आयुर्वेद में मालिश की सलाह क्यों दी जाती है?...


user

khusi

Ayurvedic Doctor

0:32
Play

Likes  22  Dislikes    views  256
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Anil Kumar

Ayurveda Specialist

0:58

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल 24 घंटे में लोग इसी के अंदर बैठे रहता है ऑफिस में जाएगा तो 10 से 12 घंटा ड्यूटी है तो 12 घंटे की सिम है और उधर से घर आता है तो घर पर मतलब गाड़ी में ऐसी है और घर पर घर पर ही है तो इसमें मैं धूप तो लगता नहीं किसी के शरीर पर और एक्टरनी और आजकल तो हम पासवर्ड है जो कभी चलचित्र के बॉडी बिल्कुल हमारा खराब है इसमें जो आयुर्वेदिक मसाज में सर्विस की जो ब्लॉक है सब कुछ खोल देता है मैं तो रिलैक्स हो जाता है उसे उतना दूर हो जाता है इसके बाद जो माता दी के गौतम देता है सबकुछ पसीना का दर्द जुड़ाई अंदर से जो गंदगी और जो स्पेलिंग इन सब कुछ बाहर जाते हैं

aajkal 24 ghante mein log isi ke andar baithe rehta hai office mein jayega toh 10 se 12 ghanta duty hai toh 12 ghante ki sim hai aur udhar se ghar aata hai toh ghar par matlab gaadi mein aisi hai aur ghar par ghar par hi hai toh ismein main dhoop toh lagta nahi kisi ke sharir par aur ektarani aur aajkal toh hum password hai jo kabhi chalchitra ke body bilkul hamara kharab hai ismein jo ayurvedic Massage mein service ki jo block hai sab kuch khol deta hai toh relax ho jata hai use utana dur ho jata hai iske baad jo mata di ke gautam deta hai sabkuch paseena ka dard judaai andar se jo gandagi aur jo spelling in sab kuch bahar jaate hain

आजकल 24 घंटे में लोग इसी के अंदर बैठे रहता है ऑफिस में जाएगा तो 10 से 12 घंटा ड्यूटी है तो

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  636
WhatsApp_icon
user

Dr.Yogesh P Sandu

Ayurveda Specialist

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

निरन बोलते हो कि मालिश मॉल न्यूबॉर्न से लेकर के बाद की अवस्था की बेटी है मैंने बचपन से लेकर बुढ़ापे तक पॉलिश करने का एक प्रथा बताया है जिसमें हर रूप से इस्तेमाल किए जाते हैं लेकिन इसका यह मतलब नहीं रहता कि हर हर एक व्यक्ति को मैसेज किया जाता है

niran bolte ho ki maalish mall newborn se lekar ke baad ki avastha ki beti hai maine bachpan se lekar budhape tak polish karne ka ek pratha bataya hai jisme har roop se istemal kiye jaate hain lekin iska yeh matlab nahi rehta ki har har ek vyakti ko massage kiya jata hai

निरन बोलते हो कि मालिश मॉल न्यूबॉर्न से लेकर के बाद की अवस्था की बेटी है मैंने बचपन से लेक

Romanized Version
Likes  42  Dislikes    views  539
WhatsApp_icon
user

Dr. Garima Saxena

Founder, Consultant - Sukhayubhava ayurveda integrated clinic

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके शरीर जगदीश को एक बात है जो सूख रहा है उस बात को अगर आप छोड़ दोगे तो इतना सुख जाएगा कि मुझे तो टूट जाएगा उस में बात की अगर आपको फ्लैक्सिबिलिटी बनाए रखनी है तो क्या करते हैं उसको तेल चलाते हैं वैसे ही हमारा शरीर जितना उठेगा उतना उससे जल्दी डी जनरेशन होगा उतना वह अर्थराइटिस हो जाएगी वह दुनिया भर की प्रॉब्लम हुई थी अगर आपको फ्लैक्सिबिलिटी बनाए रखनी है अगर आप चाहते हो कि आपके पञ्च तत्त्व पञ्च तत्व जो भी आपके शरीर में उसके लिंग जरूरी है और और और मालिश का तेल है इसीलिए मालिश की सलाह दी जाती है क्या कुछ शायरी एकदम फ्लैक्सिबल स्वस्थ बना रहे

