भारत में ऊँचे पद वाली नौकरियों में अधिक महिलाओं क्यों नहीं हैं?...


user

Ravi Sharma

Advocate

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक पुरुष होने के बावजूद मैं मानता हूं कि भारत एक पुरुष प्रधान देश है महिलाओं को आगे बढ़ने के उचित अवसर उस प्रकार से प्राप्त नहीं हुए जैसे कि पुरुषों को प्राप्त हुए आज भी हम मध्य वर्ग उच्च वर्ग या निम्न वर्ग किसी भी आए वर्क में जाते हैं तो महिलाओं को वह सम्मान नहीं मिल पाता चाहे उनकी शिक्षा का स्तर कुछ भी रहा हो चाहे वह किसी भी प्रकार से भारत केवल अपने समाज के विकास के लिए उनका कुछ भी योगदान राहुल लेकिन उनको उस प्रकार के अवसर प्राप्त नहीं होते जैसे पुरुषों को प्राप्त होते हैं ऊंचे पदों पर महिलाओं के ना बैठने का एक कारण यह है कि उनके छोटी उम्र में शादी कर दी जाती है भारत का जो ओवर सोशल इंजीनियरिंग है जो सामाजिक व्यवस्था है उसमें महिलाओं को एक इन सिक्योरिटी यानी कि एक आम रुपेश की भावना से देखा जाता है कि उनकी शादी जल्दी हो जाए उनके उनका यू नो घर जल्दी बस जाए और इस प्रकार की भावनाएं उनके प्रति रखी जाती हैं जब कुछ सही उसके बाद वह शायद उस प्रकार से आत्मनिर्भर नहीं बन पाती जैसा कि एक पुरुष बन पाता है भारत के सामाजिक आवश्यकता है महिलाओं के प्रति अपना सोच अपना नजरिया बदलने की जिसके बाद वह महिलाओं को हर क्षेत्र में चाहे वह आर्थिक क्षेत्र में सामाजिक व राजनीतिक क्षेत्र हो उसमें वह उनको एक्सेप्ट कर पाए उनके अस्सेस्बिलिटी ज्यादा हो उनको वह समझ पाए कि शायद महिलाएं भी वही काम उसी कुशलता या उससे अधिक कुशलता से कर सकती हैं चेतना की एक पुरुष कर सकता है तो आप पुरुष प्रधान देश महिला प्रधान देश ना बने वह दोनों ही महिलाओं व पुरूषों में एक संयम बना रहे एक बैलेंस बना रहे हैं इसकी भी उतनी ही आवश्यकता है किसी भी प्रकार से मैं फेमिनिज्म में फेमिनिस्ट होने का नाम नहीं भर रहा हूं धन्यवाद

ek purush hone ke bawajud main manata hoon ki bharat ek purush pradhan desh hai mahilaon ko aage badhne ke uchit avsar us prakar se prapt nahi hue jaise ki purushon ko prapt hue aaj bhi hum madhya varg ucch varg ya nimn varg kisi bhi aaye work mein jaate hain toh mahilaon ko vaah sammaan nahi mil pata chahen unki shiksha ka sthar kuch bhi raha ho chahen vaah kisi bhi prakar se bharat keval apne samaj ke vikas ke liye unka kuch bhi yogdan rahul lekin unko us prakar ke avsar prapt nahi hote jaise purushon ko prapt hote hain unche padon par mahilaon ke na baithne ka ek karan yah hai ki unke choti umr mein shadi kar di jaati hai bharat ka jo over social Engineering hai jo samajik vyavastha hai usme mahilaon ko ek in Security yani ki ek aam rupesh ki bhavna se dekha jata hai ki unki shadi jaldi ho jaaye unke unka you no ghar jaldi bus jaaye aur is prakar ki bhaavnaye unke prati rakhi jaati hain jab kuch sahi uske baad vaah shayad us prakar se aatmanirbhar nahi ban pati jaisa ki ek purush ban pata hai bharat ke samajik avashyakta hai mahilaon ke prati apna soch apna najariya badalne ki jiske baad vaah mahilaon ko har kshetra mein chahen vaah aarthik kshetra mein samajik va raajnitik kshetra ho usme vaah unko except kar paye unke assesbiliti zyada ho unko vaah samajh paye ki shayad mahilaye bhi wahi kaam usi kushalata ya usse adhik kushalata se kar sakti hain chetna ki ek purush kar sakta hai toh aap purush pradhan desh mahila pradhan desh na bane vaah dono hi mahilaon va purusho mein ek sanyam bana rahe ek balance bana rahe hain iski bhi utani hi avashyakta hai kisi bhi prakar se main feminism mein feminist hone ka naam nahi bhar raha hoon dhanyavad

