उदास व्यक्ति से बात करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?...


user

Dr. Mrignayani Agarwal

Clinical Psychologist

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उसे बार-बार बात करिए आपकी कोई मॉल करिए अपने साथ उस से चिड़ा पन मत रखिए बिल्कुल के साथ घूमने जाइए बनाया जाता है जो पहले जो अच्छे से करता था जिसमें इंटरेस्ट था और अभी नहीं रहा है तो उन उन कामों को धीरे धीरे

use baar baar baat kariye aapki koi mall kariye apne saath us se chida pan mat rakhiye bilkul ke saath ghoomne jaiye banaya jata hai jo pehle jo acche se karta tha jisme interest tha aur abhi nahi raha hai toh un un kaamo ko dhire dhire

उसे बार-बार बात करिए आपकी कोई मॉल करिए अपने साथ उस से चिड़ा पन मत रखिए बिल्कुल के साथ घूमन

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  443
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Kankan Sarmah

Psychologist

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे इंपॉर्टेंट यह है कि जब हम कंफर्टेबल तो वह सारी बातें शेयर करते हो क्या मैडम मम्मी डैडी है या मैं घर पर एक माहौल बनाकर आज मुझे लगा कि घर में सब कुछ सब कुशल हो रहा है सब कुछ जानती है मैं बाड़मेर डिस्ट्रिक्ट टॉक मुझे खुद से आगे बढ़ना डिप्रेशन मुझे यह नहीं होता है कि दूसरों से मुझे कोई मदद मिलेगा ऐसा कुछ है पहले तो खुद को संभालना जरूरी होता है जब मैं आगे निकल जाऊंगा तभी तो मुझे नहीं रहा है नहीं दरवाजा मेरे लिए खो जाएगा और सबसे इंपोर्टेंट नहीं होता है कि लोग कुछ अलग झलक नहीं क्या-क्या तरीका से क्या क्या मतलब बोलो कुछ और भी मतलब बिजी रेशमी यह हो जाता है तो सबसे इंपोर्टेंट है कि जब आप डिप्रेस्ड हूं पहले आप अपने से बात करो न्यूज़पेपर आपका पापा मम्मी फ्रेंडली के वक्त तक के निवेश से बात करो तो अगर वहां से भी कुछ आप कुछ नहीं मिल रहे हैं कोई रास्ता तो नहीं देते नहीं थकते आप भी प्रोफेशनल देख ले सकते हो उसमें कोई प्रॉब्लम नहीं लिखता हूं

sabse important yah hai ki jab hum Comfortable toh vaah saree batein share karte ho kya madam mummy daddy hai ya main ghar par ek maahaul banakar aaj mujhe laga ki ghar mein sab kuch sab kushal ho raha hai sab kuch jaanti hai badmer district talk mujhe khud se aage badhana depression mujhe yah nahi hota hai ki dusro se mujhe koi madad milega aisa kuch hai pehle toh khud ko sambhaalna zaroori hota hai jab main aage nikal jaunga tabhi toh mujhe nahi raha hai nahi darwaja mere liye kho jaega aur sabse important nahi hota hai ki log kuch alag jhalak nahi kya kya tarika se kya kya matlab bolo kuch aur bhi matlab busy reshamee yah ho jata hai toh sabse important hai ki jab aap depressed hoon pehle aap apne se baat karo Newspaper aapka papa mummy friendly ke waqt tak ke nivesh se baat karo toh agar wahan se bhi kuch aap kuch nahi mil rahe hain koi rasta toh nahi dete nahi thakate aap bhi professional dekh le sakte ho usme koi problem nahi likhta hoon

सबसे इंपॉर्टेंट यह है कि जब हम कंफर्टेबल तो वह सारी बातें शेयर करते हो क्या मैडम मम्मी डैड

