इन दिनों भी किशोरों को आसानी से अवसाद क्यों हो रहा है?...


user

Shahbaz Khan

Life Coach, Motivational Speaker

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फर्स्ट रेशन का रीजन नहीं और एग्जांपल अगर कोई बच्चा कुछ सीख कर रहा है कोई सैंपल पंडित आपको समझा बोलता हूं एक टीचर बच्चों को बोलती है कि दूर एग्जाम में आप करो करो यह करो आप तो आप सक्सेसफुल होंगे मैं भी आपको नहीं करूंगी आप जामडीजे और मैं आपको चैट नहीं करूंगी और कि आपकी पिक्चर में काम आएगा बच्चे ठीक है पढ़ कर आता है उसके बाद टीचर क्या करती है उसकी गलतियां जो है सबके सामने बताती कि तुमने गलती करे तो मेरी गलती गलती गलती यह है कि उसको स्टूडेंट्स कोई भी इंसान फंडामेंटल जीवन का जो नेचर है वह भूखे होते एप्लीकेशन का वह कुछ भी ट्राई करता है अपन उसकी अच्छाई बताने की विजय उसकी बुराइयां लिबल करने लगता तो नहीं करा तूने को करा तूने उसको देख शर्मा जी की लड़की को देखा तो उसकी अपील करता है कि मैं इतना कुछ कर रहा हूं जिंदगी में छोटी सी गलती करता हूं तो मेरे को लेकर जाता है मेरे को चेक करने लग जाते हैं तो इसका आना चाहता है कुछ करना चाहता है एक्स्ट्रा

first ration ka reason nahi aur example agar koi baccha kuch seekh kar raha hai koi sample pandit aapko samjha bolta hoon ek teacher baccho ko bolti hai ki dur exam mein aap karo karo yah karo aap toh aap successful honge main bhi aapko nahi karungi aap jamdije aur main aapko chat nahi karungi aur ki aapki picture mein kaam aayega bacche theek hai padh kar aata hai uske baad teacher kya karti hai uski galtiya jo hai sabke saamne batati ki tumne galti kare toh meri galti galti galti yah hai ki usko students koi bhi insaan fundamental jeevan ka jo nature hai vaah bhukhe hote application ka vaah kuch bhi try karta hai apan uski acchai batane ki vijay uski buraiyan libal karne lagta toh nahi kara tune ko kara tune usko dekh sharma ji ki ladki ko dekha toh uski appeal karta hai ki main itna kuch kar raha hoon zindagi mein choti si galti karta hoon toh mere ko lekar jata hai mere ko check karne lag jaate hain toh iska aana chahta hai kuch karna chahta hai extra

फर्स्ट रेशन का रीजन नहीं और एग्जांपल अगर कोई बच्चा कुछ सीख कर रहा है कोई सैंपल पंडित आपको

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
13 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr. Mrignayani Agarwal

Clinical Psychologist

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपको तो 14 साल की उम्र के बच्चों में डिप्रेशन हो रहा है तो चला तो प्रेशर पढ़ाई का भी प्रेशर है बच्चों के दूसरा मां-बाप की एक्सपेक्टेशन बहुत ज्यादा अपेक्षाएं बहुत ज़्यादा है कि हमारा बच्चा टॉप करें हमारे बच्चे को दूसरों के पीछे हो ना ही दूसरों से कंपैरिजन करते हैं दूसरे बच्चों से सिम वह तो ऐसा करता है तुम ऐसा नहीं करते इस वजह से बच्चों में तो बहुत ज्यादा डिप्रेशन 1414 साल के बच्चे की साइड तक कमेंट करें और आजकल अभी तो एग्जाम आने वाले बहुत ज्यादा और बढ़ जाता है कि मां-बाप को खासकर थोड़ा सा ध्यान देने की जरूरत है पेशाब करते हैं क्या वह पूरी कर पाएगा या नहीं कर पाएगा और अगर कोई दिक्कत धान करेंगे अगर बताओगे नहीं तो कैसे अब बच्चों को डर लगता ही बताएंगे

