3 से 4 प्रयासों के बाद भी क्यों कुछ आकांक्षी मेन्स को खाली करने में विफल रहते हैं? क्या उनकी तैयारी में कमी है या भाग्य उनका साथ नहीं दे रहा है?...


user

Ansh jalandra

Motivational speaker & criminal lawyer

0:29
Play

Likes  112  Dislikes    views  2244
WhatsApp_icon
13 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr. Guddy Kumari

UPSC Coach / Ph.d

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने कहां के तीन चार से 304 प्रयासों के बाद भी क्यों कुछ काम सीमेंस को खाली करने में मतलब कंप्लीट करने में सफल नहीं हो पाते क्या उनकी तैयारी में कमियां भाग उनका साथ नहीं दे रहा कहीं ना कहीं कुछ कमी है क्योंकि वह मेहनत कर रहे हैं और हो सकता है कि वह मेहनत उनकी सही दिशा में नहीं हो रही हो सही गाइड की जरूरत है अब थोड़ी सी मेहनत करें आप जरुर सफल होंगे रही बात भाग्य के भाग्य का कोई स्थान नहीं होता है भाग्य शब्द अगर कोई बना है तो हम लोग उसका रैंक लास्ट में दे देते हैं तो आपके नहीं निकालने का कारण भाग्य नहीं है इसीलिए भांग जो व्यक्ति भाग्य पर डिपेंड करता है भगवान पड़ता है उनकी अपने काम जो होते हैं वह कमजोर पड़ जाते हैं इसलिए आप आप पर अपने आप पर भरोसा करें और खुद मेहनत करें धन्यवाद

apne kaha ke teen char se 304 prayaso ke baad bhi kyon kuch kaam simens ko khaali karne me matlab complete karne me safal nahi ho paate kya unki taiyari me kamiyan bhag unka saath nahi de raha kahin na kahin kuch kami hai kyonki vaah mehnat kar rahe hain aur ho sakta hai ki vaah mehnat unki sahi disha me nahi ho rahi ho sahi guide ki zarurat hai ab thodi si mehnat kare aap zaroor safal honge rahi baat bhagya ke bhagya ka koi sthan nahi hota hai bhagya shabd agar koi bana hai toh hum log uska rank last me de dete hain toh aapke nahi nikalne ka karan bhagya nahi hai isliye bhang jo vyakti bhagya par depend karta hai bhagwan padta hai unki apne kaam jo hote hain vaah kamjor pad jaate hain isliye aap aap par apne aap par bharosa kare aur khud mehnat kare dhanyavad

अपने कहां के तीन चार से 304 प्रयासों के बाद भी क्यों कुछ काम सीमेंस को खाली करने में मतलब

Romanized Version
Likes  278  Dislikes    views  1779
WhatsApp_icon
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

2:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तीन से चार प्रयासों के बाद भी खुल जाता है उसको खाली करने में क्वालीफाई करने में विफल रहा एडमिशन हो सकता है आप होते हैं इसी वर्ष में कोई न कोई विशेष छूट और कमी आप करते आए हैं और आपकी तैयारी की योजना है उसमें कोई विशेष आपका कॉल नहीं हो रहा या करंट अफेयर्स यह आपका एक्सपर्टीज मेडिकल कैपेबिलिटी है वह नहीं है आपका निश्चित रूप से इसमें विशेषण और विशेष्य 1115 के लिए चाहिए इतनी कंटिन्यूटी और कंसिस्टेंसी कैंडिडेट के अंदर नहीं रही हो वह भी असफलता के कारण है रही बात भाग की भाग भी इसमें एक भूमिका निभा सकता है जगह 3 वर्षों में आप ने परीक्षा दी है अगर प्रतियोगिता का कंपटीशन बहुत ज्यादा व्यास के बाद अगर कोई कमी है तो शायद यही आपके उत्साह में पाकिस्तान में कमी है जब पढ़ाई की भी योजना है

