सिज़ोफ्रेनिया क्या है मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरे आस-पास कोई व्यक्ति इस विकार से प्रभावित है?...


user

Ms. Kamna Yadav

Clinical Psychologist

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखो आपको सबसे पहले टेबल चेंज नजर आने लगता है आ जाओ मेरे आज तक कोई ऐसा इंसान है जो सबसे पहले हमें विवाद दिखाई देता किसी के विचार किसी को नहीं दिखाई देता हूं तुमको भी दिखाई देता है लोग चुप हो जाते बिल्कुल एकदम से बात करना बंद कर दें या फिर किसी और को अपनी जान आप अपने आप को बंद कर लेंगे और यह सारी बातें बातें करते हैं और बातें करते हैं राइट टॉपिक पर बात नहीं करते इधर से उधर जाम करते रहते हैं ऑफिस पे को सबसे पहले व्यवहार जाता है उसके बाद बदलाव सकते हो उनकी जॉब उससे आपको कई बार अटपटा नजर आता है कि यारी किस तरीके से बात कर रहा है तो यह दोनों चीजें को माइंड करके आपको पता चल सकता है यह टाइम में थी उसमें कोई आया है अब की वजह से यह कोई है क्या कर कैलेंडर मेंटिनेस हो सकती है

dekho aapko sabse pehle table change nazar aane lagta hai aa jao mere aaj tak koi aisa insaan hai jo sabse pehle hamein vivaad dikhai deta kisi ke vichar kisi ko nahi dikhai deta hoon tumko bhi dikhai deta hai log chup ho jaate bilkul ekdam se baat karna band kar dein ya phir kisi aur ko apni jaan aap apne aap ko band kar lenge aur yah saree batein batein karte hain aur batein karte hain right topic par baat nahi karte idhar se udhar jam karte rehte hain office pe ko sabse pehle vyavhar jata hai uske baad badlav sakte ho unki job usse aapko kai baar atpataa nazar aata hai ki yaari kis tarike se baat kar raha hai toh yah dono cheezen ko mind karke aapko pata chal sakta hai yah time mein thi usmein koi aaya hai ab ki wajah se yah koi hai kya kar calendar mentines ho sakti hai

देखो आपको सबसे पहले टेबल चेंज नजर आने लगता है आ जाओ मेरे आज तक कोई ऐसा इंसान है जो सबसे पह

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  663
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Kankan Sarmah

Psychologist

1:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेके श्री ऑफिसर न्यूरो में न्यूरो साइकाइट्रिक डिसऑर्डर्स ठीक है वह आपका किसी भी एडल्ट मतलब मैं एडल्ट हो तो यार जतिन में शुरू होते हैं और बाकी लेट स्टेशन में हो जाते हैं महसूस करेगी फिर वह यह देखेगा कि कोई मुझे मारने आ रहा है क्या हालांकि उसके आगे कुछ में कोई नहीं है फिर आपने जो काम है वह डेली एक्टिविटी में अटेंड नहीं कर पाएंगे धीरे-धीरे इतने सारे प्रॉब्लम होता है कि वह अपना जो छोटा मोटा काम है वह छोटा मोटा काम हो आदमी मनोज कंट्रोल में वह नहीं रख पाते से लगेगा कि शायद मुझे किसी ने माना जाए या को सोते भी रहेगा या वैसे भी रह गए हो या ऐसे भी अपने कमरे में अकेले हैं फिर भी उसको लगेगा कि कोई मेरे से बात करना है कोई मुझे मारने आए क्या अभी देखा कि दो दोस्त आपस में बातें कर रहा है तो वह उनको दिमाग में ही है कि शायद वह लोग मेरे बारे में बात कर रहा है ज्यादा से ज्यादा बहुत बढ़ जाता है एक तो यह होता है कि ऑफ इनिशिएटिव वाले किसी भी काम पर हो इनीशिएशन नहीं दिखाएगा तो इस तरीके से होते हैं

leke shri officer neuro mein neuro saikaitrik disaardars theek hai vaah aapka kisi bhi adult matlab main adult ho toh yaar jatin mein shuru hote hain aur baki let station mein ho jaate hain mahsus karegi phir vaah yah dekhega ki koi mujhe maarne aa raha hai kya halanki uske aage kuch mein koi nahi hai phir aapne jo kaam hai vaah daily activity mein attend nahi kar payenge dhire dhire itne saare problem hota hai ki vaah apna jo chota mota kaam hai vaah chota mota kaam ho aadmi manoj control mein vaah nahi rakh paate se lagega ki shayad mujhe kisi ne mana jaaye ya ko sote bhi rahega ya waise bhi reh gaye ho ya aise bhi apne kamre mein akele hain phir bhi usko lagega ki koi mere se baat karna hai koi mujhe maarne aaye kya abhi dekha ki do dost aapas mein batein kar raha hai toh vaah unko dimag mein hi hai ki shayad vaah log mere bare mein baat kar raha hai zyada se zyada bahut badh jata hai ek toh yah hota hai ki of innitiative waale kisi bhi kaam par ho inishieshan nahi dikhaega toh is tarike se hote hain

