क्या आपके बचपन की ऐसी कोई घटना है जो आप कभी नहीं भुला पाएंगे?...


play
user

Dr. KRISHNA CHANDRA

Rehabilitation Psychologist

1:06

Likes  86  Dislikes    views  2316
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr. Priya Shatanjib Jha

Psychologist|Counselor|Dentist

1:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्ते दोस्तों मेरी यानी डॉक्टर प्रिया झा के तरफ से आप सब को दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं वैसे आप ही सब की तरह मेरे भी बचपन के बहुत सारे यादें हैं जो मुझे एकदम क्लियर याद हैं लेकिन इनमें से मुझे एक पार्टी के लिए अच्छे से याद है मैं जब 6 साल की थी तब मुझे टाइफाइड हुआ था और वह बहुत ही बुरा समय था मेरे लिए क्योंकि फैशन में जैसे आप जानते हो कि हाई फाइबर होता है बहुत हाई फीवर हुआ था मुझे और मेरे बचने के चांस बहुत कम थे तो वह टॉकटाइम था मेरे सामने के लिए और कुछ डॉक्टर ने तो यह बोला हुआ था कि कुछ बुरा हो जाएगा मेरे साथ लेकिन मैं बच गए तो यही मैं आपको बताना चाहूंगी प्लीज कुछ ऐसे वादे होते हैं जो एकदम से आपको हमेशा अपने मेमोरी में रहते हैं तो बहुत सारे यादों के साथ हां यह health-related याद है मुझे जोधा मैंने सोचा आप सर के साथ मुझे शेयर करने के लिए थैंक यू

namaste doston meri yani doctor priya jha ke taraf se aap sab ko din ki bahut saree subhkamnaayain waise aap hi sab ki tarah mere bhi bachpan ke bahut saare yaadain hain jo mujhe ekdam clear yaad hain lekin inmein se mujhe ek party ke liye acche se yaad hai jab 6 saal ki thi tab mujhe typhoid hua tha aur vaah bahut hi bura samay tha mere liye kyonki fashion mein jaise aap jante ho ki high fiber hota hai bahut high fever hua tha mujhe aur mere bachne ke chance bahut kam the toh vaah taktaim tha mere saamne ke liye aur kuch doctor ne toh yah bola hua tha ki kuch bura ho jaega mere saath lekin main bach gaye toh yahi main aapko bataana chahungi please kuch aise waade hote hain jo ekdam se aapko hamesha apne memory mein rehte hain toh bahut saare yaadon ke saath haan yah health related yaad hai mujhe jodha maine socha aap sir ke saath mujhe share karne ke liye thank you

नमस्ते दोस्तों मेरी यानी डॉक्टर प्रिया झा के तरफ से आप सब को दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं व

