मानव शरीर का प्रतिरोध कितना होता है?...


user

Roshan Prasad Jaiswal

Junior Volunteer

0:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मानव शरीर का प्रतिरोध हजार ओम होता है

manav sharir ka pratirodh hazaar om hota hai

मानव शरीर का प्रतिरोध हजार ओम होता है

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  687
WhatsApp_icon
12 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक स्वस्थ मानव के शरीर का प्रतिरोध 3000 ऑन होता है

ek swasth manav ke sharir ka pratirodh 3000 on hota hai

एक स्वस्थ मानव के शरीर का प्रतिरोध 3000 ऑन होता है

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  305
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मानव शरीर का प्रतिरोध स्वस्थ शरीर में एक हजारों में से एक लाख 59 तक ढीले शरीर में 300 उनसे एक हजारों में तक होता है इसी प्रकार धरती का प्रतिरोध 3000 ओम के लगभग होता है

manav sharir ka pratirodh swasthya sharir mein ek hazaro mein se ek lakh 59 tak dheele sharir mein 300 unse ek hazaro mein tak hota hai isi prakar dharti ka pratirodh 3000 om ke lagbhag hota hai

मानव शरीर का प्रतिरोध स्वस्थ शरीर में एक हजारों में से एक लाख 59 तक ढीले शरीर में 300 उनसे

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  158
WhatsApp_icon
user

Manish Singh

VOLUNTEER

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन सेंड करता है कि इंसान जो है वह है कि एक मुट्ठी को काम करते प्रतियोगिता में और जितना संख्या होता बॉडी के अंदर वाइट ब्लड सेल के जितने स्ट्रांग होती है वाइट ब्यूटी प्रतिरोधक क्षमता ज्यादा होता बॉडी के अंदर

lekin send karta hai ki insaan jo hai vaah hai ki ek mutthi ko kaam karte pratiyogita mein aur jitna sankhya hota body ke andar white blood cell ke jitne strong hoti hai white beauty pratirodhak kshamta zyada hota body ke andar

लेकिन सेंड करता है कि इंसान जो है वह है कि एक मुट्ठी को काम करते प्रतियोगिता में और जितना

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  190
WhatsApp_icon
user

Gunjan

Junior Volunteer

0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां जी पैसे के लिए अब जाना जाता है कि मानव शरीर का प्रतिरोध कितना होता है तुझे मानव शरीर का जो प्रतिरोध अक्षरों संख्या होती है वह यथावत और यह जो है यह निर्भर करती है हमारी बॉडी को किसी भी आ जाओ फॉरेन एंटीबॉडी जाती है उसको एंटर होने से हमारे जो है वह बॉडी के अंदर में वह बचाती है तो इस तरीके से जैसे कि कोई दवाई अगर हम देते हैं वह काम करते हैं तो पहले जो शरीर है वही फाइट करता है अगर वह फाइट नहीं कर पाता है तू ही हम बीमार पड़ते हैं

haan ji paise ke liye ab jana jata hai ki manav sharir ka pratirodh kitna hota hai tujhe manav sharir ka jo pratirodh aksharon sankhya hoti hai vaah yathavat aur yah jo hai yah nirbhar karti hai hamari body ko kisi bhi aa jao foreign antibody jaati hai usko enter hone se hamare jo hai vaah body ke andar mein vaah BA chati hai toh is tarike se jaise ki koi dawai agar hum dete hai vaah kaam karte hai toh pehle jo sharir hai wahi fight karta hai agar vaah fight nahi kar pata hai tu hi hum bimar chahiye padte hain

हां जी पैसे के लिए अब जाना जाता है कि मानव शरीर का प्रतिरोध कितना होता है तुझे मानव शरीर क

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  163
WhatsApp_icon
user

Geet Awadhiya

Aspiring Software Developer

0:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मानव चंदर 500 का प्रतिरोध हो सकता है

manav Chander 500 ka pratirodh ho sakta hai

मानव चंदर 500 का प्रतिरोध हो सकता है

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  422
WhatsApp_icon
user

Gulnaz

लेवल 1 (बिगिनर)

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मानव शरीर के द्वारा प्रतिरोध प्रतिरोध जो है मन लागो है चमके बराबर हो सकता है अगर गीले या टूटे हुए शरीर की प्रतिरोधक जो है और ताऊ समूह क्षमता जोड़ सकती है

manav sharir ke dwara pratirodh pratirodh jo hai man lago hai chamke BA rabar ho sakta hai agar gile ya tute hue sharir ki pratirodhak jo hai aur taau samuh kshamta jod sakti hai

मानव शरीर के द्वारा प्रतिरोध प्रतिरोध जो है मन लागो है चमके बराबर हो सकता है अगर गीले या ट