लेके श्री ऑफिसर न्यूरो में न्यूरो साइकाइट्रिक डिसऑर्डर्स ठीक है वह आपका किसी भी एडल्ट मतलब

Romanized Version
Likes  102  Dislikes    views  1432
WhatsApp_icon
user

Dr R L BHARADWAJ

Asst Professor in Psychology

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्पीच ऑफ एक बीमारी है मेंटल डिसऑर्डर है और एक खतरनाक बीमारी कही जाती है और आदमी को यह ध्यान नहीं रहता कि वह अपने को भी हटा सकता है दूसरों के साथ सो सो मेनी सेंटेंसेस ओं मेडिसिनल सागर सबसे बड़ा यही है कि आपको तो यहां पहुंचा रहे हैं आप बुरी तरह से स्क्रीन कर रहे हैं ट्रेन टाइम ऑफिस के जूस इंडिया की भी अलग-अलग प्राचीर से कौन क्लास में किस तरह का स्क्रीन या है उसको भी हमें चेक करना पड़ता है

speech of ek bimari hai mental disorder hai aur ek khataranaak bimari kahi jaati hai aur aadmi ko yah dhyan nahi rehta ki vaah apne ko bhi hata sakta hai dusron ke saath so so many sentenses on medisinal sagar sabse bada yahi hai ki aapko toh yahan pahuncha rahe hain aap buri tarah se screen kar rahe hain train time office ke juice india ki bhi alag alag prachir se kaun class mein kis tarah ka screen ya hai usko bhi hamein check karna padta hai

स्पीच ऑफ एक बीमारी है मेंटल डिसऑर्डर है और एक खतरनाक बीमारी कही जाती है और आदमी को यह ध्या

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  98
WhatsApp_icon
play
user

Chandni Gupta

RCI Psychologist & Counselor

0:58

Likes  19  Dislikes    views  211
WhatsApp_icon
user

Dr Tarlochan Singh

Psychologist

1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसमें बहुत सारी की सारी डिलीट हो जाती है 2 सेंटीमीटर पर्सनल सेक्शन सब कुछ बिगड़ जाता है उसकी सोच कमेंट हो जाता है उसकी सजा भी सुनाई देने लग जाती दिखाई देने लग जाती है उसकी उसकी है उसके बीच में ज्यादा बिगड़ जाते हैं किसके फॉलसिलिंग बन जाते हैं अपनी धारणा लेता है इमैजिनरी जो कि रियल्टी में सच नहीं होती जिसमें कोई लॉजिक नहीं होता तो इसलिए उसकी सेल्फ की ओर भी खराब हो जाती है आप खाना पीना नहाना हर चीज उसका बिगड़ जाता है मतलब वह बहुत सी बीमारी है ऐसे लंबा चलता है ना जिसमें दवाइयां ट्रेनिंग लाइफटाइम फैमिली सभी काबिल के सहयोग से यह चीज ठीक होती है ठीक करने के लिए बहुत सारा कम्युनिटी लेवल पेश की हेल्प करनी चाहिए फैमिली का 11 नंबर रोल प्ले करता है और कुछ मेडिसन हेल्प करती हैं कुछ ट्रेनिंग हेल्प करती है कुछ परिवार का माहौल जिम्मेदार होता है उसको ठीक करते हैं समय लग जाता है इसको ठीक होने में

isme bahut saree ki saree delete ho jaati hai 2 centimetre personal section sab kuch bigad jata hai uski soch comment ho jata hai uski saza bhi sunayi dene lag jaati dikhai dene lag jaati hai uski uski hai uske beech mein zyada bigad jaate hain kiske falsiling ban jaate hain apni dharana leta hai imaijinri jo ki realty mein sach nahi hoti jisme koi logic nahi hota toh isliye uski self ki aur bhi kharaab ho jaati hai aap khana peena nahaana har cheez uska bigad jata hai matlab vaah bahut si bimari hai aise lamba chalta hai na jisme davaaiyaan training lifetime family sabhi kaabil ke sahyog se yah cheez theek hoti hai theek karne ke liye bahut saara community level pesh ki help karni chahiye family ka 11 number roll play karta hai aur kuch medicine help karti hain kuch training help karti hai kuch parivar ka maahaul zimmedar hota hai usko theek karte hain samay lag jata hai isko theek hone mein

