क्या यह सच है कि खाने की आदतों का पालन करना, जो आयुर्वेद के विपरीत है, निश्चित रूप से शरीर को नुकसान पहुंचाएगी?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

के लिए अंबा बहुत अच्छा है वरना मतलब के अनुसार होना चाहिए उसके लिए पूरा एक सेगमेंट है कि तन में इन रसों का सेवन करना चाहिए इस टाइप का भोजन शरद ऋतु में करना चाहिए इससे क्षेत्र में करना चाहिए इस टाइप का बसंत में करना चाहिए उस दिन चर्या हम कहते हैं दिनचर्या का पालन करने से स्वास्थ्य बिल्कुल अच्छा बनाया जा सकता है

ke liye amba bahut accha hai varna matlab ke anusaar hona chahiye uske liye pura ek Segment hai ki tan mein in rason ka seven karna chahiye is type ka bhojan sharad ritu mein karna chahiye isse kshetra mein karna chahiye is type ka basant mein karna chahiye us din charya hum kehte hai dincharya ka palan karne se swasthya bilkul accha banaya ja sakta hai

के लिए अंबा बहुत अच्छा है वरना मतलब के अनुसार होना चाहिए उसके लिए पूरा एक सेगमेंट है कि तन

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  190
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Dr Snehal Kadam

Ayurvedic Consultant

0:19

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

निश्चित रूप से शरीर को नुकसान पहुंचाएगा और आजकल जो लाइफ़स्टाइल डिसीसिस कहां जाता है मेटाबॉलिक डिसऑर्डर कहां जाता है वह आयुर्वेद कब कहा गया है उसका पालन न करने की वजह से ही है

nishchit roop se sharir ko nuksan pahuchaayega aur aajkal jo lifestyle disisis kahaan jata hai metabalik disorder kahaan jata hai vaah ayurveda kab kaha gaya hai uska palan na karne ki wajah se hi hai

निश्चित रूप से शरीर को नुकसान पहुंचाएगा और आजकल जो लाइफ़स्टाइल डिसीसिस कहां जाता है मेटाबॉ

Romanized Version
Likes  162  Dislikes    views  2834
WhatsApp_icon
user

Dr. Tarun Singh

Ayurvedic Doctors(Gold medallist )

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बताया जाता है या पब्लिकेशन बताई दवाई कब परित है जहां पर मतलब हमारा भाई टंकी से रिलेटेड बीमारी है अगर आप तो बड़े छोटी बीमारियों में भी ऊपर है बताता है क्योंकि क्या होता कि आयुर्वेद कांटेक्ट है वह आपको थोड़ी देर के लिए और कहीं पर भी सिस्टम को ठीक करना है असलम प्रॉब्लम को रूट आउट करना है तो आपको वहां का पूरा ट्रीटमेंट करना पड़ेगा और एग्जांपल किसी घर की छत गिर रही है और उसके नीचे की और पेट खराब है तो बाकी मेडिसिंस नहीं कर सकती कितना को बार-बार बदले खराब है

bataya jata hai ya publication batai dawai kab parit hai jaha par matlab hamara bhai tanki se related bimari hai agar aap toh bade choti bimariyon mein bhi upar hai batata hai kyonki kya hota ki ayurveda Contact hai wah aapko thodi der ke liye aur kahin par bhi system ko theek karna hai aslam problem ko root out karna hai toh aapko wahan ka pura treatment karna padega aur example kisi ghar ki chhat gir rahi hai aur uske niche ki aur pet kharab hai toh baki medicines nahi kar sakti kitna ko baar baar badle kharab hai

बताया जाता है या पब्लिकेशन बताई दवाई कब परित है जहां पर मतलब हमारा भाई टंकी से रिलेटेड बीम

