जम्मू कश्मीर ने सरकारी कर्मचारियों के सोशल मीडिया पर राजनीतिक विचारों को व्यक्त करने पर प्रतिबंध लगा दिया है, क्या यह सही है?...


user

Sefali

Media-Ad Sales

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जम्मू कश्मीर में जो सरकारी कर्मचारी के और सोशल मीडिया पर राजनीतिक विचारों को व्यक्त करने पे प्रतिबंध लगाया गया है यह बिल्कुल गलत है क्योंकि अभी हम किस दुनिया में रहते हैं, राईट टू स्पीक, राइट एक्सप्रेस वो राइट आप किसी भी इंटरव्यू से नहीं ले सकतेl सबको अधिकार है अपनी जो पॉइंट ऑफ़ व्यू है वो सबके सामने रखने का, खुद के आचार विचार व्यक्त करने का, तो यह वो गलत है और ऊपर से जम्मू कश्मीर में बहुत ज्यादा इंटरनेट की सुविधा नहीं है, सुविधा है ही नहीं कह सकते बिल्कुल कुछ भी नहीं है वहां पे, तो जो लोग वहां पर रहते हैं विदाउट इंटरनेट आज की दुनिया में जो उनके रिश्तेदार वगैरा या फिर दोस्त वगेरा जो वहां पर नहीं रहते उनको उनसे कनेक्ट करने में कितनी ज्यादा मुश्किले होती होंगी, ऊपर से जो लोग जो टूरिस्ट वगैरह जम्मू कश्मीर जाते होंगे घूमने, बिना इन्टरनेट के हम कहीं ओए भी सर्च भी नहीं कर सकते क्या हो रा है क्या नहीं हो रा है तो वो कहीं बार टूरिज्म को भी बहुत ज्यादा इफ़ेक्ट होता है और प्लस जो वहां के लोग, उन्हें भी शायद पता नहीं चल रा है कि दुनिया में कहाँ क्या हो रहा है, शायद अखबार या फिर अगर रेडियो वहां चल रहा हो, वही एक सुविधा उनको होगी या फिर टीवी होगी जो उनसे उनको कुछ अपडेट मिलते होंगे अदरवाइज वहां पे कोई कनेक्शन ही नहीं हो रा है की उनको कोई अपडेट मिले, कहीं पे भी कुछ हो रहा है, अदरवाइज फेसबुक, वात्सप्प यह सब तो ऑलमोस्ट ब्लाक ही है लोगो को वहां पे यूज़ ही नहीं करने दिया जाता तो कहीं ना कहीं यह गलत है, यह सही नहीं हैl

jammu kashmir mein jo sarkari karmchari ke aur social media par raajnitik vicharon ko vyakt karne pe pratibandh lagaya gaya hai yah bilkul galat hai kyonki abhi hum kis duniya mein rehte hai right to speak right express vo right aap kisi bhi interview se nahi le sakte sabko adhikaar hai apni jo point of view hai vo sabke saamne rakhne ka khud ke aachar vichar vyakt karne ka toh yah vo galat hai aur upar se jammu kashmir mein bahut zyada internet ki suvidha nahi hai suvidha hai hi nahi keh sakte bilkul kuch bhi nahi hai wahan pe toh jo log wahan par rehte hai without internet aaj ki duniya mein jo unke rishtedar vagera ya phir dost vagera jo wahan par nahi rehte unko unse connect karne mein kitni zyada mushkile hoti hongi upar se jo log jo tourist vagera jammu kashmir jaate honge ghoomne bina internet ke hum kahin oa bhi search bhi nahi kar sakte kya ho ra hai kya nahi ho ra hai toh vo kahin baar tourism ko bhi bahut zyada effect hota hai aur plus jo wahan ke log unhe bhi shayad pata nahi chal ra hai ki duniya mein kahan kya ho raha hai shayad akhbaar ya phir agar radio wahan chal raha ho wahi ek suvidha unko hogi ya phir TV hogi jo unse unko kuch update milte honge otherwise wahan pe koi connection hi nahi ho ra hai ki unko koi update mile kahin pe bhi kuch ho raha hai otherwise facebook vatsapp yah sab toh alamost block hi hai logo ko wahan pe use hi nahi karne diya jata toh kahin na kahin yah galat hai yah sahi nahi hai

जम्मू कश्मीर में जो सरकारी कर्मचारी के और सोशल मीडिया पर राजनीतिक विचारों को व्यक्त करने प

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  10
KooApp_icon
WhatsApp_icon
9 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!