मुझे अपनी उपस्थिति और जीवन में अपनी असफलताओं के कारण खुद पर शर्म आती है और यह मुझे उदास महसूस कराता है। मुझे क्या करना चाहिए?...


user

Anjana Baliga

Counselor

4:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन में कभी आपने मकड़ी का जाल देखा है मकड़ी कितनी बार जाल बनाती है कितनी बार उसका जाल टूट जाता है फिर भी वह ऊपर चढ़ती है दोबारा बनाती है तू हमारे अतीत कितने ऐसे पशु पक्षी है जो हमें बहुत कुछ सिखाते हैं आप हमारे भारत के सेनानियों को देखिए अगर दुश्मन को हार जाए तो क्या होता है क्या उसको सफलता मानते हैं वह दुबारा दुगनी शक्ति से युद्ध लड़ते हैं असफलता का मतलब अपनी खोई हुई शक्तियों को दोबारा जागृत करना कम करने वाली बिल्कुल बात ही नहीं आप उन लोगों को देखिए इनका शारीरिक शोषण होता है जो कैंसर से जूझता है तो जीवन से हताश हैं या अपने आपको सफल मान लें असफलताओं पर कभी भी शर्म नहीं करनी चाहिए यह असफलताएं क्यों आती है यह ध्यान दीजिए आपके अंदर क्या-क्या सकती हैं उससे लड़ने के लिए यह असफलता आना बहुत जरूरी है जीवनी जब तक आप असफलताओं से जुड़ेंगे नहीं आप कभी भी अपने आप को योद्धा नहीं मानेंगे सबसे अच्छा उदाहरण में प्राण बचाने के लिए आप कुछ उठाएंगे पत्थर या कुछ तो आपके अंदर से यह कहां से चेतना आ रही थी आपको अपने शरीर की रक्षा करनी चाहिए तो आप क्या उठाएंगे क्या मारेंगे यह आपके ऊपर निर्भर करता है आपके अपने इंटेलिजेंस यूज करेंगे ना या तो वहां से भाग जाएंगे या लड़ेंगे भगवान ने आपको एक्स्ट्रा इंटेलिजेंस दी है और एक्स्ट्रा इंग्लैंड का कब पता चलता है जब आप असफल होते हैं देखिए आप अभी लाइट में रह रहे हैं बिजली आ रही है बहुत उजाला महसूस हो रहा है 1 दिन बिना बिजली के रहिए अंधेरे में रहिए तैयार हमारे घर में तो बिजली आ रही थी कितना सांप दिखा रहा था उजाले की वैल्यू आफ कब समझे जब अंधेरा आया नहीं तो तब तक आप को उजाले की वैल्यू पता ही नहीं थी तो आपकी खुद की वैल्यू आपको तभी पता चलेगी जब सभी व्यक्ति ऐसे ही महान नहीं हुए असफल होते हैं तब वह अपनी गलतियों से कुछ सीखते हैं उनके अंदर की अंदर की शक्ति जागृत होती है तो जितने लोग सफल हुए हैं वह असफलता उनके जीवन में सबसे ज्यादा आ गया और असफलता बहुत स्ट्रांग बनाने के लिए आती तो आप अधिक शक्तिमान बनते हैं क्योंकि आप की अंदरूनी शक्ति जागृत हो जाती है उससे लड़ने के लिए मैं तो कहती हूं जीवन में जितनी बार करना चाहिए क्योंकि पता चलती है योद्धा हूं मेरा सकती है इस परेशानी से निपट सकता हूं आपकी फ्रेंड है असफलता है आपकी इनायत है आप किस ग्रंथ को जागृत करने के लिए आती हैं कुंती ने कहा कि मेरे हे प्रभु मेरे जीवन में दुख हमेशा रहे क्योंकि दुख में कभी वह प्रभु को भूलना नहीं चाहती क्योंकि सुख में तो हम हमेशा याद नहीं करते दुख में याद करते तो कहते मेरे जीवन में हमेशा दुख बना रहे प्रभु मैं आपको बोलना तू इसे में क्या ज्ञान मिलता है यह ज्ञान मिलता है कि हमारा जन्म धरती पर यह ट्रेन स्कूल है जब हम स्कूल में परीक्षाएं देते हैं जो हमें लड़ना सिखाते हो 3 घंटे में परीक्षा पास कर लेते जीवन में हमारे साथ जब रियल घटना होती है तो हमेशा सफलता क्या दोबारा परीक्षा दे सकते हो दोबारा उठो दोबारा मेहनत करो परीक्षा दो आफ अलका का मतलब है यू आर यू का मतलब अभी पास होने में टाइम लगेगा तो पप्पू कभी ना कभी तो पास होगा ना होगा कि नहीं तो बस मेहनत करो अपने अंदरूनी शक्ति को जागृत करो अपनी असफलताओं से सीखो फिर क्यों मैं सफल हुआ सबसे पहले दुकान ढूंढो क्या कारण है समय सफल हुआ जब आप यह ढूंढने लग जाएंगे आप की शक्ति नहीं चाहती नहीं चेतना जागृत होगी और इससे आपको अलग प्रेरणा मिलेगी आपकी लाइफ को नई दिशा मिलेगी आशा करती हूं आपका दिन शुभ हो गॉड ब्लेस यू थैंक यू

