मंदी के दौर में पूर्व प्रधानमंत्री ने नरेगा योजना लाकर देश को खुशहाल बनाया था?...


play
user

Ravi Sharma

Advocate

1:16

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नरेगा योजना का अगर आप अच्छे से निवेदन करें उसके बारे में शोध करें तो आपको मालूम होगा कि तकरीबन 20 36 परसेंट यानी कि 20 से 30% जो लोग थे इस योजना से सीधे तौर पर जुड़े हुए इस गांव से फायदा मिला था लेकिन अगर आप आज की योजनाओं के बारे में विचार करें जैसे कि उज्ज्वला योजना व स्वच्छ भारत मिशन उस का सीधा-सीधा प्रभाग 40 से 50% जनसंख्या एवं योजनाओं के साथ जुड़े हुए है उसको उनका फायदा मिला तो अगर आप यह सोचेंगे पूर्व प्रधानमंत्री की नरेगा योजना ज्योतिबा अधिक बेहतर थी तो यह उचित नहीं होगा सभी योजनाओं का अपना एक परिप्रेक्ष होता है अपना एक क्षेत्र होता है जिसको वह एक प्रकार से कवर करती हैं तो हर योजना का अपने क्षेत्रफल है वह उसके आगे 16 से कम थोड़ा सा पीछे योजना रहती है इसके लिए किसी भी योजना को आपस में कंपेयर करना उनकी उनका कंपैरिजन करना उचित नहीं है योजना का अपना एक लाभ है वह अपना एक परिप्रेक्ष है जिसको समझना अधिक आवश्यक है बजाय कि उनकी तुलना करना धन्यवाद

nrega yojana ka agar aap acche se nivedan kare uske bare mein shodh kare toh aapko maloom hoga ki takareeban 20 36 percent yani ki 20 se 30 jo log the is yojana se sidhe taur par jude hue is gaon se fayda mila tha lekin agar aap aaj ki yojnao ke bare mein vichar kare jaise ki Ujjvala yojana va swachh bharat mission us ka seedha seedha prabhag 40 se 50 jansankhya evam yojnao ke saath jude hue hai usko unka fayda mila toh agar aap yah sochenge purv pradhanmantri ki nrega yojana jyotiba adhik behtar thi toh yah uchit nahi hoga sabhi yojnao ka apna ek paripreksh hota hai apna ek kshetra hota hai jisko vaah ek prakar se cover karti hain toh har yojana ka apne kshetrafal hai vaah uske aage 16 se kam thoda sa peeche yojana rehti hai iske liye kisi bhi yojana ko aapas mein compare karna unki unka kampairijan karna uchit nahi hai yojana ka apna ek labh hai vaah apna ek paripreksh hai jisko samajhna adhik aavashyak hai bajay ki unki tulna karna dhanyavad

नरेगा योजना का अगर आप अच्छे से निवेदन करें उसके बारे में शोध करें तो आपको मालूम होगा कि तक

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  181
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर हम देखें तो मंदी के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री नरेगा योजना लागू रे देश को खुशहाल तो बनाया था पर उसने भी इतना स्पेसिफिक चीजें लिखी गई नहीं थी जो कि 2014 में मोदी गांव में जो आपकी कोई परिवार नहीं किया लॉन्च की थी कि अगर नगर जोधपुर को प्रधानमंत्री जो कि मनमोहन सिंह जी तुम्हारे कई सारे योजना लांच की रोशनी पाने का बीजेपी सरकार की नई योजनाएं लाइव स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट हो गया पर स्किल इंडिया हो तो यह सभी बेरोजगारी बहुत कम हो रही है और यह तो बस 5 साल बाद समय बता पाएगा कि 2014 से बेरोजगारी कितनी कम हुई है

agar hum dekhen toh mandi ke dauran purv pradhanmantri nrega yojana laagu ray desh ko khushahal toh banaya tha par usne bhi itna specific cheezen likhi gayi nahi thi jo ki 2014 mein modi gaon mein jo aapki koi parivar nahi kiya launch ki thi ki agar nagar jodhpur ko pradhanmantri jo ki manmohan Singh ji tumhare kai saare yojana launch ki roshni paane ka bjp sarkar ki nayi yojanaye live smart city project ho gaya par skill india ho toh yah sabhi berojgari bahut kam ho rahi hai aur yah toh bus 5 saal baad samay bata payega ki 2014 se berojgari kitni kam hui hai

अगर हम देखें तो मंदी के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री नरेगा योजना लागू रे देश को खुशहाल तो बनाय

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  142
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां मुझे लगता है कि पूर्व प्रधानमंत्री ने भारतीय जनता के लिए नरेगा योजना लाकर 2005 में जनता को एक उम्मीद भी है इस योजना की पुष्टि विश्व बैंक ने भी की पत्तियों के अनुसार इस योजना से 35 करोड़ लोग लाभान्वित हुए इसका खर्च का भारत केंद्र सरकार और राज्य सरकारें उठाती है मुख्य रूप से ग्रामीण भारत में रहने वाले लोगों के लिए अर्थ कौशल पूर्ण या बिना कौशल पूर्ण कार्य चाहे वह गरीबी रेखा से नीचे हो या नहीं नियत कार्य बल का खरीद एक तिहाई महिलाओं से निर्मित है लेकिन सही कार्य सभी कार्यालय और धीमी गति के फैसलों के चलते इसमें इतना लाभ नहीं मिला जब की इस योजना को मोदी सरकार ने एक नई गति दी है और उनका कहना है कि यह जनता की भलाई के लिए है जो कुछ भी करना पड़े मैं कर लूंगा

ji haan mujhe lagta hai ki purv pradhanmantri ne bharatiya janta ke liye nrega yojana lakar 2005 mein janta ko ek ummid bhi hai is yojana ki pushti vishwa bank ne bhi ki pattiyo ke anusaar is yojana se 35 crore log labhanvit hue iska kharch ka bharat kendra sarkar aur rajya sarkaren uthaati hai mukhya roop se gramin bharat mein rehne waale logo ke liye arth kaushal purn ya bina kaushal purn karya chahen vaah garibi rekha se niche ho ya nahi niyat karya bal ka kharid ek tihai mahilaon se nirmit hai lekin sahi karya sabhi karyalay aur dheemi gati ke faisalon ke chalte isme itna labh nahi mila jab ki is yojana ko modi sarkar ne ek nayi gati di hai aur unka kehna hai ki yah janta ki bhalai ke liye hai jo kuch bhi karna pade main kar lunga

जी हां मुझे लगता है कि पूर्व प्रधानमंत्री ने भारतीय जनता के लिए नरेगा योजना लाकर 2005 में

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  173
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!