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  1725
WhatsApp_icon
user

Pratishtha Trivedi

Clinical Psychologist

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे जो बेफिक्रे वह हमको यह कहना कि आप उनको जांच ना करें किस कारण से आपको शायद में लगी थी उनकी लाइफ में जो भेज रहा है वह इतनी बड़ी बात नहीं है इतना कुछ नहीं हुआ है जिससे उनको इतनी उदासी में सूचित करें कि वह किसी ना किसी से उसके बारे में बात करें चाहे वह आपको चाहे वह प्रोफेशनल हो और सबसे अच्छा तरीका है नॉन जजमेंट से उनकी बात सुनना यह न कहना कि यह तो कोई बड़ी बात नहीं है यह तो इतनी सी बात से परेशान क्यों हो रहे हो या फिर तो सबके साथ होता है यह ना कह कर सुकून की बात सुनना

sabse jo befikre vaah hamko yah kehna ki aap unko jaanch na kare kis karan se aapko shayad mein lagi thi unki life mein jo bhej raha hai vaah itni badi baat nahi hai itna kuch nahi hua hai jisse unko itni udasi mein suchit kare ki vaah kisi na kisi se uske bare mein baat kare chahen vaah aapko chahen vaah professional ho aur sabse accha tarika hai non judgement se unki baat sunana yah na kehna ki yah toh koi badi baat nahi hai yah toh itni si baat se pareshan kyon ho rahe ho ya phir toh sabke saath hota hai yah na keh kar sukoon ki baat sunana

सबसे जो बेफिक्रे वह हमको यह कहना कि आप उनको जांच ना करें किस कारण से आपको शायद में लगी थी

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  611
WhatsApp_icon
user

Sarah Kurian

CLINICAL PSYCHOLOGIST

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे अहम बात है कि डिप्रेशन की ताकि लेवल होते हैं जिनके पास मात्र औपचारिकताएं और कुछ नहीं अगर आप कुछ भी बोलो कि इतना कुछ अच्छा है आपकी जिंदगी में यह घटकर उनको भी नहीं कर सकते क्योंकि ग्रुप में होना चाहिए कि नींद आ रही है क्या जीना तुम नाटक मत करो तुमको तो बस यह तुम्हारा आया है सबकी ऐसे शब्द वाक्य उपयोग नहीं करना चाहिए तू जरूरी नहीं है कि दवा सभी चीजों के काले कई बार जवा से भी ज्यादा किसी से बात करके सभी को मिलकर अगर एक काउंसलिंग किया जाए इटावा की बिल्कुल की जड़ की दवा खाकर भी क्योंकि लोग समझ नहीं पाए घुट घुट के जीने के नीचे कैसे डरता करें और यह समझे कि एक बुखार की तरह नहीं है जो जल्दी जाता और प्यार की बहुत जरूरत है

sabse aham baat hai ki depression ki taki level hote hain jinke paas matra aupachariktaen aur kuch nahi agar aap kuch bhi bolo ki itna kuch accha hai aapki zindagi mein yah ghatakar unko bhi nahi kar sakte kyonki group mein hona chahiye ki neend aa rahi hai kya jeena tum natak mat karo tumko toh bus yah tumhara aaya hai sabki aise shabd vakya upyog nahi karna chahiye tu zaroori nahi hai ki dawa sabhi chijon ke kaale kai baar java se bhi zyada kisi se baat karke sabhi ko milkar agar ek kaunsaling kiya jaaye itawa ki bilkul ki jad ki dawa khakar bhi kyonki log samajh nahi paye ghut ghut ke jeene ke niche kaise darta kare aur yah samjhe ki ek bukhar ki tarah nahi hai jo jaldi jata aur pyar ki bahut zarurat hai

सबसे अहम बात है कि डिप्रेशन की ताकि लेवल होते हैं जिनके पास मात्र औपचारिकताएं और कुछ नहीं

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  118
WhatsApp_icon
user

DR SURI

Rehabilitation Psychologist

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोई भी इंसान जो एजुकेशन में है उसको बताएंगे हम सुनेंगे उसकी राधा जब वह आपके सामने चूर हो जाएगा के बाद पढ़ी लिखी थी बिल्डिंग हो जाएगी उसकी शादी लाइक ए स्टोरी ओं स्टार जॉब की पर्सनल असिस्टेंट से लड़की वाली तू सबको झुकना पड़ेगा उसको पढ़ने के लिए नहीं करता है उसके बाद आ गए एक बार दो बार तीन बार पा रहा है

koi bhi insaan jo education mein hai usko batayenge hum sunenge uski radha jab wah aapke saamne choor ho jayega ke baad padhi likhi thi building ho jayegi uski shadi like a story yuvaon star job ki personal assistant se ladki wali tu sabko jhukna padega usko padhne ke liye nahi karta hai uske baad aa gaye ek baar do baar teen baar pa raha hai