teen se char prayaso ke baad bhi khul jata hai usko khaali karne me qualify karne me vifal raha admission ho sakta hai aap hote hain isi varsh me koi na koi vishesh chhut aur kami aap karte aaye hain aur aapki taiyari ki yojana hai usme koi vishesh aapka call nahi ho raha ya current affairs yah aapka eksapartij medical capability hai vaah nahi hai aapka nishchit roop se isme visheshan aur visheshya 1115 ke liye chahiye itni kantinyuti aur kansistensi candidate ke andar nahi rahi ho vaah bhi asafaltaa ke karan hai rahi baat bhag ki bhag bhi isme ek bhumika nibha sakta hai jagah 3 varshon me aap ne pariksha di hai agar pratiyogita ka competition bahut zyada vyas ke baad agar koi kami hai toh shayad yahi aapke utsaah me pakistan me kami hai jab padhai ki bhi yojana hai

तीन से चार प्रयासों के बाद भी खुल जाता है उसको खाली करने में क्वालीफाई करने में विफल रहा ए

Romanized Version
Likes  275  Dislikes    views  3575
WhatsApp_icon
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

1:23
Play

Likes  160  Dislikes    views  5340
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक जीवन बॉबी ज्योति कई बार आपका भाग्य साथ नहीं था कई बार आपकी मेहरबानी लेकिन जब का भाग्य और आपकी मेहनत दोनों साथ में होगी आप अपने जीवन में कभी सक्सेसफुल नहीं होते तो ऐसा ही उन लोगों के साथ करने की कृपा करें कि आपका किस्मत भी आपका साथ

ek jeevan bobby jyoti kai baar aapka bhagya saath nahi tha kai baar aapki meharbani lekin jab ka bhagya aur aapki mehnat dono saath me hogi aap apne jeevan me kabhi successful nahi hote toh aisa hi un logo ke saath karne ki kripa kare ki aapka kismat bhi aapka saath

एक जीवन बॉबी ज्योति कई बार आपका भाग्य साथ नहीं था कई बार आपकी मेहरबानी लेकिन जब का भाग्य औ

Romanized Version
Likes  422  Dislikes    views  2681
WhatsApp_icon
user

Dr.Paramjit Singh

Health and Fitness Expert/ Lecturer In Physical Education/

1:26
Play

Likes  115  Dislikes    views  1884
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो आदित्य से 4 प्रयासों के बाद भी मैं उसको नहीं निकाल पाया है इसका मतलब है उससे तैयारी में बार-बार कमी रह जाए तैयारी है कि जब आप जानते हैं बाबू से पहले प्रयास में अब समझ जाना चाहिए कि क्या चीज कैसे पूछे जाती है 10 साल 12 साल के पेपर ले लीजिए उनको बिल्कुल पानी की तरह बहुत पर की जाएगी कितना लिखना पड़ता है पत्र प्राचीन लिखिए एग्जामिनर कोई समझ में आया कि आपने जो उत्तर दिए हैं उनकी कोई काट नहीं है जब इस तरह से विचार करके आप किसी की तैयारी करें जरुर सफलता मिलेगी तैयारी में कोई कमी नहीं

jo aditya se 4 prayaso ke baad bhi main usko nahi nikaal paya hai iska matlab hai usse taiyari me baar baar kami reh jaaye taiyari hai ki jab aap jante hain babu se pehle prayas me ab samajh jana chahiye ki kya cheez kaise pooche jaati hai 10 saal 12 saal ke paper le lijiye unko bilkul paani ki tarah bahut par ki jayegi kitna likhna padta hai patra prachin likhiye examiner koi samajh me aaya ki aapne jo uttar diye hain unki koi kaat nahi hai jab is tarah se vichar karke aap kisi ki taiyari kare zaroor safalta milegi taiyari me koi kami nahi

जो आदित्य से 4 प्रयासों के बाद भी मैं उसको नहीं निकाल पाया है इसका मतलब है उससे तैयारी में