aapko toh 14 saal ki umr ke baccho mein depression ho raha hai toh chala toh pressure padhai ka bhi pressure hai baccho ke doosra maa baap ki expectation bahut zyada apekshayen bahut jyada hai ki hamara baccha top kare hamare bacche ko dusro ke peeche ho na hi dusro se kampairijan karte hain dusre baccho se sim vaah toh aisa karta hai tum aisa nahi karte is wajah se baccho mein toh bahut zyada depression 1414 saal ke bacche ki side tak comment kare aur aajkal abhi toh exam aane waale bahut zyada aur badh jata hai ki maa baap ko khaskar thoda sa dhyan dene ki zarurat hai peshab karte kya vaah puri kar payega ya nahi kar payega aur agar koi dikkat dhaan karenge agar bataoge nahi toh kaise ab baccho ko dar lagta hi batayenge

आपको तो 14 साल की उम्र के बच्चों में डिप्रेशन हो रहा है तो चला तो प्रेशर पढ़ाई का भी प्रेश

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  478
WhatsApp_icon
play
user

Pratishtha Trivedi

Clinical Psychologist

0:45

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत सेक्स होता है आजकल तीन अलग-अलग तरीके के होते हैं पढ़ाई को लेकर दोस्तों को लेकर आगे के बारे में क्या सोच रहे हैं कैसे दिख रहे हैं क्या लोग इनको समझ रहे हो और मोबाइल फ्लकचुएशन कितने होते हैं कि वो टाइम बेटी ने तत्काल मेरे होते हैं मन की हेल्प करने के लिए तो वह भी एक कारण होता है और अगर उस तक नहीं करा तो वह अक्सर बड़े होने

bahut sex hota hai aajkal teen alag alag tarike ke hote hain padhai ko lekar doston ko lekar aage ke bare mein kya soch rahe hain kaise dikh rahe kya log inko samajh rahe ho aur mobile flakachueshan kitne hote hain ki vo time beti ne tatkal mere hote hain man ki help karne ke liye toh vaah bhi ek karan hota hai aur agar us tak nahi kara toh vaah aksar bade hone

बहुत सेक्स होता है आजकल तीन अलग-अलग तरीके के होते हैं पढ़ाई को लेकर दोस्तों को लेकर आगे के

Romanized Version
Likes  41  Dislikes    views  618
WhatsApp_icon
user

Ms. Kamna Yadav

Clinical Psychologist

1:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आई वुड मैं यह नहीं बोलूंगी कि टीनएजर्स को डिप्रेशन बहुत ज्यादा होता है मैं इसको दूसरे के करजा माफ करूंगी मेरे साथी डिप्रेशन नहीं है स्ट्रेस लेवल हाई होता है कि डिप्रेशन एक अंब्रेला टॉम है ताज में समुद्र का मतलब यह नहीं है कि आपको डिप्रेशन डिप्रेशन के बौद्धिक और सिम्टम्स होते हैं जो होने चाहिए तो मेरे हिसाब से जो आज कल की छुट्टी है जल्द है उनको डिप्रेशन नहीं है बेफिक्री स्ट्रेस है जो एग्जाम का स्ट्रेस हो सकता है लेडीस का सेक्स हो सकता है परंतु वह बच्चों को बहुत करते हैं कि आपको इतना मत लेकर आना है यह लेकर आना ऐसे लेकर आना है और एक सेल्फ अपने आप को ही अपनी प्रेशराइज करना कि मुझको यह चीज करना है इससे अच्छी करना है उनको कैपेबिलिटीज के बारे में इतना नहीं पता होता आपने उनको जो करियर काउंसलिंग हो गए या फिर उनकी जो एबिलिटी आपकी तो काम हो गई वह इतनी प्रॉपर्टी नहीं होती है स्कूल में जिसकी वजह से कनेक्टिविटी और वह टाइगर श्रॉफ मूड हो सकता है आज प्लस अगर बच्चा कोई पियर ग्रुप में प्रॉपर्टी सेटिंग नहीं होता है जो हम बोलते हैं जो हम बोलते कि जो बोलेंगे बहुत नॉर्मली कॉमनली हाई स्कूल में मिलती है और बचा बोलेंगे एवरी सेकंड भूलेंगे थ्रू जाना पड़ता है क्या हो जाता किसी स्कूल में बच्चे दूसरे को बहुत ज्यादा बोलिंग करते हैं तो फिजिकली करते हैं या बबली करते हैं या इमोशनली करते हैं जो एक कारण बन सकता है सेकेंडरी प्रायर टो डेट