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  79
WhatsApp_icon
user

Kriti

Volunteer

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मानव शरीर की प्रतिरोध के बारे में अभी हम बात करें तो एन आई ओ एस एच का कहना है कि सूखी परिस्थितियों में मानव शरीर द्वारा प्रदत प्रतिरोध 100000 ओम के बराबर हो सकता है कि ले या टूटी हुई त्वचा के प्रतिरोध को हजारोम तक छोड़ सकती है यह कहते हुए कि उच्च वोल्टेज विद्युत ऊर्जा जल्दी से मानव त्वचा को तोड़ सकती है या फिर तोड़ देती है और 500 उनके लिए मानव शरीर के प्रतिरोध को कम करती है

manav sharir ki pratirodh ke BA re mein abhi hum BA at kare toh N I O s h ka kehna hai ki sukhi paristhitiyon mein manav sharir dwara pradat pratirodh 100000 om ke BA rabar ho sakta hai ki le ya tuti hui twacha ke pratirodh ko hajarom tak chod sakti hai yah kehte hue ki ucch voltage vidhyut urja jaldi se manav twacha ko tod sakti hai ya phir tod deti hai aur 500 unke liye manav sharir ke pratirodh ko kam karti hai

मानव शरीर की प्रतिरोध के बारे में अभी हम बात करें तो एन आई ओ एस एच का कहना है कि सूखी परिस

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  17
WhatsApp_icon
play
user
0:24

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सुखी परिस्थितियों में मानव शरीर द्वारा प्रदत्त प्रतिरोध जो होती है वह एक लाख कौन के बराबर हो सकता है जिले या टूटी हुई त्वचा के स्वयं के प्रति प्रतिरोध की जो 1000 ओम तक की छूट सकती है यह कहते हुए उच्च वोल्टेज विद्युत ऊर्जा जल्दी से मानव त्वचा को तोड़ देती है 500 उनके लिए मानव शरीर के प्रतिरोध को कम कर

sukhi paristhitiyon mein manav sharir dwara pradatt pratirodh jo hoti hai vaah ek lakh kaun ke BA rabar ho sakta hai jile ya tuti hui twacha ke swayam ke prati pratirodh ki jo 1000 om tak ki chhut sakti hai yah kehte hue ucch voltage vidhyut urja jaldi se manav twacha ko tod deti hai 500 unke liye manav sharir ke pratirodh ko kam kar

सुखी परिस्थितियों में मानव शरीर द्वारा प्रदत्त प्रतिरोध जो होती है वह एक लाख कौन के बराबर

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  32
WhatsApp_icon
user

shekhar11

Volunteer

0:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओम के मानव शरीर का प्रतिरोध कितना होता है लेकिन एक नॉर्मल इंसान की बात की जाए तो वहां पर एक लाख को उनके बराबर प्रतिरोध होता है

om ke manav sharir ka pratirodh kitna hota hai lekin ek normal insaan ki BA at ki jaaye toh wahan par ek lakh ko unke BA rabar pratirodh hota hai

ओम के मानव शरीर का प्रतिरोध कितना होता है लेकिन एक नॉर्मल इंसान की बात की जाए तो वहां पर ए

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  355
WhatsApp_icon
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मानव शरीर का जो प्रतिरोध है वह था उसको h होता है और हमारे जो शरीर में कोई भी जूनियर फॉरेन एंटीबॉडी आती है उसे आने से रोकता है साथ ही साथ देखा जाए तो हमारी सारी मैं तुम्हें बहुत सारी बीमारियों तुझे खुद सफाई करने की क्षमता होती है जब यह क्षमता खत्म हो जाती है तो हमें जो है किसी भी बीमारी के लिए दवा लेना पड़ता है क्या तुम बीमार पड़ जाते हैं

manav sharir ka jo pratirodh hai vaah tha usko h hota hai aur hamare jo sharir mein koi bhi junior foreign antibody aati hai use aane se rokta hai saath hi saath dekha jaaye toh hamari saree main tumhe BA hut saree bimariyon tujhe khud safaai karne ki kshamta hoti hai jab yah kshamta khatam ho jaati hai toh hamein jo hai kisi bhi bimari ke liye dawa lena padta hai kya tum bimar pad jaate hain

मानव शरीर का जो प्रतिरोध है वह था उसको h होता है और हमारे जो शरीर में कोई भी जूनियर फॉरेन

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मानव शरीर की प्रतिरोधक क्षमता जो है आज तक होती है वैसे को दिया जो हमारे सही में जो वायरलेस सेल टूटते हैं जो बीमारियां फैलती है उसको पैसे प्रतिरोध करती है अगर प्रतिरोधक क्षमता से बाहर से जाती है तो वह बीमारी जो है हमें प्रभाव के रूप में दिखाई देता है वह प्रतिरोध कर सकता है

manav sharir ki pratirodhak kshamta jo hai aaj tak hoti hai waise ko diya jo hamare sahi mein jo wireless cell tutate hai jo bimariyan failati hai usko paise pratirodh karti hai agar pratirodhak kshamta se BA har se jaati hai toh vaah bimari jo hai hamein prabhav ke roop mein dikhai deta hai vaah pratirodh kar sakta hai

मानव शरीर की प्रतिरोधक क्षमता जो है आज तक होती है वैसे को दिया जो हमारे सही में जो वायरलेस

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  181
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
manav sharir ka pratirodh kitna hota hai ; मानव शरीर का प्रतिरोध कितना होता है ; मानव शरीर का प्रतिरोध कितना ओम होता है ; मनुष्य का प्रतिरोध कितना होता है ; manav sharir ka pratirodh ; manav sharir ka pratirodh lagbhag kitna hota hai ; manushya ke sharir ka pratirodh kitna hota hai ; sharir ka pratirodh kitna hota hai ; मनुष्य के शरीर का प्रतिरोध कितना होता है ; मानव शरीर का प्रतिरोध कितना होता ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!