Romanized Version
Likes  44  Dislikes    views  422
WhatsApp_icon
user

Dr. Mitramahesh

Ayurvedic Doctors

5:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न यह होना चाहिए कि खाने की आदतों का में सुधार न करना औरैया तो अच्छा तो अच्छी आदत नहीं रखने से व्यक्ति की परिस्थिति बड़े बिगड़ती और आयुर्वेद के अनुसार आयुर्वेद विज्ञान है पूरा टाइम से और ईश्वर प्रदत्त परमात्मा ने दिया हुआ है परमात्मा ने चार वेद दिया था ज्ञान दिया था उसकी चारों की दुकान ऊपर थे इसका तो आप आएगी उसकी एक संपूर्ण चिकित्सा पद्धति है और वह चिकित्सक बच्चे यह बताती है विश्व में प्रथम बार कि आप आपके शरीर के अंदर अच्छी नीति नियमों का पालन करेंगे तो 50% आप रोगमुक्त है कभी रोक नहीं होंगे और आप भोजन की व्यवस्था बढ़िया तौर से करेंगे तो आप 25% रुकते हैं मतलब 75% ऑफ 500 और 1000 आपके जीवन के अंदर गलत आदतें होगी गलत आहार-विहार उगा कोई सिस्टम नहीं होगी और आप रोगी बन जाएंगे तो व्यक्ति को पुलिस का परिणाम सहन करना पड़ता है परिणाम को उठाना पड़ता है तो उससे बचने के लिए आपको अच्छे नीति नियमों का पालन करना चाहिए योग शास्त्र में जो यम और नियम की जो पांच यह मोड़ पांच नियम है शरीर की इंटरनल शुद्धि और शरीर के बाहर का अच्छा व्यवहार लोगों के प्रति तो यह सारी चीजें करेंगे तो आपको कभी कोई प्रॉब्लम नहीं होगा और भोजन की जो आदत है वह तो अच्छी आदत होनी चाहिए कि आप भूख लगे तब खाई है वह भी ठीक बातें और आप दिन में ही व्यस्त 11:00 बजे भोजन कर लीजिए या तो शाम को 6:07 बजे भी कर लीजिए जो विचारधारा है वह सारी रेगुलर रहे हो खाने में भी हो पूर्ति हो जाती है और नियमित खाने से भी आप उसको रेगुलर करेंगे तो उसे दिया केसरी ने कोई प्रॉब्लम नहीं आएगा हमारी बातें बहुत ही अद्भुत और विचित्र बातें स्वामी रामदेव जी का भी दो चार महीने पहले अपने इंटरव्यू में बताया था कि दिन नहीं खाता हूं मैं सुबह के अंदर शाम तक चार पांच छह बार खा लेता हूं थोड़ा थोड़ा थोड़ा थोड़ा खा लेता हूं मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं होता है वह मेरा बॉडी बहुत सही रहता है कॉन्ट्रोवर्सी लगी थी लेकिन यह विज्ञान सम्मत है और एक प्रकार का लिखना है आप सभी को विचारधारा से कंट्रोल करेंगे तो भी आप को कंट्रोल कर पाएंगे एक बच्चा चोरी करता है और उसको फांसी होती है किसी को मार देता है जो भी होता है फांसी देने से पहले जज ने बोला कि डी के अंतिम इच्छा क्या है और मेरी मां को बुलाओ तो मां आई तो मां को बोलो कि मेरे पास आओ मुझे आपको प्रेम से मिलना है मां पास में आई तो उसने उसका नाक काट लिया लोगों में हाहाकार हो गए कि बिक्री ना कर दिया तो बोले मैं बचपन में चोरी करता था तू ही मेरी माई मुझे