I would main yah nahi bolungi ki tinaejars ko depression bahut zyada hota hai isko dusre ke kurja maaf karungi mere sathi depression nahi hai stress level high hota hai ki depression ek umbrella tom hai taj mein samudra ka matlab yah nahi hai ki aapko depression depression ke baudhik aur Symptoms hote hain jo hone chahiye toh mere hisab se jo aaj kal ki chhutti hai jald hai unko depression nahi hai befikri stress hai jo exam ka stress ho sakta hai ladies ka sex ho sakta hai parantu vaah baccho ko bahut karte hain ki aapko itna mat lekar aana hai yah lekar aana aise lekar aana hai aur ek self apne aap ko hi apni presharaij karna ki mujhko yah cheez karna hai isse achi karna hai unko kaipebilitij ke bare mein itna nahi pata hota aapne unko jo career kaunsaling ho gaye ya phir unki jo ability aapki toh kaam ho gayi vaah itni property nahi hoti hai school mein jiski wajah se connectivity aur vaah tiger Shroff mood ho sakta hai aaj plus agar baccha koi piyar group mein property setting nahi hota hai jo hum bolte hain jo hum bolte ki jo bolenge bahut normally commonly high school mein milti hai aur bacha bolenge every second bhulenge through jana padta hai kya ho jata kisi school mein bacche dusre ko bahut zyada bowling karte hain toh physically karte hain ya bubbly karte hain ya emotionally karte hain jo ek karan ban sakta hai secondary prior toe date

आई वुड मैं यह नहीं बोलूंगी कि टीनएजर्स को डिप्रेशन बहुत ज्यादा होता है मैं इसको दूसरे के क

Romanized Version
Likes  42  Dislikes    views  556
WhatsApp_icon
user

Ms. Sonu Pandey

Rehabilitation Personnel

1:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल की रोजमर्रा की जिंदगी में हर जगह कंपटीशन बहुत ज्यादा है और जो हमारी टीनएज बच्चे हैं यह इस कंपटीशन में आगे बढ़ने की कोशिश करते रहते हैं और उसमें अपने आप को जो उन में अच्छाइयां है जो थोड़ी बहुत कमियां है उनको जाने अनजाने नजरअंदाज कर देते हैं और जो बाहर दिख रहा है उसी पर ध्यान देते हैं पर अगर इस उम्र में हम अपने ऊपर ध्यान दें कि हमने क्या काबिलियत है हमने क्या तू टेंशन है उस पर ध्यान देकर कि हम बाहर की चीजों पर बैलेंस एक संतुलन बनाए रखें तो हम हर चीज में आगे बढ़ सकते हैं पर यह नहीं हो पाता है तब जो हमारे तीन बच्चे हैं तब डिप्रेशन में आने लगते हैं उनको लगता है कि वह उस काम को करने के लिए लायक नहीं है या उनमें कुछ कमी है उस कमी को वह पहचान है पाटिल शेयर कर नहीं पाते ऐसे में एक गाइड जो हमें हमें बता पाए कि हम क्या क्षमता है या अपने आप को भी हमें देखना चाहिए और सामने वालों को भी उसी हिसाब से बैलेंस करके अपना जो हमारा डिसीजन है किसी भी चीज का हेल्प कर सकता है