aapke sharir jagdish ko ek baat hai jo sukh raha hai us baat ko agar aap chod doge toh itna sukh jaega ki mujhe toh toot jaega us mein baat ki agar aapko flaiksibiliti banaye rakhni hai toh kya karte hain usko tel chalte hain waise hi hamara sharir jitna uthega utana usse jaldi d generation hoga utana vaah arthritis ho jayegi vaah duniya bhar ki problem hui thi agar aapko flaiksibiliti banaye rakhni hai agar aap chahte ho ki aapke punch tatva punch tatva jo bhi aapke sharir mein uske ling zaroori hai aur aur aur maalish ka tel hai isliye maalish ki salah di jaati hai kya kuch shaayari ekdam flaiksibal swasth bana rahe

आपके शरीर जगदीश को एक बात है जो सूख रहा है उस बात को अगर आप छोड़ दोगे तो इतना सुख जाएगा कि

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  423
WhatsApp_icon
user

Dinesan Namboodiri

Ayurvedic Doctor

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मालिश मतलब हमारा बॉडी का जो सरकुलेशन बढ़ाने के लिए यह मालिक एक बंदा अच्छा रहता है फिर बैठ जरा अपना बॉडी में बहुत टाइम के बाद नक्सल बंजारन जाता है बॉडी में फोन करने के लिए आयुर्वेदिक मसाज बहुत अच्छा रहता है सब करने के लिए आयुर्वेदिक ट्रीटमेंट पेन उसके लिए सब आयुर्वेदिक मालिश अच्छे रहते हो तेल भी हम लोग सूट तेनु करता है कोई गुजरे तो लगता हम लोग वापस

maalish matlab hamara body ka jo sarakuleshan badhane ke liye yah malik ek banda accha rehta hai phir baith zara apna body mein bahut time ke baad naxal banjaran jata hai body mein phone karne ke liye ayurvedic Massage bahut accha rehta hai sab karne ke liye ayurvedic treatment pen uske liye sab ayurvedic maalish acche rehte ho tel bhi hum log suit tenu karta hai koi gujare toh lagta hum log wapas

मालिश मतलब हमारा बॉडी का जो सरकुलेशन बढ़ाने के लिए यह मालिक एक बंदा अच्छा रहता है फिर बैठ

