जब किसी ने भगवान को नहीं देखा है तो उसे किस आधार पर बनाते है?...


user

Acharya shree guru ji vyas /call-8898408005

Shreemad Bhagwat Katha, Ramkatha, Bhajan Sandhya Program , Mata Ki Chowki, Jagran , all Types Devosnal & Festival Program Contact Us- 8898408005

3:58
Play

Likes  54  Dislikes    views  1791
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:51
Play

Likes  61  Dislikes    views  1514
WhatsApp_icon
user

Ghanshyamvan

मंदिर सेवा

1:52
Play

Likes  235  Dislikes    views  4702
WhatsApp_icon
user
0:27
Play

Likes  3  Dislikes    views  136
WhatsApp_icon
user

विनोद कुमार चौहान

TEACHER , TEACHING EXPERIENCE 30 YEAR'S , ADVISER http://getvokal.com/profile/vinod_74

3:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है जब किसी ने भगवान को नहीं देखा तो उसे किस आधार पर बनाते प्रश्न का आप का उत्तर भी मैं कहना चाहूंगा कि इस प्रकार से तो किसी भी धर्म का जो भी ईश्वर है वह किसी ने नहीं देखा मैं खुदा किसी ने देखा तो फिर नमाज क्यों पढ़ते हैं न ईसा मसीह किसी ने देखा तो फिर गिरजे क्यों बने हैं नागौद को देखा ना जैन को देखा इस पीढ़ी में तो किसी ने नहीं देखा यह पुरातन काल से चले आ रहे हैं और यह एक प्रतीकात्मक प्रतिबिंब होते हैं कि इस प्रकार के उस थे जिसमें उन्होंने जो तत्कालीन समय में रहे हैं उनके जो चित्र हैं उनके आधार पर यह कल्पना की जाती है कि इस प्रकार के थे इसीलिए इनको बनाते हैं ताकि लोगों को उनके बारे में पता चल सके अब जैसे आप ही लोगों के परदादा से अगली पीढ़ी के लोग आपने नहीं देखे तो क्या इसका मतलब आप के परदादा नहीं थे यानी कि जो आप देखेंगे उसी को आप मानेगी है बाकी कुछ नहीं कि अनावश्यक के प्रश्न करने से कोई लाभ नहीं होता है आप नहीं मानते तो बहुत अच्छी बात है किंतु किसी की आस्था पर इस प्रकार के प्रश्न उठाना जैसे आपने बनाने की बात करते हैं उसी प्रकार से आपके लिए भी बहुत अनुपयुक्त बात है श्रद्धा होती है जो लोग देखते हैं जरूरी नहीं उसको भी मानते हैं लोग तो अपने माता-पिता को भी देखते हैं और हमने उन लोगों को अपने माता पिता को घर से बाहर निकलते हुए भी देखा है तो उनको माता-पिता क्यों नहीं मानते हैं ऐसे बहुत सारे लोग हैं जो वर्तमान में देख रहे हैं उसको नहीं रख रहे हैं आवारा पशुओं की लाइन लगी है गलियों में बाजारों में जब तक दूध आदि देते तब तो रखते हैं उसके बाद निकाल देते यह कहां का नियम है तो यह सब कहना और यह इस प्रकार की बातें करना निश्चय ही आपके मस्तिष्क की शरारत को बताता है और इस तरह से कोई भला नहीं होता है किसी का भी किसी के दूसरों को ही तो को दूसरे की धर्म को आस्था को इस तरह से यह कहना निश्चित ही मैं समझता हूं बहुत गलत है आप मेरे मत से सहमत हैं या नहीं है इसका मुझे नहीं मालूम किंतु मैं आपके मत से बिल्कुल सहमत नहीं हूं धन्यवाद जय हिंद

aapka prashna hai jab kisi ne bhagwan ko nahi dekha toh use kis aadhar par banate prashna ka aap ka uttar bhi main kehna chahunga ki is prakar se toh kisi bhi dharm ka jo bhi ishwar hai vaah kisi ne nahi dekha main khuda kisi ne dekha toh phir namaz kyon padhte hain na isa masih kisi ne dekha toh phir girje kyon bane hain nagaud ko dekha na jain ko dekha is peedhi me toh kisi ne nahi dekha yah puratan kaal se chale aa rahe hain aur yah ek pratikatmak pratibimb hote hain ki is prakar ke us the jisme unhone jo tatkalin samay me rahe hain unke jo chitra hain unke aadhar par yah kalpana ki jaati hai ki is prakar ke the isliye inko banate hain taki logo ko unke bare me pata chal sake ab jaise aap hi logo ke pardada se agli peedhi ke log aapne nahi dekhe toh kya iska matlab aap ke pardada nahi the yani ki jo aap dekhenge usi ko aap manegi hai baki kuch nahi ki anavashyak ke prashna karne se koi labh nahi hota hai aap nahi maante toh bahut achi baat hai kintu kisi ki astha par is prakar ke prashna uthana jaise aapne banane ki baat karte hain usi prakar se aapke liye bhi bahut anupayukt baat hai shraddha hoti hai jo log dekhte hain zaroori nahi usko bhi maante hain log toh apne mata pita ko bhi dekhte hain aur humne un logo ko apne mata pita ko ghar se bahar nikalte hue bhi dekha hai toh unko mata pita kyon nahi maante hain aise bahut saare log hain jo vartaman me dekh rahe hain usko nahi rakh rahe hain awaara pashuo ki line lagi hai galiyon me bazaro me jab tak doodh aadi dete tab toh rakhte hain uske baad nikaal dete yah kaha ka niyam hai toh yah sab kehna aur yah is prakar ki batein karna nishchay hi aapke mastishk ki shararat ko batata hai aur is tarah se koi bhala nahi hota hai kisi ka bhi kisi ke dusro ko hi toh ko dusre ki dharm ko astha ko is tarah se yah kehna nishchit hi main samajhata hoon bahut galat hai aap mere mat se sahmat hain ya nahi hai iska mujhe nahi maloom kintu main aapke mat se bilkul sahmat nahi hoon dhanyavad jai hind

आपका प्रश्न है जब किसी ने भगवान को नहीं देखा तो उसे किस आधार पर बनाते प्रश्न का आप का उत्त

Romanized Version
Likes  81  Dislikes    views  1620
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  2  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!