कुमार विश्वास और अरविंद केजरीवाल के बीच का टकराव का अंजाम क्या हो सकता है?...


user

Vikas Singh

Political Analyst

1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे अरविंद केजरीवाल और कुमार विश्वास जी के बीच का जो टकराव है यह टकराव भविष्य के दिल्ली के विधानसभा चुनाव में बहुत ही बड़ा फेरबदल करेगा भारतीय जनता पार्टी दिल्ली को कांग्रेस मुक्त करना चाहती थी इसलिए आम आदमी पार्टी की तीसरी बार सरकार बनी क्योंकि मोदी जी का सपना है कि भारत को कांग्रेस मुक्त करें और उस सपने को पूरा करने के लिए भारतीय जनता पार्टी हर कदम उठा रही है जिस दिन आम आदमी पार्टी को दिल्ली से खत्म करना होगा उस दिन भारतीय जनता पार्टी कुमार विश्वास को दिल्ली धान सभा चुनाव में मुख्यमंत्री का दावेदार बनाएगी और फिर अरविंद केजरीवाल की पार्टी आम आदमी पार्टी की जमानत जप्त होगी और कांग्रेस की स्थिति तो आप जान ही रहे दिल्ली में क्या है और भारतीय जनता पार्टी की पूर्ण बहुमत की सरकार बनेगी इसमें कोई दो राय नहीं है धन्यवाद

dekhe arvind kejriwal aur kumar vishwas ji ke beech ka jo takraav hai yah takraav bhavishya ke delhi ke vidhan sabha chunav me bahut hi bada ferabadal karega bharatiya janta party delhi ko congress mukt karna chahti thi isliye aam aadmi party ki teesri baar sarkar bani kyonki modi ji ka sapna hai ki bharat ko congress mukt kare aur us sapne ko pura karne ke liye bharatiya janta party har kadam utha rahi hai jis din aam aadmi party ko delhi se khatam karna hoga us din bharatiya janta party kumar vishwas ko delhi dhaan sabha chunav me mukhyamantri ka davedaar banayegi aur phir arvind kejriwal ki party aam aadmi party ki jamanat japt hogi aur congress ki sthiti toh aap jaan hi rahe delhi me kya hai aur bharatiya janta party ki purn bahumat ki sarkar banegi isme koi do rai nahi hai dhanyavad

देखे अरविंद केजरीवाल और कुमार विश्वास जी के बीच का जो टकराव है यह टकराव भविष्य के दिल्ली क

Romanized Version
Likes  323  Dislikes    views  4714
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Awdhesh Singh

Former IRS, Top Quora Writer, IAS Educator

1:39

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आम आदमी पार्टी वैसे ही अब धीरे-धीरे करके अरविंद केजरीवाल की पार्टी बन गई है और अरविंद केजरीवाल जो एक अपने को डेमोक्रेटिक लीडर की तरह प्रोजेक्ट कर देता था इस तरीके से सुप्रीमो हो गया सुप्रीम कमांडर हो गए हैं l आज की तारीख में अरविंद केजरीवाल के खिलाफ में कोई भी खड़ा नहीं हो सकता है और अरविंद केजरीवाल ने जिस तरीके से बाकि पार्टी के प्रशांत भूषण को बाहर किया और योगेंद्र यादव को बाहर किया उसे इस बात को क्लियर हो गया कि जो भी उनके खिलाफ खड़ा होगा उसको वह टॉलरेट नहीं करेंगे , उसको निकाल देंगे l कुमार विश्वास ने भी काफी समय से अरविंद केजरीवाल के खिलाफ तो नहीं लेकिन कम से कम अरविंद केजरीवाल को सपोर्ट नहीं किया हैl जैसे कि जो इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन में जो पार्टी का स्टैंड था कि जो इन की हार हुई दिल्ली में वह इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन के वजह से हुई उसमें कुमार विश्वास ने अपना एक व्यक्तिगत मत दिया था जो कि इस विचार से अलग था और यह बात पार्टी को अच्छी नहीं लगी l तो कुमार विश्वास इंडिपेंडेंट माइंड के हैं, पोएट है और वह अपने हिसाब से जिंदगी जीना चाहते हैं और वह इस तरीके डिसिप्लिन में बांधके नहीं रहना चाहते हैं l और इसीलिए कुमार विश्वास को यह डिसाइड करना होगा कि वह आपको छोड़ रहे हैं और यह तो राजनीति अपना नाता तोड़ने या फिर ऐसी राजनीतिक पार्टी में जाएं जहां पर वह ज्यादा एक्सेप्ट टेबल है या ज्यादा अच्छी पोजीशन को मिल सकती है l और मुझे नहीं लगता कि अरविंद केजरीवाल की पार्टी जो आप है उसके अंदर उसका कोई उनका कोई वजूद है l और लेकिन जहां तक पार्टी का सवाल है मैं समझता हूं कि इस विवाद से पार्टी कमजोर हुई है और आपकी जो इच्छा भी है उसको बहुत ही गहरा नुकसान हुआ है l

