ऐसा क्या कारण है की मर्दों को अपनी पत्नी से ज़्यादा ख़ूबसूरत दूसरों की बीवियाँ लगती हैं? औरतों के साथ ऐसा क्यों नहीं होता?...


user

Anjana Baliga

Counselor

2:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसके ना बहुत सारे कारण हैं जबकि पैदा होता है तो उसको बहुत सारे चीजों का समावेश होता है जो बचपन से सीरियल देखते आया है सास बहू के सीरियल और राजा महाराजाओं के सीरियल आपने पुराने जमाने में देखा होगा विक्रम बेताल राजा उस्मान इस मानसिकता ऐसी हो जाती है कि एक राजा की 1 से अधिक पत्नियां हैं और एक औरत एक ही पत्नी की बन के रह जाती है जैसे कि राजा राम के साथ हुआ औरतों की भावनाएं जो होती है वह एक के साथ ही जुड़ी होती हैं अन्य के साथ नहीं क्योंकि उसका ह्रदय बड़ा कोमल होता है और वह एक से अधिक को अपने दिल में नहीं रख सकती क्योंकि उसको लगता है कि एक से ही मेरा जो होना है वही बेहतर है परंतु पुरुषों का यह होता है उनका ह्रदय थोड़ा सा क्या कहते हैं लालसा से भरा होता है वह सोचते हैं कि मैं एक से अधिक रखूंगा तो ही फायदा में रहूंगा बहुत कम पुरुष होते हैं जो राजाराम की तरह जीवन जीना चाहते हैं कि एक ही पथरी के वह बन के रहना चाहते हैं और वह दूसरी स्त्रियों को भी परचरी के नजर से देखते हैं परंतु यह सारी मानसिकता जब हम मीडिया सोशल मीडिया जो सब चैनल देखते हैं तो वह लालसा जो है वह बाहर आती है जैसे बहुत सारे इंटरनेट में कौन साइड सेक्सी वीडियोस यह सब देखकर उनके अंदर की जो हार्मोन से उनकी बढ़ जाती है इस कारण से जो मर्द होते हैं वह अधिक उत्तेजित होते हैं और दूसरे औरतों की तरफ से बीवियों की तरफ हो जाता देखते हैं परंतु औरत जो है इन सब चीजों को बकवास मानती है और वह सोचती है नहीं एक ही ठीक है मेरे जीवन और वही मेरा उद्धार करेगा और वह अपना शारीरिक संबंध किसी और के साथ रखना भी नहीं चाहती उसके लिए एक ही प्राप्त होता है क्योंकि वही उसको जब सुख दे दूसरे से सुख की लालसा नहीं होती परंतु यह पुरुषों में कम होता है यह उनके हार्मोन की वजह से उनके अंदर जो हार्मोन होते हैं ऊपर नीचे होने के कारण उनकी लालसा बढ़ती रहती हैं परंतु जो व्यक्ति रोज हो गया बस और यह सब ध्यान पूजा करता है वह अपने मन को नियंत्रित कर लेता है और वो एक ही के साथ खुश रहने की कोशिश करता है तो दुनिया में सभी प्रकार के लोग हैं जो उन का मेन कारण तो है मीडिया और वह हार्मोन के अंदर का प्रभाव ऊपर नीचे होता रहता है आशा करती हूं