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  501
WhatsApp_icon
user

Dr. Mitramahesh

Ayurvedic Doctors

7:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयुर्वेद विज्ञान एक संपूर्ण विज्ञान है परमात्मा की तरफ तरफ से सृष्टि के प्रारंभ में मनुष्य जाति की रचना हुई तो मनुष्य जाति की रचना के बाद कोई परमात्मा शक्ति ने चार वेदों का ज्ञान दिया था वह ज्ञान देते समय उन्हें चारों वेदों का सार उपदेश बने उसमें रजीत वेद का उपवेद है आयुर्वेद हुई है उसमें से निष्कर्ष निकालकर के ऋषि मुनियों ने आयुर्वेद गंधर्व वेद वेद और शिल्पा चौधरी की जो रचना की थी और रचना के अंदर यह बहुत पुरानी शास्त्र सम्मत जिसको बोलते हैं ऐसे अद्भुत नॉलेज और उसकी बुक से भारत में मुस्लिम आक्रमण के बाद जो आर्यवर्त यह देश का नाम था जम्मू दीप भरत संडे आर्यावर्त यह देश में उज्जैनी तक्षशिला नालंदा वहां के करोड़ों करोड़ों पुस्तके इस्लामिक आतंकवादी आक्रमण वादियो ने 9 सालों तक जला जला कर के मिस्टेक कर दिया उस देश भर में कुछ देर सो 200 500 1000 तक के जो अच्छे लोगों के घरों में छोटे-मोटे रजवाड़ों में जो सुरक्षित रह गई जिसके कारण ईंधन के लिए धर्म का कुछ नॉलेज होता है और ना हिंदू पौराणिक लोग जो है उन्होंने तो बोल दिया कि वेदों को शंखाचिल शंखासुर चोरी करके पाताल लोक में चला गया है यह धर्म का नाश हो गया और शंकराचार्य और उसके वक्त में उन्होंने पूरे भारत में शास्त्रार्थ तड़के एक वर्तमान हिंदू धर्म की उन्होंने पुनर्रचना की और स्वामी दयानंद सरस्वती 11 12 के के और आयुर्वेदिक ऐसे महान महर्षि हुई जूना ले साडे दर संहिता व गिरी पढ़ने के लिए मनाही कर दी हजारों लाखों साल में स्वामी दयानंद सरस्वती एक ऐसा लिखती निकला है जिसने यह बुलाए कि आई थी इसके कुछ गलत नहीं पड़नी चाहिए और लोगों को आश्चर्य होता है कि यह सन्यासी क्या लोग मानते छोरे क्या निकला महान अति उत्तम महान बुद्धिशाली लिखती था और उसने बातें बताई तो आप लोग जो में सोचते हैं आई दूध के अंदर जो माइल्ड मेडिसिन एवं औषधि या कुछ और से ज्यादातर 90% उसे दिया उसके लिए जो प्रभाव है वह बस का मतलब प्रभाव होता है और फिर उसके विषय के अनुसार उसका वर्गीकरण हो करके 525 50 100 200 से ज्यादा मिल करके उसका जो प्रभाव होता है उसको रस रसायन के अनुसार ढालना होता है अभी औषधियों की भयानक शक्ति खड़ी होती है तो 1:00 बजे सकती है खड़ी होती है उसमें आयुर्वेद में एक मालिश चिकित्सा भी है पानी चिकित्सा उसके बाद एक्यूप्रेशर एक्यूपंचर तू भी आएगा इसके अंदर हुए इस प्रकार से उसको शरीर में मालिश करके यह सारी बातों की कमियां पूरी की जाती जो चाइना बद्री सब कुछ जानने में आता है वह भी पूरा दिन भर से गया था भारत प्राचीन काल में ज्ञान का भंडार था और सारा पूरा विश्व का सेंटर तक जैसा कि अमेरिका महाशक्ति है इस समय उसी आयोग के अनुसार भारत बीमा सकती थी ज्ञान में शक्ति की सभी प्रकार से और आगे भी हो जाने वाला है तो आयुर्वेद केंद्र माली से कुछ ऐसे माली से हमारे पास मसाज ऑयल हमारा वह मसाज ऑयल पूरे भारत में कोई कंपनी के पास नहीं है ऐसा अद्भुत मेडिसिन है कोई भी व्यक्ति को कोई भी प्रकार की चोट पहुंचे गिर जाए कोई 50 घंटे मारे कोई पत्थर लग जाए और वहां पर 50 बार हल्के हाथ से उसको मालिश कर दे और व्यक्ति 1520 मिलके से लेकर का आधे घंटे तक सो जाए बीच में कभी 5030 मिनट में उसने का नहीं वह व्यक्ति की हड्डी की सूजन किस नदी में निकल जाती है और दिन में एक-दो बार और 2 दिन 3 दिन के अंदर शरीर में बहुत ही अद्भुत उसको आनंद मिलता