jeevan me kabhi aapne makdi ka jaal dekha hai makdi kitni baar jaal banati hai kitni baar uska jaal toot jata hai phir bhi vaah upar chadhati hai dobara banati hai tu hamare ateet kitne aise pashu pakshi hai jo hamein bahut kuch sikhaate hain aap hamare bharat ke senaniyon ko dekhiye agar dushman ko haar jaaye toh kya hota hai kya usko safalta maante hain vaah dubara dugni shakti se yudh ladte hain asafaltaa ka matlab apni khoi hui shaktiyon ko dobara jagrit karna kam karne wali bilkul baat hi nahi aap un logo ko dekhiye inka sharirik shoshan hota hai jo cancer se jujhta hai toh jeevan se hathaash hain ya apne aapko safal maan le asafaltaon par kabhi bhi sharm nahi karni chahiye yah asafaltaye kyon aati hai yah dhyan dijiye aapke andar kya kya sakti hain usse ladane ke liye yah asafaltaa aana bahut zaroori hai jeevni jab tak aap asafaltaon se judenge nahi aap kabhi bhi apne aap ko yodha nahi manenge sabse accha udaharan me praan bachane ke liye aap kuch uthayenge patthar ya kuch toh aapke andar se yah kaha se chetna aa rahi thi aapko apne sharir ki raksha karni chahiye toh aap kya uthayenge kya marenge yah aapke upar nirbhar karta hai aapke apne intelligence use karenge na ya toh wahan se bhag jaenge ya ladenge bhagwan ne aapko extra intelligence di hai aur extra england ka kab pata chalta hai jab aap asafal hote hain dekhiye aap abhi light me reh rahe hain bijli aa rahi hai bahut ujaala mehsus ho raha hai 1 din bina bijli ke rahiye andhere me rahiye taiyar hamare ghar me toh bijli aa rahi thi kitna saap dikha raha tha ujale ki value of kab samjhe jab andhera aaya nahi toh tab tak aap ko ujale ki value pata hi nahi thi toh aapki khud ki value aapko tabhi pata chalegi jab sabhi vyakti aise hi mahaan nahi hue asafal hote hain tab vaah apni galatiyon se kuch sikhate hain unke andar ki andar ki shakti jagrit hoti hai toh jitne log safal hue hain vaah asafaltaa unke jeevan me sabse zyada aa gaya aur asafaltaa bahut strong banane ke liye aati toh aap adhik shaktiman bante hain kyonki aap ki andaruni shakti jagrit ho jaati hai usse ladane ke liye main toh kehti hoon jeevan me jitni baar karna chahiye kyonki pata chalti hai yodha hoon mera sakti hai is pareshani se nipat sakta hoon aapki friend hai asafaltaa hai aapki inaayat hai aap kis granth ko jagrit karne ke liye aati hain kuntee ne kaha ki mere hai prabhu mere jeevan me dukh hamesha rahe kyonki dukh me kabhi vaah prabhu ko bhoolna nahi chahti kyonki sukh me toh hum hamesha yaad nahi karte dukh me yaad karte toh kehte mere jeevan me hamesha dukh bana rahe prabhu main aapko bolna tu ise me kya gyaan milta hai yah gyaan milta hai ki hamara janam dharti par yah train school hai jab hum school me parikshaen dete hain jo hamein ladana sikhaate ho 3 ghante me pariksha paas kar lete jeevan me hamare saath jab real ghatna hoti hai toh hamesha safalta kya dobara pariksha de sakte ho dobara utho dobara mehnat karo pariksha do of alka ka matlab hai you R you ka matlab abhi paas hone me time lagega toh pappu kabhi na kabhi toh paas hoga na hoga ki nahi toh bus mehnat karo apne andaruni shakti ko jagrit karo apni asafaltaon se sikho phir kyon main safal hua sabse pehle dukaan dhundho kya karan hai samay safal hua jab aap yah dhundhne lag jaenge aap ki shakti nahi chahti nahi chetna jagrit hogi aur isse aapko alag prerna milegi aapki life ko nayi disha milegi asha karti hoon aapka din shubha ho god bless you thank you

