देश को RSS जैसे संघ से क्या लाभ मिलता है?...


play
user

Ravi Sharma

Advocate

1:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आप RSS का इतिहास उठा कर देखेंगे तो उस की मूल भावना चुकी स्वयं सेवा की है उसको जानने का आप को मौका मिलेगा RSS जैसे संग भारत के विकास के लिए बहुत ही आवश्यक हैं एकता अखंडता की भावना जिस प्रकार से RSS ने भारत की नसों में गोली है उससे भारत के आम नागरिक को भारत के प्रति जो राष्ट्रप्रेम है जो देश भक्ति है उसको जानने व उसका निर्माण करने का एक उचित अवसर प्राप्त हुआ है यदि आप पुराने स्वयंसेवको को जानेंगे तो आपको पता लगेगा कि अपना परिवार व्यवस्थाएं नौकरी सब कुछ छोड़कर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जैसे संगठनों से जुड़ने का उनका एक ही लक्ष्य होता था वह होता था राष्ट्र सेवा किसी भी धर्म जाति संप्रदाय से ऊपर उठकर राष्ट्र की सेवा में लगे हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं को मैं हार्दिक अभिनंदन करता हूं वह उनका चरण वंदन करता हूं कि जिस प्रकार उन्होंने भारत में पिछले अपने 70 से 80 सालों में अपने निर्माण के बाद जिस प्रकार से योगदान दिया है भारत की एकता अखंडता व राष्ट्रभक्ति के समर्पित लोगों को जिस प्रकार से उन्होंने खड़ा किया है एक से बढ़कर एक नेता चाहे वह अटल बिहारी वाजपेई जी हूं चाहे वह नरेंद्र मोदी जी वह उनको अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय मंच पर लाकर खड़ा किया है ऐसे RSS को मेरा शत-शत प्रणाम धंयवाद

agar aap RSS ka itihas utha kar dekhenge toh us ki mul bhavna chuki swayam seva ki hai usko jaanne ka aap ko mauka milega RSS jaise sang bharat ke vikas ke liye bahut hi aavashyak hain ekta akhandata ki bhavna jis prakar se RSS ne bharat ki nason mein goli hai usse bharat ke aam nagarik ko bharat ke prati jo rashtraprem hai jo desh bhakti hai usko jaanne va uska nirmaan karne ka ek uchit avsar prapt hua hai yadi aap purane swayansevako ko jaanege toh aapko pata lagega ki apna parivar vyavasthaen naukri sab kuch chhodkar rashtriya swayamsevak sangh jaise sangathano se judne ka unka ek hi lakshya hota tha vaah hota tha rashtra seva kisi bhi dharm jati sampraday se upar uthakar rashtra ki seva mein lage hue rashtriya swayamsevak sangh ke karyakartaon ko main hardik abhinandan karta hoon vaah unka charan vandan karta hoon ki jis prakar unhone bharat mein pichle apne 70 se 80 salon mein apne nirmaan ke baad jis prakar se yogdan diya hai bharat ki ekta akhandata va rashtra bhakti ke samarpit logo ko jis prakar se unhone khada kiya hai ek se badhkar ek neta chahen vaah atal bihari vajpayee ji hoon chahen vaah narendra modi ji vaah unko antararashtriya aur rashtriya manch par lakar khada kiya hai aise RSS ko mera shat shat pranam dhanyvad

अगर आप RSS का इतिहास उठा कर देखेंगे तो उस की मूल भावना चुकी स्वयं सेवा की है उसको जानने का

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  381
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!