एक पुरुष होने के बावजूद मैं मानता हूं कि भारत एक पुरुष प्रधान देश है महिलाओं को आगे बढ़ने

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  351
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Deepak Verma

Journalist

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महिलाएं क्यों हटा दो

mahilaen kyon hata do

महिलाएं क्यों हटा दो

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  310
WhatsApp_icon
play
user

Sandeep Kumar

Journalist

3:23

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा मेरा मानना है कि यह है कि जो महिलाएं हैं वह सभी क्षेत्र में देते हो मुझे अभी क्वेश्चन आया है कि ऊंचे पद पर कैसे आईएएस हमारे हमारे जिला अधिकारी होते हैं तो उनके कभी हमें भी फील्ड में हुआ है हम भी फिल्में गाना घूमे हैं ऐसा लगता कि हां यह है कि जैसे हमारे देश की महिलाएं हैं वह मैं मानता हूं हर जगह हर चीज में बहुत अच्छे से काम कर सकती है लेकिन कहीं ना कहीं वह जैसे हमारी मां है वह मां का भी रोल निभाती है चोट लग जाती है तो मां इमोशनल हो जाती है और वह फिर भी एक मां का रोल निभाती है कि बेटा तुम्हें कभी कुछ लगा तो नहीं बेटा वह तो नरम दिल हो जाती है ऐसे ही इस क्षेत्र में यदि ऐसा होता है तो बहुत जल्दी इंसान हो जाती है और वह हम दिल से हो जाती हैं पुरुषों के मुकाबले पुरुषों के मुकाबले ऐसा लगता है कि काम करने में शब्दों में बयां नहीं कर पा रहा हूं कि थोड़ा काम करने में कठिनाई होती है उसमें यह भी पड़ा है कि महिलाएं पुरुषों से एक काम आगे कर सकती है जो पुरुष नहीं कर सकता वह काम महिला कर सकती हैं केवल महिला लेकिन आ हर बात अपने ऊंचे पद पर ऊंची पर तो मेरा मानना यही है कि उस ओं के मुकाबले महिलाएं थोड़ा कम इसीलिए रह जाती हैं क्योंकि वह कहीं ना कहीं हमारी बहन का भी हमारी मां का भी रोल निभाती है एक जगह क्षेत्र में मैं गया था वहां से पता चला वहां से पता चला कि महिलाओं को अपने बेटे देहात की बात बता रहा मैं उनसे पता चला कि महिलाओं को अपने घर की इज्जत माना जाता है और पहले जो घर आने हुआ करते थे चौधरी हो क्या कर दिया हुआ करते थे वह अपनी महिला को घर से निकलना दूभर टेक्निकल कि आज आज जो है टाइम पास कर रही है बराबर होता है सबका बराबर होता है और सभी बराबर प्रोग्रेस कर सकते हैं लेकिन आज भी कुछ लोग अपनी महिलाओं को घर से निकलना ही नहीं समझते घर आने के लिए लेकिन अपना प्रोग्रेस कर रहे हैं वह प्रोग्रेस करते-करते बहुत बहुत आगे निकल चुकी हैं बस सबसे मेन बात सही है कि महिलाएं ऊंचे पद पर इसलिए कार्य नहीं कर सकती क्योंकि मां का भी रोल निभा ना होता मैं भी ना होता है उसके मुकाबले में आगे बढ़ सकती हैं