Romanized Version
Likes  196  Dislikes    views  1289
WhatsApp_icon
play
user

Rajkumar

Mentor

1:30

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिला पत्रकर है तो उसके बारे में बात ना करें तू ही ठीक रहेगा अगर है तो वह तो लिखा हुआ है वह तो चेंज नहीं कर पाएंगे हम का मतलब आप क्या समझते इसके ऊपर डिपेंड है मतलब आप ड्यूटी टो फॉरमैट फीलिंग्स में आपका रिवीजन ज्यादा इंपॉर्टेंट है आपको बस खाली डार्क करना है और बबलू में प्रश्न पेपर में तो वह बन जाता है कि 50% या 50% पढ़ने में टाइम लग रहा है चुनाव तक राइटिंग में टैग ना करें तो ज्यादा टेंशन डिप्रेशन अगर आपका राइटिंग के तौर पर ज्यादा चल रहा है तो आप अपनी दी है कि आप को सबसे ज्यादा टाइपिंग में कंपटीशन था कि आपका जो प्रेजेंटेशन है वो बन रहा है वह तो रह गई स्टेशन का फोकस करना चाहिए

jila patrakar hai toh uske bare mein baat na karein tu hi theek rahega agar hai toh wah toh likha hua hai wah toh change nahi kar payenge hum ka matlab aap kya samajhte iske upar depend hai matlab aap duty to format feelings mein aapka revision zyada important hai aapko bus khaali dark karna hai aur babaloo mein prashna paper mein toh wah ban jata hai ki 50% ya 50% padhne mein time lag raha hai chunav tak writing mein tag na karein toh zyada tension depression agar aapka writing ke taur par zyada chal raha hai toh aap apni di hai ki aap ko sabse zyada typing mein competition tha ki aapka jo presentation hai vo ban raha hai wah toh reh gayi station ka focus karna chahiye

जिला पत्रकर है तो उसके बारे में बात ना करें तू ही ठीक रहेगा अगर है तो वह तो लिखा हुआ है वह

Romanized Version
Likes  67  Dislikes    views  1182
WhatsApp_icon
user

Harender Kumar Yadav

Career Counsellor.

2:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तीन से चार प्रयासों के बाद में क्यों कुछ एकाउंटेंसी मेंस में खाली करने में विफल होते हैं उनकी तैयारी में कमी है या भाग्य साथ ऊपर तो मत जाइए क्योंकि जो आप रियली मुझको पास करके मेल में जाते हैं क्योंकि आप जानते हैं मैं पूरी तरह से डरती होता सिर्फ किताबी भाषाओं को नहीं मानते हो लोग वहां पर आपको कंटेंट तो आपके किताब का सिलेबस का होगा लेकिन उसकी जो एंड कंटेंट की डिजाइनिंग डिलीवरी आपको पर मैं उसको अपने ढंग से बेहतरीन ढंग से आपको प्रस्तुत करना है मान लीजिए कि आप किसी कानून के बारे में पूछा जाता है कि यह कानून कैसे ऐसे कानूनों की आया है कि उसका लोग विरोध कर रहे हैं आपका नजरिया क्या कहते हो प्राथमिकताएं हैं क्या प्राप्त होता ही नहीं होती अगर आपका उससे अधिकारी के रूप में होते तो आप क्या गुस्सा करती है जिसमें आप को ध्यान में रखकर करना तो बेहतर होगा कि थोड़ा सा प्रयास और बेहतर करें थोड़ा सा अपने डिस्क्रिप्शन को बेहतर करें और लिखें निराश मत हो अगर दो-तीन प्रयास कर चुके हैं क्योंकि छाई पड़ने वाले हैं तो निश्चित तौर पर थोड़ा सा और बेहतरीन ढंग से करें आप देखिए हर साल के कंटेंट है क्वेश्चन है उसमें क्या करेगा और इसके नहीं होंगे तो जो आईएस एक्सपर्ट होते हैं जो पास हुए हैं उसे थोड़ी गाइडलाइन लीजिए और लोग भी अपने विचारों को समय-समय पर व्यक्त करते रहते हैं कि कहां पर किस तरह से होता है तो निश्चित तौर पर उस को फायदा होगा और भी कुछ कोचिंग सेंटर कुछ और भी लोग होते हैं स्मार्ट होते हैं जिसके बारे में ज्यादा जानकारियां देते हैं तो ज्यादा अच्छा होगा आप उनसे भैंस के बारे में सही डिटेल जानकारी ले सकते