aam aadmi party waise hi ab dhire chahiye dhire chahiye karke arvind kejriwal ki party ban gayi hai aur arvind kejriwal jo ek apne ko democratic leader ki tarah project kar deta tha is tarike se supremo ho gaya supreme commander ho gaye hain l aaj ki tarikh mein arvind kejriwal ke khilaf mein koi bhi khada nahi ho sakta hai aur arvind kejriwal ne jis tarike se baki party ke prashant bhushan ko bahar kiya aur yogendra yadav ko bahar kiya use is baat ko clear ho gaya ki jo bhi unke khilaf khada hoga usko wah talret nahi karenge , usko nikal chahiye denge l kumar vishwas ne bhi kaafi samay se arvind kejriwal ke khilaf to nahi lekin kum se kum arvind kejriwal ko support nahi kiya hai jaise ki jo electronic voting machine mein jo party ka stand tha ki jo in ki haar hui delhi mein wah electronic voting machine ke wajah se hui usamen chahiye kumar vishwas ne apna ek vyaktigat mat diya tha jo ki is vichar se alag tha aur yeh baat party ko acchi nahi lagi l to kumar vishwas independent mind ke hain poet hai aur wah apne hisab se zindagi jeena chahte hain aur wah is tarike discipline mein bandhake nahi rehna chahte hain l aur isliye kumar vishwas ko yeh decide karna hoga ki wah aapko chod rahe hain aur yeh to rajneeti apna nataa todne ya phir aisi rajnitik party mein jayen jaha par wah jyada except table hai ya jyada acchi position ko mil sakti hai l aur mujhe nahi lagta ki arvind kejriwal ki party jo aap hai uske andar uska koi unka koi vajud hai l aur lekin jaha tak party ka sawal hai samajhata hoon ki is vivad se party kamjor hui hai aur aapki jo icha bhi hai usko bahut hi gehra nuksan hua hai l

आम आदमी पार्टी वैसे ही अब धीरे-धीरे करके अरविंद केजरीवाल की पार्टी बन गई है और अरविंद केजर

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  371
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डॉ कुमार विश्वास अरविंद केजरीवाल का जो साथ छोड़ा था उस समय यह लग रहा था जनता को एक और बढ़िया साथी एक महान नेता का उदय होने जाता है चित्र दिखाइए जिसमें जनता के लिए संवेदना है जो जनता के हितों के लिए कार्य करेगा उस समय अरविंद केजरीवाल का जोरू था और आज भी जो अरविंद केजरीवाल का रूप है वह व्यक्तिगत स्वास्थ्य स्वार्थों के लिए राजनीति कर रहे हैं वे खुद गलती से परिपूर्ण है जिसका अरविंद अन्ना हजारे ने जिस बात को लेकर की जनता के हित को ध्यान में रखते हुए जो आंदोलन छेड़ा था जिससे कि केजरीवाल का उदय हुआ था केजरीवाल साहब ने उन्हें अन्ना हजारे महोदय को छोड़ दिया और अपने विश्वासपात्र मित्र हमारे विश्वास को भी छोड़ दिया और व्यक्तिगत राजनीति स्वास्थ्य भरी हुई राजनीति में आज भी लिखते हैं लेकिन कुमार विश्वास साहिब साहब जो हैं आज वो रास्ता छोड़ चुके हैं जिस रास्ते को अपना करके उन्होंने अरविंद केजरीवाल का साथ छोड़ा था उस समय लग रहा था कि कुमार विश्वास सर जनहितकारी नेता हैं जनता के लिए संवेदना रखते हैं सहानुभूति रखते हैं जनता के प्रति उनका प्रेम है और वे जनता के मुद्दों के लिए शायद आगे संघर्ष करेंगे लेकिन आज मुझे ऐसा लगता है शायद टूट चुके हैं पापा से तो चुके हैं उनकी कुछ चुके हैं और इसलिए उन्होंने कभी तुमको ही धारण कर लिया है अब संगीत कार्यों पर ध्यान नहीं देते हैं अपना विचार उठा रहे हैं ना कभी पृष्ठ उठा रहे हैं यह बड़ा दुर्भाग्य का विषय है क्योंकि एक अच्छे नेता जिससे जनता बहुत कुछ आसान लिए बैठी थी शायद उसका अंत हो गया है और एक कुमार विश्वास कवि के रूप में प्रतिष्ठित हो रहे हैं माना कि कभी तो वो कल भी अच्छे थे आज भी अच्छे हैं लेकिन जनता की आशाओं पर जरूर कुठाराघात हो गया है