कोई भी इंसान जो एजुकेशन में है उसको बताएंगे हम सुनेंगे उसकी राधा जब वह आपके सामने चूर हो ज

Romanized Version
Likes  83  Dislikes    views  1043
WhatsApp_icon
user

Dr R L BHARADWAJ

Asst Professor in Psychology

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सिंपैथेटिक भी होना चाहिए डिप्रेशन में एक्चुअली डिसीजन चेकिंग पावर है आदमी की वह कम हो जाती है और ही केमिस्ट चेक हिमसेल्फ के में इस बात को घुमिया रिंगटोन और उसको एक्सप्रेस करूं या नहीं करूं तुझे इमोशंस का जो खेल है जो एक चीज और सिचुएशन चाहती हैं या पर्सनली में कोई इस तरह की एक तरह से कोई बीमारी आ जाती है या कोई प्रॉब्लम होती है जिसको हम नहीं कह पाते तब हम डिप्रेशन को फील करते हैं या बहुत सी ऐसी चीज है कभी-कभी डिप्रेशन जी के आदमी दूसरे की बातों से डिप्रेशन होता है तो उस परिस्थिति में हर आदमी को यह शिक्षा चाहिए कि इस स्थिति को इस स्थिति से किस वजह से हुआ और किस तरह से उसको और सुंदर और इसमें जो सेल सेल पर एक सजेशन है यह बहुत इंपोर्टेंट होता है

simpaithetik bhi hona chahiye depression mein actually decision checking power hai aadmi ki vaah kam ho jaati hai aur hi chemist check himself ke mein is baat ko ghumiya ringtone aur usko express karu ya nahi karu tujhe emotional ka jo khel hai jo ek cheez aur situation chahti hain ya personally mein koi is tarah ki ek tarah se koi bimari aa jaati hai ya koi problem hoti hai jisko hum nahi keh paate tab hum depression ko feel karte hain ya bahut si aisi cheez hai kabhi kabhi depression ji ke aadmi dusre ki baaton se depression hota hai toh us paristithi mein har aadmi ko yah shiksha chahiye ki is sthiti ko is sthiti se kis wajah se hua aur kis tarah se usko aur sundar aur isme jo cell cell par ek suggestion hai yah bahut important hota hai

सिंपैथेटिक भी होना चाहिए डिप्रेशन में एक्चुअली डिसीजन चेकिंग पावर है आदमी की वह कम हो जाती

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  83
WhatsApp_icon
user

Dr. Sanjeev Tripathi

Clinical Psychologist

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लड़की से बात करने का तरीका सबसे अच्छा यह है कि आप तो सबसे पहले उसके अंदर भरोसा पैदा करें कि आप उसके लिए कोई व्यक्ति है जो उसकी बातों को समझता है और उसे धरती एंटरटेनमेंट वीकली रिपोर्ट

ladki se baat karne ka tarika sabse accha yeh hai ki aap toh sabse pehle uske andar bharosa paida karein ki aap uske liye koi vyakti hai jo uski baaton ko samajhata hai aur use dharti Entertainment weekly report

लड़की से बात करने का तरीका सबसे अच्छा यह है कि आप तो सबसे पहले उसके अंदर भरोसा पैदा करें क