है और शरीर की जो वह जिस को चोट पहुंचे करते हैं उसको अच्छा हो जाता है जो हड्डियों का फैक्टर होता है उसमें भी वह हड्डी की सूजन को निकाल देता है तो इस प्रकार से ऐसे ऐसे लाखो लाखो से दे आयुर्वेद के अंदर पड़े हैं अभी 20 25 साल पहले हिंदुस्तान लीवर और उन लोगों ने भारत के सभी भाषाओं के अंदर जो निश्चय छपते पेपरों में नमक खाओ आपको ही होगा यह कर दो वह होगा इस प्रकार के एवरीडे भारत के सैकड़ों हजारों की परिस्थितियों में आयोजित के नुस्खे सकते हैं जैसे करोड़ों करोड़ों उसके उन लोगों ने सभी भाषाओं से उतरी करके उसको संग्रह कर लिया एक बात और दूसरा इस प्रकार के जो औषध औषधियों लोग ले जाकर के अनुपस्थित के बहुत सारे दिन विदाउट चालू कि भारत के अंदर एक जमाने में लाखों उसे दिया कि लंदन के हर्बल जो गार्डन है हर्बल गार्डन के अंदर 430000 यह भारत के अनार पेड़ पौधे सारे पढ़े हैं और या इंडिया के अंदर हजार बारह सौ से ज्यादा कुछ नहीं एक जमाने में भारत में गाय sw300 चावल की जातीय चाहिए अजय 510 जाति के चावल बच गई और 1757 में टीपू सुल्तान की जो लाइब्रेरी थी ऊंचाई मुसलमान था कितना भी भयंकर लाखों लोगों का उसने शहर के कई हिंदुओं का और देश में आतंक मचाया तो फिर भी उसने संस्कृत भाषा के 30 35 लाख पुस्तकों का संग्रह किया और जब प्लासी के युद्ध में उसकी हार हुई तो ब्रिटिश गवर्नमेंट ऑल इंडिया लाइब्रेरी के नाम जोकर कर लाखों पुस्तके उठाकर के डंडे लेकर 71 में इंदिरा गांधी के जमाने में हम भारत में से बड़ी मांग हुई के सारी लाडली एवं को दे दी जाए उन्होंने इस समय सामान्य से 1757 में एग्रीमेंट किया था कि भारत की कोई लोकशाही सरकारों से 20 तक मांगी कि तुम वापस दे देंगे लेकिन आज तक वापस सके उन्होंने वापस नहीं किए हैं और लाखों पुस्तक में से कुछ हजारों पुस्तकों का भी वर्गीकरण हो सका है आगे कुछ नहीं है आप लोग हमारी वेबसाइट है आर्य समाज जाएगी उसे hospitals.com उसमें आप सुनेंगे मेरे इस बारे में भी मेरा लेक्चर है और आप लोगों को इस बारे में बहुत ही अद्भुत जानकारी मिलेगी जो आपको और कहीं से जी जय श्री जानकारी नहीं मिलेगी ऐसी है प्राप्त जानकारी हम देते हैं और जो माली से मालिश का तेल एक ही वह सारा स्टैंडर्ड यूजर से बाहर से लगाने का है और कोई से मालिश के तेल और कुछ तेल एसबीआई में जो खाने चाहिए और पीने के अवशेषों में जीपीएस आहे एलबीएसए है तो सारी पदार्थों की गुण रचना और उसका आयुर्वेद के सूत्रधार जो ऋषि महर्षि होने दो उसका नॉलेज था कौन सी लेवल कि उन्होंने उस केस किया था कि भाई हुई है उसका गुण यह है उसका नुकसान यह है उस जमाने में कौन सी लेबोरेटरी थी और क्या उन्होंने अनुसंधान किया था जिसे कोई जानकारी नहीं है कोई शब्द विचार सत्य को सत्य के अनुसार कोई अच्छा कोई मशीन दी थी उसका किसी को कोई नॉलेज नहीं है दुनिया के सब भाषाओं में 11 पीके के ग्रामर होता है मात्र संस्कृत भाषा में वेदों की वेशभूषा है और पत्नी लोकी फसाए वेदों की वेशभूषा के लिए महर्षि दयानंद ने बताया कि व्यक्ति दो ढाई साल के अंदर जागरण का महान ग्रामर का ऑफिसर बन जाता है मास्टर बन जाता है और जो हाल की विजय व्याकरण है उसका वह लोगों को मोदी व योग गुरु स्वामी दयानंद नहीं बोला कि 200 साल तक को संस्कृत में तो यह सिस्टम है और जो मालिश और दूसरे दूसरे जो महान उसे और जो महान वनस्पतियां हैं रस रसायन की सारी चीजों की आपको जानकारी लेनी हो तो आपको खुद भी थोड़ा नॉलेज की जानकारी लीजिए और उसके अनुसार आपकी लाइफ को चलाइए और इलाके दोस्तों में मित्रों ने भी जानकारी मिल सके धन्यवाद

