरुवार तक चल स्थिति के लिए सभी गोकुल या विंडो का चलता है यदि पर्याप्त नहीं है तो यह सभी तरह से नहीं जाता है लेकिन जनता के साथ ग्रहों का कार्य करता है तो इसलिए दुनिया गोल होती है

yah toh apni volume ke sambandh mein sabse choti Star ke kshetra ke roop mein hai aur prakriti mein guruwaar tak chal sthiti ke liye sabhi gokul ya window ka chalta hai yadi paryapt nahi hai toh yah sabhi tarah se nahi jata hai lekin janta ke saath grahon ka karya karta hai toh isliye duniya gol hoti hai

यह तो अपनी वॉल्यूम के संबंध में सबसे छोटी Star के क्षेत्र के रूप में है और प्रकृति में गुर

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  143
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
वर्षा की बूंदे गोल क्यों होती है ; duniya gol kyun hai ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!