अयोध्या में ठंड के मौसम से मूर्तियों की रक्षा के लिए एक हीटर इनस्टॉल किया गया है, इसके बारे में आपका क्या राय है?...


play
user

Raj Shah

Aspiring engineer

0:15

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यार एक के धार्मिक धर्म के प्रति हम नहीं बोल सकते किसी की भावना क्या है किसी को ठेस नहीं पहुंचा सकते तो जो किया गया है जैसे किया गया उनके मत के अनुसार किया गया होगा तो हम जैसे ही रहने देते हैं वरना कोई डिबेट शुरू हो जाएगा

yaar ek ke dharmik dharm ke prati hum nahi bol sakte kisi ki bhavna kya hai kisi ko thes nahi pohcha sakte toh jo kiya gaya hai jaise kiya gaya unke mat ke anusaar kiya gaya hoga toh hum jaise hi rehne dete hai varna koi debate shuru ho jaega

यार एक के धार्मिक धर्म के प्रति हम नहीं बोल सकते किसी की भावना क्या है किसी को ठेस नहीं पह

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  6
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सोचिए एक तरफ तो गरीब लोग मर रहे हैं ठंड के मारे लोगों के पास पहनने को कपड़े नहीं है वह मजबूर है फुटपाथ पर सोने को ठंड में सोने को मिट्टी में सोने को शायद थोड़ा रिलीफ मिल जाए जानवरों को कुत्तों को बिल्लियों को कोई पूछने वाला नहीं है और ठंड में वह मर ही जाते हैं लास्ट में और दूसरी तरफ निर्जीव वस्तुएं जो पत्थरों से मूर्ति बनी है उनको सीटर ठंड में को ठंडा लगे इसलिए उनके लिए हीटर रखा जाता है ऐसा जानवर जान टेंपल में हुआ जो अयोध्या में है वहां पर मूर्तियों के लिए भगवान की मूर्तियों के लिए सीट रखा गया गर्म कपड़े रखे गए और आप यकीन नहीं करेंगे कि उनके लिए जलाभिषेक के लिए गाइडलाइन जारी की गई कि वहां पर गर्म पानी से ही उनका जल अभिषेक होगा कभी सुना है कोई मूर्ति बीमार हो गए हो किसी को जुखाम खांसी हो गया वह बहुत ही वाह यार मेरे हिसाब से बहुत ही गलत चीज है आप जीवित लोगों को छोड़कर वह निर्जीव वस्तुओं के ऊपर इतना ध्यान दे रहे हैं इतना फोकस कर रहे हैं उनके उनके काम पर के लिए उसको कोई मतलब ही नहीं है किसी अच्छे काम के लिए किसी इंसान के लिए जरूरतमंद के लिए कुछ कीजिए शायद कुछ भला हो जाए ऐसा करने से तो मुझे लगता नहीं कि कभी भला होगा किसी का या कोई किसी को पुण्य मिलेगा

sochiye ek taraf toh garib log mar rahe hain thand ke maare logo ke paas pahanne ko kapde nahi hai vaah majboor hai footpath par sone ko thand mein sone ko mitti mein sone ko shayad thoda relief mil jaaye jaanvaro ko kutto ko billiyon ko koi poochne vala nahi hai aur thand mein vaah mar hi jaate hain last mein aur dusri taraf nirjeev vastuyen jo pattharon se murti bani hai unko seater thand mein ko thanda lage isliye unke liye heater rakha jata hai aisa janwar jaan temple mein hua jo ayodhya mein hai wahan par murtiyon ke liye bhagwan ki murtiyon ke liye seat rakha gaya garam kapde rakhe gaye aur aap yakin nahi karenge ki unke liye jalabhishek ke liye guideline jaari ki gayi ki wahan par garam paani se hi unka jal abhishek hoga kabhi suna hai koi murti bimar ho gaye ho kisi ko jukham khansi ho gaya vaah bahut hi wah yaar mere hisab se bahut hi galat cheez hai aap jeevit logo ko chhodkar vaah nirjeev vastuon ke upar itna dhyan de rahe hain itna focus kar rahe hain unke unke kaam par ke liye usko koi matlab hi nahi hai kisi acche kaam ke liye kisi insaan ke liye jaruratmand ke liye kuch kijiye shayad kuch bhala ho jaaye aisa karne se toh mujhe lagta nahi ki kabhi bhala hoga kisi ka ya koi kisi ko punya milega