aisa mera manana hai ki yeh hai ki jo mahilaye hain wah sabhi kshetra mein dete ho mujhe abhi question aaya hai ki unche pad par kaise IAS hamare hamare jila adhikari hote hain toh unke kabhi humein bhi field mein hua hai hum bhi filme gaana ghume hain aisa lagta ki haan yeh hai ki jaise hamare desh ki mahilaye hain wah main manata hoon har jagah har cheez mein bahut acche se kaam kar sakti hai lekin kahin na kahin wah jaise hamari maa hai wah maa ka bhi roll nibhati hai chot lag jati hai toh maa emotional ho jati hai aur wah phir bhi ek maa ka roll nibhati hai ki beta tumhe kabhi kuch laga toh nahi beta wah toh naram dil ho jati hai aise hi is kshetra mein yadi aisa hota hai toh bahut jaldi insaan ho jati hai aur wah hum dil se ho jati hain purushon ke muqable purushon ke muqable aisa lagta hai ki kaam karne mein shabdo mein bayaan nahi kar pa raha hoon ki thoda kaam karne mein kathinai hoti hai usme yeh bhi pada hai ki mahilaye purushon se ek kaam aage kar sakti hai jo purush nahi kar sakta wah kaam mahila kar sakti hain keval mahila lekin aa har baat apne unche pad par uchi par toh mera manana yahi hai ki us yuvaon ke muqable mahilaye thoda kam isliye reh jati hain kyonki wah kahin na kahin hamari behen ka bhi hamari maa ka bhi roll nibhati hai ek jagah kshetra mein main gaya tha wahan se pata chala wahan se pata chala ki mahilaon ko apne bete dehat ki baat bata raha main unse pata chala ki mahilaon ko apne ghar ki izzat mana jata hai aur pehle jo ghar aane hua karte the choudhary ho kya kar diya hua karte the wah apni mahila ko ghar se nikalna dubhar technical ki aaj aaj jo hai time paas kar rahi hai barabar hota hai sabka barabar hota hai aur sabhi barabar progress kar sakte hain lekin aaj bhi kuch log apni mahilaon ko ghar se nikalna hi nahi samajhte ghar aane ke liye lekin apna progress kar rahe hain wah progress karte karte bahut bahut aage nikal chuki hain bus sabse main baat sahi hai ki mahilaye unche pad par isliye karya nahi kar sakti kyonki maa ka bhi roll nibha na hota main bhi na hota hai uske muqable mein aage badh sakti hain

ऐसा मेरा मानना है कि यह है कि जो महिलाएं हैं वह सभी क्षेत्र में देते हो मुझे अभी क्वेश्चन

Romanized Version
Likes  126  Dislikes    views  2503
WhatsApp_icon
user
0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में उच्च पद वालों की नौकरियों में महिलाएं हैं आपको पता नहीं है भारत की संसद की जो महालेखा अधिकार अधिकारी के संसद का पूरा संचालन करती है एक महिला आई है इसके पूर्व राष्ट्रपति की जो राष्ट्रपति के कार्यालय का जो संचालन कर दी थी वह भी एक महिला आई थी तो ऐसा नहीं है भारत में बहुत सारी महिलाएं उच्च पदों पर आसीन कई मंत्री मिनिस्टर उच्च पदों पर है या भारत की जो वित्त मंत्री है जो भारत की अर्थव्यवस्था को देखता है वह भी सीतारमन महिला ही है और कई अधिकारी पोस्ट पर महिलाएं

bharat mein ucch pad walon ki naukriyon mein mahilaye hain aapko pata nahi hai bharat ki sansad ki jo mahalekha adhikaar adhikari ke sansad ka pura sanchalan karti hai ek mahila I hai iske purv rashtrapati ki jo rashtrapati ke karyalay ka jo sanchalan kar di thi vaah bhi ek mahila I thi toh aisa nahi hai bharat mein bahut saree mahilaye ucch padon par aaseen kai mantri minister ucch padon par hai ya bharat ki jo vitt mantri hai jo bharat ki arthavyavastha ko dekhta hai vaah bhi sitaraman mahila hi hai aur kai adhikari post par mahilaen

