जब आपने पहली बार हिंदू अखबार पढ़ना शुरू किया तो आपको क्या महसूस हुआ?...


play
user

Yognik Baghel

Civil Servant - IRS

1:45

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शुरुआत में तो पेपर पढ़ने में दिक्कत होती है काफी टाइम ज्यादा पर एक पेपर पढ़ने में कभी-कभी टाइटल किन किन घंटे में लगते थे मगर ऐसा हो गया क्या पढ़ना है पढ़ना होता है लेकिन मुझे हंस पतला स्मार्टफोन इंटरनेट तो कभी खुशी और यूट्यूब पर कुछ देख लिया कभी किसी और को सेंड करना गलत नहीं होती है कि हम पढ़ते हैं और इतना जल्दी हो जाता है थोड़ा पढ़ेंगे उतना लगेगा कि आप जो भी पढ़ा हुआ हमेशा याद रखना चाहिए टेशन प्रशिक्षण प्रतिवेदन कल भी करना है पर शादी करने पर बच्चा गिर गया था कि मुझे थी बाद में वीसीडी पढ़ने की किताब 1921 1415 आपको देखने लगे

shuruaat mein toh paper padhne mein dikkat hoti hai kaafi time zyada par ek paper padhne mein kabhi kabhi title kin kin ghante mein lagte the magar aisa ho gaya kya padhna hai padhna hota hai lekin mujhe hans patla smartphone internet toh kabhi khushi aur youtube par kuch dekh liya kabhi kisi aur ko send karna galat nahi hoti hai ki hum padhte hain aur itna jaldi ho jata hai thoda padhenge utana lagega ki aap jo bhi padha hua hamesha yaad rakhna chahiye tension prashikshan prativedan kal bhi karna hai par shadi karne par baccha gir gaya tha ki mujhe thi baad mein VCD padhne ki kitab 1921 1415 aapko dekhne lage

शुरुआत में तो पेपर पढ़ने में दिक्कत होती है काफी टाइम ज्यादा पर एक पेपर पढ़ने में कभी-कभी

Romanized Version
Likes  161  Dislikes    views  1867
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बात तो करनी पड़ती बारे में जानकारी

baat toh karni padti bare me jaankari

बात तो करनी पड़ती बारे में जानकारी

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  88
WhatsApp_icon
user

Swami Harihar

Anhadyogi,Humanitarian,Meditation guru,Founder International Anhadyog Foundation,& Ganga Andolan(Mission Harihar)SWAMI HARIHAR CHAITNAYA PARAMHANS MISSION TRUST

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तों जब पहली बार अखबार निकाली गई ना तो उसका मकसद ना तो हिंदू था ना मुसलमान था अखबार निकाली गई देश की आजादी के लिए तीर निकालो ना तलवार निकालो जब जुल्म कंपिल हो तो अखबार निकालो यह बहुत पुरानी है 18 साल पहले जब पहली बार कोलकाता से अखबार प्रकाशित हुआ तो 1819 के आसपास विजय जाता है यह मैंने पढ़ा तो है सबसे पहला जो आंदोलन किया गया वह इसी तरह से किया गया और उसको यही कहा गया क्रांतिवीर निकालो ना तलवार निकालो जब जुल्म गंभीर हो तो अखबार निकालो तो दोस्तों हिंदू अखबार और मुस्लिम अखबार मैं किसी अखबार को अखबार नहीं मानता क्योंकि अखबारी कभी किसी की निजी नहीं होती अखबारों का मतलब समाचार का मतलब दुनिया में होने वाली घटना समाज तक पहुंचाना है समाज की कुरीतियों को बताना है और क्या कहां कट रहा है इसको बताना है

doston jab pehli baar akhbaar nikali gayi na toh uska maksad na toh hindu tha na musalman tha akhbaar nikali gayi desh ki azadi ke liye teer nikalo na talwar nikalo jab zulm kampil ho toh akhbaar nikalo yah bahut purani hai 18 saal pehle jab pehli baar kolkata se akhbaar prakashit hua toh 1819 ke aaspass vijay jata hai yah maine padha toh hai sabse pehla jo andolan kiya gaya vaah isi tarah se kiya gaya aur usko yahi kaha gaya krantiveer nikalo na talwar nikalo jab zulm gambhir ho toh akhbaar nikalo toh doston hindu akhbaar aur muslim akhbaar main kisi akhbaar ko akhbaar nahi maanta kyonki akhbari kabhi kisi ki niji nahi hoti akhbaron ka matlab samachar ka matlab duniya me hone wali ghatna samaj tak pahunchana hai samaj ki kuritiyon ko batana hai aur kya kaha cut raha hai isko batana hai

दोस्तों जब पहली बार अखबार निकाली गई ना तो उसका मकसद ना तो हिंदू था ना मुसलमान था अखबार निक

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  211
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!