सिखा दी थी कि बच्चा चोरी कर लो का काजू मिलो मार ले और ले कर के आ जाए तू बड़ा अच्छा लड़का है चोरी कर और उसके कारण आज ही मेरी जीवन की समाप्ति हो रही है मैंने लोगों को ज्ञान देने के लिए उसका नाक काट है और तो कुछ कर सट्टा नहीं तो यह बात है हर समय के लिए आता है कि व्यक्ति को साक्षी नियम बचपन से पालन करना चाहिए बल्कि 1 दिन का हो 2 दिन का हो तभी सोच केसरी की सफाई रखनी चाहिए और जब 16 साल का बालक बन जाता है बुद्ध तभी उसको से नियमों का पालन करना चाहिए प्राचीन काल में लोग 4 वर्ष चार आश्रम मर्यादित ही ब्रह्मचर्य गृहस्थ वानप्रस्थ और सन्यास जो चार वर्ण ब्राह्मण वैश्य शूद्र छतरी वगैरे स्वामी दयानंद सरस्वती पहले लिखी जो हुए उन्होंने बोला कि यह वर्ण व्यवस्था नहीं है मरण व्यवस्था है सारे दुनिया के अंदर आर्यों का हिंदुओं का चक्रवर्ती साम्राज्य का साम्राज्य तोड़ दिया कोई इस्लामिक बन गई तो क्वेश्चन बन गए और हिंदू धर्म का विनाश कर दिया तो इन लोगों ने यह सारी बातों के ऊपर यह सब बताया कि आप लोगे जॉब आश्रम व्यवस्था है उसको पालन करिए वेदों के अंदर व्यक्ति 25 साल तक पढ़ाई व करके 25 से 50 तक साल पर के लिए संबंध तथा 50 के बाद 75 साल तक 50 से 75258 देखो कानपुर से बंद करके जो पहले पढ़ा हुआ था यह स्टूडेंट लाइफ में वह सारा एजुकेशन कर देता था और 75 उसके बाद वह व्यक्ति फिर धर्म ध्यान और आराम से अपना जिंदगी काटता था क्या आज की तारीख में जो बच्चे वानप्रस्थाश्रम घर ला धर में लोगों को माता-पिता को भेज देते थे भेज देते हैं वह नहीं था और लोग 100 साल से अधिक जीते थे और 100 साल तक हंसी बन कर के रहते थे महाभारत में जो भीष्म पितामह थे वह 228 ऑसम वर्ष की उम्र के थे श्री कृष्ण एबीसीडी बड़ी बड़ी उम्र के थे और यह मर्यादा बहुत लंबी थी और आयुष मर्यादा आज भी हो सकती है और आज भी इसमें कोई प्रॉब्लम नहीं है स्वामी रामदेव जी ने 2019 में कोरियन और रशियन तलवार 2 मिनट के अंदर चित कर दिया उन्होंने हनुमान ने व्यायाम और कुश्ती के द्वारा उन लोगों को प्रचार प्रसार करके मारा जी और उनको फेंक दिया जमीन पर और जो देश के लाखों लाखों करोड़ों करोड़ों लोगों ने स्वामी रामदेव जी का शारीरिक क्षमता देखी रामदेव जी अभी 150 और उसके ऊपर है फिर भी शारीरिक क्षमता ऐसी है और आगे सोशल मीडिया की जाएगी और ऐसे विचारों के ऊपर चढ़ने वाले सब लोगों के शतम जीवम सब रद्द है 100 साल जियो 100 साल से अधिक हो वीडियो का आदेश है और राज्यशास्त्र का भी आदेश तो आप उसके अनुसार चलिए और इसके अनुसार अपने जीवन में अनियमितता रखेंगे ज्यादा खाएंगे तो अभी आपका कल्याण होगा ज्यादा नहीं खाएंगे कभी आपका कल्याण होगा और आप हमारा संपर्क कर सकते हैं कुछ ही बातों में समझदारी लेने के लिए धन्यवाद