ayurveda vigyan ek sampurna vigyan hai paramatma ki taraf taraf se shrishti ke prarambh me manushya jati ki rachna hui toh manushya jati ki rachna ke baad koi paramatma shakti ne char vedo ka gyaan diya tha vaah gyaan dete samay unhe charo vedo ka saar updesh bane usme rajit ved ka upved hai ayurveda hui hai usme se nishkarsh nikalakar ke rishi muniyon ne ayurveda gandharv ved ved aur shilpa choudhary ki jo rachna ki thi aur rachna ke andar yah bahut purani shastra sammat jisko bolte hain aise adbhut knowledge aur uski book se bharat me muslim aakraman ke baad jo aryavart yah desh ka naam tha jammu deep Bharat sunday Aryavarta yah desh me ujjaini takshashila nalanda wahan ke karodo karodo pustake islamic aatankwadi aakraman vadiyo ne 9 salon tak jala jala kar ke mistake kar diya us desh bhar me kuch der so 200 500 1000 tak ke jo acche logo ke gharon me chote mote rajvadon me jo surakshit reh gayi jiske karan indhan ke liye dharm ka kuch knowledge hota hai aur na hindu pouranik log jo hai unhone toh bol diya ki vedo ko shankhachil shankhasur chori karke paatal lok me chala gaya hai yah dharm ka naash ho gaya aur shankaracharya aur uske waqt me unhone poore bharat me shastrarth tadake ek vartaman hindu dharm ki unhone punarrachana ki aur swami dayanand saraswati 11 12 ke ke aur ayurvedic aise mahaan maharshi hui juna le saade dar sanhita va giri padhne ke liye manaahi kar di hazaro laakhon saal me swami dayanand saraswati ek aisa likhti nikala hai jisne yah bulaye ki I thi iske kuch galat nahi padni chahiye aur logo ko aashcharya hota hai ki yah sanyaasi kya log maante chhoray kya nikala mahaan ati uttam mahaan buddhishali likhti tha aur usne batein batai toh aap log jo me sochte hain I doodh ke andar jo mild medicine evam aushadhi ya kuch aur se jyadatar 90 use diya uske liye jo prabhav hai vaah bus ka matlab prabhav hota hai aur phir uske vishay ke anusaar uska vargikaran ho karke 525 50 100 200 se zyada mil karke uska jo prabhav hota hai usko ras rasayan ke anusaar dhalna hota hai abhi aushadhiyon ki bhayanak shakti khadi hoti hai toh 1 00 baje sakti hai khadi hoti hai usme ayurveda me ek maalish chikitsa bhi hai paani chikitsa uske baad ekyupreshar ekyupanchar tu bhi aayega iske andar hue is prakar se usko sharir me maalish karke yah saari baaton ki kamiyan puri ki jaati jo china badri sab kuch jaanne me aata hai vaah bhi pura din bhar se gaya tha bharat prachin kaal me gyaan ka bhandar tha aur saara pura vishwa ka center tak jaisa ki america mahashakti hai is samay usi aayog ke anusaar bharat bima sakti thi gyaan me shakti ki sabhi prakar se aur aage bhi ho jaane vala hai toh ayurveda kendra maali se kuch aise maali se hamare paas Massage oil hamara vaah Massage oil poore bharat me koi company ke paas nahi hai aisa adbhut medicine hai koi bhi vyakti ko koi bhi prakar ki chot pahuche gir jaaye koi 50 ghante maare koi patthar lag jaaye aur wahan par 50 baar halke hath se usko maalish kar de aur vyakti 1520 milke se lekar ka aadhe ghante tak so jaaye beech me kabhi 5030 minute me usne ka nahi vaah vyakti ki haddi ki sujan kis nadi me nikal jaati hai aur din me ek do baar aur 2 din 3 din ke andar sharir me bahut hi adbhut usko anand milta hai aur sharir ki jo vaah jis ko chot pahuche karte hain usko accha ho jata hai jo haddiyon ka factor hota hai usme bhi vaah haddi ki sujan ko nikaal deta hai toh is prakar se