जीवन में कभी आपने मकड़ी का जाल देखा है मकड़ी कितनी बार जाल बनाती है कितनी बार उसका जाल टूट

Romanized Version
Likes  357  Dislikes    views  3217
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Dr. Jyoti Gupta

Assistant Professor

0:37

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वह कैसे झुके तो तरीके बहुत है लेकिन वह किस तरीके का आना बहुत जरूरी है अच्छा नहीं लग रहा है कहीं ना कहीं हम कहते हैं कि सब लोग हैं या फिर अगर घर का ही घर में ही रहती है या नेता है और अपने पैरंट्स से मिलना ही चाहिए

vaah kaise jhuke toh tarike bahut hai lekin vaah kis tarike ka aana bahut zaroori hai accha nahi lag raha hai kahin na kahin hum kehte hain ki sab log hain ya phir agar ghar ka hi ghar mein hi rehti hai ya neta hai aur apne Parents se milna hi chahiye

वह कैसे झुके तो तरीके बहुत है लेकिन वह किस तरीके का आना बहुत जरूरी है अच्छा नहीं लग रहा है

Romanized Version
Likes  152  Dislikes    views  2554
WhatsApp_icon
user

Ayushi Madaan

Clinical Psychologist

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल क्यों अभी तक आ जाओ यह हो रहा है से बॉडी शमिंग कहते हैं जैसे हम तो बॉडी से मिल नहीं है तो हमारा साइकोलॉजिकल डिसऑर्डर रहा है बॉडी डिस्मोरफिक डिसऑर्डर देखने हमें अपने शरीर को लेकर बहुत बुरा महसूस होगा यह में कमी महसूस होती है तो सबसे पहले हमें करना चाहिए जो करना चाहिए अपने आप की बाकी लोगों से तुलना करनी बंद करनी चाहिए क्योंकि हम चलते हैं हमें अपने ऊपर काम हर समय करते रहना चाहिए यूट्यूब लैंड कि कहीं कोई लिमिट नहीं होती हम जितना चाहे और बेहतर से बेहतर बन सकते हैं लेकिन अपना कंपटीशन सिर्फ अपने आप से रखना चाहिए लेकिन हम अक्सर ही गलती कर देते हैं कि हम अपनी करना बाकी लोगों से करते हैं और उनसे करते हैं जिन पर हमें लगता है कि हम उनसे कमजोर है अगर हम देखे हैं तो कम से कम 5 दिन करना चाहिए कि जो हमसे थोड़ा सा भी डाउन है ताकि हमें यह महसूस हो कि हम किसी से कम है वैसे जो बेस्ट अपना कंपटीशन अपना करें और कम पर हम किसी और से भी मत करें किसी और कैसे हैं और कहां से हैं आप यूनिट हैं

aajkal kyon abhi tak aa jao yah ho raha hai se body shaming kehte hain jaise hum toh body se mil nahi hai toh hamara saikolajikal disorder raha hai body dismorafik disorder dekhne hamein apne sharir ko lekar bahut bura mehsus hoga yah mein kami mehsus hoti hai toh sabse pehle hamein karna chahiye jo karna chahiye apne aap ki baki logo se tulna karni band karni chahiye kyonki hum chalte hain hamein apne upar kaam har samay karte rehna chahiye youtube land ki kahin koi limit nahi hoti hum jitna chahen aur behtar se behtar ban sakte hain lekin apna competition sirf apne aap se rakhna chahiye lekin hum aksar hi galti kar dete hain ki hum apni karna baki logo se karte hain aur unse karte hain jin par hamein lagta hai ki hum unse kamjor hai agar hum dekhe hain toh kam se kam 5 din karna chahiye ki jo humse thoda sa bhi down hai taki hamein yah mehsus ho ki hum kisi se kam hai waise jo best apna competition apna kare aur kam par hum kisi aur se bhi mat kare kisi aur kaise hain aur kahaan se hain aap unit hain