teen se char prayaso ke baad me kyon kuch accountancy mains me khaali karne me vifal hote hain unki taiyari me kami hai ya bhagya saath upar toh mat jaiye kyonki jo aap really mujhko paas karke male me jaate hain kyonki aap jante hain main puri tarah se darti hota sirf kitabi bhashaon ko nahi maante ho log wahan par aapko content toh aapke kitab ka syllabus ka hoga lekin uski jo and content ki designing delivery aapko par main usko apne dhang se behtareen dhang se aapko prastut karna hai maan lijiye ki aap kisi kanoon ke bare me poocha jata hai ki yah kanoon kaise aise kanuno ki aaya hai ki uska log virodh kar rahe hain aapka najariya kya kehte ho prathamiktaen hain kya prapt hota hi nahi hoti agar aapka usse adhikari ke roop me hote toh aap kya gussa karti hai jisme aap ko dhyan me rakhakar karna toh behtar hoga ki thoda sa prayas aur behtar kare thoda sa apne description ko behtar kare aur likhen nirash mat ho agar do teen prayas kar chuke hain kyonki chhai padane waale hain toh nishchit taur par thoda sa aur behtareen dhang se kare aap dekhiye har saal ke content hai question hai usme kya karega aur iske nahi honge toh jo ias expert hote hain jo paas hue hain use thodi guideline lijiye aur log bhi apne vicharon ko samay samay par vyakt karte rehte hain ki kaha par kis tarah se hota hai toh nishchit taur par us ko fayda hoga aur bhi kuch coaching center kuch aur bhi log hote hain smart hote hain jiske bare me zyada jankariyan dete hain toh zyada accha hoga aap unse bhains ke bare me sahi detail jaankari le sakte

तीन से चार प्रयासों के बाद में क्यों कुछ एकाउंटेंसी मेंस में खाली करने में विफल होते हैं उ

Romanized Version
Likes  242  Dislikes    views  2694
WhatsApp_icon
user

Rakesh Kumar Chandra

BE ( Electrical )/ MBA ( Marketing) Electrical Engineer

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके प्रश्न है कि उसे 400 प्रयासों के बाद भी किसान सीमेंस को खाली करने में विफल रहने की बात करने की तैयारी में नहीं दे रहा तो हम आपको बता दें कि सिविल सर्विसेज परीक्षा विश्व की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है और व्यक्ति सब सिविल सर्विसेज परीक्षा में बैठता है तो शुरू के 2 साल बाद ही पास कर पाता है और उसके बाद फिर उसकी रूपरेखा उसके विषय सिलेबस को जान पाता है और फिर जब तक में चांद करो से पढ़ने की तैयारी करता है तब तक अगले वर्ष का आकांक्षा अवस्थी जो एग्जाम हुआ जाते हैं इस प्रकार से खिमसर में पढ़ने के लिए इस प्रकार से आपको मेंस पास करने के लिए सिविल सर्विसेज का आप बहुत बड़ा जो है एक्सरसाइज करनी होगी आंसर राइटिंग करनी होगी चिकन फिर याद करना होगा तभी आप कहीं एक बेहतर तरीके से लिख पाएंगे आपको जनगणना नगरीकरण जैसे सारी चीजें जो है आपको आनी चाहिए इस प्रकार से हम यह कह रहे हैं कि अगर आपकी उम्र 4 साल के बाद भी मैं उसको खाली करने में विफल हो जाता है इसका मतलब आपको पूरी जानकारी नहीं है दिवस के हिसाब से आपकी तैयारी नहीं है और आप गलत है फिर आ रहे हैं कि हम 1434 प्रयासों के बाद एक दिन मांगे पूरी तरीके से जाएंगे और फिर हम आपका सहयोग