इसमें बहुत सारी की सारी डिलीट हो जाती है 2 सेंटीमीटर पर्सनल सेक्शन सब कुछ बिगड़ जाता है उस

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  150
WhatsApp_icon
user

Dr. Nitya Prakash

Clinical Psychologist

3:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किड्स जेनिया भी जैसे मैंने बताया कि आपकी मंजिल हमारा माइंड बहुत तरीके की रूप ले सकता है ठीक है और फिर दूसरे नियम कंडीशन हो जाता है दिमाग का जहां पर बहुत सारे ऐसे ख्याल आते हैं जो शायद सच में ना हो लेकिन मैं यह गलत मानूंगी कि यह दुनिया एक अलग तरीके की स्पेशल बीमारी है मुझे ऐसा लगता है कि जो क्रिश्चियनिटी अटेंडेंस ही देखेंगे वह हम सब में है क्या मैटर करता है वह बिना किसी ने इस लेवल का हो जाता है कि वह इंसान के दुकनिया तब कहा जाता है कि वह इंसान का एक अपना ही दुनिया बन जाता है वही जो सोच रहे वही सच मानता है और सच मानता ही नहीं है बट उसी तरीके से रहता है तो एक अलग ऑर्डिनेशन रोते हैं उसमें जो मैंने अभी समझाया उसको कहते हैं डेलीमोशन एक अपना गियानेती बना लेना उसमें बहुत तरीके के दर्शन होते हैं जो किसी को लगेगा कि और बिल्ली उसे 90 रनों आया कि मुझसे कोई मारना चाहता है और ऐसी सोच आ जाती है और कभी ऐसा लगता है रिलेशन ऑफ़ ग्रैंड ई और चीन में सबसे बड़ा आदमी हूं मैं ही सबसे अच्छा मुझे बताइए हम सब सोचते हैं कभी-कभी और दूसरी चीज होती है जो हाल ही में शुरू की जो हम आम लोगों के साथ नहीं होती है उन्हें कुछ ऐसी आवाजें आने लग जाएंगी उन्हें वह सारी चीजें देखने लग जाती है जो शायद एक्जिस्ट ना करता हो तो फैन या को साइकॉलजी थाइकैट्सरी एक बीमारी मानता है लेकिन मुझे लगता है अज्ञान हर लोगों में यह सारी चीजें हैं थोड़ी-थोड़ी यूनो कभी हम ऐसे है जैसे शक की बीमारी यूनिकॉर्न बंद है अगर आप देखेंगे तो ब्लॉक कर दें कि उन्हें ऐसा लगता है नहीं है तुम मेरा कॉलेजी और समझने का और प्रैक्टिस करने का तरीका बहुत अलग है मैं इन सब चीजों का नार्मल नहीं मानती हूं मुझे लगता है हर इंसान में थोड़ी-थोड़ी कैसे हैं सब बीमारी की डिप्रेशन है सब मैंने लिया है थोड़ा सबमेंटल इनको लिया है ताज नशे में थोड़ा कृपया का भी टेंडेंसी है लेकिन हाथ अगर यह बहुत ज्यादा टाइम तक दूसरों के लिए जब यह डेंजरस हो जाता है तब यह तुम्हारी बन जाती है जहां पर किंतु मेंशन की जरूरत है तब हमें या तो डॉक्टर को दिखाना पड़ता है या फिर मेडिसिन लेना पड़ता है जब दूसरों को खतरा बन जाता है जब तक हमारी तक सीमित है तो मुझे लगता है यह किए और सब के सब में है तो यह बीमारी नहीं है लेकिन जहां यह दूसरों के लिए खतरा बन जाता है तो एक ही कंडीशन बन जाता है जहां एक बीमारी हो जाती है लेकिन किसी दूसरे ने तोड़ भगाई सारे सिम चुंचे