iske na bahut saare karan hain jabki paida hota hai toh usko bahut saare chijon ka samavesh hota hai jo bachpan se serial dekhte aaya hai saas bahu ke serial aur raja maharajaon ke serial aapne purane jamane me dekha hoga vikram betal raja usman is mansikta aisi ho jaati hai ki ek raja ki 1 se adhik patniya hain aur ek aurat ek hi patni ki ban ke reh jaati hai jaise ki raja ram ke saath hua auraton ki bhaavnaye jo hoti hai vaah ek ke saath hi judi hoti hain anya ke saath nahi kyonki uska hriday bada komal hota hai aur vaah ek se adhik ko apne dil me nahi rakh sakti kyonki usko lagta hai ki ek se hi mera jo hona hai wahi behtar hai parantu purushon ka yah hota hai unka hriday thoda sa kya kehte hain lalasa se bhara hota hai vaah sochte hain ki main ek se adhik rakhunga toh hi fayda me rahunga bahut kam purush hote hain jo rajaram ki tarah jeevan jeena chahte hain ki ek hi pathari ke vaah ban ke rehna chahte hain aur vaah dusri sthreeyon ko bhi parchari ke nazar se dekhte hain parantu yah saari mansikta jab hum media social media jo sab channel dekhte hain toh vaah lalasa jo hai vaah bahar aati hai jaise bahut saare internet me kaun side sexy videos yah sab dekhkar unke andar ki jo hormone se unki badh jaati hai is karan se jo mard hote hain vaah adhik uttejit hote hain aur dusre auraton ki taraf se beeviyon ki taraf ho jata dekhte hain parantu aurat jo hai in sab chijon ko bakwas maanati hai aur vaah sochti hai nahi ek hi theek hai mere jeevan aur wahi mera uddhar karega aur vaah apna sharirik sambandh kisi aur ke saath rakhna bhi nahi chahti uske liye ek hi prapt hota hai kyonki wahi usko jab sukh de dusre se sukh ki lalasa nahi hoti parantu yah purushon me kam hota hai yah unke hormone ki wajah se unke andar jo hormone hote hain upar niche hone ke karan unki lalasa badhti rehti hain parantu jo vyakti roj ho gaya bus aur yah sab dhyan puja karta hai vaah apne man ko niyantrit kar leta hai aur vo ek hi ke saath khush rehne ki koshish karta hai toh duniya me sabhi prakar ke log hain jo un ka main karan toh hai media aur vaah hormone ke andar ka prabhav upar niche hota rehta hai asha karti hoon

इसके ना बहुत सारे कारण हैं जबकि पैदा होता है तो उसको बहुत सारे चीजों का समावेश होता है जो

Romanized Version
Likes  458  Dislikes    views  5221
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

P k yadav

Govt Job

2:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है ऐसा क्या कारण है कि मर्दों को अपनी पत्नी से ज्यादा खूबसूरत दूसरों की बीवियां लगती है औरतों के साथ ऐसा क्यों नहीं है देखो ऐसा कुछ भी नहीं है जो आप कह रहे हैं ऐसा औरतों के साथ भी होता है लेकिन हर औरत और हर मर्द एक्शन दिल में अरमान सब के सब कुछ होते हैं लेकिन कुछ उसे दबा देते हैं कुछ अपनी जिम्मेदारियों को और अपनी इज्जत को ख्याल रखते हुए उन चीजों से दूर हर औरत हर आदमी एक सा नहीं होता है आप जो बात कर रहे हैं कि अपनी बीवी से ज्यादा दूसरे की भी देखो उसमें होता क्या है हर आदमी को जब एक नया चेहरा नजर आता है क्योंकि जो औरत है वह ऐसा रूप बनाया गया है भगवान ने मोहित की किसी भी इंसान को मोहल्ले हटके चेहरा नजर आता है तो इंसान का थोड़ा हो जाता है उसमें रूप से टाइप हो जाना निश्चित हर एक इंसान को थोड़ा सा लगता है क्योंकि किसी एक चीज को हम कंटिन्यूज अब देखते हैं या करते हैं और उसके हटके हमारी लाइफ में कुछ थोड़ा सा लाभ होता है तो हमें थोड़ा सा झटका लगता है चाय भारत मैच में क्या करती है अपनी इज्जत अपने परिवार को मदद नजरअंदाज न करते हुए उस चीज का ख्याल रखिए और बहुत कुछ सोच वहीं कई मर्ज क्या करते हैं जो अपनी शान समझते हैं और बोलते कुछ नहीं होता अगर होगा भी तो मेरा क्या करता है तो वह कदम उठा चाहते हैं मैं कहता हूं जो अपनी बीवी है वह सब से हम बाहर जहां भी जाते हैं एक्स्ट्रा खर्चा करते हैं एक्स्ट्रा उसके नखरे जलते हैं और बदले में हमें वह भी नहीं मिल पाता जो हमारी बीवी हमें कि हम अपनी बीवी को उल्टा डांटते हैं फटकार ते हैं हर काम का सब कुछ कर आते हैं उसके बावजूद भी हमसे हर एक तरह से हर एक चीज मंगवा दे हमारी सारी प्रॉब्लम हमारे सारे ऐसो आराम में 1 बॉल पर तो मैं नहीं कहूंगा कि हमें किसी और औरत की जरूरत पढ़नी चाहिए क्योंकि जो हमारी है अगर हम उसे थोड़ा सा भी प्यार दे तो हमारे लिए किसके पास में जैनाचार्य उससे भी अच्छी बन के उससे भी सुंदर बन के सुंदर ता केवल उसके कर्म और उसके बोलचाल से

