एक व्यक्ति चिंता से कैसे निपट सकता है?...


play
user

Raj Alampur

Psychologist and Career counsellor(मनोविज्ञानी और परामर्शदाता)

1:17

Likes  227  Dislikes    views  1613017
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Pratishtha Trivedi

Clinical Psychologist

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अलग अलग तरीके की एंजाइटी के अलग-अलग बताऊंगी कि अगर आपको इनवाइट तो आप प्रोफेशनल प्ले बाकी आपको एक पता चले आप की अंग्रेजी पर जो मैच करते हैं उसके अलावा हम थोड़ा कठिन है तो उस को बदलने से बाकी जेनरेशन एक्सरसाइज ब्रांडिंग मेडिटेशन अधिवेशन यह सब करके गई थी जो लोगों को होती है उसे अटेंड पाया जा सकता है

alag alag tarike ki anxiety ke alag alag bataungi ki agar aapko invite toh aap professional play baki aapko ek pata chale aap ki angrezi par jo match karte hain uske alava hum thoda kathin hai toh us ko badalne se baki generation exercise Branding meditation adhiveshan yah sab karke gayi thi jo logo ko hoti hai use attend paya ja sakta hai

अलग अलग तरीके की एंजाइटी के अलग-अलग बताऊंगी कि अगर आपको इनवाइट तो आप प्रोफेशनल प्ले बाकी आ

Romanized Version
Likes  34  Dislikes    views  562
WhatsApp_icon
user

Deepinder Sekhon

Mental Health Care

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले आईडेंटिफाई करो कि आपको इनवाइट ही हो क्यों रे बहुत सारी रीजन होते हैं नाइटी के लिए तो हमें तो यह पता ही नहीं लगता एक गायत्री एक बच्चे को होगी कि ग्राम देने जा रहा है उसको इनसाइटी हो गई थी आपको क्यों हो गई है क्योंकि आपने किया तो अच्छे से प्रिपेयर नहीं किया या आपको डर लग रहा है कि आप रिजल्ट में फेल हो जाओगे या घर में मां बाप अगर बहुत स्वीट है तो है कि पता नहीं वह कैसे करेंगे फिर मैंने बैटरी बचत मोड के साथ ही पेपर देने जा रहा है तो फर्स्ट वॉल्यूम को भी काम अंडरस्टैंड आईटी क्यों हो रही है इसलिए बहुत ज्यादा जरूरी है उन को समझाने के लिए कि आपको किस चीज का डर लग रहा है जिसकी वजह से इनसाइटी हो रही है वेरी गुड

sabse pehle aidentifai karo ki aapko invite hi ho kyon ray bahut saree reason hote hain nighty ke liye toh hamein toh yah pata hi nahi lagta ek gayatri ek bacche ko hogi ki gram dene ja raha hai usko inasaiti ho gayi thi aapko kyon ho gayi hai kyonki aapne kiya toh acche se prepare nahi kiya ya aapko dar lag raha hai ki aap result mein fail ho jaoge ya ghar mein maa baap agar bahut sweet hai toh hai ki pata nahi vaah kaise karenge phir maine battery bachat mode ke saath hi paper dene ja raha hai toh first volume ko bhi kaam understand it kyon ho rahi hai isliye bahut zyada zaroori hai un ko samjhane ke liye ki aapko kis cheez ka dar lag raha hai jiski wajah se inasaiti ho rahi hai very good

सबसे पहले आईडेंटिफाई करो कि आपको इनवाइट ही हो क्यों रे बहुत सारी रीजन होते हैं नाइटी के लि

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  392
WhatsApp_icon
user

Dr. Sanjeev Tripathi

Clinical Psychologist

1:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चिंता ता चिंता है कर लो काम में नहीं आता कि गंभीर चिंता के सॉन्ग पेश की जाएगी वह करीब 10% लोगों में होती है बहुत काम की चिंता क्या है अगर आप रिलैक्स हो जाओ तो आपको चिंता नहीं रहेगी जुड़वा डीलक्स की कितनी फीस होती होती है इसके बारे में

chinta ta chinta hai kar lo kaam mein nahi aata ki gambhir chinta ke song pesh ki jayegi wah kareeb 10% logo mein hoti hai bahut kaam ki chinta kya hai agar aap relax ho jao toh aapko chinta nahi rahegi judwa deluxe ki kitni fees hoti hoti hai iske bare mein

चिंता ता चिंता है कर लो काम में नहीं आता कि गंभीर चिंता के सॉन्ग पेश की जाएगी वह करीब 10%