Dr. kumar vishwas arvind kejriwal ka jo saath choda tha us samay yah lag raha tha janta ko ek aur badhiya sathi ek mahaan neta ka uday hone jata hai chitra dikhaiye jisme janta ke liye samvedana hai jo janta ke hiton ke liye karya karega us samay arvind kejriwal ka joru tha aur aaj bhi jo arvind kejriwal ka roop hai vaah vyaktigat swasthya swarthon ke liye raajneeti kar rahe hain ve khud galti se paripurna hai jiska arvind anna hazare ne jis baat ko lekar ki janta ke hit ko dhyan mein rakhte hue jo andolan cheda tha jisse ki kejriwal ka uday hua tha kejriwal saheb ne unhe anna hazare mahoday ko chod diya aur apne vishwasapatra mitra hamare vishwas ko bhi chod diya aur vyaktigat raajneeti swasthya bhari hui raajneeti mein aaj bhi likhte hain lekin kumar vishwas sahib saheb jo hain aaj vo rasta chod chuke hain jis raste ko apna karke unhone arvind kejriwal ka saath choda tha us samay lag raha tha ki kumar vishwas sir janahitkari neta hain janta ke liye samvedana rakhte hain sahanubhuti rakhte hain janta ke prati unka prem hai aur ve janta ke muddon ke liye shayad aage sangharsh karenge lekin aaj mujhe aisa lagta hai shayad toot chuke hain papa se toh chuke hain unki kuch chuke hain aur isliye unhone kabhi tumko hi dharan kar liya hai ab sangeet karyo par dhyan nahi dete hain apna vichar utha rahe hain na kabhi prishth utha rahe hain yah bada durbhagya ka vishay hai kyonki ek acche neta jisse janta bahut kuch aasaan liye baithi thi shayad uska ant ho gaya hai aur ek kumar vishwas kabhi ke roop mein pratishthit ho rahe hain mana ki kabhi toh vo kal bhi acche the aaj bhi acche hain lekin janta ki ashaon par zaroor kutharaghat ho gaya hai

डॉ कुमार विश्वास अरविंद केजरीवाल का जो साथ छोड़ा था उस समय यह लग रहा था जनता को एक और बढ़ि

Romanized Version
Likes  219  Dislikes    views  3847
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

0:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आदित्य कुमार मिश्रा तेरा रंग के जीवन के बीच में जो हनुमान 9:00 टकराव चल रही है इसका अंजाम बहुत भारी हो सकता है क्योंकि अभी 16 जनवरी को जो है वह राज्यसभा की सीटों पर मतदान होने वाला है तो उन तीनों सीटों पर जो है आपने अपना कैंडिडेट खड़ा कर दिया है लेकिन जिसके चलते कुमार विश्वास और उनके बीच में अनबन चल रही है जो अगर उसको जल्दी साल नहीं किया तो मैं तो आम आदमी पार्टी ने बहुत भारी हो सकता है क्योंकि कुमार विश्वास जो है वह एक बहुत ही अच्छे और सब रह नेता है आम आदमी पार्टी के अगर कोई डिफरेंस इसकी वजह से उनको जाना पड़ता है तो यह बहुत बड़ा लॉन्च होगा आम आदमी पार्टी के लिए