aapka sawaal hai aisa kya karan hai ki mardon ko apni patni se zyada khoobsurat dusro ki biwiyaan lagti hai auraton ke saath aisa kyon nahi hai dekho aisa kuch bhi nahi hai jo aap keh rahe hain aisa auraton ke saath bhi hota hai lekin har aurat aur har mard action dil me armaan sab ke sab kuch hote hain lekin kuch use daba dete hain kuch apni jimmedariyon ko aur apni izzat ko khayal rakhte hue un chijon se dur har aurat har aadmi ek sa nahi hota hai aap jo baat kar rahe hain ki apni biwi se zyada dusre ki bhi dekho usme hota kya hai har aadmi ko jab ek naya chehra nazar aata hai kyonki jo aurat hai vaah aisa roop banaya gaya hai bhagwan ne mohit ki kisi bhi insaan ko mohalle hatake chehra nazar aata hai toh insaan ka thoda ho jata hai usme roop se type ho jana nishchit har ek insaan ko thoda sa lagta hai kyonki kisi ek cheez ko hum continues ab dekhte hain ya karte hain aur uske hatake hamari life me kuch thoda sa labh hota hai toh hamein thoda sa jhatka lagta hai chai bharat match me kya karti hai apni izzat apne parivar ko madad najarandaj na karte hue us cheez ka khayal rakhiye aur bahut kuch soch wahi kai merge kya karte hain jo apni shan samajhte hain aur bolte kuch nahi hota agar hoga bhi toh mera kya karta hai toh vaah kadam utha chahte hain main kahata hoon jo apni biwi hai vaah sab se hum bahar jaha bhi jaate hain extra kharcha karte hain extra uske nakhare jalte hain aur badle me hamein vaah bhi nahi mil pata jo hamari biwi hamein ki hum apni biwi ko ulta dantate hain fatkar te hain har kaam ka sab kuch kar aate hain uske bawajud bhi humse har ek tarah se har ek cheez mangwa de hamari saari problem hamare saare aiso aaram me 1 ball par toh main nahi kahunga ki hamein kisi aur aurat ki zarurat padhani chahiye kyonki jo hamari hai agar hum use thoda sa bhi pyar de toh hamare liye kiske paas me jainacharya usse bhi achi ban ke usse bhi sundar ban ke sundar ta keval uske karm aur uske bolchal se

आपका सवाल है ऐसा क्या कारण है कि मर्दों को अपनी पत्नी से ज्यादा खूबसूरत दूसरों की बीवियां

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  335
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह बेटे माइक्रोसाइट का सिद्धांत की कथाएं एचडी सेक्स के प्रति हमेशा क्षमता है जो पुरुषों की बेटे का मत है अपनी थाली को खारो लागे दूसरी का मिलता इसलिए होता है और मां कैसी है

yah bete maikrosait ka siddhant ki kathaen hd sex ke prati hamesha kshamta hai jo purushon ki bete ka mat hai apni thali ko kharo lage dusri ka milta isliye hota hai aur maa kaisi hai

यह बेटे माइक्रोसाइट का सिद्धांत की कथाएं एचडी सेक्स के प्रति हमेशा क्षमता है जो पुरुषों की