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  481
WhatsApp_icon
user

Ms. Kalpana Raman

Clinical Psychologist

1:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एंजाइटी बॉडी फैंटम होता है चिंता विचार पर होता है वाली ऑल इन राइटिंग में डिस्पेंसरी का बड़ा रूप जो बॉडी में दिखता है फिजिकल चम चमके घबराहट लगना पीछे नहीं लगता है मुंह करके जाना याद बहुत ज्यादा जल्दबाजी करना या पसीने आने का बॉडी सिस्टम होता है इन राइटिंग में आपको इमोशनल पर भी देखना पड़ता है जो चिंता का प्लानिंग ऑनलाइन प्लान मतलब में किसी चीज के लिए सेट धूल और तकदीर बना दो उसको फॉलो करता रहूं साथ में भी उसके लिए अल्टरनेटर बड़ी होता है जहां पर में एक ही कार्य के लिए 10,000 विचार कर लूंगा से कलर के नाम के कैसे होगा अगर ऐसा नहीं हुआ तो अगर किसी ने मुझे ऐसे बोलते हुए देख लिया तो फिर मैंने गलत कर मुक्त गलत हो गया हो तो तो दुनिया का दुनिया क्या कहेगी मम्मी पागल क्या कहेंगे लोग क्या कहेंगे मिलेगी कोई ना कोई क्या कहेगा तो चिंता को अगर जिद की आदत है चिंता ही करना हर चीज पर तो उसको हम लोग प्रत्यक्ष और मॉडिफिकेशन खाना पड़ता है कि कोई भी विचार हो मेरे लिए लिखित का काम कैसे करती है और वह विचार को कैसे चेंज किया जाता है और मॉडिफाई किया जाता है कि 10 प्लान पर वही रखा जाता है

anxiety body faintam hota hai chinta vichar par hota hai wali all in writing mein dispensary ka bada roop jo body mein dikhta hai physical chamm chamke ghabarahat lagna peeche nahi lagta hai mooh karke jana yaad bahut zyada jaldabaji karna ya pasine aane ka body system hota hai in writing mein aapko emotional par bhi dekhna padta hai jo chinta ka planning online plan matlab mein kisi cheez ke liye set dhul aur takdir bana do usko follow karta rahun saath mein bhi uske liye alternator baadi hota hai jaha par mein ek hi karya ke liye 10 000 vichar kar lunga se color ke naam ke kaise hoga agar aisa nahi hua toh agar kisi ne mujhe aise bolte hue dekh liya toh phir maine galat kar mukt galat ho gaya ho toh toh duniya ka duniya kya kahegi mummy Pagal kya kahenge log kya kahenge milegi koi na koi kya kahega toh chinta ko agar jid ki aadat hai chinta hi karna har cheez par toh usko hum log pratyaksh aur modification khana padta hai ki koi bhi vichar ho mere liye likhit ka kaam kaise karti hai aur vaah vichar ko kaise change kiya jata hai aur madifai kiya jata hai ki 10 plan par wahi rakha jata hai

एंजाइटी बॉडी फैंटम होता है चिंता विचार पर होता है वाली ऑल इन राइटिंग में डिस्पेंसरी का बड़

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  776
WhatsApp_icon
user

DR SURI

Rehabilitation Psychologist

0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लड़की के लिए भेजो हिंदी में

ladki ke liye bhejo hindi mein

लड़की के लिए भेजो हिंदी में

Romanized Version
Likes  75  Dislikes    views  936
WhatsApp_icon
user

Archana Chaudhary

Rehabilitation Psychologist

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ज़ी टीवी पर चलता है जो जरूरत से ज्यादा चिंता होती है और हमारी बॉडी को करती है और आईटी से निपटने का तरीका है कि योग्य कॉग्निटिव थेरेपी आती है

zee TV par chalta hai jo zarurat se zyada chinta hoti hai aur hamari body ko karti hai aur it se nipatane ka tarika hai ki yogya kagnitiv therapy aati hai

ज़ी टीवी पर चलता है जो जरूरत से ज्यादा चिंता होती है और हमारी बॉडी को करती है और आईटी से न

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  541
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चिंता से कैसे निपट सकता है चिंता से निपटने के लिए उसको हर रोज डेली मेडिटेशन करना होगा प्राणायाम करना होगा ठीक है योग करना होगा एक्सरसाइज करनी होगी ध्यान देना होगा ठीक है तो वह अपनी चिंता से आराम से नहीं पड़ सकता है ठीक है

chinta se kaise nipat sakta hai chinta se nipatane ke liye usko har roj daily meditation karna hoga pranayaam karna hoga theek hai yog karna hoga exercise karni hogi dhyan dena hoga theek hai toh vaah apni chinta se aaram se nahi pad sakta hai theek hai

चिंता से कैसे निपट सकता है चिंता से निपटने के लिए उसको हर रोज डेली मेडिटेशन करना होगा प्रा

Romanized Version
Likes  423  Dislikes    views  5283
WhatsApp_icon
user
1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चिंता होती क्यों पहले तो उस पर ध्यान देना कि हमें कुछ अद्भुत अविश्वसनीय और जो हम कर कहते हैं बहुत कुछ नहीं करते जो अभी है उसके लिए तो कुछ कर सकते और सब लोग अपना काम करने लगे तो की चिंता किसी को होगी और कुछ दुख नहीं होगा कुछ सबसे पौष्टिक पढ़ने के लिए चाहिए सबको देखें

chinta hoti kyon pehle toh us par dhyan dena ki hamein kuch adbhut avishwasaniya aur jo hum kar kehte hain bahut kuch nahi karte jo abhi hai uske liye toh kuch kar sakte aur sab log apna kaam karne lage toh ki chinta kisi ko hogi aur kuch dukh nahi hoga kuch sabse paushtik padhne ke liye chahiye sabko dekhen

चिंता होती क्यों पहले तो उस पर ध्यान देना कि हमें कुछ अद्भुत अविश्वसनीय और जो हम कर कहते ह

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  158
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!