Romanized Version
Likes  49  Dislikes    views  486
WhatsApp_icon
user

Poornima Katyal

Psychologist

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उसके लिए सबसे पहले जरूरी है कि हम से पॉजिटिव बातें ही बातें ना करें उनको अच्छे बने पॉजिटिव डायरेक्शन दिखाएं चीजों के पॉजिटिव स्टेप दिखाएं उनको की चीजों के पहलू कौन दो पहलू कौन से हैं क्योंकि जब डिप्रेशन होता है तो वह नेगेटिव पहलू की तरफ अट्रेक्ट होते होती है कि हर चीज में नेगेटिव देखना लेकिन हर चीज में पॉजिटिव ही होता है तो उन्हें पॉजिटिव वास्तविक दिखाना बहुत जरूरी है जैसे कोई बीएमडब्ल्यू है और वह कहे कि मेरे पास यह से बड़ी वाली कार नहीं है तो उसे उसका आज तक कह दिया कि आपका बहुत लोगों से बहुत बेहतर है तो इस तरह की सोच पॉजिटिव अप्रोच के साथ ही आप डिप्रेशन से बाहर आ सकते हैं प्लस आप का माहौल आपके आसपास के लोग सब के बारे में जानना जरूरी है जितना हम मोड़ नेगेटिव पीपल से मिलते हैं उतना में डिप्रेशन अपने आसपास के नेगेटिव पीपल से भी दूर रहना बहुत जरूरी है

uske liye sabse pehle zaroori hai ki hum se positive batein hi batein na kare unko acche bane positive direction dikhaen chijon ke positive step dikhaen unko ki chijon ke pahaloo kaun do pahaloo kaunsi hain kyonki jab depression hota hai toh vaah Negative pahaloo ki taraf atrekt hote hoti hai ki har cheez mein Negative dekhna lekin har cheez mein positive hi hota hai toh unhe positive vastavik dikhana bahut zaroori hai jaise koi BMW hai aur vaah kahe ki mere paas yah se badi wali car nahi hai toh use uska aaj tak keh diya ki aapka bahut logo se bahut behtar hai toh is tarah ki soch positive approach ke saath hi aap depression se bahar aa sakte hain plus aap ka maahaul aapke aaspass ke log sab ke bare mein janana zaroori hai jitna hum mod Negative pipal se milte hain utana mein depression apne aaspass ke Negative pipal se bhi dur rehna bahut zaroori hai

उसके लिए सबसे पहले जरूरी है कि हम से पॉजिटिव बातें ही बातें ना करें उनको अच्छे बने पॉजिटिव

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  134
WhatsApp_icon
play
user

Mr. Ravi Shankar Raina

Clinical Psychologist

0:30

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मध्य प्रदेश का हमारा कोई फ्रेंड डिप्रेशन में है तो नॉर्मल ही कॉफी शॉप पहले जाओगे धीरे-धीरे आती स्टार्ट करेंगे और फिर उसके बाद वह खुद ही खुलने लगे तो शेयर करेगा स्टार्टिंग अच्छी लगती है जैसे म्यूजिक सुनना है पढ़ना उसको चैटिंग करनी चाहिए

madhya pradesh ka hamara koi friend depression mein hai toh normal hi coffee shop pehle jaoge dhire dhire aati start karenge aur phir uske baad vaah khud hi khulne lage toh share karega starting achi lagti hai jaise music sunana hai padhna usko chatting karni chahiye

मध्य प्रदेश का हमारा कोई फ्रेंड डिप्रेशन में है तो नॉर्मल ही कॉफी शॉप पहले जाओगे धीरे-धीरे

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  527
WhatsApp_icon
user

Dr. Shweta Sharma

Psychologist

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सपोर्ट करना चाहिए थोड़ा सा लगता है मुझसे बात करो नो मैटर व्हाट लाइफ इज द पेशेंट पैसे से बात करेंगे तो हम उससे और कम कर सकते हैं जैसे दूसरी कैंसर बीमारी होती तो कैंसर तो सपने ध्यान रखना क्योंकि मरीज आते हैं तो लोग का इलाज नहीं करवाते हैं अगर इलाज

support karna chahiye thoda sa lagta hai mujhse baat karo no matter what life is the patient paise se baat karenge toh hum usse aur kam kar sakte hain jaise dusri cancer bimari hoti toh cancer toh sapne dhyan rakhna kyonki marij aate hain toh log ka ilaj nahi karwaate hain agar ilaj

सपोर्ट करना चाहिए थोड़ा सा लगता है मुझसे बात करो नो मैटर व्हाट लाइफ इज द पेशेंट पैसे से बा

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  101
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!