जेनरल कैटेगॉरी को आरक्षित समकक्षों की तुलना में UPSC में कम प्रयास क्यों दिए जाते हैं?...


play
user

Akhilesh Pratap Singh

Sub Registrar, UP Government

0:43

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चांदनी देखे तो क्या मतलब हुआ है कुछ कम हो जाए तो उसके लिए कोई दिक्कत नहीं है

chandni dekhe toh kya matlab hua hai kuch kam ho jaaye toh uske liye koi dikkat nahi hai

चांदनी देखे तो क्या मतलब हुआ है कुछ कम हो जाए तो उसके लिए कोई दिक्कत नहीं है

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  1151
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Murli Manohar Tiwari

Career Counselor

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो मित्र आपने पूछा है कि जनरल केटेगरी को आरक्षित के समकक्ष ओं के प्रणामी यूपीएससी में कम प्रयास क्यों दिए जाते हैं तो वस्तुतः इसके पीछे मूल अवधारणा यह हमारा संविधान में समानता का अधिकार देता है और समानता प्राप्त करने के लिए हमें कहीं-कहीं असमान नियम लागू करने पड़ते हैं समानता के लिए समान नियम सामानों में लागू होते हैं और सामानों में नहीं जो आरक्षित वर्ग हैं वह निम्न आय वर्ग का होता है सोशल स्ट्रेटिफिकेशन में भी उसके जगह नीचे हुआ करती है आगे बढ़ने के अवसर उसके पास कम हुआ करते हैं लेकिन इन सबके होने के बावजूद इसका अर्थ यह नहीं होता कि उनमें एबिलिटी नहीं है अगर उन्हें थोड़ा ज्यादा वक्त थोड़ा ज्यादा सहारा दिया जाए तो वह भी जनरल कैटेगरी के बच्चों की तरह से परफॉर्म कर सकते हैं और इसी मूल अवधारणा के आधार पर यह विभेद किया जाता है जो दरअसल समानता स्थापित करने के उद्देश्य से होता है आरक्षण के पीछे भी मूल अवधारणा यही काम करती है धन्यवाद

hello mitra aapne poocha hai ki general category ko arakshit ke samkaksh on ke pranami upsc mein kam prayas kyon diye jaate hain toh vastutah iske peeche mul avdharna yah hamara samvidhan mein samanata ka adhikaar deta hai aur samanata prapt karne ke liye hamein kahin kahin asamaan niyam laagu karne padate hain samanata ke liye saman niyam samanon mein laagu hote hain aur samanon mein nahi jo arakshit varg hain vaah nimn aay varg ka hota hai social stretifikeshan mein bhi uske jagah neeche hua karti hai aage badhne ke avsar uske paas kam hua karte hain lekin in sabke hone ke bawajud iska arth yah nahi hota ki unmen ability nahi hai agar unhe thoda zyada waqt thoda zyada sahara diya jaaye toh vaah bhi general category ke bacchon ki tarah se perform kar sakte hain aur isi mul avdharna ke aadhar par yah vibhed kiya jata hai jo darasal samanata sthapit karne ke uddeshya se hota hai aarakshan ke peeche bhi mul avdharna yahi kaam karti hai dhanyavad

हेलो मित्र आपने पूछा है कि जनरल केटेगरी को आरक्षित के समकक्ष ओं के प्रणामी यूपीएससी में कम

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  134
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आप ने सवाल किया है कि जनरल कैटेगरी को आरक्षित आश्रम कक्षों की तुलना में यूपीएससी में कम प्रयास क्यों दिए जाते हैं लेकिन इसमें आपका आसमा सकता हूं कि आपने अटेम्प्ट से संबंधित बातें पूछे जर्नल जहां तक की बात है तो जनरल कैटेगरी के लोग प्रत्येक तत्वों से वह सब बने होते हैं पर टेंपल के लिए पैसे से भी सक्षम होते में नेता के सारे चैनल कैसे से सक्षम होते हैं लेकिन एक और धारणा यह है कि जो जनरल कैटेगरी के लोग होते हैं वह ठीक ठाक आमदनी से होते हैं उनकी पढ़ाई लगभग अच्छी होती है उनके घर के लोग अच्छे होते हैं और अपनी यूपी असल में बात किया तो काफी अच्छा खासा इनकम होता है जनरल कैटेगरी का और जिसकी वजह से कम आने क्या जाता है सामान्य नहीं है लेकिन आज ओबीसी एससी एसटी ईडब्ल्यूएस तुम्हें नहीं कह सकते क्योंकि अभी बराबर होता है और पीएच होते हैं वह पार्सल विद डिस्टिक पार्क ऑफिस मिलिट्री जो है उसमें कुछ ऐसा है तो यह इनकी कमी असली होते क्योंकि यह उनको उतनी संसाधन नहीं मिल पाते जिसके वजह से दिया जाता है

namaskar aap ne sawaal kiya hai ki general category ko arakshit aashram kakshon ki tulna mein upsc mein kam prayas kyon diye jaate hain lekin isme aapka aasma sakta hoon ki aapne attempt se sambandhit batein pooche journal jahan tak ki baat hai toh general category ke log pratyek tatvon se vaah sab bane hote hain par temple ke liye paise se bhi saksham hote mein neta ke saare channel kaise se saksham hote hain lekin ek aur dharana yah hai ki jo general category ke log hote hain vaah theek thak aamdani se hote hain unki padhai lagbhag achi hoti hai unke ghar ke log acche hote hain aur apni up asal mein baat kiya toh kafi accha khasa income hota hai general category ka aur jiski wajah se kam aane kya jata hai samanya nahi hai lekin aaj obc SC ST EWAS tumhe nahi keh sakte kyonki abhi barabar hota hai aur PH hote hain vaah parcel with district park office miltary jo hai usmein kuch aisa hai toh yah inki kami asli hote kyonki yah unko utani sansadhan nahi mil paate jiske wajah se diya jata hai

नमस्कार आप ने सवाल किया है कि जनरल कैटेगरी को आरक्षित आश्रम कक्षों की तुलना में यूपीएससी म

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  236
WhatsApp_icon
user

Ashok Bajpai

Rtd. Additional Collector P.C.S. Adhikari

1:21
Play

Likes  149  Dislikes    views  2951
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!