UPSC परीक्षा में ऑप्शनल विषय को बदलते समय हमें किन मुख्य बातों का ध्यान में रखना चाहिए?...


user
5:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले तो यह जानना जरूरी है कि आप ऑप्शनल बदल क्यों रहे हैं क्या आप जो ऑप्शन अभी पढ़ रहे थे उसमें आपकी इंटरेस्ट नहीं है रुचि नहीं या आपकी उसमें अंडरस्टैंडिंग नहीं बन पा रही थी या आप एक बार उसमें एग्जाम दे चुके हैं और आप उसमें आपके मार्क्स अच्छे नहीं आ रहे हैं या अंडरस्टैंडिंग नहीं बन रही है या उसमें आप आंसर प्रेम नहीं कर पा रहे तो क्या कारण हैं उन सभी कारणों को ध्यान में रखते हुए आपको नया ऑप्शनल ऑफ करना चाहिए तो और समय वही और करण करें जिसको आप अच्छे से प्रिपेयर कर सके ऐसा ऑप्शनल जिसको आप 1 साल डेढ़ साल उसके साथ निभा सके उसको कंटिन्यू कर सके क्योंकि ऑप्शनल की तैयारी बहुत ही अच्छे तरीके से करनी होती तो ऑफिस में बहुत अच्छे मार्क्स लाने होते हैं कि मेरिट उसी हिसाब से बनेगी क्योंकि ऑप्शन में जितने आप 500 देशों की 2 पेपर हैं तो उसमें जितने अधिक मास चला पाएंगे तो आप की मेरिट में उतनी ज्यादा मार्क्स होंगे तो मेरिट में ऊपर आर्डर में आने के चांसेस होंगी तो इसलिए ऐसा ही सब्जेक्ट चुने जिसमें आप बेस्ट दे सके तो बेस्ट आप किस में दे सकते हैं यह देखिए तो फिर उसके लिए फिर भी उसकी जो है थोड़ी तैयारी होना जरूरी है कंप्रेसिव आप जब पहरी उसकी कर पाएंगे एक विस्तृत और व्यापक तरीके से गहन अध्ययन के साथ उसी सब्जेक्ट में आप बहुत अच्छा वोट वोट दे पाएंगे तो ऐसा सब्जेक्ट चुने चुनना चाहिए तो इसमें या तो आपका सब जगह होना चाहिए जो आपने ग्रेजुएशन में किया है 3 साल क्यों क्या 3 साल उसमें पढ़ चुके हैं तो उसमें आपको ज्यादा पढ़ने की जरूरत नहीं पड़ेगी केवल आपको उसमें एच लाने के लिए क्यों पॉलिश करना पड़ेगा फिर सब करना पड़ेगा और आप उसको उसके लिए तैयार हो पाएंगे एक तो यह है और दूसरा यह भी है कि ऐसा सब्जेक्ट हो जो कि जीएस में इंटरलिंक करता हूं जनरल स्टडी के पेपर से अस्पष्ट से या सेकंड से राजस्थान से जिस से भी तो वह पेपर उससे शासन या संबंधित कोई भी सब्जेक्ट आप जो है ऑप्शन ले सकते हैं तो अगर आप भेजो हिस्ट्री लेंगे आइकॉन मिक्स में यह सोशलॉजी या पॉलिटिकल साइंस तो बेटा और अच्छा है तू इनसे अगर संबंध कोई विषय लेंगे तो आपका ऑप्शनल तो तैयार होगा ही साथ में ओवरलैपिंग जीएस की रिसेप्शन है वह भी आसानी से पेपर हो जाएंगे 7 साल पहले में तो एक टाइम कंजूमिंग बचेगी और आप एक ही चीज को ऑप्टिमम प्रिपरेशन कर पाएंगे एक ही शब्द की क्योंकि एक यह भी है कि आपको हो सकता है कि आप कोई सब्जेक्ट बहुत ही आप थोड़ा अलग लेना चाह रहे हैं तो जो भी सब्जेक्ट नाच आ रहे हैं माली जी आपकी इंटरेस्ट है और वह सब्जेक्ट लेना चाहें तो ऐसा सब्जेक्ट है यह भी देखना चाहिए कि उस सब्जेक्ट की जो बुक्स हैं जो स्टैंडर्ड बुक है वह अवेलेबल है उसका जो सिलेबस है उसे जो भी टॉपिक से जुड़े हुए हैं यह जो भी कंटेंट है उसे जुड़ा हुआ मार्केट में अवेलेबल है या वह सब्जेक्ट समझने के लिए उस तरह की टीचर अवेलेबल है उस मतलब कि उसके लिए जो गाय जो है गाइडलाइंस चाहिए जो कोई गाइड करने वाला चाहिए वह चीज अवेलेबल है तो अगर टीचिंग गाइडेंस अवेलेबल है तो वहीं सब्जेक्ट होना चाहिए अगर माली से कोई ऐसा सब्जेक्ट जिसके लिए कोई कोई कोचिंग नहीं है या कोई गाइडेंस ही नहीं है आपके पास तो आपको उसे पर उसे पेपर करने में बहुत परेशानी आने वाली है और एक और बात है जिसमें यह कह समझ सकते हैं कि यह भी देखना चाहिए कि कुछ शब्द ऐसे होते इसमें मार्क्स यूपीएससी में बहुत कम आ रहे होते हैं तो उन सब्जेक्ट को चुने से बचना चाहिए जिसमें