सोचिए एक तरफ तो गरीब लोग मर रहे हैं ठंड के मारे लोगों के पास पहनने को कपड़े नहीं है वह मजब

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  7
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखें जैसा कि चावल आपने पूछा ही अयोध्या में ठंड के मौसम की मूर्तियों की रक्षा के लिए इंस्टॉल किया गया है मुझे नहीं लगता कि ठंडी या गर्म कर दिया गर्मी से कोई असर पड़ता भी है उनके असर पड़ता है तो इंसानों को पड़ता है जिसमें जान है और और कई लोग ऐसे हमारे देश में जो एक ही तो है फोन नहीं कर पाते वह सड़क पर सोने बिना मतलब उनके पास कपड़े नहीं है पर पहले के लिए कंबल नहीं है और आप एक मूर्ति के लिए ही चला गाने तो मैंने समझा कि यह कैसे बनता है किसी गरीब को कम कपड़े पहन के उपाय बताएं और इसका कोई सी भी बनता है किसी मूर्ति के लिए पेंशन करो

dekhen jaisa ki chawal aapne poocha hi ayodhya mein thand ke mausam ki murtiyon ki raksha ke liye install kiya gaya hai mujhe nahi lagta ki thandi ya garam kar diya garmi se koi asar padta bhi hai unke asar padta hai toh insano ko padta hai jisme jaan hai aur aur kai log aise hamare desh mein jo ek hi toh hai phone nahi kar paate vaah sadak par sone bina matlab unke paas kapde nahi hai par pehle ke liye kambal nahi hai aur aap ek murti ke liye hi chala gaane toh maine samjha ki yah kaise baata hai kisi garib ko kam kapde pahan ke upay bataye aur iska koi si bhi baata hai kisi murti ke liye pension karo

देखें जैसा कि चावल आपने पूछा ही अयोध्या में ठंड के मौसम की मूर्तियों की रक्षा के लिए इंस्ट

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  11
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंडियन एक्सप्रेस रिपोर्ट के मुताबिक विश्व हिंदू परिषद ने अयोध्या में ठंड के मौसम से मूर्ति की रक्षा के लिए 1 सीटर इंस्टॉल करने की मांग की है मेरे हिसाब से इस जरूरत बिल्कुल नहीं है क्योंकि अगर हम देखा जाए तो कैसे देश के कई सारे भागों में लोग ठंड के मारे मर रहे हैं ठंड में उनको स्वेटर यहीं पर नहीं मिल रहा है मेरे हिसाब से पहले उनको हमें देना चाहिए कुछ रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली में भी लोग ठंड के कारण मर रहे हैं और उत्तर भारत के ऐसे कई राज्य है जहां पर लोगों को ठंड से बहुत ही बड़ी प्रॉब्लम हो रही है तो मेरे हिसाब से उन्हें पहले हम ही कर देना चाहिए और हमें यह सब चीजों में कमलेश्वर रखना चाहिए कि भगवान के लिए हम ही टहल आना चाहिए विक्रम देखा जाए जैसे ही रिपोर्ट आई है तो एयरपोर्ट के बाद ट्विटर पर इसके बहुत सारे दोस्त बने है जिसे एक बात साफ है बात लोगों को बिल्कुल पसंद नहीं आई है और यह बात मुझे पसंद नहीं आई है हमें पहले लोगों की सेवा करनी थी उसके बाद में मैं भगवान की सेवा करनी चाहिए