भारत में उच्च पद वालों की नौकरियों में महिलाएं हैं आपको पता नहीं है भारत की संसद की जो महा

Romanized Version
Likes  298  Dislikes    views  3463
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महिला भगवान द्वारा बनाई गई सबसे खूबसूरत करती है यह मैं उसकी सुंदरता के लिए नहीं बोल रहा हूं मैं हर चीज के लिए बोल रहा हूं आपको सुबह उठाना सारा काम करना आप को खाना खिलाना इसे लेकर आपको रात को सुना नहीं था कि आप इतनी सारी महिलाओं से घिरे होते आपकी मां दादी बहन बीवी इतने सारे लोग आपका ध्यान रखते हैं क्या कभी आपने सोचा है कि वह महिला भारत में इतने ऊंचे पदों पर क्यों नहीं है क्योंकि उन्हें आर्थिक आजादी आज तक हमने दी ही नहीं है जब तक हम पुरुष उन्हें आर्थिक आजादी नहीं देंगे तब तक वह मुझे पता पर जा ही नहीं पाएंगे ऐसा नहीं है कि दुनिया में और जगह से नहीं हो रहा है सब बिल्कुल हो रहा है प्राथमिक समाज की यही खासियत है कि मनुष्य में जो पुरुष लोगे वह नहीं चाहते कि मैं लाइन ऊपर तक जाएं और इसमें भारत देश में कहीं नकली शामिल है ही लेकिन यहां पर हमें इंसानों को हम पुरुषों को ही सोचना पड़ेगा कि हम किस तरह से उन्हें ऊपर ला सकते हैं कब अपनी सोच बदलेंगे कामिनी महिलाओं को आने जाने में एक सुविधा प्रदान कर सकेंगे कब हम उन्हें बराबरी का अधिकार दिला सकेंगे कम उम्र में बने बराबर चुनाव अपने ऊपर खर्च करते हैं उनके ऊपर खर्च करेंगे जितना ध्यान अपनी मां का ध्यान रखना बीवी का ध्यान रखेंगे यह छोटी-छोटी चीज़ें हमारे देश को तथा हमारी महिलाओं को सशक्त बना सकती है महिलाओं का सशक्तिकरण मुझे लगता है भारतवर्ष में अग्रसर शोषण किसी का हो तो महिलाएं भारत में महिलाओं के अवशोषण किसी का नहीं हुआ है मेरे ख्याल से तो सबसे पहले उन को आजादी दे थोड़ा सा उसके बाद में आर्थिक आजादी मिल जाएगी उन्हें पता है कि उन्हें क्या करना है और जल्दी भारत में भी कुछ बना पर महिला ईमेल आया होंगी जैसे कि हमारी रक्षा मंत्री जी हैं बहुत-बहुत धन्यवाद

mahila bhagwan dwara banai gayi sabse khoobsurat karti hai yah main uski sundarta ke liye nahi bol raha hoon main har cheez ke liye bol raha hoon aapko subah uthna saara kaam karna aap ko khana khilana ise lekar aapko raat ko suna nahi tha ki aap itni saree mahilaon se ghire hote aapki maa dadi behen biwi itne saare log aapka dhyan rakhte hai kya kabhi aapne socha hai ki vaah mahila bharat mein itne unche padon par kyon nahi hai kyonki unhe aarthik azadi aaj tak humne di hi nahi hai jab tak hum purush unhe aarthik azadi nahi denge tab tak vaah mujhe pata par ja hi nahi payenge aisa nahi hai ki duniya mein aur jagah se nahi ho raha hai sab bilkul ho raha hai prathmik samaj ki yahi khasiyat hai ki manushya mein jo purush loge vaah nahi chahte ki main line upar tak jayen aur isme bharat desh mein kahin nakli shaamil hai hi lekin yahan par hamein insano ko hum purushon ko hi sochna padega ki hum kis tarah se unhe upar la sakte hai kab apni soch badalenge kamini mahilaon ko aane jaane mein ek suvidha pradan kar sakenge kab hum unhe barabari ka adhikaar dila sakenge kam umr mein bane barabar chunav apne upar kharch karte hai unke upar kharch karenge jitna dhyan apni maa ka dhyan rakhna biwi ka dhyan rakhenge yah choti choti chize hamare desh ko tatha hamari mahilaon ko sashakt bana sakti hai mahilaon ka shshaktikaran mujhe lagta hai bharatvarsh mein agrasar shoshan kisi ka ho toh mahilaye bharat mein mahilaon ke avshoshan kisi ka nahi hua hai mere khayal se toh sabse pehle un ko azadi de thoda sa uske baad mein aarthik azadi mil jayegi unhe pata hai ki unhe kya karna hai aur jaldi bharat mein bhi kuch bana par mahila email aaya hongi jaise ki hamari raksha mantri ji hai bahut bahut dhanyavad