aditya kumar mishra tera rang ke jeevan ke beech mein jo hanuman 9 00 takraav chal rahi hai iska anjaam bahut bhari ho sakta hai kyonki abhi 16 january ko jo hai vaah rajya sabha ki seaton par matdan hone vala hai toh un tatvo seaton par jo hai aapne apna candidate khada kar diya hai lekin jiske chalte kumar vishwas aur unke beech mein anban chal rahi hai jo agar usko jaldi saal nahi kiya toh main toh aam aadmi party ne bahut bhari ho sakta hai kyonki kumar vishwas jo hai vaah ek bahut hi acche aur sab reh neta hai aam aadmi party ke agar koi difference iski wajah se unko jana padta hai toh yah bahut bada launch hoga aam aadmi party ke liye

आदित्य कुमार मिश्रा तेरा रंग के जीवन के बीच में जो हनुमान 9:00 टकराव चल रही है इसका अंजाम

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर हमें पूरा मामला देखे तो कुमार विश्वास अरविंद केजरीवाल जो कि दोनों यहां आम आदमी पार्टी के फाउंडर रहे हो चुके हैं उनका आम आदमी पार्टी की राज्यसभा में जाएंगे आम आदमी पार्टी के नेता जी की राज्यसभा में जाएंगे उनका नाम उन्हें देने कुमार विश्वास नहीं आ गया है कुमार विश्वास जी ने यह बात कही थी कि इस प्रकार से एक होने जा सकता और नेता को भी राज्यसभा में जाने का मौका नहीं मिल रहा है और इससे जो है पार्टी में दो तरह के और दो तरीके के साथ सो चुकी है यह तो पहली वह चुके चुके अरविंद केजरीवाल के इस डिसीजन को सपोर्ट करते हैं वही बात को सपोर्ट करते कुमार विश्वास जी को राज्यसभा की सीटें मिली थी और दूसरे कुमार विश्वास जी को सपोर्ट करते हैं नेता है जो कि कुमार विश्वास जी को सपोर्ट करते हैं आप कुमार विश्वास जी के अंदर काम करते हैं वह तो कुमार विश्वास जी की बात सुनेगा वह आम आदमी पार्टी के लिए साथ काम इतना अच्छा तरीके से नहीं करेंगे या फिर ऐसा भी हो सकता है कि कुमार विश्वास जी जो है आम आदमी पार्टी से रेसिग्नेशन दे दे अपना इस्तीफा दे दिया पॉलिटिकल पार्टी में जा कर ज्वाइन कर दे या फिर कोई दूसरी पॉलिटिकल पार्टी किसकी बना दें जिसके हिस्से उनके जो भी कार्यकर्ता जोगेंद्र काम करते थे वह भी चले जाएंगे और आम आदमी पार्टी को बहुत बड़ा झटका लग सकता है क्योंकि हम देख रहे किस प्रकार से आम आदमी पार्टी को दिल्ली को छोड़कर बाकी कोई भी इलेक्शन में लगी है वहां पर इतनी सफलता नहीं पाया उसे बिल्कुल ना के बराबर 500 साल रिकॉर्डर पैसा तो लड़की अकेले दिल्ली चुनाव में भी उनके लिए मुश्किल होगा जीत पाना तो आम आदमी पार्टी के लिए बहुत ही बहुत ही बुरी और दुखद खबर होगी