aapke prashna hai ki use 400 prayaso ke baad bhi kisan simens ko khaali karne me vifal rehne ki baat karne ki taiyari me nahi de raha toh hum aapko bata de ki civil services pariksha vishwa ki sabse kathin parikshao me se ek hai aur vyakti sab civil services pariksha me baithta hai toh shuru ke 2 saal baad hi paas kar pata hai aur uske baad phir uski rooprekha uske vishay syllabus ko jaan pata hai aur phir jab tak me chand karo se padhne ki taiyari karta hai tab tak agle varsh ka aakansha awasthi jo exam hua jaate hain is prakar se khimasar me padhne ke liye is prakar se aapko mains paas karne ke liye civil services ka aap bahut bada jo hai exercise karni hogi answer writing karni hogi chicken phir yaad karna hoga tabhi aap kahin ek behtar tarike se likh payenge aapko janganana nagrikaran jaise saari cheezen jo hai aapko aani chahiye is prakar se hum yah keh rahe hain ki agar aapki umar 4 saal ke baad bhi main usko khaali karne me vifal ho jata hai iska matlab aapko puri jaankari nahi hai divas ke hisab se aapki taiyari nahi hai aur aap galat hai phir aa rahe hain ki hum 1434 prayaso ke baad ek din mange puri tarike se jaenge aur phir hum aapka sahyog

आपके प्रश्न है कि उसे 400 प्रयासों के बाद भी किसान सीमेंस को खाली करने में विफल रहने की बा

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  264
WhatsApp_icon
user

HSM Chemistry ,kota

IIT NEET TEACHER @ 9672453796

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यदि कोई आकांक्षा इन चारों प्रयासों के बाद भी वह विफल रहा है तो जहां तक है क्योंकि जो मेंस की कटऑफ है और 40 से 50 परसेंट जाती है और यदि आप 50% नॉलेज गेम करने में भी असफल रहे तो इसका मतलब आप की कहीं ना कहीं तैयारी में कमी है भाग्य में कोई कमी नहीं है क्योंकि भाग्य ने तो आपका चार चार बार सादिया ट ट प्रयास दिए लेकिन आपने उनमें से किसी में भी सफल नहीं हो पा रहे हैं तो कहीं ना कहीं मेहनत में कमी झलकती है क्योंकि चार चार साल तक आप इतने योग्य नहीं बना पाए खुद को कि आप 50% भी पास कर पाएं तो कहीं ना कहीं मेहनत में कमी और मेहनत में कोई कमी नहीं हो सकता है आपने नॉलेज बहुत गेम की हो लेकिन आपने सिलेबस के अकॉर्डिंग तैयारी नहीं किया उतना ही पड़े हैं जितना आप का सिलेबस है फालतू अनाप-शनाप कितनी नॉलेज ले लेना कुछ नहीं होने वाला क्योंकि आप एमपी का कोई एग्जाम देते हैं तो यूपी का सिलेबस पड़ेंगे आप पास नहीं होंगे तो फैक्ट है कि आप उस ही सिलेबस की तैयारी करें जिसकी आपको जरूरत है तो आप पक्का है एक ही प्रयास में सफल हो जाएंगे क्योंकि ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है जिसको 50 परसेंट भी याद नहीं रहता हो धन्यवाद