महिला भगवान द्वारा बनाई गई सबसे खूबसूरत करती है यह मैं उसकी सुंदरता के लिए नहीं बोल रहा हू

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  167
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा मेरा मानना है इसलिए है कि जो महिलाएं हैं वह सभी क्षेत्र में देते हो मुझे अभी क्वेश्चन आया है कि उनके पद परिचय के आईएएस हमारे हमारे जिला अधिकारी होते हैं तो उनके बेटे हमें भी फील्ड में हुआ है हम भी फिल्मी गाना घूमे ऐसा लगता है जैसे हमारी देश की महिलाएं हैं वह मैं मानता हूं हर जगह हर क्षेत्र में बहुत अच्छे से काम कर सकती हैं लेकिन कहीं ना कहीं वह जैसी हमारी मां है तो वह मां का भी रोल निभाती हैं हमारी बहन है चोट लग जाती है तो मां इमोशनल हो जाती है और वह फिर भी एक मां का रोल निभाती है बेटा तुम्हें कभी कुछ लगा तो नहीं इन बेटा वह तो ऐसे ही क्षेत्र में ऐसा होता है कि पुरुषों के मुकाबले कहा है मैंने पूछो के मुकाबले थोड़ा सा ऐसा लगता है कि मैं काम करने में थोड़ा मैं अपने शब्दों में बयां नहीं कर पा रहा हूं कि मैं थोड़ा सा काम करने में कठिनाई होती है एक बुक में यह भी पड़ा है कि महिलाएं पुरुष से एक काम आगे कर सकती हैं जो पुरुष नहीं कर सकता वह काम महिला कर सकती हैं केवल महिला

aisa mera manana hai isliye hai ki jo mahilaye hain vaah sabhi kshetra mein dete ho mujhe abhi question aaya hai ki unke pad parichay ke IAS hamare hamare jila adhikari hote hain toh unke bete hamein bhi field mein hua hai hum bhi filmy gaana ghume aisa lagta hai jaise hamari desh ki mahilaye hain vaah main manata hoon har jagah har kshetra mein bahut acche se kaam kar sakti hain lekin kahin na kahin vaah jaisi hamari maa hai toh vaah maa ka bhi roll nibhati hain hamari behen hai chot lag jaati hai toh maa emotional ho jaati hai aur vaah phir bhi ek maa ka roll nibhati hai beta tumhe kabhi kuch laga toh nahi in beta vaah toh aise hi kshetra mein aisa hota hai ki purushon ke muqable kaha hai maine pucho ke muqable thoda sa aisa lagta hai ki main kaam karne mein thoda main apne shabdon mein bayaan nahi kar paa raha hoon ki main thoda sa kaam karne mein kathinai hoti hai ek book mein yah bhi pada hai ki mahilaye purush se ek kaam aage kar sakti hain jo purush nahi kar sakta vaah kaam mahila kar sakti hain keval mahila

ऐसा मेरा मानना है इसलिए है कि जो महिलाएं हैं वह सभी क्षेत्र में देते हो मुझे अभी क्वेश्चन

