आप राजपूत के बारे में क्या सोचते हैं?...


user

धर्मदेव सिंह भाटी

कुश्ती प्रशिक्षक

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रसन्न बहुत आसान भी है और बहुत जटिल भी है इस प्रश्न का उत्तर देना हर किसी के बस की बात नहीं है फिर भी मैं कोशिश करता हूं जब राजपूतों की बात आती है तो सबसे पहले जेहन में नाम आता है भारत के वीर पुत्र महाराणा प्रताप का जिन्न की शौर्य गाथा है राजस्थान में ही नहीं बल्कि पूरे हिंदुस्तान और पूरे विश्व में प्रचलित हैं महाराणा प्रताप एक ऐसी योद्धा थे जिन्होंने अपने पूरे जीवन भर अपनी मातृभूमि की रक्षा के लिए संघर्ष किया था और उन्होंने मुगलों को घुटनों पर ला दिया था उन्हें हम देशभक्त योद्धा के रूप में जानते हैं यानी राजपूत देश भक्त होते हैं दूसरी जब नजर घूम आएंगे तो महाराणा प्रताप के ही समा कालीन मानसिंह हुए जो अकबर के सेनापति थे वह रणभूमि में अकबर की तरफ से महाराणा प्रताप से युद्ध करने के लिए आ गए बड़ी विचित्र स्थिति है यहां पर एक तरफ महाराणा प्रताप अपनी मातृभूमि को बचाने के लिए संघर्ष करते हैं वह भी राजपूत थे और दूसरी तरफ कुछ राजपूत ऐसे भी थे जिन्होंने अपनों के ही साथ गद्दारी की जैसे मान सिंह और बहुत से राजा हैं जिन्होंने महाराणा प्रताप का साथ नहीं दिया यदि वे साथ देते तो आज हम स्पष्ट रुप से कह सकते थे कि राजपूत सिर्फ देश भक्ति होते हैं लेकिन महाराणा प्रताप की देशभक्ति पर कोई सवाल नहीं उठा सकता

aapka prasann bahut aasaan bhi hai aur bahut jatil bhi hai is prashna ka uttar dena har kisi ke bus ki baat nahi hai phir bhi main koshish karta hoon jab rajputo ki baat aati hai toh sabse pehle jehan mein naam aata hai bharat ke veer putra maharana pratap ka jinna ki shorya gaatha hai rajasthan mein hi nahi balki poore Hindustan aur poore vishwa mein prachalit hai maharana pratap ek aisi yodha the jinhone apne poore jeevan bhar apni matribhoomi ki raksha ke liye sangharsh kiya tha aur unhone mugalon ko ghutno par la diya tha unhe hum deshbhakt yodha ke roop mein jante hai yani rajput desh bhakt hote hai dusri jab nazar ghum aayenge toh maharana pratap ke hi sama kaleen mansinh hue jo akbar ke senapati the vaah ranbhumi mein akbar ki taraf se maharana pratap se yudh karne ke liye aa gaye baadi vichitra sthiti hai yahan par ek taraf maharana pratap apni matribhoomi ko bachane ke liye sangharsh karte hai vaah bhi rajput the aur dusri taraf kuch rajput aise bhi the jinhone apnon ke hi saath gaddari ki jaise maan Singh aur bahut se raja hai jinhone maharana pratap ka saath nahi diya yadi ve saath dete toh aaj hum spasht roop se keh sakte the ki rajput sirf desh bhakti hote hai lekin maharana pratap ki deshbhakti par koi sawaal nahi utha sakta

आपका प्रसन्न बहुत आसान भी है और बहुत जटिल भी है इस प्रश्न का उत्तर देना हर किसी के बस की ब

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  460
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Pankaj Mall