Romanized Version
Likes  109  Dislikes    views  2789
WhatsApp_icon
user

Puja Sood

Tarot reader, numerlogist, car

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वैसे तो अपने बचपन को भुला पाना सबके लिए बहुत मुश्किल है क्योंकि बहुत ही खट्टी मीठी यादें आपके बचपन की आपके साथ हमेशा रहती हैं मैं आप लोगों की शादी की हमसे शेयर कर रही हूं अभी 7 साल और मैं अपनी फैमिली के साथ कोई शादी अटेंड करने के लिए अपनी सिटी से बाहर गई हुई थी और जब हम वापस आ रहे थे क्योंकि बहुत फैमिली मेंबर साथ एक अर्जुन थी तो मुझे मेरी सिस्टर नहीं एक अपने से दूसरी पीछे कोई अंकल बैठे थे उनके साथ बैठा दिया और हम लोग ओवरनाइट मीटिंग अटेंड करके आए थे तो सब थके हुए थे रास्ते में सबकी आंख लग गई जब हम अपने होमटाउन पहुंचे जल्दी बाजी में सब उतर गए और मैं उसी सीट पर सोए रह गई सब उतरे सपने और रिक्शा पकड़ी और जैसी बातें लगे तो मेरी मामा को ध्यान आया कि मैं दिख नहीं रही हूं और मीन बस में मेरी नींद खुल चुकी थी और मैंने उसकी देखा कि बस बिल्कुल खाली है कोई भी नहीं है और मैं फटाफट से नीचे उतरी और मैंने बस कंडक्टर को ढूंढ के पूछा कि मेरी फैमिली थी वह सब कहां गए तो पता चला कि बोलो तो जा चुके हैं और उस समय समय मुझे अपना घर का फोन नंबर याद था अपना होम एड्रेस या था मैं कंडक्टर से बातचीत कर रही थी कि मुझे मेरे घर पहुंचा दिया जाएगा मेरा मोबाइल नंबर है और इतनी देर में मेरी फैमिली मुझे ढूंढते ढूंढते बस के पास आ गई और पहले हमारा मिलना हुआ एंड एब्रॉड विभागों में नवाज भी पार्टी देते हैं लेकिन अब भी वह याद मेरे दिमाग में इतनी ताजा है क्या सेंसर इन कभी भी किसी के साथ भी हो सकते हैं लेकिन जितना स्मार्ट लिया सिचुएशन को हैंडल करते हैं जितना आप अपने बच्चों को आगे रखते हैं तो आप किसी से चुए शंकु पोस्ट होने से बचा पाते हैं तो इंसीडेंट इसलिए मुझे यह सीख दी कि मुझे अपने बच्चों को भी इन चीजों के लिए अपडेटेड रखना है मोबाइल नंबर्स अरे ड्रेसेस

waise toh apne bachpan ko bhula paana sabke liye bahut mushkil hai kyonki bahut hi khatti mithi yaadain aapke bachpan ki aapke saath hamesha rehti hain main aap logo ki shadi ki humse share kar rahi hoon abhi 7 saal aur main apni family ke saath koi shadi attend karne ke liye apni city se bahar gayi hui thi aur jab hum wapas aa rahe the kyonki bahut family member saath ek arjun thi toh mujhe meri sister nahi ek apne se dusri peeche koi uncle baithe the unke saath baitha diya aur hum log overnight meeting attend karke aaye the toh sab thake hue the raste mein sabki aankh lag gayi jab hum apne hometown pahuche jaldi baazi mein sab utar gaye aur main usi seat par soye reh gayi sab utare sapne aur riksha pakadi aur jaisi batein lage toh meri mama ko dhyan aaya ki main dikh nahi rahi hoon aur meen bus mein meri neend khul chuki thi aur maine uski dekha ki bus bilkul khaali hai koi bhi nahi hai aur main phataphat se niche utari aur maine bus conductor ko dhundh ke poocha ki meri family thi vaah sab kahaan gaye toh pata chala ki bolo toh ja chuke hain aur us samay samay mujhe apna ghar ka phone number yaad tha apna home address ya tha main conductor se batchit kar rahi thi ki mujhe mere ghar pohcha diya jaega mera mobile number hai aur itni der mein meri family mujhe dhoondhate dhoondhate bus ke paas aa gayi aur pehle hamara milna hua and ebrad vibhagon mein nawaj bhi party dete hain lekin ab bhi vaah yaad mere dimag mein itni taaza hai kya censor in kabhi bhi kisi ke saath bhi ho sakte hain lekin jitna smart liya situation ko handle karte hain jitna aap apne baccho ko aage rakhte hain toh aap kisi se chuye shanku post hone se bacha paate hain toh insident isliye mujhe yah seekh di ki mujhe apne baccho ko bhi in chijon ke liye updated rakhna hai mobile numbers are dresses

वैसे तो अपने बचपन को भुला पाना सबके लिए बहुत मुश्किल है क्योंकि बहुत ही खट्टी मीठी यादें आ

Romanized Version
Likes  88  Dislikes    views  2701
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

1:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बचपन में बहुत सारी घटनाएं हैं जिसको अभी तक हम नहीं भूल पाए हैं यह घटना के बारे में मैं आपको बताना चाहता हूं शाम के टाइम गांव में जब हम लोग रहते थे छोटे थे तो शाम के टाइम सभी लोग हमारे छत पर आते थे ऊपर और 245 दोस्त हम लोग वहीं पर सोते थे एक एक लड़का था उसका मामा गांव मेरे गांव है वह अपने घर आता था लेकिन जब आता था अपने मामा के घर लेकिन वह मेरे घर जाता था मेरे घर ही आता था खाना खाता था और हम लोग के साथ ही सोता था हम लोग चिल्ला चिल्ला के तेज तेज बोलकर डायलॉग बोलते थे सोले का और भी बहुत सारी मूवीस का तो बचपन में हम लोग बोलते थे और जब मैं कॉलेज में गया तो वही सब मैं अच्छा से बोलने लगा था जब मैं बोलता था तो तालियां बजती थी मेरे दोस्त बहुत तारीफ करते थे और मुझे मल्टी टैलेंटेड मानते थे एक्स्ट्राऑर्डिनरी मानते थे तो देखिए जो बचपन में हम बहुत सारा चीज सीखते हैं मजाक मजाक में जो हमें गांव में गांव से समाज से मिलता है वह बहुत काम देता है जीवन में तो आज तक वही चीज काम दे रहा है जो आप लोग बचपन में बोलने की कोशिश करते थे देखकर याद करने की कोशिश करते थे वहीं बाद में आपके जीवन को बढ़ावा देती है आपके जीवन को मिसाल बनाती है तो बस यही है धन्यवाद

bachpan mein bahut saree ghatnaye hai jisko abhi tak hum nahi bhool paye hai yah ghatna ke bare mein main aapko bataana chahta hoon shaam ke time gaon mein jab hum log rehte the chote the toh shaam ke time sabhi log hamare chhat par aate the upar aur 245 dost hum log wahi par sote the ek ek ladka tha uska mama gaon mere gaon hai vaah apne ghar aata tha lekin jab aata tha apne mama ke ghar lekin vaah mere ghar jata tha mere ghar hi aata tha khana khaata tha aur hum log ke saath hi sota tha hum log chilla chilla ke tez tez bolkar dialogue bolte the sole ka aur bhi bahut saree Movies ka toh bachpan mein hum log bolte the aur jab main college mein gaya toh wahi sab main accha se bolne laga tha jab main bolta tha toh taliyan bajati thi mere dost bahut tareef karte the aur mujhe multi talented maante the extraordinary maante the toh dekhiye jo bachpan mein hum bahut saara cheez sikhate hai mazak mazak mein jo hamein gaon mein gaon se samaj se milta hai vaah bahut kaam deta hai jeevan mein toh aaj tak wahi cheez kaam de raha hai jo aap log bachpan mein bolne ki koshish karte the dekhkar yaad karne ki koshish karte the wahi baad mein aapke jeevan ko badhawa deti hai aapke jeevan ko misal banati hai toh bus yahi hai dhanyavad

बचपन में बहुत सारी घटनाएं हैं जिसको अभी तक हम नहीं भूल पाए हैं यह घटना के बारे में मैं आपक

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  360
WhatsApp_icon
user

Chaina Karmakar

Spiritual Healer & Life Coach

1:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन में या बचपन में कई घटनाएं ऐसी होती है जो कि deep-rooted हो जाती है और इंसान जो उसको भूल नहीं पाता है और अपनी जिंदगी जो है उसी के सहारे उसी गांव के सहारे लाइफ को आगे बढ़ते हुए देखता है जिसके चलते फ्यूचर भी इन पार्क होता है फिर भी बात करता है तो बचपन की ऐसी कई घटनाएं होती है इंसान मरते दम तक नहीं बोलता है वह सबसे पहले जरूरी है ऐसी घटनाओं को जब आप होश संभाला तो सबसे पहले उनका एड्रेस करना चाहिए कि यह घटनाएं जो है आज मेरे प्रेग्नेंट को भी विचलित कर रही है मेरे प्रेजेंट को इंपैक्ट करें या डिस्टर्ब कर रही है तो बहुत जरूरी है उन घटनाओं को एड्रेस करना और उन से निजात पाना था कि आपका प्रजेंट अच्छा हो सके और साथ में प्रेजेंट अच्छा हो जाएगा तो फ्यूचर ऑटोमेटेकली सुधर जाएगा कई बार कुछ कुछ घटनाएं होती है जो कि जिंदगी भर के लिए कार दे जाती है और लोग ही नहीं कर पाते हैं जिसके चलते लोगों को लाइफ लोंग इन से जूझना पड़ता है और उनकी सोच भी उसी तरीके से होती है और कोशिश भी वैसे ही होते हैं लेकिन नॉट ट्रस्ट पीपल कैन नॉट लीव लाइक विद फुल ऑफ फ्लावर एंड टूरिज्म डिपार्टमेंट के रहते उस घटना में हटके रहते हैं तो बेहतर हमेशा ऐसा होगा कि बचपन कि जो घटनाएं होती है बस लंबे समय तक भाव पैदा कर देती है तो जरूरी है उनका एड्रेस करना अगर आप अकेले नहीं कर पा रहे हैं तो किसी की सहायता लीजिए हाउ टो ओवरकम द एंड ऑफ चाइल्डहुड