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  173
WhatsApp_icon
user

amitkul

CA student,pursuing bcom too

1:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऊंचे पदों पर भर्ती भारत में अधिक महिलाएं नहीं है यह इसका यह तो कारण बिल्कुल नहीं है कि महिलाएं जो है वह लायक नहीं है यह बिल्कुल है इसका कारण नहीं है मेरे हिसाब से तो यह कारण बन रहा है क्योंकि अगर भारत के भारत में ऊंचे पद पर भारत ने क्यों किसी भी जगह पर कोई ऊंचे पद पर रहने के लिए जो है पूरी रिस्पांसिबिलिटी उन्होंने अपने सर लेनी पड़ती है और जो है पूरी तरह से जो है बिजनेस में या फिर गवर्नमेंट में हो तो गवर्नमेंट अपने कार्य पर ध्यान देना पड़ता है पूरी तरह सर किंजल का नाम आ जाए और भारत में जो शेष बची अभिषेक बच्चन जो है महिला जो है जब शादी करके जाती है तो उसे अपने ससुराल को संभालना पड़ता है वहां का ध्यान रखना पड़ता है अपने मां-बाप के अपने सास ससुर के साथ रहना पड़ता है उनके उन्हें उन्हें उनकी सेवा करनी पड़ती है भले ही उन्हें कोई काम करने की गुड दे रहे हो ससुराल वाले लेकिन जो है एक ऊंचे पद पर रहने के लिए जो है हंड्रेड परसेंट जो रिस्पॉन्सिबिलिटी लगती है और हंड्रेड परसेंट जो है कॉन्संट्रेशन लगता है जो महिलाओं के लिए अत्यधिक कठिन होता है भारत के भारत देश में क्योंकि उन्हें अपने घर घर बार कार्य को भी देखना पड़ता है और अपने सांसारिक जीवन के वीर्य रक्षण करना पड़ता है अपने बच्चों पर ध्यान देना पड़ता है मेरे हिसाब से इसी वजह से शायद भारत में महिलाएं ज्यादा महिलाएं उच्च पद पर नहीं है

unche padon par bharti bharat mein adhik mahilaye nahi hai yah iska yah toh karan bilkul nahi hai ki mahilaye jo hai vaah layak nahi hai yah bilkul hai iska karan nahi hai mere hisab se toh yah karan ban raha hai kyonki agar bharat ke bharat mein unche pad par bharat ne kyon kisi bhi jagah par koi unche pad par rehne ke liye jo hai puri responsibility unhone apne sir leni padti hai aur jo hai puri tarah se jo hai business mein ya phir government mein ho toh government apne karya par dhyan dena padta hai puri tarah sir kinjal ka naam aa jaaye aur bharat mein jo shesh bachi abhishek bachchan jo hai mahila jo hai jab shadi karke jaati hai toh use apne sasural ko sambhaalna padta hai wahan ka dhyan rakhna padta hai apne maa baap ke apne saas sasur ke saath rehna padta hai unke unhe unhe unki seva karni padti hai bhale hi unhe koi kaam karne ki good de rahe ho sasural waale lekin jo hai ek unche pad par rehne ke liye jo hai hundred percent jo rispansibiliti lagti hai aur hundred percent jo hai concentration lagta hai jo mahilaon ke liye atyadhik kathin hota hai bharat ke bharat desh mein kyonki unhe apne ghar ghar baar karya ko bhi dekhna padta hai aur apne sansarik jeevan ke virya rakshan karna padta hai apne baccho par dhyan dena padta hai mere hisab se isi wajah se shayad bharat mein mahilaye zyada mahilaye ucch pad par nahi hai

ऊंचे पदों पर भर्ती भारत में अधिक महिलाएं नहीं है यह इसका यह तो कारण बिल्कुल नहीं है कि महि