Life Coach, Trainer, Cyclist

1:50

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं खुद का राजपूत क्षत्रिय वर्ग से हूं और मैं आपको अपनी बात बताऊंगा कि अगर मैं क्या समझता हूं राजपूत क्षत्रिय वह होता है जो देश की रक्षा के लिए काम है जो समाज के रक्षक के लिए काम आता है वह राजपूत होता को सक्रिय होता है और यही धर्म है और सीखते हैं लोग वह है कि उनको निरंतर देश के लिए काम करना है और योद्धा है अब आज के डेट में अगर हम कहें तो योद्धा तलवार लेकर के माला लेकर के लड़ाई नहीं होगी लड़ाई होगी अपने अधिकारों के लिए लड़ाई होगी देश को समाज को आगे बढ़ाने के लिए अपने परिवार को आगे बढ़ाने के लिए तो उसके लिए कलम का सहारा ले अच्छी सोच का सहारा ले अच्छी किताबें पढ़ी नौकरियों में जाए अगर ऐसे रहेंगे शायद अब आप की मान मर्यादा भी रहेगी समाज का भी सम्मान देगा लेकिन हमेशा यह एक वर्ग ऐसा होना चाहिए अगर राजपूत की बात करते हैं जो लोगों के बारे में सूचित सबके हित में सोचे देश का जिस प्रकार पर ही हो राज्य जिसके लिए सड़क पर ही हो वही राजपूत होते हैं वह सक्रिय होते हैं कोई आज राजतंत्र नहीं है क्या आप राजा के बेटे लोग आपको सिर्फ राजपूत है इसलिए इज्जत करें आपको इज्जत बनानी होगी आपको मान-सम्मान बनाना पड़ेगा और उसके लिए उसी पर होने चाहिए जैसा कर्म होगा वैसा ही समाज के लोगों के लिए थैंक यू गॉड ब्लेस यू

main khud ka rajput kshatriya varg se hoon aur main aapko apni baat bataunga ki agar main kya samajhata hoon rajput kshatriya vaah hota hai jo desh ki raksha ke liye kaam hai jo samaj ke rakshak ke liye kaam aata hai vaah rajput hota ko sakriy hota hai aur yahi dharm hai aur sikhate hai log vaah hai ki unko nirantar desh ke liye kaam karna hai aur yodha hai ab aaj ke date mein agar hum kahein toh yodha talwar lekar ke mala lekar ke ladai nahi hogi ladai hogi apne adhikaaro ke liye ladai hogi desh ko samaj ko aage badhane ke liye apne parivar ko aage badhane ke liye toh uske liye kalam ka sahara le achi soch ka sahara le achi kitaben padhi naukriyon mein jaaye agar aise rahenge shayad ab aap ki maan maryada bhi rahegi samaj ka bhi sammaan dega lekin hamesha yah ek varg aisa hona chahiye agar rajput ki baat karte hai jo logo ke bare mein suchit sabke hit mein soche desh ka jis prakar par hi ho rajya jiske liye sadak par hi ho wahi rajput hote hai vaah sakriy hote hai koi aaj rajtantra nahi hai kya aap raja ke bete log aapko sirf rajput hai isliye izzat kare aapko izzat banani hogi aapko maan sammaan banana padega aur uske liye usi par hone chahiye jaisa karm hoga waisa hi samaj ke logo ke liye thank you god bless you

मैं खुद का राजपूत क्षत्रिय वर्ग से हूं और मैं आपको अपनी बात बताऊंगा कि अगर मैं क्या समझता

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  1161
WhatsApp_icon
user

Geet Awadhiya

Aspiring Software Developer

0:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैंने मेरे काफी सारे राजपूत दोस्त रह चुके तो मेरे लिए ऐसा कुछ है नहीं कि कोई एक धर्म के कोई एक जाति के लोग अलग होते हैं जाट जाति के लोग अच्छे देवी का पिक्चर दो अच्छे नहीं होते कुछ लोग तो हैं कभी मुझे जितने अच्छे दोस्त हैं उन्होंने अच्छा मानता हूं वही या पक्षपात करें एक राजपूत लोग ज्यादा अच्छे होते हैं लेकिन जो दूसरे जाति के लोग होते हैं वह गंदे होते तो यह बहुत ही पुरानी का रूढ़िवादी सोच आपको इस चीज पर

maine mere kaafi saare rajput dost reh chuke toh mere liye aisa kuch hai nahi ki koi ek dharm ke koi ek jati ke log alag hote hain jaat jati ke log acche devi ka picture do acche nahi hote kuch log toh hain kabhi mujhe jitne acche dost hain unhone accha manata hoon wahi ya pakshapat kare ek rajput log zyada acche hote hain lekin jo dusre jati ke log hote hain vaah gande hote toh yah bahut hi purani ka rudhivadi soch aapko is cheez par

मैंने मेरे काफी सारे राजपूत दोस्त रह चुके तो मेरे लिए ऐसा कुछ है नहीं कि कोई एक धर्म के को

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  382
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!