aajkal ki rozmarra ki zindagi mein har jagah competition bahut zyada hai aur jo hamari teenage bacche hain yah is competition mein aage badhne ki koshish karte rehte hain aur usme apne aap ko jo un mein achaiya hai jo thodi bahut kamiyan hai unko jaane anjaane najarandaj kar dete hain aur jo bahar dikh raha hai usi par dhyan dete hain par agar is umr mein hum apne upar dhyan de ki humne kya kabiliyat hai humne kya tu tension hai us par dhyan dekar ki hum bahar ki chijon par balance ek santulan banaye rakhen toh hum har cheez mein aage badh sakte hain par yah nahi ho pata hai tab jo hamare teen bacche hain tab depression mein aane lagte hain unko lagta hai ki vaah us kaam ko karne ke liye layak nahi hai ya unmen kuch kami hai us kami ko vaah pehchaan hai patil share kar nahi paate aise mein ek guide jo hamein hamein bata paye ki hum kya kshamta hai ya apne aap ko bhi hamein dekhna chahiye aur saamne walon ko bhi usi hisab se balance karke apna jo hamara decision hai kisi bhi cheez ka help kar sakta hai

आजकल की रोजमर्रा की जिंदगी में हर जगह कंपटीशन बहुत ज्यादा है और जो हमारी टीनएज बच्चे हैं य

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  499
WhatsApp_icon
user

Dr. Sanjeev Tripathi

Clinical Psychologist

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इमेजेस कोटेशन होने का एक कारण मोबाइल अभी जो आ गया है मोबाइल फोन कितने तक नहीं है और उनको बहुत ज्यादा है लेकिन प्यार नहीं है तो वह तेरी बारी बारी के बच्चों में बहुत ज्यादा दो बच्चों की पिटाई माता पिता

images quotation hone ka ek kaaran mobile abhi jo aa gaya hai mobile phone kitne tak nahi hai aur unko bahut zyada hai lekin pyar nahi hai toh wah teri baari baari ke baccho mein bahut zyada do baccho ki pitai mata pita

इमेजेस कोटेशन होने का एक कारण मोबाइल अभी जो आ गया है मोबाइल फोन कितने तक नहीं है और उनको ब