yadi koi aakansha in charo prayaso ke baad bhi vaah vifal raha hai toh jaha tak hai kyonki jo mains ki cutoff hai aur 40 se 50 percent jaati hai aur yadi aap 50 knowledge game karne me bhi asafal rahe toh iska matlab aap ki kahin na kahin taiyari me kami hai bhagya me koi kami nahi hai kyonki bhagya ne toh aapka char char baar sadiya t t prayas diye lekin aapne unmen se kisi me bhi safal nahi ho paa rahe hain toh kahin na kahin mehnat me kami jhalkati hai kyonki char char saal tak aap itne yogya nahi bana paye khud ko ki aap 50 bhi paas kar paen toh kahin na kahin mehnat me kami aur mehnat me koi kami nahi ho sakta hai aapne knowledge bahut game ki ho lekin aapne syllabus ke according taiyari nahi kiya utana hi pade hain jitna aap ka syllabus hai faltu anap shanap kitni knowledge le lena kuch nahi hone vala kyonki aap MP ka koi exam dete hain toh up ka syllabus padenge aap paas nahi honge toh fact hai ki aap us hi syllabus ki taiyari kare jiski aapko zarurat hai toh aap pakka hai ek hi prayas me safal ho jaenge kyonki aisa koi vyakti nahi hai jisko 50 percent bhi yaad nahi rehta ho dhanyavad

यदि कोई आकांक्षा इन चारों प्रयासों के बाद भी वह विफल रहा है तो जहां तक है क्योंकि जो मेंस

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  243
WhatsApp_icon
user

Pooja mahajan

Work At Bank

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने कहा कि तीन-चार बाहर आ जिन्होंने प्रयास करके मेल्स को काफी फल किया उनकी तैयारी में कमी है जब भाग गया में देखी आपने जो क्वेश्चन किया दो तरह से किया एक तो आपने प्रैक्टिकल हो कि किया दूसरा अपने एक भावना में बहकर किया तो मैं आपको जी कहूंगी कि मैं तो जब जाम हो तो वह बहुत डिफिकल्ट होता मैंने कई बार बोला है जहां पर कि आप हर बार यही बोलते कि यूपीए से भी ऊपर से यह कोई इतनी आसानी वाली पिक्चर नहीं है क्या हर कोई सुरक्षा के लिए बैठ जाता है ठीक है मैं आपको यही कहूंगी कि जो 34 प्रयासों के बाद भी अगर विफल कोई हुआ तो यह सोच भी उसी की ही उसी में कोई कमी है कोई भाग्य कोई कुछ नहीं होता ठीक है भाग्य अभी तभी साथ देता जो बंदा खुद के लिए कुछ करने को कोशिश करता है भाग्य सिर्फ उसी के साथ होता है ठीक है यह नहीं है कि अगर आपने एग्जाम की तैयारी मिर्ची यह वह आप प्लीज जारी कीजिए भाग्य खुद ब खुद आ कर

aapne kaha ki teen char bahar aa jinhone prayas karke males ko kaafi fal kiya unki taiyari me kami hai jab bhag gaya me dekhi aapne jo question kiya do tarah se kiya ek toh aapne practical ho ki kiya doosra apne ek bhavna me bahkar kiya toh main aapko ji kahungi ki main toh jab jam ho toh vaah bahut difficult hota maine kai baar bola hai jaha par ki aap har baar yahi bolte ki UPA se bhi upar se yah koi itni aasani wali picture nahi hai kya har koi suraksha ke liye baith jata hai theek hai main aapko yahi kahungi ki jo 34 prayaso ke baad bhi agar vifal koi hua toh yah soch bhi usi ki hi usi me koi kami hai koi bhagya koi kuch nahi hota theek hai bhagya abhi tabhi saath deta jo banda khud ke liye kuch karne ko koshish karta hai bhagya sirf usi ke saath hota hai theek hai yah nahi hai ki agar aapne exam ki taiyari mirchi yah vaah aap please jaari kijiye bhagya khud bsp khud aa kar

आपने कहा कि तीन-चार बाहर आ जिन्होंने प्रयास करके मेल्स को काफी फल किया उनकी तैयारी में कमी

