जब कैंसर के प्रति जागरूकता लाने के लिए लोग अपना सिर मुंडवाते हैं तो कैंसर के मरीज़ / कैंसर से बचे लोगों को कैसा लगता है अच्छा या बेचारा?...


play
user

Neelam Kumar

Best-selling Author

1:42

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चलिए बहुत इंडिविजुअल अप्रोच है बकौल मेरे ख्याल से यह बाहरी सिंबल जो है यह कोई मायने नहीं रखते बिकॉज मैं जानती हूं कि जो एक कैंसर पेशेंट को देखने वाले लोग हैं वह अगर उसे देख सारा में सोच कर आएंगे तो मुलाकात करेगा खुद ही बहुत कॉन्फिडेंट और पॉजिटिव रहेंगे पॉजिटिव पेशेंट को फोन करेंगे इसलिए मैं चाहती हूं कि बस का रोल ऑफ इंडिया में नहीं कहना चाहती हूं एक जो कि मैंने सोचा है कि यह किताब में जरूर लिखूंगी पर क्या होना चाहिए यह हम लोगों को पता नहीं है हम लोग जाते हैं किसी बीमार आदमी के पास हम लोग क्या तैयारी है तो तुम्हारा करना है या यह बहुत पुराने तुम्हारे पुराने पाप है वह होकर आ रहे हैं तुम्हारे पास बिल्कुल सही नहीं है क्योंकि यह एक वायरस से होता है या इम्यूनिटी लॉग होने से होता है यह कोई नहीं जानता है कृपया आप लोग कोई भी नेगेटिव बातें नहीं करें उसकी हर मुसीबत में हर खुशी में हर गम में आप उनके साथ हैं बस

chaliye bahut individual approach hai bakaul mere khayal se yah baahri symbol jo hai yah koi maayne nahi rakhte because main jaanti hoon ki jo ek cancer patient ko dekhne waale log hain vaah agar use dekh saara mein soch kar aayenge toh mulakat karega khud hi bahut confident aur positive rahenge positive patient ko phone karenge isliye main chahti hoon ki bus ka roll of india mein nahi kehna chahti hoon ek jo ki maine socha hai ki yah kitab mein zaroor likhungi par kya hona chahiye yah hum logon ko pata nahi hai hum log jaate hain kisi bimar aadmi ke paas hum log kya taiyari hai toh tumhara karna hai ya yah bahut purane tumhare purane paap hai vaah hokar aa rahe hain tumhare paas bilkul sahi nahi hai kyonki yah ek virus se hota hai ya immunity log hone se hota hai yah koi nahi jaanta hai kripya aap log koi bhi Negative batein nahi karen uski har musibat mein har khushi mein har gum mein aap unke saath hain bus

चलिए बहुत इंडिविजुअल अप्रोच है बकौल मेरे ख्याल से यह बाहरी सिंबल जो है यह कोई मायने नहीं र

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  1244
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!