मार्क्स यूपीएससी बहुत कम दे रही है तो यह देख लेना चाहिए और कुछ सब्जेक्ट जैसे ट्रेन में चलते रहते हैं तब लेकिन फिर भी यह देखना चाहिए सब सारी बातें कर मिला लें तो कन्फ्यूजन यही निकलता है कि सब्जेक्ट आपको पूछना चाहिए कि जिसमें आप अपनी एक तो इंटरेस्ट है दूसरा उसमें आप अपना टैलेंट अपना बेस्ट दे सके अपनी कैपेसिटी पूरी कैप सिटी हंड्रेड पर्सन कैपेसिटी के साथ उसको अंडरस्टैंड कर सके और उसे जो है अलग-अलग डायमेंशन से उसे अलग-अलग यू फाइंड से उसको तैयार कर सके तो यह एक तरीका है इन सारी चीजों को ध्यान में रखते हुए और सुना चाहिए और सबसे जरूरी बात इसमें यह निकल कर आती है और सब्जेक्ट चुने सही नहीं होता है या केवल उसे पढ़ने से ही नहीं होता आप उसमें आंसर राइटिंग वह चीज है रिप्लाई कर पा रहे हो जो आपके माइंड में चल रही है या जो भी चीजें आपने पड़े वह चीजें आप आंसर राइटिंग में दे पा रहे हो चली आपको आंसर राइटिंग सीमा मिलने आपकी जो प्रजेंट टेबल वह मोड है आप प्रजेंट कैसे करते हैं अगर आप उन चीजों को रिपीट रिपीट नहीं कर पा रहे हैं रिप्लाई नहीं करा पा रहे अपने आंसर ओं में तो फिर वह चीज इतने अच्छे मार्क्स नहीं आएंगे तो ऑप्शनल सब्जेक्ट को भी अब तैयारी कर रहे हैं या जो भी बदलने वाले तो जो पहले अपने बदल बदलने वाले हैं तो पहले जो गलतियां की थी वह गलतियां भी ना करें और अगर आंसर राइटिंग की वजह से आपकी प्रॉब्लम तो आंसर राइटिंग की प्रैक्टिस बहुत ज्यादा करें

sabse pehle toh yah janana zaroori hai ki aap optional badal kyon rahe hain kya aap jo option abhi padh rahe the usme aapki interest nahi hai ruchi nahi ya aapki usme understanding nahi ban paa rahi thi ya aap ek baar usme exam de chuke hain aur aap usme aapke marks acche nahi aa rahe hain ya understanding nahi ban rahi hai ya usme aap answer prem nahi kar paa rahe toh kya karan hain un sabhi karanon ko dhyan me rakhte hue aapko naya optional of karna chahiye toh aur samay wahi aur karan kare jisko aap acche se prepare kar sake aisa optional jisko aap 1 saal dedh saal uske saath nibha sake usko continue kar sake kyonki optional ki taiyari bahut hi acche tarike se karni hoti toh office me bahut acche marks lane hote hain ki merit usi hisab se banegi kyonki option me jitne aap 500 deshon ki 2 paper hain toh usme jitne adhik mass chala payenge toh aap ki merit me utani zyada marks honge toh merit me upar order me aane ke chances hongi toh isliye aisa hi subject chune jisme aap best de sake toh best aap kis me de sakte hain yah dekhiye toh phir uske liye phir bhi uski jo hai thodi taiyari hona zaroori hai kampresiv aap jab pahari uski kar payenge ek vistrit aur vyapak tarike se gahan adhyayan ke saath usi subject me aap bahut accha vote vote de payenge toh aisa subject chune chunana chahiye toh isme ya toh aapka sab jagah hona chahiye jo aapne graduation me kiya hai 3 saal kyon kya 3 saal usme padh chuke hain toh usme aapko zyada padhne ki zarurat nahi padegi keval aapko usme h lane ke liye kyon polish karna padega phir sab karna padega aur aap usko uske liye taiyar ho payenge ek toh yah hai aur doosra yah bhi hai ki aisa subject ho jo ki GS me intaralink karta hoon general study ke paper se aspast se ya second se rajasthan se jis se bhi toh vaah paper usse shasan ya sambandhit koi bhi subject aap jo hai