indian express report ke mutabik vishwa hindu parishad ne ayodhya mein thand ke mausam se murti ki raksha ke liye 1 seater install karne ki maang ki hai mere hisab se is zarurat bilkul nahi hai kyonki agar hum dekha jaaye toh kaise desh ke kai saare bhaagon mein log thand ke maare mar rahe hain thand mein unko swetar yahin par nahi mil raha hai mere hisab se pehle unko hamein dena chahiye kuch report ke mutabik delhi mein bhi log thand ke karan mar rahe hain aur uttar bharat ke aise kai rajya hai jaha par logo ko thand se bahut hi badi problem ho rahi hai toh mere hisab se unhe pehle hum hi kar dena chahiye aur hamein yah sab chijon mein kamleshwar rakhna chahiye ki bhagwan ke liye hum hi tahal aana chahiye vikram dekha jaaye jaise hi report I hai toh airport ke baad twitter par iske bahut saare dost bane hai jise ek baat saaf hai baat logo ko bilkul pasand nahi I hai aur yah baat mujhe pasand nahi I hai hamein pehle logo ki seva karni thi uske baad mein main bhagwan ki seva karni chahiye

इंडियन एक्सप्रेस रिपोर्ट के मुताबिक विश्व हिंदू परिषद ने अयोध्या में ठंड के मौसम से मूर्ति

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  6
WhatsApp_icon
user

Janak

An Enthusiastic Entrepreneur.

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अयोध्या में ठंड के मौसम में मूर्तियों के लिए होटल में कॉल किया गया है इससे अच्छा जो लोग दर्द से तड़प रहे हैं जो ठंड के वजह से मर रहे हैं उनके उनके घरों में अगर हीटर इंस्टॉल किया रहता तो शायद भगवान भी खुश होते मैं इस पर तो कोई टिप्पणी नहीं करुंगा की मूर्तियों की रक्षा के लिए मीटर जल गया है बट बट बट बट इसके बदले अगर लोगों के लिए यह काम क्या रहता तो अच्छा रहता एक गुडविल होती और भगवान भी इस से खुश हो ही हो ही जाते हैं

ayodhya mein thand ke mausam mein murtiyon ke liye hotel mein call kiya gaya hai isse accha jo log dard se tadap rahe hain jo thand ke wajah se mar rahe hain unke unke gharon mein agar heater install kiya rehta toh shayad bhagwan bhi khush hote main is par toh koi tippani nahi karunga ki murtiyon ki raksha ke liye meter jal gaya hai but but but but iske badle agar logo ke liye yah kaam kya rehta toh accha rehta ek goodwill hoti aur bhagwan bhi is se khush ho hi ho hi jaate hain

अयोध्या में ठंड के मौसम में मूर्तियों के लिए होटल में कॉल किया गया है इससे अच्छा जो लोग दर

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  6
WhatsApp_icon
user

Apurva D

Optimistic Coder

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अभी ठंड की वजह से अयोध्या में जानकी घाट बड़ा स्थान टेंपल में इट इंस्टॉल करने का निर्णय लिया गया है ऐसा बताया गया है पर मुझे नहीं लगता कि यह जरूरी था हम माना की ठंड से मूर्तियों को सेफ रखने की जरूरत होती है यानी कि वह खराब ना हो और उसके लिए हमेशा से ही विलन की साल वहां पर बिछाई जाती थी और इसे देखा जाए तो मूर्तियों का लक्षण भी हो सकता है हां वैसे तो भगवान जी ह्यूमन बींग की रक्षा करते हैं भगवान की मूर्तियों को नहीं तो लोगों को यानि कि वीक ह्यूमन बींग स्कोर इस की ज्यादा जरूरत है इसका आस्तिकता और नास्तिकता से कोई संबंध नहीं है एक्चुली में जिसको जिसकी ज्यादा जरुरत हो वही उसको अवेलेबल कर देना चाहिए यह मेरा मानना है मुझे तो यह लगता है कि प्रज्ञा ने पुजारी लोग जो है वह ठंड की वजह से पूजा पाठ नहीं कर पा रहे होंगे इसके लिए भगवान का नाम आगे करके उनको ही डर चाहिए होगा तो मेरा तो यही ख्याल है कि इसके वजह से उन्हें ही डर इंस्टॉल करने का निर्णय लिया है