agar hamein pura maamla dekhe toh kumar vishwas arvind kejriwal jo ki dono yahan aam aadmi party ke founder rahe ho chuke hain unka aam aadmi party ki rajya sabha mein jaenge aam aadmi party ke neta ji ki rajya sabha mein jaenge unka naam unhe dene kumar vishwas nahi aa gaya hai kumar vishwas ji ne yah baat kahi thi ki is prakar se ek hone ja sakta aur neta ko bhi rajya sabha mein jaane ka mauka nahi mil raha hai aur isse jo hai party mein do tarah ke aur do tarike ke saath so chuki hai yah toh pehli vaah chuke chuke arvind kejriwal ke is decision ko support karte hain wahi baat ko support karte kumar vishwas ji ko rajya sabha ki seaten mili thi aur dusre kumar vishwas ji ko support karte hain neta hai jo ki kumar vishwas ji ko support karte hain aap kumar vishwas ji ke andar kaam karte hain vaah toh kumar vishwas ji ki baat sunegaa vaah aam aadmi party ke liye saath kaam itna accha tarike se nahi karenge ya phir aisa bhi ho sakta hai ki kumar vishwas ji jo hai aam aadmi party se resigneshan de de apna istifa de diya political party mein ja kar join kar de ya phir koi dusri political party kiski bana de jiske hisse unke jo bhi karyakarta jogendra kaam karte the vaah bhi chale jaenge aur aam aadmi party ko bahut bada jhatka lag sakta hai kyonki hum dekh rahe kis prakar se aam aadmi party ko delhi ko chhodkar baki koi bhi election mein lagi hai wahan par itni safalta nahi paya use bilkul na ke barabar 500 saal recorder paisa toh ladki akele delhi chunav mein bhi unke liye mushkil hoga jeet paana toh aam aadmi party ke liye bahut hi bahut hi buri aur dukhad khabar hogi

अगर हमें पूरा मामला देखे तो कुमार विश्वास अरविंद केजरीवाल जो कि दोनों यहां आम आदमी पार्टी

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  147
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए दिल्ली के अंदर 16 जनवरी को दिन राज्यसभा की सीट पर इलेक्शन होने वाले हैं आम आदमी के पास आम आदमी पार्टी के पास पहले ही सिक्स सिक्सेस है और अगर कुछ दिक्कत उनके पास पूरी 70 हो जाएंगे तो इसमें जो तीन लोगों को आम आदमी पार्टी की तरफ से लिख दिया गया है वह है एन डी गुप्ता मिस्टर सुशील गुप्ता टूटा होगा और और एक चूहा मैसेज चार्टर्ड अकाउंटेंट है जिनका नाम है मिस्टर सिंह को तनहाई प्ले किया गया लेकिन कुमार विश्वास को नहीं किया जिससे भी काफी नाराज है उन्होंने बोला क्यों नहीं सच बोलने की सजा मिल गई और इस पार्टी में अगर कोई आप कैसी वालों के खिलाफ जाए तो उसका पार्टी में सर्वाधिक करना बहुत आसान नहीं है उन्होंने बोला कि क्योंकि मैं 10 साल से अपनी सच्ची राय रख रहा था चाहे वह सर्जिकल हो या फिर टिकट रिजर्वेशन को लेकर 11130 हो या फिर कोई और बात हुई थी न्यूज़ीलैंड हो या कुछ भी तो उसके लिए मुझे सजा मिलेगी कुमार विश्वास पार्टी की एक मजबूत कार्यकर्ता हैं और अच्छे वक्ता भी हैं तो अगर वह पार्टी में नहीं होता तो पार्टी पर काफी उसे पड़ेगा वैसे भी आम आदमी पार्टी फुल मोर्स टूटने ही वाली है सब पार्टी को छोड़ छोड़ कर अलग अलग पार्टी समाचार है और अपने से बड़े बड़े नेता भी नाराज हो जाएंगे उसके बाद सो जाएंगे तो पार्टी का जो भविष्य वह फिर खतरे में ही है

dekhie chahiye delhi ke andar 16 january ko din rajya sabha ki seat par election hone wale hain aam aadmi ke paas aam aadmi party ke paas pehle hi six sixes hai aur agar kuch dikkat unke paas puri 70 ho jaenge to isme jo teen logo chahiye ko aam aadmi party ki taraf se likh diya gaya hai wah hai N d gupta mister sushil gupta tuta hoga aur aur ek chuha massage chartered accountant hai jinka naam hai mister singh ko tanhai play kiya gaya lekin kumar vishwas ko nahi kiya jisse bhi kaafi naaraj hai unhone bola kyu nahi sach bolne ki saja mil gayi aur is party mein agar koi aap kaisi walon ke khilaf jaye to uska party mein sarvadhik karna bahut aasan nahi hai unhone bola ki kyonki main 10 saal se apni sachhi rai rakh raha tha chahe wah surgical ho ya phir ticket reservation ko lekar 11130 ho ya phir koi aur baat hui thi Newzealand ho ya kuch bhi to uske liye mujhe saja milegi kumar vishwas party ki ek majboot karyakarta hain aur acche vakta bhi hain to agar wah party mein nahi hota to party par kaafi use padega waise bhi aam aadmi party full mores tutane hi wali hai sab party ko chod chod kar alag alag party samachar hai aur apne se bade bade neta bhi naaraj ho jaenge uske baad so jaenge to party ka jo bhavishya wah phir khatre mein hi hai

