यथार्थ के बारे में अच्छी बातें बताइए?...


user

अनिल कुमार मिश्रा

पुजारी,, जन सेवा ,देशी जड़ी द्वारा

3:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए यह प्रश्न आया कि यथार्थ के बारे में अच्छी बातें बताइए 4th मतलब होता है वर्तमान आपका कैसा समय चल रहा है किस प्रकार से आप जीवन यापन कर रहे हैं उसी में आप खुश रहिए मस्त रहिए यही यथार्थ है जैसे हम जिस प्रकार से हमारा गुजारा चल रहा है नहीं तो देखिए भाई टाटा बिरला जी के पास इतनी धन संपत्ति है लेकिन फिर भी लगे हैं लोग कमाने के लिए तो संतुष्टि जहां नहीं है क्योंकि माया का ऐसा चक्कर है उसने सब संसार को भुला दिया रात की नींद गुम रस की लगा है यह 24 घंटे कमाने के चक्कर में जैसे सब बांध के लिए जाएगा यहां से सब यहीं पड़ा रह जाना है देखिए रामायण में देख ले उत्तरकांड मेरी जगह प्रसंग आया है कि जब काग भूषण जी गौरव जी को कथा सुना रहे थे तो उन्होंने कहा था एक बार बुरांजी के मुख में समा गए वहां उन्होंने अपनी को ब्रह्मांड देखे थे और उन ब्रह्मांड में उन्होंने तो कल बता दे रहे हुआ यूं था कि राम जी अयोध्या में बचपन में बाघों से मैंने उनको उनको ब्रह्म हो गया कि यह सच्चिदानंद घन है क्या क्या ईश्वर यही है उन्होंने भागने की कोशिश की द्वारा नेकी राम जी को काग भूषण जी ने क्यों भागे राम जी का एक हाथ पीछे चालान को पकड़ने के लिए तू तीनों लोकों में घुमाई ब्रह्मलोक सब जगह घूम थे कहां थे जब उन्होंने मन में हार दिया तो वहां के मूल लेके भाई हाथ मेरा पीछा नहीं छोड़ रहा है स्वार्थी मुनि तो फिर वह अयोध्यापुरी में थे इतने में राम जी के जमाई आई उसके मुख के अंदर भी चले गए का लोकेशन टू उन्होंने संसार उसे मुख्य केंद्र पूरे ब्रह्मांड देखें सब देखे अलग अलग अलग प्रकार की चीजें देखने पर्वत नदियां देखी लेकिन भगवान भी अनेक अनेक युवाओं में अनेक अनेक प्रकार के देख ले कर राम जी सर पर है तो कहने का तात्पर्य है कि हम तो अनेक जीवन लेकिन वह परमात्मा एक सही कार्य संचालन कर रहा बस पर आस्था रखिए और यथार्थ में जीना ही सबसे अच्छा है वर्तमान बिजी था आज जो है आज का पल्लू आपके पास है उसको जी लीजिए खुशी के साथ आने वाला पल पता नहीं कौन सा है कैसा है क्या परेशानी आ सकती क्योंकि वह किसी ने नहीं देखा जाने वाले कल में क्या लिखा है तो मेरे विचार से भाई बंधु हमें जितना है जैसा है जैसी में है उसमें ही में खुश रहना चाहिए यही यथार्थ का जीवन है जय जय श्री राम

dekhiye yah prashna aaya ki yatharth ke bare me achi batein bataiye 4th matlab hota hai vartaman aapka kaisa samay chal raha hai kis prakar se aap jeevan yaapan kar rahe hain usi me aap khush rahiye mast rahiye yahi yatharth hai jaise hum jis prakar se hamara gujara chal raha hai nahi toh dekhiye bhai tata birala ji ke paas itni dhan sampatti hai lekin phir bhi lage hain log kamane ke liye toh santushti jaha nahi hai kyonki maya ka aisa chakkar hai usne sab sansar ko bhula diya raat ki neend gum ras ki laga hai yah 24 ghante kamane ke chakkar me jaise sab bandh ke liye jaega yahan se sab yahin pada reh jana hai dekhiye ramayana me dekh le uttarakand meri jagah prasang aaya hai ki jab kaag bhushan ji gaurav ji ko katha suna rahe the toh unhone kaha tha ek baar buranji ke mukh me sama gaye wahan unhone apni ko brahmaand dekhe the aur un brahmaand me unhone toh kal bata de rahe hua yun tha ki ram ji ayodhya me bachpan me badhon se maine unko unko Brahma ho gaya ki yah sacchidanand ghan hai kya kya ishwar yahi hai unhone bhagne ki koshish ki dwara neki ram ji ko kaag bhushan ji ne kyon bhaage ram ji ka ek hath peeche chalan ko pakadane ke liye tu tatvo lokon me ghumai brahmalok sab jagah ghum the kaha the jab unhone man me haar diya toh wahan ke mul leke bhai hath mera picha nahi chhod raha hai swaarthi muni toh phir vaah ayodhyapuri me the itne me ram ji ke jamai I uske mukh ke andar bhi chale gaye ka location to unhone sansar use mukhya kendra poore brahmaand dekhen sab dekhe alag alag alag prakar ki cheezen dekhne parvat nadiyan dekhi lekin bhagwan bhi anek anek yuvaon me anek anek prakar ke dekh le kar ram ji sir par hai toh kehne ka tatparya hai ki hum toh anek jeevan lekin vaah paramatma ek sahi karya sanchalan kar raha bus par astha rakhiye aur yatharth me jeena hi sabse accha hai vartaman busy tha aaj jo hai aaj ka pallu aapke paas hai usko ji lijiye khushi ke saath aane vala pal pata nahi kaun sa hai kaisa hai kya pareshani aa sakti kyonki vaah kisi ne nahi dekha jaane waale kal me kya likha hai toh mere vichar se bhai bandhu hamein jitna hai jaisa hai jaisi me hai usme hi me khush rehna chahiye yahi yatharth ka jeevan hai jai jai shri ram

देखिए यह प्रश्न आया कि यथार्थ के बारे में अच्छी बातें बताइए 4th मतलब होता है वर्तमान आपका

Romanized Version
Likes  68  Dislikes    views  1367
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!