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  118
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब भारत में अधिक महिलाएं इसलिए नहीं है क्योंकि भारत में विधि बताते चलते आ रहे है कि महिलाओं को ज्यादा शिक्षा में नहीं देना जो में ज्यादा शिक्षित नहीं करना चाहिए उनके जल्द से जल्द शादी कर देनी चाहिए और अगर हमें अगर हम रिपोर्ट देखी तो लगभग 570 की थी तब की महिलाएं 12 वीं कक्षा के बाद शादी कर देती है या तो फिर उनके काजोल की शादी कर देती है और अभी करने के बाद वह उनके घर पर ही रुके काम करते ससुराल में घर पर काम करके तो जब तक यह प्रथा जो एक भारतीय भारत में नहीं रहेगी और अब तक भारतीय लोग यह नहीं समझेगी कि पुरुष और महिलाओं दोनों को अधिकार है पढ़ने का दोनों को आगे जाने का अधिकार है तब तक यह प्रॉब्लम भारत में रहेगी और रहता नहीं है कि ऊंचे पदों पर भारत की महिला बिल्कुल ही नहीं है ऐसी कई सारी महिला है जो है या गरम देकर सुनदा पुषकर देखे या फिर किसी किसी को देखकर आंसु अमित अंबानी का एग्जांपल दे दो फिर परंतु जो भारत में जो स्थिति है कि ज्यादा प्यारे थे स्पीड को ज्यादा जवाब देते और बेटियों पर तेरा कितना प्यार लगा नहीं देते मुझे ज्यादा सेक्सी नहीं करते तो जब तक नहीं हटे गा तब तक देश में उच्च पदों पर अधिक महिला मेरी

jab bharat mein adhik mahilaye isliye nahi hai kyonki bharat mein vidhi batatey chalte aa rahe hai ki mahilaon ko zyada shiksha mein nahi dena jo mein zyada shikshit nahi karna chahiye unke jald se jald shadi kar deni chahiye aur agar hamein agar hum report dekhi toh lagbhag 570 ki thi tab ki mahilaye 12 vi kaksha ke baad shadi kar deti hai ya toh phir unke kajol ki shadi kar deti hai aur abhi karne ke baad vaah unke ghar par hi ruke kaam karte sasural mein ghar par kaam karke toh jab tak yah pratha jo ek bharatiya bharat mein nahi rahegi aur ab tak bharatiya log yah nahi samajhegee ki purush aur mahilaon dono ko adhikaar hai padhne ka dono ko aage jaane ka adhikaar hai tab tak yah problem bharat mein rahegi aur rehta nahi hai ki unche padon par bharat ki mahila bilkul hi nahi hai aisi kai saree mahila hai jo hai ya garam dekar sunda pushakar dekhe ya phir kisi kisi ko dekhkar ansu amit ambani ka example de do phir parantu jo bharat mein jo sthiti hai ki zyada pyare the speed ko zyada jawab dete aur betiyon par tera kitna pyar laga nahi dete mujhe zyada sexy nahi karte toh jab tak nahi hate jaayega tab tak desh mein ucch padon par adhik mahila meri

जब भारत में अधिक महिलाएं इसलिए नहीं है क्योंकि भारत में विधि बताते चलते आ रहे है कि महिलाओ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  120
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आदि के ऐसे नहीं की उसे पदों पर जो है वह बिल्कुल भी महिलाएं नहीं जाती है कई ऐसे पुलिस मेरा ही से है या IAS ऑफिसर से है या और भी जो सरकारी अवस्थाएं है डिफेंस में जो है वह ऊंचे पदों पर महिलाएं रहती हैं ऐसे नहीं बिल्कुल में रहती हे यह जरुरी काम रहती है प्रतिभा पाटिल रहे हैं वह प्रियंका भी हाल ही में रहने दो फर्स्ट इंडियन वुमन प्रेजिडेंट चाहिए ऐसे नहीं बिल्कुल भी नहीं है हां यह जरुर है कि आदमियों के कपड़ों में महिलाएं जो है वह थोड़ी कम रहती हैं और रोजगार सृजन निकला कि मैं बता नहीं सकता कि क्या होगा तो वहां ऐसा जादू है कि कल रहते हैं लेकिन ऐसा नहीं है कि बिल्कुल भी नहीं रहती अगर आपको फॉरेन की कंपनी में देखेंगे जो जो मल्टीनेशनल कंपनी से चाची को हुआ और आईसीआईसीआई बैंक हुआ है SBI बैंक वाइन सबकी जोशी वह सब एक भारतीय महिलाएं हैं तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं मैं नहीं समझता कि अभी जेंडर डिस्क्रिमिनेशन होता है कि आदमी को ऊपर जाना चाहिए बल्कि बल्कि बल्कि ऑफिस कैलिबर की कोई महिला होगी तो उसे जरुर उत्सव पोस्ट पर भेजा जाएगा और उसको उसके रेट दीजिए

