दलीय व्यवस्था कितने प्रकार की होती है?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दलीय व्यवस्था जैसा अगर हम अपने विश्व के व्यवस्थाओं को देखें दलों की राजनीतिक सत्ता में जो सारी का सत्ता के लिए जो संघर्ष करती हैं विदेशों में उसमें जो निरीक्षण करते हैं आप जरूर विशन करते हैं उससे तीन तरह की दिल्ली व्यवस्था उसके रेट के आधार पर प्रकार के आधार पर तीन तरह की दलीय व्यवस्था दिखाई पड़ती है एक दलीय व्यवस्था जिसका उदाहरण चीन है और जहां पर साम्यवादी पार्टी कम्युनिस्ट पार्टी शुरू से जहां पर कांग्रेस पार्टी एक दल है जिनका के शासन में यांत्रिक चुनाव होते हैं और उसमें जो जीता है जो सरवाइव करता है वहां का सत्ता प्रमुख होता है बिजली व्यवस्था करें कर देखें तो यह संयुक्त राज्य अमेरिका में ऐसे में जहां अभी चुनाव हुआ आपने देखा कि दो पार्टी थे रिपब्लिकन पार्टी और डेमोक्रेटिक पार्टी तो वहां इन दोनों दल ही में आपस में संघर्ष होता है सत्ता के लिए और जो जीता है वहां उनके संवैधानिक प्रक्रिया है चुनाव की उस प्रक्रिया को पूरा करके जो जीता है जो पड़ता है आगे 50% से अधिक जुगाड़ पाता है पार्टी हाउस की गणना की अपनी प्रक्रिया है तो उसके अनुसार वहां पर वह सब का प्रमुख होता पोस्ट होता है बिजली व्यवस्था भी है जैसा कि ब्रिटेन में ग्रेट ब्रिटेन में है वहां तीन पार्टियां हैं लेबर पार्टी कंजरवेटिव पार्टी और 1 लिबरल पार्टी अधिकतर लेबर पार्टी और कंजरवेटिव पार्टी महा संघर्ष होता है और इन दोनों में से कोई वहां पर मंत्री चुना जाता बहुदलीय बजाइए प्लीज अली के बाद तो फिर बहुदलीय बहुदलीय व्यवस्था हमारे भारत में जितनी चाहो पार्टी बना लो एक एमएलए आपका चुना जाता कोई एमएलए नहीं चुना जाता हो कोई एमपी नहीं चाहता फिर भी आप एक राजनीतिक दल का गठन कर सकते हैं तो बहुत देरी है यहां पर है व्यवस्था भारत में हमारे महान भारत में और यहां पर जो कि लोकतंत्र का आपको बहुत उच्च प्रतिमान और स्वरूप देखते हैं इसलिए हर व्यक्ति को अपना पार्टी दल बनाकर और संघर्ष चुनाव में करने का अधिकार है सत्ता के लिए जो भी चुनाव हो उसमें उस संघर्ष करें और अधिकतर कभी-कभी एक दल का एक एमपी चुना जाता है एक एमएलए चुना जाता है वह पार्टी का प्रमुख होता है और वह कभी विरोधी दल से कभी सत्ताधारी दल से गठबंधन करके अपने अस्तित्व अपना कायम रखने में सफल भी होता है पूरे जीवन भर एक पार्टी और का एक ही एमपी रहा ऐसे बहुत उदाहरण आपको मिलेंगे तो इसको आप राजनीतिक इतिहास पढ़िए भारत का उसमें आपको पता चलेगा कि बहुदलीय व्यवस्था भारत में कैसे बनती है और कैसे एक व्यक्ति की महत्वाकांक्षा ने एक छोटा सा खाली वह अपना राजनीतिक अस्तित्व बनाए रखते हैं तो उन्हें राजनीतिक दल बना सकते हैं उन्हें राष्ट्रीय दल प्रादेशिक दल की मान्यता मिले ना मिले इसके लिए निर्वाचन आयोग के अपने अलग मानदंड है तो आप बहुत अली व्यवस्था का सर्वोत्तम उदाहरण हमारा महान भारत है

daliyaa vyavastha jaisa agar hum apne vishwa ke vyavasthaon ko dekhen dalon ki raajnitik satta me jo saari ka satta ke liye jo sangharsh karti hain videshon me usme jo nirikshan karte hain aap zaroor vishan karte hain usse teen tarah ki delhi vyavastha uske rate ke aadhar par prakar ke aadhar par teen tarah ki daliyaa vyavastha dikhai padti hai ek daliyaa vyavastha jiska udaharan china hai aur jaha par samyawadi party communist party shuru se jaha par congress party ek dal hai jinka ke shasan me yantrik chunav hote hain aur usme jo jita hai jo survive karta hai wahan ka satta pramukh hota hai bijli vyavastha kare kar dekhen toh yah sanyukt rajya america me aise me jaha abhi chunav hua aapne dekha ki do party the republican party aur democratic party toh wahan in dono dal hi me aapas me sangharsh hota hai satta ke liye aur jo jita hai wahan unke samvaidhanik prakriya hai chunav ki us prakriya ko pura karke jo jita hai jo padta hai aage 50 se adhik jugaad pata hai party house ki ganana ki apni prakriya hai toh uske anusaar wahan par vaah sab ka pramukh hota post hota hai bijli vyavastha bhi hai jaisa ki britain me great britain me hai wahan teen partyian hain labour party kanjaravetiv party aur 1 liberal party adhiktar labour party aur kanjaravetiv party maha sangharsh hota hai aur in dono me se koi wahan par mantri chuna jata bahudaliya bajaiye please ali ke baad toh phir bahudaliya bahudaliya vyavastha hamare bharat me jitni chaho party bana lo ek mla aapka chuna jata koi mla nahi chuna jata ho koi MP nahi chahta phir bhi aap ek raajnitik dal ka gathan kar sakte hain toh bahut deri hai yahan par hai vyavastha bharat me hamare mahaan bharat me aur yahan par jo ki loktantra ka aapko bahut ucch pratiman aur swaroop dekhte hain isliye har vyakti ko apna party dal banakar aur sangharsh chunav me karne ka adhikaar hai satta ke liye jo bhi chunav ho usme us sangharsh kare aur adhiktar kabhi kabhi ek dal ka ek MP chuna jata hai ek mla chuna jata hai vaah party ka pramukh hota hai aur vaah kabhi virodhi dal se kabhi sattadhari dal se gathbandhan karke apne astitva apna kayam rakhne me safal bhi hota hai poore jeevan bhar ek party aur ka ek hi MP raha aise bahut udaharan aapko milenge toh isko aap raajnitik itihas padhiye bharat ka usme aapko pata chalega ki bahudaliya vyavastha bharat me kaise banti hai aur kaise ek vyakti ki mahatwakanksha ne ek chota sa khaali vaah apna raajnitik astitva banaye rakhte hain toh unhe raajnitik dal bana sakte hain unhe rashtriya dal pradeshik dal ki manyata mile na mile iske liye nirvachan aayog ke apne alag manadand hai toh aap bahut ali vyavastha ka sarvottam udaharan hamara mahaan bharat hai

दलीय व्यवस्था जैसा अगर हम अपने विश्व के व्यवस्थाओं को देखें दलों की राजनीतिक सत्ता में जो

Romanized Version
Likes  64  Dislikes    views  2195
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!