देखिए दिल्ली के अंदर 16 जनवरी को दिन राज्यसभा की सीट पर इलेक्शन होने वाले हैं आम आदमी के प

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  188
WhatsApp_icon
user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आम आदमी पार्टी ने दिल्ली राज्यसभा की 3 सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी है जिसमें की सीनियर लीडर कुमार विश्वास का नाम नहीं है इस बात से खफा कुमार विश्वास ने कहा है कि उन्हें सच बोलने की सजा मिली है यह सब टकराव का अंजाम यह हो सकता है कि कुमार विश्वास आम आदमी पार्टी छोड़ दें और नई पार्टी बना लें

aam aadmi party ne delhi rajya sabha ki 3 seaton par hone waale chunav ke liye apne ummidwaron ke naam ki ghoshana kar di hai jisme ki senior leader kumar vishwas ka naam nahi hai is baat se khafa kumar vishwas ne kaha hai ki unhe sach bolne ki saza mili hai yah sab takraav ka anjaam yah ho sakta hai ki kumar vishwas aam aadmi party chod de aur nayi party bana lein

आम आदमी पार्टी ने दिल्ली राज्यसभा की 3 सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों के

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  169
WhatsApp_icon
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी मुझे लगता है अरविंद केजरीवाल और कुमार विश्वास के बीच बिल्कुल टक्कर आपकी भी आ चुके मुझे लगता है कि इसका रिजल्ट हम आने वाले दो या तीन दिनों में देखेंगे मुझे इसमें मुझे लगता है कि या तो यह होगा कि कुमार विश्वास पार्टी छोड़ देंगे या अपने को समर्थकों समर्थकों के साथ मिलकर पार्टी छोड़ेंगे क्योंकि जिस तरह से कुमार विश्वास था कि जो राज्यसभा की कुल सीटें हैं जो दिल्ली से हैं उनमें एक सीट तो उनके लिए रखी जाएगी वह फाइनली अरविंद केजरीवाल ने डिसाइड किया कि उनको राज्यसभा की कोई सीट लोड नहीं की जाएगी तो वह बगावती तेवर अपना लिया है मुझे लगता है उनको देना चाहिए तो क्योंकि जिस मेहनत के साथ जिस भरोसे के साथ उन्होंने अरविंद केजरीवाल का साथ दिया तो इतना तो उनको बनता था

vicky mujhe lagta hai arvind kejriwal aur kumar vishwas ke beech bilkul takkar aapki bhi aa chuke mujhe lagta hai ki iska result hum aane waale do ya teen dino mein dekhenge mujhe isme mujhe lagta hai ki ya toh yah hoga ki kumar vishwas party chod denge ya apne ko samarthakon samarthakon ke saath milkar party chodenge kyonki jis tarah se kumar vishwas tha ki jo rajya sabha ki kul seaten hain jo delhi se hain unmen ek seat toh unke liye rakhi jayegi vaah finally arvind kejriwal ne decide kiya ki unko rajya sabha ki koi seat load nahi ki jayegi toh vaah bagavati tewar apna liya hai mujhe lagta hai unko dena chahiye toh kyonki jis mehnat ke saath jis bharose ke saath unhone arvind kejriwal ka saath diya toh itna toh unko banta tha

विकी मुझे लगता है अरविंद केजरीवाल और कुमार विश्वास के बीच बिल्कुल टक्कर आपकी भी आ चुके मुझ

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  180
WhatsApp_icon
user

Sameer Tripathy

Political Critic

0:56
Play

Likes    Dislikes    views  17
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
anjaam रिजल्ट ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!