abhi thand ki wajah se ayodhya mein janki ghat bada sthan temple mein it install karne ka nirnay liya gaya hai aisa bataya gaya hai par mujhe nahi lagta ki yah zaroori tha hum mana ki thand se murtiyon ko safe rakhne ki zarurat hoti hai yani ki vaah kharab na ho aur uske liye hamesha se hi vilen ki saal wahan par bichhai jaati thi aur ise dekha jaaye toh murtiyon ka lakshan bhi ho sakta hai haan waise toh bhagwan ji human bing ki raksha karte hain bhagwan ki murtiyon ko nahi toh logo ko yani ki weak human bing score is ki zyada zarurat hai iska astikata aur nastikata se koi sambandh nahi hai ekchuli mein jisko jiski zyada zarurat ho wahi usko available kar dena chahiye yah mera manana hai mujhe toh yah lagta hai ki pragya ne pujari log jo hai vaah thand ki wajah se puja path nahi kar paa rahe honge iske liye bhagwan ka naam aage karke unko hi dar chahiye hoga toh mera toh yahi khayal hai ki iske wajah se unhe hi dar install karne ka nirnay liya hai

अभी ठंड की वजह से अयोध्या में जानकी घाट बड़ा स्थान टेंपल में इट इंस्टॉल करने का निर्णय लिय

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  15
WhatsApp_icon
user

Shubham

Software Engineer in IBM

1:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सर जी आपने क्वेश्चन डाला यह बहुत अच्छा क्वेश्चन हमें बता दूं जो अयोध्या में ठंड के मौसम मूर्तियों की रक्षा के लिए ट्विटर कॉल किया गया है सर यह सब बिल्कुल बकवास बात है और जूही किया है वह बिल्कुल गलत है और यह भारत के जो अंधविश्वासी लोग हैं और जो पढ़े लिखे नहीं है वह इन सब चीजों में विश्वास रखते हैं आपको पता है हर साल कितने लोग गरीब लोग ठंड के मारे मर जाते हैं उनके पास वह कंबल भी नहीं होता उड़ने के लिए अगर आपको यह सीन देखना है तो आप जाइए गांव शहर के ना जो बड़े-बड़े शहरों के पूर्व CM एरिया में चाहिए और आपको पता चल जाएगी जाएगा कि लोगों के पास बिछाने के लिए जोड़ने के लिए कंबल तक नहीं है जबकि सर्दी अपनी पड़ती है समझे तो सरी अंधविश्वासी है और मूर्तियों को ठंडा लगे तो बेड रेस्ट कॉल करना सर इट इंस्टॉल करने की वजह इतना खर्चा करने पर जाकर आप गरीबो में कंबल / तो मेरे सबसे जिंदा आदमी बन जाएगा बल्कि एक जो नॉन लिविंग थिंग्स त्रिमूर्ति उस उस को बचाने की वजह तो यह सब अंधविश्वास है और इसके खिलाफ मेरे साथ सेक्स को रोकना चाहिए और समझाना चाहिए हम को जागरुक करना चाहिए कि यह सब अंधविश्वास वाली बात है और सर वैसे भी जो भगवान होते हैं वह मन में बसे होता कि हम ही ट्रेंस कॉल करके उनकी रक्षा करेंगे ऐसा कुछ भी नहीं है तो वह तो सिर्फ मूर्ति है जो भी होते भगवान में मन नहीं होते और दिल में होते हैं वह सब बकवास की बात है बस यही बोला कि हम भारतीयों को यह सब जो अंधविश्वासी भाषण को भूलना चाहिए उन को जागरुक करना चाहिए सब चीजों के बारे में