aapka prashna yah hona chahiye ki khane ki aadaton ka me sudhaar na karna auraiya toh accha toh achi aadat nahi rakhne se vyakti ki paristhiti bade bigadati aur ayurveda ke anusaar ayurveda vigyan hai pura time se aur ishwar pradatt paramatma ne diya hua hai paramatma ne char ved diya tha gyaan diya tha uski charo ki dukaan upar the iska toh aap aayegi uski ek sampurna chikitsa paddhatee hai aur vaah chikitsak bacche yah batati hai vishwa me pratham baar ki aap aapke sharir ke andar achi niti niyamon ka palan karenge toh 50 aap rogmukt hai kabhi rok nahi honge aur aap bhojan ki vyavastha badhiya taur se karenge toh aap 25 rukte hain matlab 75 of 500 aur 1000 aapke jeevan ke andar galat aadatein hogi galat aahaar vihar uga koi system nahi hogi aur aap rogi ban jaenge toh vyakti ko police ka parinam sahan karna padta hai parinam ko uthana padta hai toh usse bachne ke liye aapko acche niti niyamon ka palan karna chahiye yog shastra me jo yum aur niyam ki jo paanch yah mod paanch niyam hai sharir ki internal shudhi aur sharir ke bahar ka accha vyavhar logo ke prati toh yah saari cheezen karenge toh aapko kabhi koi problem nahi hoga aur bhojan ki jo aadat hai vaah toh achi aadat honi chahiye ki aap bhukh lage tab khai hai vaah bhi theek batein aur aap din me hi vyast 11 00 baje bhojan kar lijiye ya toh shaam ko 6 07 baje bhi kar lijiye jo vichardhara hai vaah saari regular rahe ho khane me bhi ho purti ho jaati hai aur niyamit khane se bhi aap usko regular karenge toh use diya kesari ne koi problem nahi aayega hamari batein bahut hi adbhut aur vichitra batein swami ramdev ji ka bhi do char mahine pehle apne interview me bataya tha ki din nahi khaata hoon main subah ke andar shaam tak char paanch cheh baar kha leta hoon thoda thoda thoda thoda kha leta hoon mujhe koi problem nahi hota hai vaah mera body bahut sahi rehta hai controversy lagi thi lekin yah vigyan sammat hai aur ek prakar ka likhna hai aap sabhi ko vichardhara se control karenge toh bhi aap ko control kar payenge ek baccha chori karta hai aur usko fansi hoti hai kisi ko maar deta hai jo bhi hota hai fansi dene se pehle judge ne bola ki d ke antim iccha kya hai aur meri maa ko bulao toh maa I toh maa ko bolo ki mere paas aao mujhe aapko prem se milna hai maa paas me I toh usne uska nak kaat liya logo me hahakar ho gaye ki bikri na kar diya toh bole main bachpan me chori karta tha tu hi meri my mujhe sikha di thi ki baccha chori kar lo ka kaaju milo maar le aur le kar ke aa jaaye tu bada accha ladka hai chori kar aur uske karan aaj hi meri jeevan ki samapti ho rahi hai maine logo ko gyaan dene ke liye uska nak kaat hai aur toh kuch kar satta nahi toh yah baat hai har samay ke liye aata hai ki vyakti ko sakshi niyam bachpan se palan karna chahiye balki 1 din ka ho 2 din ka ho tabhi soch kesari ki safaai rakhni chahiye aur jab 16 saal ka balak ban jata hai buddha tabhi usko se niyamon ka palan karna chahiye prachin kaal me log 4 varsh char ashram maryadit hi brahmacharya grihasth vanaprasth aur sanyas jo char varn brahman vaiishay shudra chatri vagaire swami dayanand saraswati pehle likhi jo hue unhone bola ki yah varn vyavastha nahi hai maran vyavastha hai saare duniya ke andar aaryon ka hinduon ka chakravarti samrajya ka samrajya tod diya koi islamic ban gayi toh question ban gaye aur hindu dharm ka vinash kar diya toh in logo ne yah saari baaton ke upar yah sab bataya ki aap loge job ashram vyavastha hai usko palan kariye vedo ke andar vyakti 25 saal tak padhai va karke 25 se 50 tak saal par ke liye sambandh tatha 50 ke baad 75 saal tak 50 se 75258 dekho kanpur se band karke jo pehle padha hua tha yah student life me vaah saara education kar deta tha aur 75 uske baad vaah vyakti phir dharm dhyan aur aaram se apna zindagi katata tha kya aaj ki tarikh me jo bacche vanaprasthashram ghar la dhar me logo ko mata pita ko bhej dete the bhej dete hain vaah nahi tha aur log 100 saal se adhik jeete the aur 100 saal tak hansi ban kar ke rehte the mahabharat me jo bhishma pitamah the vaah 228 awesome varsh ki umar ke the shri krishna ABCD badi badi umar ke the aur yah maryada bahut lambi thi aur ayush maryada aaj bhi ho sakti hai aur aaj bhi isme koi problem nahi hai swami ramdev ji ne 2019 me korean aur russian talwar 2 minute ke andar chit kar diya unhone hanuman ne vyayam aur kushti ke dwara un logo ko prachar prasaar karke mara ji aur unko fenk diya jameen par aur jo desh ke laakhon laakhon karodo karodo logo ne swami ramdev ji ka sharirik kshamta dekhi ramdev ji abhi 150 aur uske upar hai phir bhi sharirik kshamta aisi hai aur aage social media ki jayegi aur aise vicharon ke upar chadhne waale sab logo ke shatam jivam sab radd hai 100 saal jio 100 saal se adhik ho video ka aadesh hai aur rajyashastra ka bhi aadesh toh aap uske anusaar chaliye aur iske anusaar apne jeevan me aniyamitta rakhenge zyada khayenge toh abhi aapka kalyan hoga zyada nahi khayenge kabhi aapka kalyan hoga aur aap hamara sampark kar sakte hain kuch hi baaton me samajhdari lene ke liye dhanyavad