आजकल क्यों अभी तक आ जाओ यह हो रहा है से बॉडी शमिंग कहते हैं जैसे हम तो बॉडी से मिल नहीं है

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  570
WhatsApp_icon
user

Archana Chaudhary

Rehabilitation Psychologist

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उसको सबसे पहले तो मैं कहूंगी कि ऐसे लोगों से बात करने के लिए उसके बहुत खुश हूं और अपनी बातों को शेयर करना चाहिए अपने अंदर नहीं रखना चाहिए क्योंकि बात करना सबसे पहला एक्सेप्ट हो सकता है दूसरा उसको खुद को बार-बार अपनी अच्छी चीजों को याद करना चाहिए अपनी लाइफ में बहुत कुछ अच्छा भी होता है याद करते रहना चाहिए ओन्ली डेफिनेटली

usko sabse pehle toh main kahungi ki aise logo se baat karne ke liye uske bahut khush hoon aur apni baaton ko share karna chahiye apne andar nahi rakhna chahiye kyonki baat karna sabse pehla except ho sakta hai doosra usko khud ko baar baar apni achi chijon ko yaad karna chahiye apni life mein bahut kuch accha bhi hota hai yaad karte rehna chahiye only definetli

उसको सबसे पहले तो मैं कहूंगी कि ऐसे लोगों से बात करने के लिए उसके बहुत खुश हूं और अपनी बात

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  543
WhatsApp_icon
user

Ms. Sonu Pandey

Rehabilitation Personnel

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डिप्रेशन में जाने के कई कारण हो सकते हैं हमें कई बार बहुत सारी बातें पसंद नहीं आती है या कुछ ऐसी बातें जो हम एक्सपेक्ट नहीं करते हैं और किसी को बता नहीं पाते खास का जख्म किसी को बता नहीं पाते हैं अपनी बातें शेयर नहीं कर पाते वह बातें हमारी मन नहीं किसी कोने में दबी रह जाती और जब किसी कोने में वह बातें रह जाती हैं और हम उसको किसी के साथ शेयर नहीं कर पाते तो वह फिर एक चिंता का विषय बन जाता है जो जाने-अनजाने हमारे मन में रहते हुए अनकॉन्शियस माइंड में चला जाता है जो भी हम काम करते हैं वह जो विकराल जो थॉट्स जो एक्सपेक्टेशन पूरी नहीं हुई है वह अनकॉन्शियस माइंड में रहते हुए हमारे दोस्त मराठी आती थी उसको प्रभाव का असर डालती है और इसकी वजह से वो धीरे धीरे

depression mein jaane ke kai karan ho sakte hain hamein kai baar bahut saree batein pasand nahi aati hai ya kuch aisi batein jo hum expect nahi karte hain aur kisi ko bata nahi paate khaas ka jakhm kisi ko bata nahi paate hain apni batein share nahi kar paate vaah batein hamari man nahi kisi kone mein dabi reh jaati aur jab kisi kone mein vaah batein reh jaati hain aur hum usko kisi ke saath share nahi kar paate toh vaah phir ek chinta ka vishay ban jata hai jo jaane anjaane hamare man mein rehte hue anakanshiyas mind mein chala jata hai jo bhi hum kaam karte hain vaah jo vikrale jo thoughts jo expectation puri nahi hui hai vaah anakanshiyas mind mein rehte hue hamare dost marathi aati thi usko prabhav ka asar daalti hai aur iski wajah se vo dhire dhire

डिप्रेशन में जाने के कई कारण हो सकते हैं हमें कई बार बहुत सारी बातें पसंद नहीं आती है या क

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  492
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!