एक फाउंडेशन कोर्स के आधार पर UPSC सेवा और कैडर आवंटन में संशोधन करने में PMO के फैसले के सभी पक्ष और विपक्ष क्या हैं?...


play
user
1:30

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्टूडेंट जैसे-जैसे टाइम नहीं चेंज की जा रहा है गवर्नमेंट के पैटर्न में भी चेंजेज आ रहे हैं क्योंकि अब गवर्निंग करने का तरीका बदल गया है जो सिविल सर्वेंट है उसका रोल बदल गया है पहले सिविल सर्वेंट एडमिनिस्ट्रेटर हुआ करता था लेकिन आज के टाइम में उसकी भूमिका रीजन मैनेजर ज्यादा हो गई यानी कि वह प्रबंधक ज्यादा हो गया उसको मैंने ज्यादा करना है समन्वय करने का काम ज्यादा है इसी बात को ध्यान में रखते हुए पिछले कई वर्षों से लगातार जो यूपीएससी का एग्जामिनेशन पेटर्न है क्रेडिट पॉलिसी है उस समय बदलाव से कोशिश चल रही थी पासवान की भी बात मान कमेटी बनाई गई थी इसी चीज को लेकर के और इसलिए बदलाव किया है ताकि अभी क्या हो रहा है कि बहुत सारे जो सिविल सर्वेंट होते हैं वह सेटिंग्स को चूत करते हैं ऐसे में क्या होता है कि जो सुदूर पूर्वी राज्य है जैसे हमारे नॉर्थ ईस्ट के राजी हो गए वहां पर सिविल से ही नहीं है जुगाड के होते हैं उनको भेजना पड़ता है तो एक तो यह समस्या दूसरा क्या हो रहा है कि प्रशासन के अंदर कॉर्पोरेट वाली भावना लाने के लिए प्रीत अगर में जो होता है उस बात को लाने के लिए पीएमओ ने इन बदलावों को अंजाम दिया गया है और यह बदलाव अभी समाप्त नहीं हुए हैं आने वाले कई वर्षों के अंदर यूपीएससी के एग्जाम पैटर्न में उसी के अंदर और उसकी ट्रेनिंग आपको और भी बड़े बदलाव देखने को मिल सकते हैं

student jaise jaise time nahi change ki ja raha hai government ke pattern mein bhi changes aa rahe hain kyonki ab governing karne ka tarika badal gaya hai jo civil servant hai uska roll badal gaya hai pehle civil servant administrator hua karta tha lekin aaj ke time mein uski bhumika reason manager zyada ho gayi yani ki wah prabandhak zyada ho gaya usko maine zyada karna hai samanvay karne ka kaam zyada hai isi baat ko dhyan mein rakhte hue pichle kai varshon se lagatar jo upsc ka examination pattern hai credit policy hai us samay badlav se koshish chal rahi thi paswan ki bhi baat maan committee banai gayi thi isi cheez ko lekar ke aur isliye badlav kiya hai taki abhi kya ho raha hai ki bahut saare jo civil servant hote hain wah settings ko chut karte hain aise mein kya hota hai ki jo sudoor purvi rajya hai jaise hamare north east ke raji ho gaye wahan par civil se hi nahi hai jugad ke hote hain unko bhejna padta hai toh ek toh yeh samasya doosra kya ho raha hai ki prashasan ke andar corporate wali bhavna lane ke liye preet agar mein jo hota hai us baat ko lane ke liye pmo ne in badlaon ko anjaam diya gaya hai aur yeh badlav abhi samapt nahi hue hain aane wale kai varshon ke andar upsc ke exam pattern mein usi ke andar aur uski training aapko aur bhi bade badlav dekhne ko mil sakte hain

स्टूडेंट जैसे-जैसे टाइम नहीं चेंज की जा रहा है गवर्नमेंट के पैटर्न में भी चेंजेज आ रहे हैं

Romanized Version
Likes  83  Dislikes    views  1257
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!