आपका प्रश्न यह होना चाहिए कि खाने की आदतों का में सुधार न करना औरैया तो अच्छा तो अच्छी आदत

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  155
WhatsApp_icon
user

Mahendra Kumar Jain

Ayurvedic Doctor

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयुर्वेद की दृष्टि से भोजन छुपाती होना चाहिए जल्दी से पचने वाला और जिन की पाचन क्रिया कमजोर है उन्हें मांसाहारी खाना और भारी खाना और कच्चा खाना नहीं खाना चाहिए

ayurveda ki drishti se bhojan chupati hona chahiye jaldi se pachane vala aur jin ki pachan kriya kamjor hai unhe masahari khana aur bhari khana aur kaccha khana nahi khana chahiye

आयुर्वेद की दृष्टि से भोजन छुपाती होना चाहिए जल्दी से पचने वाला और जिन की पाचन क्रिया कमजो

Romanized Version
Likes  121  Dislikes    views  1564
WhatsApp_icon
user

Dr. Sneha Rathi

Ayurveda Doctor

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयुर्वेद विरुद्ध हत्या इनकंपैटिबिलिटी कहा जाता है उनको एक के बाद एक क्या मिला कर खाया जाए तो वह हमें गंभीर रोग हो सकते हैं इनमें कई उदाहरण है जैसे दूध के साथ दही नहीं खाना यह लगभग सभी को पता है नमकीन दूध के साथ मछली गर्म पदार्थ के सेवन के बाद ठंडा पर दही के उड़द दाल का भी ऐसे कई अनगिनत उदाहरण हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को कम करते हैं जिनके चलते हमें कई बीमारियों में छोटी से छोटी संख्या संबंधी कोई भी कार्य कार्यालय का रहना पेट का खराब होना जादू किया करो आजकल विरुद्ध आर्थिक और बेहतर समझा वह है जो तेरा जी आपने बिल्कुल ठीक बनाने के लिए दूध और केले खाने की सलाह दी जाती है लेकिन दोनों ही मिलती है तो एक दूसरे को पत्नी से क्योंकि दोनों का ही पत्नी का समय अलग-अलग होता है लगातार इसका सेवन करने से हमारे शरीर की खाना पचाने की प्रक्रिया बदलने और सारी रात में नींद ना आना त्वचा संबंधी का ध्यान रखना चाहिए कि हम कोई विपरीत आहार का सेवन तो नहीं कर रहे हमारे शरीर पर पड़ता है