sir ji aapne question dala yah bahut accha question hamein bata doon jo ayodhya mein thand ke mausam murtiyon ki raksha ke liye twitter call kiya gaya hai sir yah sab bilkul bakwas baat hai aur juhi kiya hai vaah bilkul galat hai aur yah bharat ke jo andhavishvasi log hain aur jo padhe likhe nahi hai vaah in sab chijon mein vishwas rakhte hain aapko pata hai har saal kitne log garib log thand ke maare mar jaate hain unke paas vaah kambal bhi nahi hota udane ke liye agar aapko yah seen dekhna hai toh aap jaiye gaon shehar ke na jo bade bade shaharon ke purv CM area mein chahiye aur aapko pata chal jayegi jaega ki logo ke paas bichane ke liye jodne ke liye kambal tak nahi hai jabki sardi apni padti hai samjhe toh sari andhavishvasi hai aur murtiyon ko thanda lage toh bed rest call karna sir it install karne ki wajah itna kharcha karne par jaakar aap garibo mein kambal toh mere sabse zinda aadmi ban jaega balki ek jo non living things trimurti us us ko bachane ki wajah toh yah sab andhavishvas hai aur iske khilaf mere saath sex ko rokna chahiye aur samajhana chahiye hum ko jagruk karna chahiye ki yah sab andhavishvas wali baat hai aur sir waise bhi jo bhagwan hote hain vaah man mein base hota ki hum hi trens call karke unki raksha karenge aisa kuch bhi nahi hai toh vaah toh sirf murti hai jo bhi hote bhagwan mein man nahi hote aur dil mein hote hain vaah sab bakwas ki baat hai bus yahi bola ki hum bharatiyon ko yah sab jo andhavishvasi bhashan ko bhoolna chahiye un ko jagruk karna chahiye sab chijon ke bare mein

सर जी आपने क्वेश्चन डाला यह बहुत अच्छा क्वेश्चन हमें बता दूं जो अयोध्या में ठंड के मौसम मू

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  39
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अयोध्या में ठंड के मौसम में मूर्तियों की रक्षा के लिए हीटर लगाया गया है मुझे नहीं लगता है कि यह सही है देखिए मैं भगवान में श्रद्धा रखती हूं लेकिन अंधभक्त नहीं हूं हो सकता है मोतियों के रखरखाव के लिए गर्मी की जरूरत हो लेकिन उसके लिए जो परंपरागत तरीके काम में लिए जा रहे थे वह सही थे क्योंकि ईश्वर के उन बंदूक को ठंड से बचाने की ज्यादा जरूरत है जिनके पास कोई संसाधन नहीं है और अगर यह मंदिर में पूजा करने वाले भक्तों या पुजारियों के लिए लगवाया है तो आप ही सोचिए यह कैसे सही हो सकता है जबकि गरीब और असहाय कई लोग कड़ाके की ठंड से ठिठुर रहे हैं बीमार हो रहे हैं उन्हें इसकी ज्यादा जरूरत है

ayodhya mein thand ke mausam mein murtiyon ki raksha ke liye heater lagaya gaya hai mujhe nahi lagta hai ki yah sahi hai dekhiye main bhagwan mein shraddha rakhti hoon lekin andhbhakt nahi hoon ho sakta hai motiyon ke rakharakhav ke liye garmi ki zarurat ho lekin uske liye jo paramparagat tarike kaam mein liye ja rahe the vaah sahi the kyonki ishwar ke un bandook ko thand se bachane ki zyada zarurat hai jinke paas koi sansadhan nahi hai aur agar yah mandir mein puja karne waale bhakton ya pujariyon ke liye lagwaya hai toh aap hi sochiye yah kaise sahi ho sakta hai jabki garib aur asahay kai log kadake ki thand se thithur rahe hain bimar ho rahe hain unhe iski zyada zarurat hai

अयोध्या में ठंड के मौसम में मूर्तियों की रक्षा के लिए हीटर लगाया गया है मुझे नहीं लगता है

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  8
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!