IAS और IPS भारत की धीमी विकास दर का मुख्य कारण कैसे बन गए हैं?...


user

Anil Bajpai

Writer | Publisher | Investor | Hotelier | Devloper

2:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आईएएस और आईपीएस भारत की धीमी विकास दर का मुख्य कारण कैसे बन गए देखिए उसके दो कारण हैं आईपीएस तू समझी एक प्रशासनिक अधिकारी है आइए जो है वह सिस्टम को कंट्रोल करता है और हमारे देश का कानून में जो संविधान है अब इसमें उसे कुछ आईएस आईपीएस जो हैं आरक्षण के दम पर आईएएस आईपीएस बनते हैं उतने योग्य नहीं होते हैं एक कारण तो यह दूसरा कारण है कि यह इतने कनेक्ट हो जाते हैं कि इन नेताओं की चरण चंपी से फुर्सत नहीं पाते कोई भी आईएस अगर कुछ किसी नेता के खिलाफ बोल दे तो उसका दूसरे दिन ट्रांसफर हो जाता है द प्रॉब्लम है कोई बात नहीं हो सकता है आपके घर हो सकता है बट मजबूरी समझिए खेमका ने आवाज उठाई तो 28 साल की सर्विस में 56 ट्रांसफर काम ही नहीं कर पाता है उसके लिए सिर्फ दोषी नहीं है यह हमारा सिस्टम दूसरी मुख्य कारण लिखिए कागज ले लीजिए लीजिए सबसे बड़ा मुख्य कारण भारतीय राजनीति भारत की गंदी राजनीति आईपीएस अधिकारी किसी नेता को गिरफ्तार कर ले ट्रांसफर बन जाते हैं उनको पता है हमारा ट्रांसफर नहीं होना चाहिए हम बीवी बच्चों के साथ रहना चाहिए जो नेचर है उस हिसाब से यह लोग मजबूर होकर काम कर रहे हैं यही कहूंगा कि हमारे संविधान को सुधारने की जरूरत है नेताओं के चंगुल से मुक्त करने की जरूरत है अब आप समझिए खेलता जैसा ईमानदार व्यक्ति 56 ट्रांसफर जेल चुका है ऐसे कितने अधिकारी है जिनके 5050 ट्रांसफर 25 साल की नौकरी में होते मतलब एक व्यक्ति डिपार्टमेंट में चैनल अधिकारियों को पकड़ते हैं बीच-बीच साल तक केस चलता रहता है वह लोग भी सोचते भी अकेश क्या करना इस से अच्छा है कि ले देके निपटा लो किस करेंगे तो जब तक जीवन रहेगा कोर्ट में पेशी भरने जाना पड़ता है

IAS aur ips bharat ki dheemi vikas dar ka mukhya karan kaise ban gaye dekhiye uske do karan hain ips tu samjhi ek prashaasnik adhikari hai aaiye jo hai vaah system ko control karta hai aur hamare desh ka kanoon me jo samvidhan hai ab isme use kuch ias ips jo hain aarakshan ke dum par IAS ips bante hain utne yogya nahi hote hain ek karan toh yah doosra karan hai ki yah itne connect ho jaate hain ki in netaon ki charan champi se phursat nahi paate koi bhi ias agar kuch kisi neta ke khilaf bol de toh uska dusre din transfer ho jata hai the problem hai koi baat nahi ho sakta hai aapke ghar ho sakta hai but majburi samjhiye khemka ne awaaz uthayi toh 28 saal ki service me 56 transfer kaam hi nahi kar pata hai uske liye sirf doshi nahi hai yah hamara system dusri mukhya karan likhiye kagaz le lijiye lijiye sabse bada mukhya karan bharatiya raajneeti bharat ki gandi raajneeti ips adhikari kisi neta ko giraftar kar le transfer ban jaate hain unko pata hai hamara transfer nahi hona chahiye hum biwi baccho ke saath rehna chahiye jo nature hai us hisab se yah log majboor hokar kaam kar rahe hain yahi kahunga ki hamare samvidhan ko sudhaarne ki zarurat hai netaon ke changul se mukt karne ki zarurat hai ab aap samjhiye khelta jaisa imaandaar vyakti 56 transfer jail chuka hai aise kitne adhikari hai jinke 5050 transfer 25 saal ki naukri me hote matlab ek vyakti department me channel adhikaariyo ko pakadten hain beech beech saal tak case chalta rehta hai vaah log bhi sochte bhi akesh kya karna is se accha hai ki le deke nipta lo kis karenge toh jab tak jeevan rahega court me pepsi bharne jana padta hai