Romanized Version
Likes  498  Dislikes    views  5184
WhatsApp_icon
user

Ashok Bajpai

Rtd. Additional Collector P.C.S. Adhikari

2:09
Play

Likes  155  Dislikes    views  3099
WhatsApp_icon
play
user

Anita Eliza

Founder & Director - WeCare Counseling & Academic Centre

0:55

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पुरुष एक दृश्य में अदृश्य मान व्यक्ति है जिसका अर्थ यह है कि जो चीज देखने में अच्छा लगता है उससे वह आकर्षित हो जाता है पुरुष के लिए भावनात्मक और शारीरिक संबंध जरूरी नहीं है एक साथ चले उनके दिमाग किस तरह से बनाया जाता है कि वह जब वह दूसरी खूबसूरत महिला को देखती है तो उनके खुद के बारे में अच्छा लगता है एक तरह की केमिकल रिएक्शन के वजह से यह होता है इसका यह मतलब नहीं है कि वह दूसरे महीना अपनी पत्नी की तुलना से अधिक सुंदर है क्या वह अपनी पत्नी से प्यार नहीं करते हैं महिला की सोच इससे ऑपोजिट है या विपरीत है उसे सामान्य रूप से आकर्षित होने के लिए इमोशंस या भावनात्मक रूप से एक व्यक्ति के साथ जोड़ना पड़ता है

purush ek drishya mein adrishya maan vyakti hai jiska arth yah hai ki jo cheez dekhne mein accha lagta hai usse vaah aakarshit ho jata hai purush ke liye bhavnatmak aur sharirik sambandh zaroori nahi hai ek saath chale unke dimag kis tarah se banaya jata hai ki vaah jab vaah dusri khoobsurat mahila ko dekhti hai toh unke khud ke bare mein accha lagta hai ek tarah ki chemical reaction ke wajah se yah hota hai iska yah matlab nahi hai ki vaah dusre mahina apni patni ki tulna se adhik sundar hai kya vaah apni patni se pyar nahi karte hain mahila ki soch isse opposite hai ya viprit hai use samanya roop se aakarshit hone ke liye emotional ya bhavnatmak roop se ek vyakti ke saath jodna padta hai

पुरुष एक दृश्य में अदृश्य मान व्यक्ति है जिसका अर्थ यह है कि जो चीज देखने में अच्छा लगता ह

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  57
WhatsApp_icon
user

Harnoor Kour

Psychologist & LLB

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर विमेन मेन ट्रांस्वूमेन का होगा ही होगा क्योंकि जो शादी कराता है जो मुझसे कराता है लेटर बना एंड सोशल मम्मी-पापा सोसायटी अधिकार मामूली घटना को लेकर आते हैं बाद में वोट हो जाती हैं और अपना ज्यादा तेज हो जाती है और फाइनेंशली भी ज्यादा अपना केलकुलेटर हो जाते हैं डरती है तो डरने लग जाता

agar vimen main transwumen ka hoga hi hoga kyonki jo shadi karata hai jo mujhse karata hai letter bana and social mummy papa sociaty adhikaar mamuli ghatna ko lekar aate hain baad mein vote ho jaati hain aur apna zyada tez ho jaati hai aur financially bhi zyada apna Calculator ho jaate hain darti hai toh darane lag jata

अगर विमेन मेन ट्रांस्वूमेन का होगा ही होगा क्योंकि जो शादी कराता है जो मुझसे कराता है लेटर

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  109
WhatsApp_icon
user

gurpreet singh

Computer graduate

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपनी बीवी के हमें दूसरों की बीवी इसलिए अच्छी लगती है क्योंकि हमारी जो बीवी होती है वह हमारे पास ही होती है हमेशा और वह हमारे साथ होती है तो हम इंसान की यही एक कमी क्यों जो इंसान आरती उस टाइम पर अपनी बीवी जितनी भी अच्छी हो ना जितनी भी अच्छी हो हमें दूसरों की बीवी अच्छी लगती है क्योंकि इंसान में एक कमी है कि मतलब जो चीज उसके पास होती है ना उसको अच्छी लगती है जो चीज उसके पास नहीं होती है ना उसको वह अच्छी लगती है तो इसलिए हमारे हमें दूसरों की बीवी ज्यादा अच्छी लगती है