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  480
WhatsApp_icon
user

Ayushi Madaan

Clinical Psychologist

2:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कक्षा दसवीं तू आजकल यह बच्चों को मानसिक रोगों की जो सोचो रहे हैं डिप्रेशन हो गया एक एबीएसटी अटेंशन डिफिसिट हाइपरएक्टिविटी ऑडियो है तो आजकल बच्चों में बहुत बुरा है एक पब्जी हैक करके दो गेम हाई है हमारी आंखें उसके आजकल बहुत अच्छे एडिक्ट होते जा रहे हैं और हर क्लास के नगद चाचा की पांचवी क्लास के बच्चे से लेकर 12वीं क्लास के बच्चों में आपके लिए इस सब्जी एडिक्शन का बहुत ज्यादा प्रॉब्लम चल रहा है तो सबसे पहले तो उसके लिए जानना जरूरी है कि वह बच्चे को पूरा समय दे जो आजकल की चौकी दोनों पेरेंट्स वॉकिंग हैं मदद योर फादर भी उसकी वजह से ही बहुत ज्यादा बच्चे फील कर रहे हैं कि उन पर ज्यादा से ज्यादा समय गेम्स में और इंदौर के बीच में ज्यादा बिकता है तो पेरेंट्स को सबसे पहले जरूरी है कि वह बच्चे के लिए एक से डेढ़ घंटा कम से कम निकाले पूरे दिन में उनकी पूरे दिल्ली से जुड़ को जानने के लिए उनसे पता करने के लिए कि उनका दिन कैसा बीता है और वह कैसा महसूस करते हैं बहुत सारे बच्चे आजकल जो बोलिंग का शिकार हो रहे हैं उनके पैरंट्स को छे छे महीने तक पता ही नहीं होता कि बच्चा स्कूल में जा रहा है तो वह क्या मैसेज कर रहा है क्या उसको एक्सपीरियंस हो रहा है क्या चल रहा है क्योंकि उनके पास वक्त ही नहीं है अपने बच्चों को देने के लिए आजकल के पहले मेरी हो गई है कि अगर उन्हें लगता है कि बच्चे को सारी मशीनें मुश्किल चीज हम ने दे दी है सारे सामान उनके पास है फोन उनके पास है तो उनको और कुछ कहने की जरूरत नहीं है लेकिन पहले भी उतना ही लागू थी बात और आज भी उतनी ही है कि बच्चों को पहले सबसे ज्यादा क्यों जरूरी है वह है मां बाप का टाइम उनका समय ताकि वह बच्चे को अच्छे से जान सके और कौन बना सके क्योंकि बच्चा तो हर दिन बदल जाए हर दिन तक ना पूरा है उसका मानसिक और शारीरिक रूप से जो तरीके से डेवलपमेंट होती है हर दिन बुके क्या महसूस करता है तू आजकल के बच्चों को समय देना सबसे पहले जरूरी है और अगर वह किसी मानसिक रूप से बीत रहे हैं उनकी लाइफ में कोई प्रॉब्लम की वजह से मुस्कुरा

kaksha dasavi tu aajkal yah baccho ko mansik rogo ki jo socho rahe hain depression ho gaya ek ABST attention difisit haiparaektiviti audio hai toh aajkal baccho mein bahut bura hai ek PUBG hack karke do game high hai hamari aankhen uske aajkal bahut acche addict hote ja rahe hain aur har kashi ke nagad chacha ki paanchvi kashi ke bacche se lekar vi kashi ke baccho mein aapke liye is sabzi addiction ka bahut zyada problem chal raha hai toh sabse pehle toh uske liye janana zaroori hai ki vaah bacche ko pura samay de jo aajkal ki chowki dono parents walking hain madad your father bhi uski wajah se hi bahut zyada bacche feel kar rahe hain ki un par zyada se zyada samay games mein aur indore ke beech mein zyada bikta hai toh parents ko sabse pehle zaroori hai ki vaah bacche ke liye ek se dedh ghanta kam se kam nikale poore din mein unki poore delhi se jud ko jaanne ke liye unse pata karne ke liye ki unka din kaisa bita hai aur vaah kaisa mehsus karte hain bahut saare bacche aajkal jo bowling ka shikaar ho rahe hain unke Parents ko che che mahine tak pata hi nahi hota ki baccha school mein ja raha hai toh vaah kya massage kar raha hai kya usko experience ho raha hai kya chal raha hai kyonki unke paas waqt hi nahi hai apne baccho ko dene ke liye aajkal ke pehle meri ho gayi hai ki agar unhe lagta hai ki bacche ko saree mashinen mushkil cheez hum ne de di hai saare saamaan unke paas hai phone unke paas hai toh unko aur kuch kehne ki zarurat nahi hai lekin pehle bhi utana hi laagu thi baat aur aaj bhi utani hi hai ki baccho ko pehle sabse zyada kyon zaroori hai vaah hai maa baap ka time unka samay taki vaah bacche ko acche se jaan sake aur kaun bana sake kyonki baccha toh har din badal jaaye har din tak na pura hai uska mansik aur sharirik roop se jo tarike se development hoti hai har din Buke kya mehsus karta hai tu aajkal ke baccho ko samay dena sabse pehle zaroori hai aur agar vaah kisi mansik roop se beet rahe hain unki life mein koi problem ki wajah se muskura

कक्षा दसवीं तू आजकल यह बच्चों को मानसिक रोगों की जो सोचो रहे हैं डिप्रेशन हो गया एक एबीएसट

