UPSC परीक्षा की तैयारी के दौरान अनिश्चितता और अपार भय के चरणों को रोकने के लिए क्या किया जा सकता है?...


user
3:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसा जो आपका प्रश्न है उस प्रश्नों के संदर्भ में जो मेरी अपनी व्यक्तिगत सलाह और सुझाव है वह यही है की वीर तुम बढ़े चलो धीर तुम बढ़े चलो आगे पहाड़ हो सिंह की दहाड़ हो तुम कभी रुको नहीं तुम कभी झुको नहीं कभी भी जब भी आप लक्ष्य का निर्धारण करते हैं और उस लक्ष्य रूपी मंजिल को प्राप्त करने के लिए आप जब अपने गृह जीवन का त्याग करके निकलते हैं मंजिल की तलाश में तो इतिहास गवाह रहा है मंजिल प्राप्त करने वाले की जो मार्ग होता है मंदिर प्राप्त करने का जो मार्ग होता है वह हमेशा फूलों की है या फिर सजा नहीं होता है बल्कि उस मार्ग में बीच में बड़े-बड़े कंकड़ पत्थर दुर्गम मार्ग कांटे आते जाते हैं लेकिन उसमें भी देखना है कि क्या तुम अभी भी बढ़ रहे हो कि रुक गए हो और उन्हीं पढ़ाओ के बाद उन्हीं पढ़ाओ के बाद ही मंदिर द्वार पर बैठी आपका इंतजार कर रही होती है कि प्रीतम कब आओगे और वहीं से कई बार होता है कि भटकाव की दौड़ से ही हम वापस आ जाते हैं तैयारी बंद कर देते हैं भय के माहौल से अपने को रोक लेते हैं अरे हारेगा की जीतेगा वही जो मैदान में होगा हरे का वही जो मैदान में होगा यहां तो आधे से अधिक लोग केवल बंद कमरे में या बैठकर के केवल क्या लगाते हैं केवल सोचकर हारती और जीते हैं तो ध्यान में रखना पूछ कर हार और जीत का प्रतिफल कभी नसीब नहीं होता है हार और जीत का वास्तविक लाभार्थी या वास्तविक बहादुर सैनिक तो वही जो मैदान में होगा जो हारेगा उसके जीत में आने में और ही आनंद आएगा और जीत की तरफ और सुधर कर बढ़ेगा तो हमेशा ध्यान में रखना कि किसी कार्य को आप करोगे तो मार्ग में अनिश्चितता और भाई जरूर आएंगे क्या इन भाई रुपए अज्ञानता और अनिश्चितता को आप अपने ज्ञान रूपी तरंग से तोड़ पाओगे कि नहीं गांधी जी ने एक वाक्य कहा था कि जब भी आपको लगे कि जीवन में कुछ कठिनाई आ रही है मैं इकलौता ऐसा हो जो गरीब हूं स्थिति गड़बड़ हो गई है मुझे डर लग रहा है ऐसा होगा कि नहीं होगा आप सोचिए कि समाज में जो आपके आसपास कुछ ऐसे होंगे जो आपसे बहुत ज्यादा माली स्थिति में होंगे यानी एग्री स्थिति में होंगे कि दो वक्त की रोटी नसीब नहीं होती ऐसे संदर्भ में आप सोचकर यही पाएंगे कि मैं इनसे तो बेहतर से बेहतर केवल सोचिए मत अगर आप उनसे बेहतर हैं तो करके भी दिखाइए हौसले बुलंद है तो मंजिलें भी करीब होती है और फिर मैंने बस इतना ही कहना है कि सफलता सुविधाओं का मोहताज कभी नहीं हुई है और ना होगी

jaisa jo aapka prashna hai us prashnon ke sandarbh me jo meri apni vyaktigat salah aur sujhaav hai vaah yahi hai ki veer tum badhe chalo dheer tum badhe chalo aage pahad ho Singh ki dahad ho tum kabhi ruko nahi tum kabhi jhuko nahi kabhi bhi jab bhi aap lakshya ka nirdharan karte hain aur us lakshya rupee manjil ko prapt karne ke liye aap jab apne grah jeevan ka tyag karke nikalte hain manjil ki talash me toh itihas gavah raha hai manjil prapt karne waale ki jo marg hota hai mandir prapt karne ka jo marg hota hai vaah hamesha fulo ki hai ya phir saza nahi hota hai balki us marg me beech me bade bade kankad patthar durgam marg kante aate jaate hain lekin usme bhi dekhna hai ki kya tum abhi bhi badh rahe ho ki ruk gaye ho aur unhi padhao ke baad unhi padhao ke baad hi mandir dwar par baithi aapka intejar kar rahi hoti hai ki pritam kab aaoge aur wahi se kai baar hota hai ki bhatkaav ki daudh se hi hum wapas aa jaate hain taiyari band kar dete hain bhay ke maahaul se apne ko rok lete hain are harega ki jitega wahi jo maidan me hoga hare ka wahi jo maidan me hoga yahan toh aadhe se adhik log keval band kamre me ya baithkar ke keval kya lagate hain keval sochkar harti aur jeete hain toh dhyan me rakhna puch kar haar aur jeet ka pratiphal kabhi nasib nahi hota hai haar aur jeet ka vastavik labharthi ya vastavik bahadur sainik toh wahi jo maidan me hoga jo harega uske jeet me aane me aur hi anand aayega aur jeet ki taraf aur sudhar kar badhega toh hamesha dhyan me rakhna ki kisi karya ko aap karoge toh marg me anishchitata aur bhai zaroor aayenge kya in bhai rupaye agyanata aur anishchitata ko aap apne gyaan rupee tarang se tod paoge ki nahi gandhi ji ne ek vakya kaha tha ki jab bhi aapko lage ki jeevan me kuch kathinai aa rahi hai main iklauta aisa ho jo garib hoon sthiti gadbad ho gayi hai mujhe dar lag raha hai aisa hoga ki nahi hoga aap sochiye ki samaj me jo aapke aaspass kuch aise honge jo aapse bahut zyada maali sthiti me honge yani agree sthiti me honge ki do waqt ki roti nasib nahi hoti aise sandarbh me aap sochkar yahi payenge ki main inse toh behtar se behtar keval sochiye mat agar aap unse behtar hain toh karke bhi dikhaiye hausale buland hai toh manjilen bhi kareeb hoti hai aur phir maine bus itna hi kehna hai ki safalta suvidhaon ka mohtaaz kabhi nahi hui hai aur na hogi

जैसा जो आपका प्रश्न है उस प्रश्नों के संदर्भ में जो मेरी अपनी व्यक्तिगत सलाह और सुझाव है व

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  107
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!