भारत का एक संसाधन कौन सा है जिसका सबसे कम उपयोग हुआ है? हम इसे कैसे बदल सकते हैं?...


user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे तो उस मुझे लगता है कि इंडिया के अंदर जो एक संसाधन जिसका सबसे कम यूज हुआ है और इंडिया के पास सबसे ज्यादा है वह मुझे लगता है इंडिया के पास जो एग्रीकल्चर लैंड है वह सबसे ज्यादा है सबसे ज्यादा वर्ल्ड में एग्रीकल्चर लैंड यूनाइटेड उसके बाद इंडिया का नंबर आता है तो वर्ल्ड में सेकंड पोजीशन इंडिया का एग्रीकल्चर लैंड में उसके बाद में करना प्रोडक्शन की बात करूं तो हमारे देश के अंदर फसलों का प्रोडक्ट प्रमोशन में नहीं है जितना कि हमारे पास एग्रीकल्चर लैंड है आज भी हम देश के टॉप कंट्री से प्रोडक्शन मन से बहुत पीछे हैं किसी भी चीज में आप देख लीजिए Action मिल्क प्रोडक्शन को छोड़कर मैं कह सकता हूं कि हमारे देश के अंदर कोई वैसे ही पसंद नहीं है इसका उत्पादन इंडिया टॉप पर करता हूं तो मुझे लगता है कि एग्रीकल्चर केसरी यूज़ हमने किया ही नहीं एग्रीकल्चर लैंड का यूज़ हम ठीक से नहीं किया उस का सबसे बड़ा कारण मुझे लगता है कि हमने अपनी एग्रीकल्चर न्यू मॉडल टेक्निक्स को DD यूज़ नहीं किया आज भी हम आज भी हम मुझे लगता है कि गॉड की मर्जी पर डिपेंड है जैसे नहीं होती तो फसलें बर्बाद हो जाती लेकिन द कंट्रीस को देखा जाए तो वहां बारिश नहीं फिर भी उनके पास बहुत सारे अल्टरनेट सोर्स होते ताकि प्रोडक्शन को इनक्रीस किया जा सके लेकिन हमारे यहां ऐसा नहीं है मुझे लगता है कि इस चीज को बिल्कुल सरकार को देखना होगा ताकि एग्रीकल्चर को बहुत अच्छे लेवल पर लाया जा सके एक समय पर हमारे देश के अंदर हमारे देश की जीडीपी में भोजपुरी चैता अग्रीकल्चर सट्टका लेकिन आज वह थर्ड पोजीशन में चला गया तो मुझे लगता है कि चीजें बिल्कुल ठीक नहीं हुई है हमारे देश के अंदर एग्रीकल्चर लैंड बहुत ज्यादा लेकिन उसका यूटिलाइजेशन उस प्रमोशन में नहीं हुआ जिसमें उसका रिक्वायरमेंट था तो मुझे लगता है कि यह कैसा संसाधने अगर मैं इसका अच्छे ज़ी यूज़ करता सरकार अच्छे से यूज करते मोटर टेक्निक्स को यूज करती है तो मुझे लगता है कि प्रोडक्शन के मामले में हमारा देश बहुत नंबर बंद होगा जो चीजें आज मारा मार्केट में जो सबसे बड़ी समस्या प्राइस राइज की जो इस एंजेल कमोडिटीज होती उनके प्राइस रेट दालों के प्राइस बढ़िया थे वह कम हो जाएंगे

