सिविल सेवा परीक्षा को समाप्त करने के लिए आंतरिक कारक क्या हैं?...


play
user

Anmol Chandra

Director at Prayatna IAS

1:25

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंटरनल सेक्टर 7 दिल्ली रोड दिल्ली अगर आप अपने आप में विश्वास करते हैं आशा डिटरमिनेशन लेवल आप का राष्ट्रीय अधिवेशन लेवल आप का प्रॉपर शॉट ले लीजिए अगर आप अपनी स्क्रीन पर दिए हैं कितना गणपति की सबसे पूर्ण आप अपने मोटिवेशन को डिनर मोटिवेशन को किस तरह से करते हैं लंबे समय तक अपने आप को तैयारी में बनाए रखें मदनी की करो तैयारी को अंतिम पड़ाव पर ले जाना

internal sector 7 delhi road delhi agar aap apne aap mein vishwas karte hain asha ditaramineshan level aap ka rashtriya adhiveshan level aap ka proper shot le lijiye agar aap apni screen par diye hain kitna ganapati ki sabse purn aap apne motivation ko dinner motivation ko kis tarah se karte hain lambe samay tak apne aap ko taiyari mein banaye rakhen madani ki karo taiyari ko antim padav par le jana

इंटरनल सेक्टर 7 दिल्ली रोड दिल्ली अगर आप अपने आप में विश्वास करते हैं आशा डिटरमिनेशन लेवल

Romanized Version
Likes  72  Dislikes    views  1197
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

2:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा कि चिड़चिड़ा परीक्षा को चुनाव करने के लिए आंतरिक कारक क्या है आपका समाप्त करने से क्या अर्थ है सिविल सेवा परीक्षा को पूरा करना या इस डिपार्टमेंट को ही समाप्त करना है अगर पूरा करने की पीछे बात कही जाए तो उसका भाव कुछ और नहीं करता है और सिविल सेवा परीक्षा को ही समाप्त करने की बात कही जाए तो उसको छोड़ने पड़ता है वास्तव में सिविल सेवा परीक्षा में शामिल होने वाले जो कैंडिडेट होते हैं अगर वह प्रॉपर रूप से जारी करके चलते हैं पूरी कंचन के संकेत या तो परीक्षा में शामिल होते हैं तो निश्चित रूप से उनकी जो प्रमुख कारण उनकी मेहनत उनकी लगन की प्यारी और उनकी टाइम मैनेजमेंट के कारण वह इस परीक्षा को सफल कर ले जाते हैं और जब हमारी इस परीक्षा के आधार पर जो मरे अधिकारी चुने जाते हैं और उन अधिकारियों की को उनको जो सेवा भाव जो खत्म हो जाता है अगर वह भाव या मुकद्दर या उनके अधिकार क्षेत्र में वो सफल नहीं होते जामुन को संभाल नहीं पाते तो यह परीक्षा जो है वह मूल हो जाती है क्योंकि यह परीक्षा चरित्रवान आदर्शवाद और ईमानदार भ्रष्टाचारी व्यक्ति के लिए इसके माध्यम से यहां भ्रष्टाचार का बोलबाला इत्यादि नहीं अपना सकते तू आने वाले समय में मुझे दिख रहा है जो महसूस कर रहा हूं मैं इस सिविल सेवा परीक्षा है यूपीएससी के द्वारा शायद दर्द कर दी जाए और किसी नई एजेंसी को प्राइवेट एजेंसी को दे दी हैं जिससे प्राइवेट हमारे प्रशासनिक अधिकारी बन के निकली एक प्राइवेट फैक्ट्री खोल दी जाए और उसमें चेक प्राइवेट उत्पादन होगा हमारे पब्लिक सर्विस कमीशन का और हमारे यूपीएससी से मतलब प्रशासनिक अधिकारियों का भगवानी जाने उसका कारण क्या होगा

aapne poocha ki chidchida pariksha ko chunav karne ke liye aantarik kaarak kya hai aapka samapt karne se kya arth hai civil seva pariksha ko pura karna ya is department ko hi samapt karna hai agar pura karne ki peeche baat kahi jaaye toh uska bhav kuch aur nahi karta hai aur civil seva pariksha ko hi samapt karne ki baat kahi jaaye toh usko chodne padta hai vaastav mein civil seva pariksha mein shaamil hone waale jo candidate hote hain agar vaah proper roop se jaari karke chalte hain puri kanchan ke sanket ya toh pariksha mein shaamil hote hain toh nishchit roop se unki jo pramukh karan unki mehnat unki lagan ki pyaari aur unki time management ke karan vaah is pariksha ko safal kar le jaate hain aur jab hamari is pariksha ke aadhaar par jo mare adhikari chune jaate hain aur un adhikaariyo ki ko unko jo seva bhav jo khatam ho jata hai agar vaah bhav ya muqaddar ya unke adhikaar kshetra mein vo safal nahi hote jamun ko sambhaal nahi paate toh yah pariksha jo hai vaah mul ho jaati hai kyonki yah pariksha charitravan adarshwad aur imaandaar bhrashtachaari vyakti ke liye iske madhyam se yahan bhrashtachar ka bolbala ityadi nahi apna sakte tu aane waale samay mein mujhe dikh raha hai jo mehsus kar raha hoon main is civil seva pariksha hai upsc ke dwara shayad dard kar di jaaye aur kisi nayi agency ko private agency ko de di hain jisse private hamare prashaasnik adhikari ban ke nikli ek private factory khol di jaaye aur usme check private utpadan hoga hamare public service commision ka aur hamare upsc se matlab prashaasnik adhikaariyo ka bhagvani jaane uska karan kya hoga

आपने पूछा कि चिड़चिड़ा परीक्षा को चुनाव करने के लिए आंतरिक कारक क्या है आपका समाप्त करने स

Romanized Version
Likes  54  Dislikes    views  1082
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!