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  592
WhatsApp_icon
user

Archana Chaudhary

Rehabilitation Psychologist

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इतनी जल्दी है कि हम लेट होते जा रहे हैं ऐसे मेरा मतलब है कि हर कोई काम कर रहा है माता दी काम के लिए जा रही है पिताजी भी काम के लिए जा रहे हैं और ज्यादा से ज्यादा लोगों को बहुत अच्छे लग रहे हो जाते हैं कि हम इंफॉर्मेशन तो है हमारी मौसम का वह बहुत बहुत बड़ा कारण हो सकता है

itni jaldi hai ki hum late hote ja rahe hain aise mera matlab hai ki har koi kaam kar raha hai mata di kaam ke liye ja rahi hai pitaji bhi kaam ke liye ja rahe hain aur zyada se zyada logo ko bahut acche lag rahe ho jaate hain ki hum information toh hai hamari mausam ka vaah bahut bahut bada karan ho sakta hai

इतनी जल्दी है कि हम लेट होते जा रहे हैं ऐसे मेरा मतलब है कि हर कोई काम कर रहा है माता दी क

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  608
WhatsApp_icon
user

Mr. Ravi Shankar Raina

Clinical Psychologist

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

टीनएजर इन एयर कंडीशन स्कूल का जॉब वर्क लोड है इंटर कॉलेज लेक्चरर सिलेबस उसकी वजह से जो स्टेटस पर करते किसी बच्चे अपने थॉट्स तो निकाल पा रहे फैमिली मेंबर के हम उसको यही पिक करनी है और मिल रहा है उनको उस पैसों की वजह तो डिप्रेशन में जा रहे हैं

teenager in air condition school ka job work load hai inter college Lecturer syllabus uski wajah se jo status par karte kisi bacche apne thoughts toh nikaal paa rahe family member ke hum usko yahi pic karni hai aur mil raha hai unko us paison ki wajah toh depression mein ja rahe hain

टीनएजर इन एयर कंडीशन स्कूल का जॉब वर्क लोड है इंटर कॉलेज लेक्चरर सिलेबस उसकी वजह से जो स्ट

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  519
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कई बार क्या होता है कि आप छोटे बच्चे चलेगी पढ़ाई करती थी लड़कियां देखनी ज्यादा की देखने के लिए अरे वह मोटी है क्या युटुब के लिए याद दिखाइए अच्छी नहीं है क्या तो देखने में अच्छी मतलब आप बिजली क्या दूसरे वाला बटन सबसे कम सबको समझना और प्रवर्तन

kai baar kya hota hai ki aap chote bacche chalegi padhai karti thi ladkiyan dekhani zyada ki dekhne ke liye are wah moti hai kya youtube ke liye yaad dikhaaiye acchi nahi hai kya toh dekhne mein acchi matlab aap bijli kya dusre vala button sabse kam sabko samajhna aur pravartan

कई बार क्या होता है कि आप छोटे बच्चे चलेगी पढ़ाई करती थी लड़कियां देखनी ज्यादा की देखने के

Romanized Version
Likes  90  Dislikes    views  1305
WhatsApp_icon
user

DR SURI

Rehabilitation Psychologist

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रॉपर्टी से नहीं गिला कुछ नहीं होते