aadi ke aise nahi ki use padon par jo hai vaah bilkul bhi mahilaye nahi jaati hai kai aise police mera hi se hai ya IAS officer se hai ya aur bhi jo sarkari avasthae hai defence mein jo hai vaah unche padon par mahilaye rehti hain aise nahi bilkul mein rehti hai yah zaroori kaam rehti hai pratibha patil rahe hain vaah priyanka bhi haal hi mein rehne do first indian woman president chahiye aise nahi bilkul bhi nahi hai haan yah zaroor hai ki adamiyo ke kapdo mein mahilaye jo hai vaah thodi kam rehti hain aur rojgar srijan nikala ki main bata nahi sakta ki kya hoga toh wahan aisa jadu hai ki kal rehte hain lekin aisa nahi hai ki bilkul bhi nahi rehti agar aapko foreign ki company mein dekhenge jo jo multinational company se chachi ko hua aur ICICI bank hua hai SBI bank wine sabki joshi vaah sab ek bharatiya mahilaye hain toh aisa bilkul bhi nahi main nahi samajhata ki abhi gender discrimination hota hai ki aadmi ko upar jana chahiye balki balki balki office calibre ki koi mahila hogi toh use zaroor utsav post par bheja jaega aur usko uske rate dijiye

आदि के ऐसे नहीं की उसे पदों पर जो है वह बिल्कुल भी महिलाएं नहीं जाती है कई ऐसे पुलिस मेरा

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  162
WhatsApp_icon
user

Vatsal

Engineering Student

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगला सवाल बहुत अच्छा है ऊंचे पदों पर भारत में महिलाएं क्यों नहीं भारत में महिला है बिल्कुल राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल मौजूदा स्थिति में देखें तो अपनी लोकसभा की स्पीकर है प्रतिभा पाटिल रक्षा मंत्री बनी हुई है निर्मला सीतारमण तो प्राइवेट सेक्टर में वीडियो वगैरा और चेयरमैन और लेडीस का सच कि नहीं है कि आप पुरुषों को ज्यादा प्रायरिटी बनती है महिलाओं को लेकिन ऐसा चल रहा है माहौल की अभी तक पुरुष ज्यादा हर पदों पर आ रही है बजाएं की महिला के इसका कुछ इस चीज से रिलेशन नहीं है कि कोई आरक्षण चाहिए पर की पुरुष या महिला नहीं है ऐसा नहीं है केवल काबिलियत के आधार पर किया जाता है और यदि महिला का बिल्कुल मिलता है

agla sawaal bahut accha hai unche padon par bharat mein mahilaye kyon nahi bharat mein mahila hai bilkul rashtrapati pratibha patil maujuda sthiti mein dekhen toh apni lok sabha ki speaker hai pratibha patil raksha mantri bani hui hai nirmala sitaraman toh private sector mein video vagera aur chairman aur ladies ka sach ki nahi hai ki aap purushon ko zyada prayariti banti hai mahilaon ko lekin aisa chal raha hai maahaul ki abhi tak purush zyada har padon par aa rahi hai bajaye ki mahila ke iska kuch is cheez se relation nahi hai ki koi aarakshan chahiye par ki purush ya mahila nahi hai aisa nahi hai keval kabiliyat ke aadhaar par kiya jata hai aur yadi mahila ka bilkul milta hai

अगला सवाल बहुत अच्छा है ऊंचे पदों पर भारत में महिलाएं क्यों नहीं भारत में महिला है बिल्कुल

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  187
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
अस्सेस्बिलिटी ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!