ayurveda viruddh hatya inakampaitibiliti kaha jata hai unko ek ke baad ek kya mila kar khaya jaye toh wah humein gambhir rog ho sakte hain inmein kai udaharan hai jaise doodh ke saath dahi nahi khana yeh lagbhag sabhi ko pata hai namkeen doodh ke saath machli garam padarth ke seven ke baad thanda par dahi ke udhar dal ka bhi aise kai anaginat udaharan hamare sharir ki rog pratirodhak kshamta ko kam karte hain jinke chalte humein kai bimariyon mein choti se choti sankhya sambandhi koi bhi karya karyalaya ka rehna pet ka kharab hona jadu kiya karo aajkal viruddh aarthik aur behtar samjha wah hai jo tera ji aapne bilkul theek banane ke liye doodh aur kele khane ki salah di jati hai lekin dono hi milti hai toh ek dusre ko patni se kyonki dono ka hi patni ka samay alag alag hota hai lagatar iska seven karne se hamare sharir ki khana pachane ki prakriya badalne aur saree raat mein neend na aana twacha sambandhi ka dhyan rakhna chahiye ki hum koi viprit aahaar ka seven toh nahi kar rahe hamare sharir par padta hai

आयुर्वेद विरुद्ध हत्या इनकंपैटिबिलिटी कहा जाता है उनको एक के बाद एक क्या मिला कर खाया जाए

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  382
WhatsApp_icon
user

Jeevan Antony

Ayurveda Doctor | Founder - Nandavanam Health Centre | Founder - Nandavanam Ayurveda Spa

3:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इतना आनंद डाइट के बारे में बता दिया तो वह आयुर्वेद लोड करने वाला टाइट माल करना बहुत जरूरी है और मैं दोनों की शादी होते दूसरा उस टाइम में बोली कि वह सूट की मराठी पिक्चर दादा कोंडके का आगे पीछे कर दिया तो वह मेडिकल का टाइटल की शादी इंसेंटिसाइड सबसे बड़ी है हमारा स्टमक विद मेड ट्री पार्ट्स त्रिपाठ्य आप लोग इन शब्दों में 1423 सॉलिड आइटम्स 1% छूट दी वाटर 1423 चाहिए हो जाएगा तुम सब खाने के तेल में पेट भर कर खा लिया सोचो तो उसमें उसको घुमाने के लिए भजन बरसाने में माफी चाहिए अर्जेंट चाहिए एक बार उसको 1423 बाद में टिकट करवानी 100 लीटर वाटर वन टू थ्री आयुर्वेदिक लाने वाला आदमी जोगी बन जाएगा शारदा इंटर ना हो जाए आदमी सिरोही पंचायत में कितना फुट दर्शन मेरी कट्टी

itna anand diet ke bare mein bata diya toh vaah ayurveda load karne vala tight maal karna bahut zaroori hai aur main dono ki shadi hote doosra us time mein boli ki vaah suit ki marathi picture dada kondke ka aage peeche kar diya toh vaah medical ka title ki shadi insentisaid sabse badi hai hamara stomach with made tree parts tripathya aap log in shabdon mein 1423 solid iteams 1 chhut di water 1423 chahiye ho jaega tum sab khane ke tel mein pet bhar kar kha liya socho toh usme usko ghumaane ke liye bhajan barsane mein maafi chahiye urgent chahiye ek baar usko 1423 baad mein ticket karvani 100 litre water van to three ayurvedic lane vala aadmi jogi ban jaega sharda inter na ho jaaye aadmi sirohi panchayat mein kitna feet darshan meri kethi

इतना आनंद डाइट के बारे में बता दिया तो वह आयुर्वेद लोड करने वाला टाइट माल करना बहुत जरूरी

Romanized Version
Likes  122  Dislikes    views  1496
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!