मैं UPSC में प्रवेश पाने के लिए NCERT में इतिहास की तैयारी कैसे कर सकता हूँ, क्योंकि मुझे यह थोड़ा कठिन लग रहा है?...


user

Yogender Dhillon

Law Educator , Advocate Motivational Coach

1:09
Play

Likes  11  Dislikes    views  220
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ansh jalandra

Motivational speaker

0:23
Play

Likes  135  Dislikes    views  2052
WhatsApp_icon
play
user

Liyakat Ali Gazi

Motivational Speaker, Life Coach & Soft Skills Trainer 📲 9956269300

0:54

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां एनसीईआरटी की किताबें थोड़ी सी कमी होती है उनको पढ़ ना समझना आज तो बहुत कठिन पड़ता है होता है जो मैं आपको सलाह देता हूं इतिहास की किताब पढ़ने वाक्य भूगोल की पड़ रहे हैं या नागरिक शास्त्र कोई पेपर पढ़ रहे हो तो उसको देख ली एक्शन को कम से कम एक से दो बार पढ़िए विवेक से दो बार तीन बार आप पढ़ेंगे हकीकत में वही लेसनर के लिए बहुत ही आसान और इजी हो जाएगा आपके समझ में आने लगेगा पढ़ने का तरीका होता यह जरूरी नहीं कभी-कभी बार में पड़ी हुई चीज नहीं समझ में आती है जब दूसरी बार पढ़ते तो मेरा ध्यान उस शब्दों पर चीज पर ज्यादा जाता है और वह पूरी क्लियर हो जाती है यही तरीका है इतिहास की किताब को पढ़ने का धन्यवाद मेरा सवाल आपके सवाल का जवाब दे दिया गया है आपको पसंद तो मजे कीजिए फॉलो लाइक एंड कमेंट कीजिए रक्सौल पोस्ट किए गए से संबंधित अपने गले से साधन बन सकती

ji haan ncert ki kitaben thodi si kami hoti hai unko padh na samajhna aaj toh bahut kathin padta hai hota hai jo main aapko salah deta hoon itihas ki kitab padhne vakya bhugol ki pad rahe hain ya nagarik shastra koi paper padh rahe ho toh usko dekh li action ko kam se kam ek se do baar padhiye vivek se do baar teen baar aap padhenge haqiqat mein wahi lesnar ke liye bahut hi aasaan aur easy ho jaega aapke samajh mein aane lagega padhne ka tarika hota yah zaroori nahi kabhi kabhi baar mein padi hui cheez nahi samajh mein aati hai jab dusri baar padhte toh mera dhyan us shabdon par cheez par zyada jata hai aur vaah puri clear ho jaati hai yahi tarika hai itihas ki kitab ko padhne ka dhanyavad mera sawaal aapke sawaal ka jawab de diya gaya hai aapko pasand toh maje kijiye follow like and comment kijiye raxaul post kiye gaye se sambandhit apne gale se sadhan ban sakti

जी हां एनसीईआरटी की किताबें थोड़ी सी कमी होती है उनको पढ़ ना समझना आज तो बहुत कठिन पड़ता ह

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  1108
WhatsApp_icon
user

Anmol Chandra

Director at Prayatna IAS

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे भाई की एलसीडी की ताकत हमारे अतीत और पास एक पेमेंट एअर्थ इन दोनों में एक 100001 मिनट दो किताबें पेंशन टेबल इन मॉडर्न इंडिया के लिए दिला दें

mere bhai ki LCD ki takat hamare ateet aur paas ek payment earth in dono mein ek 100001 minute do kitaben pension table in modern india ke liye dila dein

मेरे भाई की एलसीडी की ताकत हमारे अतीत और पास एक पेमेंट एअर्थ इन दोनों में एक 100001 मिनट द

Romanized Version
Likes  73  Dislikes    views  1199
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!