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  79
WhatsApp_icon
user
2:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तीन से चार या उससे भी ज्यादा प्रयासों के बाद भी बहुत से लोग ऐसे होते हैं जो मींस नहीं दे पाते कईयों का इंटरनेट नहीं निकलता कहीं का मींस निकल जाता है पर अभी नहीं निकलता और इंटरव्यू नहीं दे पाते यह जो है यह बहुत ही सामान्य जो है स्थिति है हमारे भारत देश में क्योंकि आपको पता होना चाहिए कि हमारे देश की जो पापुलेशन है वह सवा सौ करोड़ की पापुलेशन और इस तरह के कंपटीशन में आप अगर कटऑफ ज्यादा जाने की वजह से आप रेलिंग चेयर मींस क्वालीफाई नहीं कर पाते कि यह बहुत ही सामान्य स्थिति है क्वेश्चन यह है कि 3 से 4 प्रयासों के बाद भी कुछ आकांक्षी मींस को खाली मींस को खाली करने में विफल रहते हैं तो इसके इसका आंसर यही है कि कोई बड़ी बात नहीं है अगर आप किसी भी ग्राम कक्षा पहली दूसरी तीसरी चौथी बार में नहीं दे पाते हैं अगर आपके प्रिपरेशन में कमी है तो यह बिल्कुल ही और सामान्य कारण हो सकता है कि आपकी मींस ना दे पानी का या मींस नहीं निकलने का कि आपके प्रिपरेशन में कमी है सब सबसे प्रथम बात यही है और अगर आप प्रिपरेशन को अच्छी तरह से देखेंगे कि आपकी कहां पर गलतियां हो रही है कहां पर लूट फूल से आपकी प्रिपरेशन में अगर आप इस तरह की चीजों को अगर आप देख सकते हैं यह पता कर सकते हैं अपनी कमजोरियों को और उनके घर काम कर सकते हैं तो डेफिनेटली कोई भी काम आप निकाल सकते हैं तो इसमें भाग्य का भी बहुत बड़ा रोल है पर मैं कहूंगा की प्रिपरेशन अगर आप अच्छे से करते हैं पूर्णता करते हंड्रेड परसेंट अपना देते हैं तू जो है भाग्य है ना वह भी आपका साथ देगा तो मेरी शुभकामनाएं है आप अच्छे से प्रिपरेशन करें डिप्रेशन करेंगे तो भाग्य जरूर आपका साथ देगा धन्यवाद

teen se char ya usse bhi zyada prayaso ke baad bhi bahut se log aise hote hain jo means nahi de paate kaiyon ka internet nahi nikalta kahin ka means nikal jata hai par abhi nahi nikalta aur interview nahi de paate yah jo hai yah bahut hi samanya jo hai sthiti hai hamare bharat desh me kyonki aapko pata hona chahiye ki hamare desh ki jo population hai vaah sava sau crore ki population aur is tarah ke competition me aap agar cutoff zyada jaane ki wajah se aap railing chair means qualify nahi kar paate ki yah bahut hi samanya sthiti hai question yah hai ki 3 se 4 prayaso ke baad bhi kuch akankshi means ko khaali means ko khaali karne me vifal rehte hain toh iske iska answer yahi hai ki koi badi baat nahi hai agar aap kisi bhi gram kaksha pehli dusri teesri chauthi baar me nahi de paate hain agar aapke preparation me kami hai toh yah bilkul hi aur samanya karan ho sakta hai ki aapki means na de paani ka ya means nahi nikalne ka ki aapke preparation me kami hai sab sabse pratham baat yahi hai aur agar aap preparation ko achi tarah se dekhenge ki aapki kaha par galtiya ho rahi hai kaha par loot fool se aapki preparation me agar aap is tarah ki chijon ko agar aap dekh sakte hain yah pata kar sakte hain apni kamzoriyo ko aur unke ghar kaam kar sakte hain toh definetli koi bhi kaam aap nikaal sakte hain toh isme bhagya ka bhi bahut bada roll hai par main kahunga ki preparation agar aap acche se karte hain purnata karte hundred percent apna dete hain tu jo hai bhagya hai na vaah bhi aapka saath dega toh meri subhkamnaayain hai aap acche se preparation kare depression karenge toh bhagya zaroor aapka saath dega dhanyavad

तीन से चार या उससे भी ज्यादा प्रयासों के बाद भी बहुत से लोग ऐसे होते हैं जो मींस नहीं दे प

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  80
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!