dekhe toh us mujhe lagta hai ki india ke andar jo ek sansadhan jiska sabse kam use hua hai aur india ke paas sabse zyada hai vaah mujhe lagta hai india ke paas jo agriculture land hai vaah sabse zyada hai sabse zyada world mein agriculture land united uske baad india ka number aata hai toh world mein second position india ka agriculture land mein uske baad mein karna production ki baat karu toh hamare desh ke andar fasalon ka product promotion mein nahi hai jitna ki hamare paas agriculture land hai aaj bhi hum desh ke top country se production man se bahut peeche hain kisi bhi cheez mein aap dekh lijiye Action milk production ko chhodkar main keh sakta hoon ki hamare desh ke andar koi waise hi pasand nahi hai iska utpadan india top par karta hoon toh mujhe lagta hai ki agriculture kesari use humne kiya hi nahi agriculture land ka use hum theek se nahi kiya us ka sabse bada karan mujhe lagta hai ki humne apni agriculture new model techniques ko DD use nahi kiya aaj bhi hum aaj bhi hum mujhe lagta hai ki god ki marji par depend hai jaise nahi hoti toh faslen barbad ho jaati lekin the kantris ko dekha jaaye toh wahan barish nahi phir bhi unke paas bahut saare altaranet source hote taki production ko increase kiya ja sake lekin hamare yahan aisa nahi hai mujhe lagta hai ki is cheez ko bilkul sarkar ko dekhna hoga taki agriculture ko bahut acche level par laya ja sake ek samay par hamare desh ke andar hamare desh ki gdp mein bhojpuri chaita agrikalchar sattaka lekin aaj vaah third position mein chala gaya toh mujhe lagta hai ki cheezen bilkul theek nahi hui hai hamare desh ke andar agriculture land bahut zyada lekin uska yutilaijeshan us promotion mein nahi hua jisme uska requirement tha toh mujhe lagta hai ki yah kaisa sansadhane agar main iska acche zee use karta sarkar acche se use karte motor techniques ko use karti hai toh mujhe lagta hai ki production ke mamle mein hamara desh bahut number band hoga jo cheezen aaj mara market mein jo sabse badi samasya price rahije ki jo is angel commodities hoti unke price rate daalon ke price badhiya the vaah kam ho jaenge

देखे तो उस मुझे लगता है कि इंडिया के अंदर जो एक संसाधन जिसका सबसे कम यूज हुआ है और इंडिया

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  20
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी मुझे ऐसा लगता है कि भारत में से कोई ऐसे बहुत सारे रिसोर्सेज ओशो रजनीश नहीं है हमारी कंट्री की पॉपुलेशन बहुत ज्यादा है लेकिन जो लोग हैं वह उनको किसी प्रॉपर्टी डीलर पॉजिटिव डायरेक्शन में डायरेक्ट ही नहीं किया गया है तो लोग सिर्फ जो पढ़ पा सकते हैं जिनके पास पैसे हैं फाइनैंशल स्ट्रॉन्ग है वह पढ़ लेते हैं ग्रेजुएशन जाते है पोस्टर कृष्ण हो जाती है PHD कर लेते हो फिर को क्लॉक के लिए भी अप्लाई करते हैं तू जो यह वह 4:00 से जो हमारा ह्यूमन रिसोर्सेज है वह वेरी नाइस नहीं है तू हमारे कंट्री के पास टेक्नोलॉजी बहुत है मतलब मैं कहूंगी कि लोगों में दिमाग बहुत इंटेलेक्चुअल लोग होते इंडियंस यह तापीय प्रवणता लेकिन यह लोग इंडिया में नारे कृपा की कंट्री में जाकर काम करना पसंद करते क्योंकि वहां का जो वर्क एनवायरनमेंट है जो इनको इनके जॉब के जो पैसे मिलते हैं वह बहुत ही ज्यादा अच्छे इंडिया के साथ कम प्यार करें तो वह आपका लिविंग स्टाइल भी बहुत अच्छा है तो वह टेक्नोलॉजी बनाने के लिए दिमाग इंडिया में नाचू हुआ है वह दूसरे कंट्री में जाकर उसका फायदा हुआ इसकी वजह से इंडिया पीछे रहता जा रहा है और इंडिया में टेक्नालॉजी है अभी तो कुछ पर्सेंट ही है लोग जो बे ले चुके डिटेल्स ऑफ टेक्नॉलॉजी को यूज कर सकते हैं बाकी ग्राउंड लेवल पर तो लोग इतने पढ़े लिखे नहीं है जो टेक्नोलॉजी को यूज कर सके तो यह सब रिसोर्सेज है जो इंडिया में अब बंधन में है लेकिन व्हेल मारने रहे हैं