jeevan mein ya bachpan mein kai ghatnaye aisi hoti hai jo ki deep rooted ho jaati hai aur insaan jo usko bhool nahi pata hai aur apni zindagi jo hai usi ke sahare usi gaon ke sahare life ko aage badhte hue dekhta hai jiske chalte future bhi in park hota hai phir bhi baat karta hai toh bachpan ki aisi kai ghatnaye hoti hai insaan marte dum tak nahi bolta hai vaah sabse pehle zaroori hai aisi ghatnaon ko jab aap hosh sambhala toh sabse pehle unka address karna chahiye ki yah ghatnaye jo hai aaj mere pregnant ko bhi vichalit kar rahi hai mere present ko impact kare ya disturb kar rahi hai toh bahut zaroori hai un ghatnaon ko address karna aur un se nijat paana tha ki aapka present accha ho sake aur saath mein present accha ho jaega toh future atometekli sudhar jaega kai baar kuch kuch ghatnaye hoti hai jo ki zindagi bhar ke liye car de jaati hai aur log hi nahi kar paate hain jiske chalte logo ko life long in se jujhna padta hai aur unki soch bhi usi tarike se hoti hai aur koshish bhi waise hi hote hain lekin not trust pipal can not leave like with full of flower and tourism department ke rehte us ghatna mein hatake rehte hain toh behtar hamesha aisa hoga ki bachpan ki jo ghatnaye hoti hai bus lambe samay tak bhav paida kar deti hai toh zaroori hai unka address karna agar aap akele nahi kar paa rahe hain toh kisi ki sahayta lijiye how toe ovarakam the and of childhood

जीवन में या बचपन में कई घटनाएं ऐसी होती है जो कि deep-rooted हो जाती है और इंसान जो उसको भ

Romanized Version
Likes  82  Dislikes    views  1762
WhatsApp_icon
user

Dr. Jitubhai Shah

Friend, Philosopher and Guide

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं पाटन में पढ़ता था वीडियो स्कूल में और जैन बोर्डिंग में टॉप 10 फीत रोड में एक रेडियो नाटक में भाग लिया था भक्त नरसी मेहता और में नरसी मेहता का रोल अदा किया था और उसके लिए हमको अहमदाबाद जाना पड़ा था तो मेरी आवाज की बहुत प्रशंसा की गई थी इसी साल में शिक्षक दिन के दिन माई दसवें ही स्टैंडर्ड में टीचर बनना था और हमारे स्टैंडर्ड में ही मुझे हमारे झारखंड के सामने सब को पढ़ाया था और बहुत अच्छी तरह से मैं पढ़ा लिखा था उसमें मैंने कौन से कपड़े पहने थे किस तरह से मैं बोला था कैसे घूमने गया था इस सब मुझे याद है तो वो टाइम बहुत बहुत खुशी हुई थी कोई दो घटना है मुझे याद है थैंक यू

main patan mein padhata tha video school mein aur jain boarding mein top 10 feet road mein ek radio natak mein bhag liya tha bhakt narasi mehta aur mein narasi mehta ka roll ada kiya tha aur uske liye hamko ahmedabad jana pada tha toh meri awaaz ki bahut prashansa ki gayi thi isi saal mein shikshak din ke din my dasven hi standard mein teacher banna tha aur hamare standard mein hi mujhe hamare jharkhand ke saamne sab ko padhaya tha aur bahut achi tarah se main padha likha tha usme maine kaunsi kapde pehne the kis tarah se main bola tha kaise ghoomne gaya tha is sab mujhe yaad hai toh vo time bahut bahut khushi hui thi koi do ghatna hai mujhe yaad hai thank you