property se nahi gila kuch nahi hote

प्रॉपर्टी से नहीं गिला कुछ नहीं होते

Romanized Version
Likes  91  Dislikes    views  1130
WhatsApp_icon
user

Ms. Kalpana Raman

Clinical Psychologist

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कंपटीशन ऑल ट्रैक के पास ज्यादा है मेरे पास काम है रक्षा नहीं कर पाता और एक कंप्यूटर सोसायटी का एक रूल बन चुका है क्या अभी तक करना ही है और अगर मुझसे इतना हासिल नहीं होता है तो इसका मतलब हम लोग इमीडिएट कि अपने आपको चिड़िया के तौर से देखना चालू कर देते सीरियल आ गया एक विचार आया कि विचारों का काम होता आना तू जब जब आता रहता था तभी मैंने बताया कि डिप्रेशन का एक भी दम होता हेल्पलाइन करना हो प्लस का लड़का वह चीज आती जाती है क्योंकि कोई एक कदम लोकेशन की बिल्डिंग की ना कलिया कलिया तुम नहीं कर पाए जैसे वह दिमाग में आ गया अब मैं उस विचार को खरीद भी लिया मैंने अपने पास रख लिया तो इसका मतलब नहीं होता काम करती है तुझे ठीक लगता है और रोज लगता रहा हमें रोज अपने आपको जैसे कटा मारते हैं लोग बोलते तो हो ही नहीं मैं तो कर ही नहीं पाऊंगा यह तो बहुत ज्यादा है ऑटोमेटिकली वह चीज टेबल होती जाती है इसका मतलब मुझे लोग मुझसे बड़े दिखने लग जाते हैं चीजें ऑटोमेटिक में लोगों से दूर जाकर चालू करूंगा कंपटीशन में आपको और अंदर पाऊंगा चिंता ग्रस्त हो जाऊंगा

competition all track ke paas zyada hai mere paas kaam hai raksha nahi kar pata aur ek computer sociaty ka ek rule ban chuka hai kya abhi tak karna hi hai aur agar mujhse itna hasil nahi hota hai toh iska matlab hum log imidiet ki apne aapko chidiya ke taur se dekhna chaalu kar dete serial aa gaya ek vichar aaya ki vicharon ka kaam hota aana tu jab jab aata rehta tha tabhi maine bataya ki depression ka ek bhi dum hota helpline karna ho plus ka ladka vaah cheez aati jaati hai kyonki koi ek kadam location ki building ki na kalia kalia tum nahi kar paye jaise vaah dimag mein aa gaya ab main us vichar ko kharid bhi liya maine apne paas rakh liya toh iska matlab nahi hota kaam karti hai tujhe theek lagta hai aur roj lagta raha hamein roj apne aapko jaise kata marte hain log bolte toh ho hi nahi main toh kar hi nahi paunga yah toh bahut zyada hai atometikli vaah cheez table hoti jaati hai iska matlab mujhe log mujhse bade dikhne lag jaate hain cheezen Automatic mein logo se dur jaakar chaalu karunga competition mein aapko aur andar paunga chinta grast ho jaunga

कंपटीशन ऑल ट्रैक के पास ज्यादा है मेरे पास काम है रक्षा नहीं कर पाता और एक कंप्यूटर सोसायट

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  845
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे बड़े गाइड तो मां-बाप होते हैं उनको गाइड करना चाहिए हमारा बच्चा किधर जा रहा है किधर नहीं जा रहा है उनको थोड़ा बहुत मतलब यह ध्यान देना कि जो दूसरे से जाने वाली चीज है वह हम अपने मां बाप से जानना चाहते हैं तो कोई दूसरा बताता है तो अलग ढंग से बताता है इसके लिए डिसाइड नहीं कर पाते हैं क्या अच्छा है क्या पूरा सबसे बड़े गाइड तो मां बाप को भी स्वयं हो हमसे

sabse bade guide toh maa baap hote hain unko guide karna chahiye hamara baccha kidhar ja raha hai kidhar nahi ja raha hai unko thoda bahut matlab yah dhyan dena ki jo dusre se jaane wali cheez hai vaah hum apne maa baap se janana chahte hain toh koi doosra batata hai toh alag dhang se batata hai iske liye decide nahi kar paate kya accha hai kya pura sabse bade guide toh maa baap ko bhi swayam ho humse

सबसे बड़े गाइड तो मां-बाप होते हैं उनको गाइड करना चाहिए हमारा बच्चा किधर जा रहा है किधर नह

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  150
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!