जीवन में सफलता कैसे मिलती है?...


user

विनोद कुमार चौहान

TEACHER , TEACHING EXPERIENCE 30 YEAR'S , ADVISER http://getvokal.com/profile/vinod_74

4:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन में सफलता कैसे मिलती है कि हुए सफलता का कोई मापदंड नहीं होता है हर व्यक्ति के लिए सफलता का अलग-अलग उद्देश्य अलग-अलग मापदंड होता है एक व्यक्ति ₹100 कमा लेता है तो समझता में सफल हूं बहुत कुछ हो गया और एक व्यक्ति करोड़ों रुपए कमाता है तब अपने आप को सफल नहीं मानता है तो सफलता का अलग अलग व्यक्ति के लिए अलग अलग नजरिया होता है कुछ लोग ऐसे होते हैं कि जो अपनी आवश्यक आवश्यकताएं पूरी करते हैं तो वे सफल माने जाते हैं कुछ ऐसे होते हैं कि जो नॉनस्टॉप चलना चाहते हैं कुछ ऐसे लोगों से जो प्रसिद्धि को सफल मानते हैं तो सफलता का मेरे हिसाब से कोई ईमानदार नहीं होता है किंतु वर्तमान समय में यदि किसी के पास धन और यश दोनों है तो उसको हम सफल मान लेते हैं और यह दोनों ही व्यक्ति के कारण और उनकी मेहनत के ऊपर निर्भर करते हैं जीवन में सफलता के लिए कदम कदम पर अलग-अलग चुनौतियां आती है और उन सब चुनौतियों का एक ही निदान नहीं होता है जैसे कभी शरीर में बुखार होता है कभी जुखाम होता है कभी खांसी होती है कभी पेट पीड़ा होती है कभी किसी को डायबिटीज होती है किसी को हर्ट होता है किसी के दांत में दर्द होता है किसी की आंख में दर्द होता है किसी के हाथों में दर्द होता है तो सब की दवाई एक नहीं होती है इसलिए सफलता के जीवन को प्राप्त करने के लिए आपको सम संघर्ष करना होगा और या फिर वह व्यक्ति हो आपके पास जो आपके कदम कदम के जो कार्य हैं उन पर नजर रखी एक सुबह एक नई चुनौती देकर आती है और इस चुनौती से आपको कैसे निपटना है उसके लिए अलग योजना होती है कि ऐसा नहीं होता है कि आप सुबह उठ और काम पर लग जाओ और आपको सफलता मिल जाएगी देवा के सिर्फ एक ही कड़ी मेहनत पक्का इरादा अनुशासन और आपके मित्र करने की प्रवृत्ति ज्ञान के सहारे आप लगे रहो सफलता मिलेगी और सफलता जरूरी नहीं आपको 1 दिन में मिल जाए 1 साल भी लग सकता है 10 साल भी लग सकते हैं तो धैर्य भी आपके पास होना चाहिए क्योंकि जितने भी व्यक्ति मान लिया आप समझते हैं देश के प्रधानमंत्री को तो ऐसा नहीं कि वह पैदा होते ही प्रधानमंत्री बन गए साथ 65 साल की उम्र के बाद वह प्रधानमंत्री बन रहे हैं तो तब तक का साहस भी आपने होना चाहिए सफलताएं देर से ही मिलती है तो आप मेहनत कीजिए प्रसन्न कीजिए लगन के साथ अनवरत बिना रुके बिना थके और आप जिस प्रकार के सफलता चाहते हो मुझे नहीं मालूम किंतु कोई भी जीवन तभी सफल होता है जब आप लगे रहते हैं उसमें बहुत कुछ खोना पड़ता है और यहां आपको देखना है कि आपको क्या करना है तो मुझको तो सफलता के मामले में ही पता लगा है मैंने अपना मत स्पष्ट कर दिया है यदि आपको पसंद आएगा तो आप लाइक अवश्य करना धन्यवाद जय हिंद

jeevan me safalta kaise milti hai ki hue safalta ka koi maapdand nahi hota hai har vyakti ke liye safalta ka alag alag uddeshya alag alag maapdand hota hai ek vyakti Rs kama leta hai toh samajhata me safal hoon bahut kuch ho gaya aur ek vyakti karodo rupaye kamata hai tab apne aap ko safal nahi maanta hai toh safalta ka alag alag vyakti ke liye alag alag najariya hota hai kuch log aise hote hain ki jo apni aavashyak aavashyakataen puri karte hain toh ve safal maane jaate hain kuch aise hote hain ki jo nonstop chalna chahte hain kuch aise logo se jo prasiddhi ko safal maante hain toh safalta ka mere hisab se koi imaandaar nahi hota hai kintu vartaman samay me yadi kisi ke paas dhan aur yash dono hai toh usko hum safal maan lete hain aur yah dono hi vyakti ke karan aur unki mehnat ke upar nirbhar karte hain jeevan me safalta ke liye kadam kadam par alag alag chunautiyaan aati hai aur un sab chunautiyon ka ek hi nidan nahi hota hai jaise kabhi sharir me bukhar hota hai kabhi jukham hota hai kabhi khansi hoti hai kabhi pet peeda hoti hai kabhi kisi ko diabetes hoti hai kisi ko heart hota hai kisi ke dant me dard hota hai kisi ki aankh me dard hota hai kisi ke hathon me dard hota hai toh sab ki dawai ek nahi hoti hai isliye safalta ke jeevan ko prapt karne ke liye aapko some sangharsh karna hoga aur ya phir vaah vyakti ho aapke paas jo aapke kadam kadam ke jo karya hain un par nazar rakhi ek subah ek nayi chunauti dekar aati hai aur is chunauti se aapko kaise nipatna hai uske liye alag yojana hoti hai ki aisa nahi hota hai ki aap subah uth aur kaam par lag jao aur aapko safalta mil jayegi deva ke sirf ek hi kadi mehnat pakka irada anushasan aur aapke mitra karne ki pravritti gyaan ke sahare aap lage raho safalta milegi aur safalta zaroori nahi aapko 1 din me mil jaaye 1 saal bhi lag sakta hai 10 saal bhi lag sakte hain toh dhairya bhi aapke paas hona chahiye kyonki jitne bhi vyakti maan liya aap samajhte hain desh ke pradhanmantri ko toh aisa nahi ki vaah paida hote hi pradhanmantri ban gaye saath 65 saal ki umar ke baad vaah pradhanmantri ban rahe hain toh tab tak ka saahas bhi aapne hona chahiye safalataen der se hi milti hai toh aap mehnat kijiye prasann kijiye lagan ke saath anvarat bina ruke bina thake aur aap jis prakar ke safalta chahte ho mujhe nahi maloom kintu koi bhi jeevan tabhi safal hota hai jab aap lage rehte hain usme bahut kuch khona padta hai aur yahan aapko dekhna hai ki aapko kya karna hai toh mujhko toh safalta ke mamle me hi pata laga hai maine apna mat spasht kar diya hai yadi aapko pasand aayega toh aap like avashya karna dhanyavad jai hind

जीवन में सफलता कैसे मिलती है कि हुए सफलता का कोई मापदंड नहीं होता है हर व्यक्ति के लिए सफल

Romanized Version
Likes  75  Dislikes    views  1495
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!