मैं पाटन में पढ़ता था वीडियो स्कूल में और जैन बोर्डिंग में टॉप 10 फीत रोड में एक रेडियो ना

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  1434
WhatsApp_icon
user
1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरी जिंदगी में मेरे बचपन में एक ऐसी घटना घटी जो शायद कभी नहीं बुलाई जा सकती कोई अपना खोया है मैंने अपनी इस बचपन में और आज भी अगर कुछ भी ऐसा खुशी का माहौल आता है तो उनकी उनका ना होना इतना करता है ना कि क्या बताऊं हमें कभी नहीं भुला सकती मेरे मतलब मेरे रोल मॉडल थे वह जिंदगी के मेरे भाई देखा हर किसी के साथ उनका इतना अच्छा लिसन था था कि वह मतलब पढ़ाई को भी अपना बना लेते थे अमेरिकास में नहीं थे बट उनसे इतना लगाव था उनके जाने के बाद ऐसा लग रहा है ऐसा लगता था कि आप कुछ नहीं है तो यह बहुत ही ऐसी दुखद घटना थी जिसे मैं कभी नहीं भुला पाऊंगी ऐसा लगता है उस घटना नहीं कुछ लूट लिया जिंदगी से कभी हमारे साथ नहीं है लेकिन उनकी यादें हर वक्त मेरे साथ है चंदन की डेथ कैसे हुई किसने की सोचते हो मेरा खून खौल उठता है का मर्डर हुआ था और मैं यह बात कैसे भुल जा मैं उनकी हत्यारों को जैसे ही देखती हूं मेरे मन में खून खौल उठता है कि उन को जान से मार दो मार नहीं सकते ना क्योंकि यह मेरे हाथ में नहीं है बट हमेशा मेरा मन उनके लिए गंदा ही सोचता है मेरे भाई को जिस तरह मारा गया मेरा सोच बदलती दुनिया कि मैं नहीं सोचती कि दुनिया में कोई ऐसा भी हो सकता है तो यह बुरा इंसीडेंट था मेरी लाइफ का जिसे मैं कभी नहीं भुला पाऊंगी आए हो ऐसा किसी के साथ ना हो

meri zindagi mein mere bachpan mein ek aisi ghatna ghati jo shayad kabhi nahi bulaai ja sakti koi apna khoya hai maine apni is bachpan mein aur aaj bhi agar kuch bhi aisa khushi ka maahaul aata hai toh unki unka na hona itna karta hai na ki kya bataun hamein kabhi nahi bhula sakti mere matlab mere roll model the vaah zindagi ke mere bhai dekha har kisi ke saath unka itna accha listen tha tha ki vaah matlab padhai ko bhi apna bana lete the americas mein nahi the but unse itna lagav tha unke jaane ke baad aisa lag raha hai aisa lagta tha ki aap kuch nahi hai toh yah bahut hi aisi dukhad ghatna thi jise main kabhi nahi bhula paungi aisa lagta hai us ghatna nahi kuch loot liya zindagi se kabhi hamare saath nahi hai lekin unki yaadain har waqt mere saath hai chandan ki death kaise hui kisne ki sochte ho mera khoon khaul uthata hai ka murder hua tha aur main yah baat kaise bhul ja main unki hatyaron ko jaise hi dekhti hoon mere man mein khoon khaul uthata hai ki un ko jaan se maar do maar nahi sakte na kyonki yah mere hath mein nahi hai but hamesha mera man unke liye ganda hi sochta hai mere bhai ko jis tarah mara gaya mera soch badalti duniya ki main nahi sochti ki duniya mein koi aisa bhi ho sakta hai toh yah bura insident tha meri life ka jise main kabhi nahi bhula paungi aaye ho aisa kisi ke saath na ho

मेरी जिंदगी में मेरे बचपन में एक ऐसी घटना घटी जो शायद कभी नहीं बुलाई जा सकती कोई अपना खोय

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  165
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!