apni biwi ke hamein dusron ki biwi isliye achi lagti hai kyonki hamari jo biwi hoti hai vaah hamare paas hi hoti hai hamesha aur vaah hamare saath hoti hai toh hum insaan ki yahi ek kami kyon jo insaan aarti us time par apni biwi jitni bhi achi ho na jitni bhi achi ho hamein dusron ki biwi achi lagti hai kyonki insaan mein ek kami hai ki matlab jo cheez uske paas hoti hai na usko achi lagti hai jo cheez uske paas nahi hoti hai na usko vaah achi lagti hai toh isliye hamare hamein dusron ki biwi zyada achi lagti hai

अपनी बीवी के हमें दूसरों की बीवी इसलिए अच्छी लगती है क्योंकि हमारी जो बीवी होती है वह हमार

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  108
WhatsApp_icon
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपनी बीवी के बजाए दूसरे की बीवी अच्छी लगती है अपने जो भी बोला यह तो आजकल के समाज में बिल्कुल आइए नॉर्मल बातें क्योंकि आज से कि ऐसा होता है कि आप जिस चीज को आया जिसके साथ है जिसके साथ आप लंबे समय तक रहते हैं रहते हैं तो है उनको वह जो है ज्यादा अच्छे नहीं लगते कि क्या और अगर आप किसी दूसरी चीज को देखते हैं दोस्त या लड़की को देखते हैं दूसरी औरत को देखते हैं तो आपको ज्यादा अच्छी लगी क्योंकि जो आज घर में होती है वह ज्यादातर मतलब आपके साथ होती है तो इसलिए आपकी तो कोई रिश्ता कम हो जाती है और ज्यादा पसंद नहीं आती क्योंकि आप को उसके साथ भेज रहे हैं कोई नहीं आती है तो बिल्कुल आपको नहीं चाहिए आप देखेंगे तो मोबाइल फोन से जो मार्केट में आते हैं और ज्यादा पसंद आती नई नई बाइक पसंद है जो आपके पास बाइक होगी वह नहीं रहेगी तो अच्छी लगेगी जब कोई पुरानी हो गई तो कृपया पुस्तकें यूज़ करके उसकी आदत हो जाती है कि हमें आदत हो गई है तो इसलिए आज जो नई चीज होती वह ज्यादा अच्छी लगती है जो पुरानी होती है वह थोड़ी कम अच्छी लगती हैं

apni biwi ke bajaye dusre ki biwi achi lagti hai apne jo bhi bola yah toh aajkal ke samaaj mein bilkul aaiye normal batein kyonki aaj se ki aisa hota hai ki aap jis cheez ko aaya jiske saath hai jiske saath aap lambe samay tak rehte hain rehte hain toh hai unko vaah jo hai zyada acche nahi lagte ki kya aur agar aap kisi dusri cheez ko dekhte hain dost ya ladki ko dekhte hain dusri aurat ko dekhte hain toh aapko zyada achi lagi kyonki jo aaj ghar mein hoti hai vaah jyadatar matlab aapke saath hoti hai toh isliye aapki toh koi rishta kam ho jaati hai aur zyada pasand nahi aati kyonki aap ko uske saath bhej rahe hain koi nahi aati hai toh bilkul aapko nahi chahiye aap dekhenge toh mobile phone se jo market mein aate hain aur zyada pasand aati nayi nayi bike pasand hai jo aapke paas bike hogi vaah nahi rahegi toh achi lagegi jab koi purani ho gayi toh kripya pustakein use karke uski aadat ho jaati hai ki hamein aadat ho gayi hai toh isliye aaj jo nayi cheez hoti vaah zyada achi lagti hai jo purani hoti hai vaah thodi kam achi lagti hain

अपनी बीवी के बजाए दूसरे की बीवी अच्छी लगती है अपने जो भी बोला यह तो आजकल के समाज में बिल्क

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  46
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
achi biwi ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!