UPSC इग्ज़ाम की तैयारी कहाँ से और कैसे शुरू करूँ?...


play
user
1:47

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब भी आप यूपीएससी के पाठ्यक्रम ईयर सिलेबस की बात करते हैं तो अक्सर एक कहावत कही जाती है कि इस धरती पर सूरज के तले जो कुछ भी है वह यूपीएससी के माध्यम के पाठ्यक्रम का हिस्सा है हालांकि यह बात कही आपने लिखा हुआ है दूसरी बात अगर आप यूपीएससी का नोटिफिकेशन को बात की बात करें या घर आप मुझ को पढ़ा होगा तो यूपीसी एक बात बहुत स्पष्ट रूप से लिखता है तब तुम नोटिफिकेशन या का सिलेबस खाली स्थान पर क्योंकि आपको सामान्य जानकारी होनी चाहिए ऐसी कोई भी जो एक सामान्य पढ़ा लिखा व्यक्ति है सामान्य ग्रेजुएट तो उसका असर होगा उतनी ही जानकारी होनी चाहिए उतना ही होना चाहिए इस बात को ध्यान में रखें विशाल पाठ्यक्रम आपके पास उसकी कोई निश्चित योजना नहीं होती है और उस पाठ्यक्रम से आप बहुत ज्यादा कंफर्टेबल नहीं होते हैं तो सबसे पहली बार पाठ्यक्रम को अच्छे से पढ़े और अलग-अलग खानों को जाने की जो पहले हमसे भी पास है जो मिल के चारों जी एस के पेपर है उसको समझे कौन कौन से टॉपिक से संबंध नहीं है और जो उसको आपको अलग से कटेगा करना होगा और फिर आपको एक-दूसरे को उठाना होगा और उसकी तैयारी कर ली होगी आपको सब कुछ करने की जरूरत नहीं है इसलिए बच्चा रिश्ते से परिचित होना बहुत जरूरी है लेकिन आपको हर विषय पर महारत हासिल करने की जरूरत बिल्कुल नहीं जानकारी चाहिए तो भी आप का काम चल जाएगा

jab bhi aap upsc ke pathyakram year syllabus ki baat karte hain toh aksar ek kahaavat kahi jati hai ki is dharti par suraj ke tale jo kuch bhi hai wah upsc ke maadhyam ke pathyakram ka hissa hai halaki yeh baat kahi aapne likha hua hai dusri baat agar aap upsc ka notification ko baat ki baat karein ya ghar aap mujh ko padha hoga toh UPC ek baat bahut spasht roop se likhta hai tab tum notification ya ka syllabus khaali sthan par kyonki aapko samanya jankari honi chahiye aisi koi bhi jo ek samanya padha likha vyakti hai samanya graduate toh uska asar hoga utani hi jankari honi chahiye utana hi hona chahiye is baat ko dhyan mein rakhen vishal pathyakram aapke paas uski koi nishchit yojana nahi hoti hai aur us pathyakram se aap bahut zyada Comfortable nahi hote hain toh sabse pehli baar pathyakram ko acche se padhe aur alag alag khanon ko jaane ki jo pehle humse bhi paas hai jo mil ke charo ji s ke paper hai usko samjhe kaun kaunsi topic se sambandh nahi hai aur jo usko aapko alag se katega karna hoga aur phir aapko ek dusre ko uthana hoga aur uski taiyari kar li hogi aapko sab kuch karne ki zarurat nahi hai isliye baccha rishte se parichit hona bahut zaroori hai lekin aapko har vishay par maharat hasil karne ki zarurat bilkul nahi jankari chahiye toh bhi aap ka kaam chal jayega

जब भी आप यूपीएससी के पाठ्यक्रम ईयर सिलेबस की बात करते हैं तो अक्सर एक कहावत कही जाती है कि

Romanized Version
Likes  85  Dislikes    views  1337
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!