kids jeniya bhi jaise maine bataya ki aapki manjil hamara mind bahut tarike ki roop le sakta hai theek hai aur phir dusre niyam condition ho jata hai dimag ka jahan par bahut saare aise khayal aate hain jo shayad sach mein na ho lekin main yah galat manungi ki yah duniya ek alag tarike ki special bimari hai mujhe aisa lagta hai ki jo krishchiyaniti attendance hi dekhenge vaah hum sab mein hai kya matter karta hai vaah bina kisi ne is level ka ho jata hai ki vaah insaan ke dukniya tab kaha jata hai ki vaah insaan ka ek apna hi duniya ban jata hai wahi jo soch rahe wahi sach manata hai aur sach manata hi nahi hai but usi tarike se rehta hai toh ek alag ardineshan rothe hain usmein jo maine abhi samjhaya usko kehte hain delimoshan ek apna giyaneti bana lena usmein bahut tarike ke darshan hote hain jo kisi ko lagega ki aur billi use 90 rano aaya ki mujhse koi maarna chahta hai aur aisi soch aa jaati hai aur kabhi aisa lagta hai relation of grand ee aur china mein sabse bada aadmi hoon main hi sabse accha mujhe bataiye hum sab sochte hain kabhi kabhi aur dusri cheez hoti hai jo haal hi mein shuru ki jo hum aam logon ke saath nahi hoti hai unhe kuch aisi avajen aane lag jaengi unhe vaah saree cheezen dekhne lag jaati hai jo shayad ekjist na karta ho toh fan ya ko psychology thaikaitsari ek bimari manata hai lekin mujhe lagta hai agyan har logon mein yah saree cheezen hain thodi thodi uno kabhi hum aise hai jaise shak ki bimari yunikarn band hai agar aap dekhenge toh block kar dein ki unhe aisa lagta hai nahi hai tum mera kaleji aur samjhne ka aur practice karne ka tarika bahut alag hai main in sab chijon ka normal nahi maanati hoon mujhe lagta hai har insaan mein thodi thodi kaise hain sab bimari ki depression hai sab maine liya hai thoda sabamental inko liya hai taj nashe mein thoda kripya ka bhi tendency hai lekin hath agar yah bahut zyada time tak dusron ke liye jab yah dangerous ho jata hai tab yah tumhari ban jaati hai jahan par kintu mention ki zaroorat hai tab hamein ya toh doctor ko dikhana padta hai ya phir medicine lena padta hai jab dusron ko khatra ban jata hai jab tak hamari tak simit hai toh mujhe lagta hai yah kiye aur sab ke sab mein hai toh yah bimari nahi hai lekin jahan yah dusron ke liye khatra ban jata hai toh ek hi condition ban jata hai jahan ek bimari ho jaati hai lekin kisi dusre ne tod bhagai saare sim chunche

किड्स जेनिया भी जैसे मैंने बताया कि आपकी मंजिल हमारा माइंड बहुत तरीके की रूप ले सकता है ठी

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
user

Pratishtha Trivedi

Clinical Psychologist

1:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दो प्रेमियों जो है गोरमेंट में अक्सर डूब जाते हैं बिना कारण लोगों पर शक करने लगते हैं या एक ही धीरे धीरे कर देंगे किसी से बात नहीं करेंगे और अगर आप पूछेंगे तो कुछ जवाब नहीं देंगे अभी लक्षण होते हैं और यह बीमारी बिना दवाई के नहीं खींच के लिए दवाई करवाना साइट के पास जाना बहुत जरूरी होता है जैसे ही लक्षण आने लगे जैसे ही आपको लगे कि कुछ प्रॉब्लम होती किस को पहचानते आपको डायरेक्शन दे पाएगा और आपके सोचने का तरीका बहुत ही बदल जाता है रियालिटी से आपका कनेक्ट टूट जाता है तू जो हो रहा है उसको आप समझ नहीं पाते हैं या करना कि कल उसके कुछ लक्षण

do premiyon jo hai garment mein aksar doob jaate hain bina karan logon par shak karne lagte hain ya ek hi dhire dhire kar denge kisi se baat nahi karenge aur agar aap puchhenge toh kuch jawab nahi denge abhi lakshan hote hain aur yah bimari bina dawai ke nahi khinch ke liye dawai karwana site ke paas jana bahut zaroori hota hai jaise hi lakshan aane lage jaise hi aapko lage ki kuch problem hoti kis ko pehchante aapko direction de payega aur aapke sochne ka tarika bahut hi badal jata hai reality se aapka connect toot jata hai tu jo ho raha hai usko aap samajh nahi paate hain ya karna ki kal uske kuch lakshan

दो प्रेमियों जो है गोरमेंट में अक्सर डूब जाते हैं बिना कारण लोगों पर शक करने लगते हैं या ए

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  607
WhatsApp_icon
user

DR SURI

Rehabilitation Psychologist

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज का कन्या को है और कितने प्रकार की होती है वैसी ही बाय बोल रही है

aaj ka kanya ko hai aur kitne prakar ki hoti hai waisi hi by bol rahi hai

आज का कन्या को है और कितने प्रकार की होती है वैसी ही बाय बोल रही है

Romanized Version
Likes  81  Dislikes    views  1167
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
आस पास कोई ; मेरा पता क्या है ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!