आईएएस और आईपीएस भारत की धीमी विकास दर का मुख्य कारण कैसे बन गए देखिए उसके दो कारण हैं आईपी

Romanized Version
Likes  121  Dislikes    views  1730
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Dr. Rajiv Mishra

MD at Kautilya Study Circle

0:43

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बेटा होता है जो मनुष्य होता है

beta hota hai jo manushya hota hai

बेटा होता है जो मनुष्य होता है

Romanized Version
Likes  143  Dislikes    views  1536
WhatsApp_icon
user
0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मी विकास दर के कारण बैंक है जो पुलिस वाले अक्षर में बिजली का काम लादेन कहां पर कल कारखाने इंडस्ट्री नहीं आएगा तो ग्रोथ रेट स्लोडाउन होगा जैसे मान लो कहीं पर लाइन आदत खराब है जैसे वेस्ट बंगाल में जो वहां पर कोई नहीं है तो वहां पर अगर नक्सल अफेक्टेड एरिया लाना ठीक नहीं है तो वहां पर कोई दिल दिया कोई डेवलपमेंट वर्क नहीं होता तो

me vikas dar ke kaaran bank hai jo police wale akshar mein bijli ka kaam laden kahaan par kal karkhane industry nahi aaega toh growth rate slodaun hoga jaise maan lo kahin par line aadat kharaab hai jaise west bengal mein jo wahan par koi nahi hai toh wahan par agar naxal affected area lana theek nahi hai toh wahan par koi dil diya koi development work nahi hota toh

मी विकास दर के कारण बैंक है जो पुलिस वाले अक्षर में बिजली का काम लादेन कहां पर कल कारखाने

Romanized Version
Likes  140  Dislikes    views  1858
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

धीमी विकास दर के कई कारण होते हैं गूगल पॉपुलेशन सबसे ज्यादा एक कारण है और जो सिस्टमिक प्रॉब्लम सेंड जैसे सिस्टम में वह सिस्टम में सिर्फ आईएफएससी कोड जिंदगी में बहुत से पाठ से बहुत सी चीजें एलिमेंट्स कई होते हैं मिनिस्टर पॉलिटिशन स्टेट गवर्मेंट होती है तो हमें देखना है कि पूरा ही सिस्टम कैसे हो कर कॉल करते हैं हम डाउनसाइजिंग करें थोड़ी सी कमेंट में ज्यादा लोग भी ना हो जो हमारी उम्र बॉर्डर होती है जब मैं तो फिर उसके बाद वह उनकी सैलरी नहीं थी जिसमें ज्यादा चला जाता है लेकिन हां आईएस ऑफिसर खासतौर पर आईपीएस ऑफिसर का फंक्शन शादी से छुट्टी से करें और टाइम बाउंड मैंने कुछ इंप्लीमेंट करने की कोशिश करें और जो जहां तक हो सके अपने डिपार्टमेंट में अपने सिस्टम में ट्रांसपेरेंसी लाइन सुधार लाएं और मोटिवेशन यहां मोटिवेशन होता है जैसे मोटिवेशंस की करूं पूरे इंडिया में जाता हूं वैसे तुम काफी है आपकी टाइपिंग बहुत ज्यादा लोग थोड़ा सा कम है भाई ऐसा होता रहेगा तो फिर सारा विशेष अंगूठी बैठेगा

dheemi vikas dar ke kai karan hote hain google population sabse zyada ek karan hai aur jo sistamik problem send jaise system mein vaah system mein sirf IFSC code zindagi mein bahut se path se bahut si cheezen elements kai hote hain minister politician state government hoti hai toh hamein dekhna hai ki pura hi system kaise ho kar call karte hain hum daunasaijing karen thodi si comment mein zyada log bhi na ho jo hamari umr border hoti hai jab main toh phir uske baad vaah unki salary nahi thi jisme zyada chala jata hai lekin haan ias officer khaasataur par ips officer ka function shadi se chhutti se karen aur time bound maine kuch implement karne ki koshish karen aur jo jahan tak ho sake apne department mein apne system mein transparency line sudhaar layen aur motivation yahan motivation hota hai jaise motiveshans ki karun poore india mein jata hoon waise tum kafi hai aapki typing bahut zyada log thoda sa kam hai bhai aisa hota rahega toh phir saara vishesh anguthi baithega

धीमी विकास दर के कई कारण होते हैं गूगल पॉपुलेशन सबसे ज्यादा एक कारण है और जो सिस्टमिक प्रॉ

Romanized Version
Likes  217  Dislikes    views  4407
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!