vicky mujhe aisa lagta hai ki bharat mein se koi aise bahut saare resources osho rajnish nahi hai hamari country ki population bahut zyada hai lekin jo log hain vaah unko kisi property dealer positive direction mein direct hi nahi kiya gaya hai toh log sirf jo padh paa sakte hain jinke paas paise hain fainainshal strong hai vaah padh lete hain graduation jaate hai poster krishna ho jaati hai PHD kar lete ho phir ko clock ke liye bhi apply karte hain tu jo yah vaah 4 00 se jo hamara human resources hai vaah very nice nahi hai tu hamare country ke paas technology bahut hai matlab main kahungi ki logo mein dimag bahut intellectual log hote indians yah tapiy pravanta lekin yah log india mein nare kripa ki country mein jaakar kaam karna pasand karte kyonki wahan ka jo work environment hai jo inko inke job ke jo paise milte hain vaah bahut hi zyada acche india ke saath kam pyar kare toh vaah aapka living style bhi bahut accha hai toh vaah technology banane ke liye dimag india mein nachu hua hai vaah dusre country mein jaakar uska fayda hua iski wajah se india peeche rehta ja raha hai aur india mein teknalaji hai abhi toh kuch percent hi hai log jo be le chuke details of technology ko use kar sakte hain baki ground level par toh log itne padhe likhe nahi hai jo technology ko use kar sake toh yah sab resources hai jo india mein ab bandhan mein hai lekin whale maarne rahe hain

विकी मुझे ऐसा लगता है कि भारत में से कोई ऐसे बहुत सारे रिसोर्सेज ओशो रजनीश नहीं है हमारी क

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  188
WhatsApp_icon
play
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:46

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदी कि मेरे हिसाब से भारत का एक संसाधन जो की सबसे कम उपयोग ना होगा मेरे हिसाब से भारत के ग्रामीण क्षेत्रों वाया संदेश एकेडमी डिफेंस डिपार्टमेंट इस प्रकार के जोड़े को नौकरी नहीं मिल रही है अपना बता सकते हैं अगर वह कोई भी जो इतना कंट्रीब्यूट नहीं कर रहा है भारत पहला पत्र राजारामपुरी कांग्रेस सदस्य बताइए कि तुम लाइक करती है तू कितनी प्यारी है तो फुल मूवी पर बेरोजगारों के पास नौकरी के लिए शुरूआत दिखते नहीं है बल्कि इतना सफ़र करते हो कि नहीं मिलने के कारण जो है वह किसी और की नर्स और बिगड़ेंगे पढ़ने में और उसकी आयु काम करने की है पूरी पूरी हो जाएगी फिर बात करें मोटू पतलू की जोड़ी काम नहीं करते और लिखा गया कुछ काम नहीं करते हुए अपने कर्तव्यों का मानना है कि मुझे सब सिखाना कहां पर है जो सबसे कम वर्षा वाला क्षेत्र तो हमेशा बदलेंगे हम लोगों को आवाज में 16 की मौत मुझे अपनी उमर से कुछ नहीं होता है या फिर लोगों की मदद करना हो सकता है या फिर वह

hindi ki mere hisab se bharat ka ek sansadhan jo ki sabse kam upyog na hoga mere hisab se bharat ke gramin kshetro vaya sandesh academy defence department is prakar ke jode ko naukri nahi mil rahi hai apna bata sakte hain agar vaah koi bhi jo itna kantribyut nahi kar raha hai bharat pehla patra rajarampuri congress sadasya bataye ki tum like karti hai tu kitni pyaari hai toh full movie par berozgaron ke paas naukri ke liye shuruat dikhte nahi hai balki itna safar karte ho ki nahi milne ke karan jo hai vaah kisi aur ki nurse aur bigdenge padhne mein aur uski aayu kaam karne ki hai puri puri ho jayegi phir baat kare motu patalu ki jodi kaam nahi karte aur likha gaya kuch kaam nahi karte hue apne kartavyon ka manana hai ki mujhe sab sikhaana kahaan par hai jo sabse kam varsha vala kshetra toh hamesha badalenge hum logo ko awaaz mein 16 ki maut mujhe apni umar se kuch nahi hota hai ya phir logo ki madad karna ho sakta hai ya phir vaah

हिंदी कि मेरे हिसाब से भारत का एक संसाधन जो की सबसे कम उपयोग ना होगा मेरे हिसाब से भारत के

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  128
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!