option le sakte hain toh agar aap bhejo history lenge icon mix me yah sociology ya political science toh beta aur accha hai tu inse agar sambandh koi vishay lenge toh aapka optional toh taiyar hoga hi saath me ovaralaiping GS ki reception hai vaah bhi aasani se paper ho jaenge 7 saal pehle me toh ek time kanjuming bachegi aur aap ek hi cheez ko optimum preparation kar payenge ek hi shabd ki kyonki ek yah bhi hai ki aapko ho sakta hai ki aap koi subject bahut hi aap thoda alag lena chah rahe hain toh jo bhi subject nach aa rahe hain maali ji aapki interest hai aur vaah subject lena chahain toh aisa subject hai yah bhi dekhna chahiye ki us subject ki jo books hain jo standard book hai vaah available hai uska jo syllabus hai use jo bhi topic se jude hue hain yah jo bhi content hai use juda hua market me available hai ya vaah subject samjhne ke liye us tarah ki teacher available hai us matlab ki uske liye jo gaay jo hai gaidalains chahiye jo koi guide karne vala chahiye vaah cheez available hai toh agar teaching guidance available hai toh wahi subject hona chahiye agar maali se koi aisa subject jiske liye koi koi coaching nahi hai ya koi guidance hi nahi hai aapke paas toh aapko use par use paper karne me bahut pareshani aane wali hai aur ek aur baat hai jisme yah keh samajh sakte hain ki yah bhi dekhna chahiye ki kuch shabd aise hote isme marks upsc me bahut kam aa rahe hote hain toh un subject ko chune se bachna chahiye jisme marks upsc bahut kam de rahi hai toh yah dekh lena chahiye aur kuch subject jaise train me chalte rehte hain tab lekin phir bhi yah dekhna chahiye sab saari batein kar mila le toh confusion yahi nikalta hai ki subject aapko poochna chahiye ki jisme aap apni ek toh interest hai doosra usme aap apna talent apna best de sake apni capacity puri cap city hundred person capacity ke saath usko understand kar sake aur use jo hai alag alag dimension se use alag alag you find se usko taiyar kar sake toh yah ek tarika hai in saari chijon ko dhyan me rakhte hue aur suna chahiye aur sabse zaroori baat isme yah nikal kar aati hai aur subject chune sahi nahi hota hai ya keval use padhne se hi nahi hota aap usme answer writing vaah cheez hai reply kar paa rahe ho jo aapke mind me chal rahi hai ya jo bhi cheezen aapne pade vaah cheezen aap answer writing me de paa rahe ho chali aapko answer writing seema milne aapki jo present table vaah mode hai aap present kaise karte hain agar aap un chijon ko repeat repeat nahi kar paa rahe hain reply nahi kara paa rahe apne answer on me toh phir vaah cheez itne acche marks nahi aayenge toh optional subject ko bhi ab taiyari kar rahe hain ya jo bhi badalne waale toh jo pehle apne badal badalne waale hain toh pehle jo galtiya ki thi vaah galtiya bhi na kare aur agar answer writing ki wajah se aapki problem toh answer writing ki practice bahut zyada kare

सबसे पहले तो यह जानना जरूरी है कि आप ऑप्शनल बदल क्यों रहे हैं क्या आप जो ऑप्शन अभी पढ़ रहे

Romanized Version
Likes  163  Dislikes    views  1494
KooApp_icon
WhatsApp_icon
21 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!