aise aise lakho lakho se de ayurveda ke andar pade hain abhi 20 25 saal pehle Hindustan liver aur un logo ne bharat ke sabhi bhashaon ke andar jo nishchay chupte peparon me namak khao aapko hi hoga yah kar do vaah hoga is prakar ke everyday bharat ke saikadon hazaro ki paristhitiyon me ayojit ke nuskhe sakte hain jaise karodo karodo uske un logo ne sabhi bhashaon se utari karke usko sangrah kar liya ek baat aur doosra is prakar ke jo awasadhi aushadhiyon log le jaakar ke anupasthit ke bahut saare din without chaalu ki bharat ke andar ek jamane me laakhon use diya ki london ke herbal jo garden hai herbal garden ke andar 430000 yah bharat ke anaar ped paudhe saare padhe hain aur ya india ke andar hazaar barah sau se zyada kuch nahi ek jamane me bharat me gaay sw300 chawal ki jatiye chahiye ajay 510 jati ke chawal bach gayi aur 1757 me tipu sultan ki jo library thi unchai musalman tha kitna bhi bhayankar laakhon logo ka usne shehar ke kai hinduon ka aur desh me aatank machaya toh phir bhi usne sanskrit bhasha ke 30 35 lakh pustakon ka sangrah kiya aur jab plassey ke yudh me uski haar hui toh british government all india library ke naam joker kar laakhon pustake uthaakar ke dande lekar 71 me indira gandhi ke jamane me hum bharat me se badi maang hui ke saari laadalee evam ko de di jaaye unhone is samay samanya se 1757 me Agreement kiya tha ki bharat ki koi lokshahi sarkaro se 20 tak maangi ki tum wapas de denge lekin aaj tak wapas sake unhone wapas nahi kiye hain aur laakhon pustak me se kuch hazaro pustakon ka bhi vargikaran ho saka hai aage kuch nahi hai aap log hamari website hai arya samaj jayegi use hospitals com usme aap sunenge mere is bare me bhi mera lecture hai aur aap logo ko is bare me bahut hi adbhut jaankari milegi jo aapko aur kahin se ji jai shri jaankari nahi milegi aisi hai prapt jaankari hum dete hain aur jo maali se maalish ka tel ek hi vaah saara standard user se bahar se lagane ka hai aur koi se maalish ke tel aur kuch tel sbi me jo khane chahiye aur peene ke avshesho me GPS aahe LBSA hai toh saari padarthon ki gun rachna aur uska ayurveda ke sutradhar jo rishi maharshi hone do uska knowledge tha kaun si level ki unhone us case kiya tha ki bhai hui hai uska gun yah hai uska nuksan yah hai us jamane me kaun si laboratory thi aur kya unhone anusandhan kiya tha jise koi jaankari nahi hai koi shabd vichar satya ko satya ke anusaar koi accha koi machine di thi uska kisi ko koi knowledge nahi hai duniya ke sab bhashaon me 11 pk ke grammar hota hai matra sanskrit bhasha me vedo ki veshbhusha hai aur patni laukee fasaye vedo ki veshbhusha ke liye maharshi dayanand ne bataya ki vyakti do dhai saal ke andar jagran ka mahaan grammar ka officer ban jata hai master ban jata hai aur jo haal ki vijay vyakaran hai uska vaah logo ko modi va yog guru swami dayanand nahi bola ki 200 saal tak ko sanskrit me toh yah system hai aur jo maalish aur dusre dusre jo mahaan use aur jo mahaan vanaspatiyan hain ras rasayan ki saari chijon ki aapko jaankari leni ho toh aapko khud bhi thoda knowledge ki jaankari lijiye aur uske anusaar aapki life ko chalaiye aur ilaake doston me mitron ne bhi jaankari mil sake dhanyavad

आयुर्वेद विज्ञान एक संपूर्ण विज्ञान है परमात्मा की तरफ तरफ से सृष्टि के प्रारंभ में मनुष्य

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  209
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!