मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों का आत्म निदान खतरनाक कैसे हो सकता है?...


play
user

Karishma

Psychologist

1:38

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह होता है कि कई बार हमें हमें जो नॉलेज पूरी ना होने दो कोई भी चीज कंप्लीट नहीं है हमेशा खुद डॉक्टर ना बने क्योंकि हम क्यों पढ़ते हैं वह और क्रिटिकल इतना एक्सपर्टीज उन्होंने कौन होते हैं कि आपको लेना है तो ले लेना आपको प्रॉब्लम में हेल्प कर देना कि उसे बढ़ाना हम लोग जब हमारी खुट्टी चट्टी तो क्या होता है कि आप अपने लाइट को लेकर अपने आप को जो सही लगता है क्या काम है और वहां एक प्रॉब्लम का टिकट क्या है ट्रैक्टर क्या है क्योंकि कभी-कभी हम को नापसंद होते हैं तो इसे हमें भी अपने आप में जॉब करने होते हैं तो पहले जानना पड़ेगा स्किन प्रॉब्लम का सलूशन कहां से स्टार्ट होगा अगर आप अपने भाई को क्या देना चाहिए और अपने आप को कॉल करना चाहते तो कई बार हो सकता है कि हमारा ही होगा

yeh hota hai ki kai baar humein humein jo knowledge puri na hone do koi bhi cheez complete nahi hai hamesha khud doctor na bane kyonki hum kyon padhte hain wah aur critical itna eksapartij unhone kaun hote hain ki aapko lena hai toh le lena aapko problem mein help kar dena ki use badhana hum log jab hamari khutti chatti toh kya hota hai ki aap apne light ko lekar apne aap ko jo sahi lagta hai kya kaam hai aur wahan ek problem ka ticket kya hai tractor kya hai kyonki kabhi kabhi hum ko napasand hote hain toh ise humein bhi apne aap mein job karne hote hain toh pehle janana padega skin problem ka salution kahaan se start hoga agar aap apne bhai ko kya dena chahiye aur apne aap ko call karna chahte toh kai baar ho sakta hai ki hamara hi hoga

यह होता है कि कई बार हमें हमें जो नॉलेज पूरी ना होने दो कोई भी चीज कंप्लीट नहीं है हमेशा ख

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  2123
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

DR SURI

Rehabilitation Psychologist

0:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

छोटा सा भी जो इसमें कमेंट है और किसी को बहुत ज्यादा कर देता है

chota sa bhi jo ismein comment hai aur kisi ko bahut zyada kar deta hai

छोटा सा भी जो इसमें कमेंट है और किसी को बहुत ज्यादा कर देता है

Romanized Version
Likes  75  Dislikes    views  934
WhatsApp_icon
user

Dr. Mrignayani Agarwal

Clinical Psychologist

2:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी आजकल क्या करने की वजह तुम बनो अगर ऐसे में अगर उन्हें कोई भी गलत जानकारी नहीं गई इंटरनेट से और वह उनकी बीमारी ना हुई बहुत सारे रोमांटिक आपको यह बीमारी को भी बीमारी हो सकती है अपने आप से डायग्नोज करने लगे और अगर वह उसी बैग में जो है वह गलत निकल जाए उसकी दवाई लक्ष्मण लगते हैं तो तुरंत उस व्यक्ति को किसी न किसी डॉक्टर से संपर्क करना कि करना है अगर नहीं डॉक्टर से कहा जा रहा है कि किसी ने परिवार वाले को जरूर मुझे ऐसी ऐसी परेशानी में परिवार वाले भी नहीं कहा कि दोस्त कोई भी काम करते हैं साथ में उनको बताएं क्या निकलेगा इसका इलाज बुखार भी है अगर शादी नहीं बीमारी है चाहे बुखार कौन सा यह तो हमें मगर करने पर ब्लड देते हैं तब जाके हमको कोई और बुखार है सपोर्ट मेडिटेशन करेंगे तो फिर वह तो खतरनाक है

vicky aajkal kya karne ki wajah tum bano agar aise mein agar unhe koi bhi galat jaankari nahi gayi internet se aur vaah unki bimari na hui bahut saare romantic aapko yah bimari ko bhi bimari ho sakti hai apne aap se dayagnoj karne lage aur agar vaah usi bag mein jo hai vaah galat nikal jaaye uski dawai lakshman lagte hain toh turant us vyakti ko kisi na kisi doctor se sampark karna ki karna hai agar nahi doctor se kaha ja raha hai ki kisi ne parivar waale ko zaroor mujhe aisi aisi pareshani mein parivar waale bhi nahi kaha ki dost koi bhi kaam karte hain saath mein unko bataye kya niklega iska ilaj bukhar bhi hai agar shadi nahi bimari hai chahen bukhar kaun sa yah toh hamein magar karne par blood dete hain tab jake hamko koi aur bukhar hai support meditation karenge toh phir vaah toh khataranaak hai

विकी आजकल क्या करने की वजह तुम बनो अगर ऐसे में अगर उन्हें कोई भी गलत जानकारी नहीं गई इंटरन

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  401
WhatsApp_icon
user

Dr. Sanjeev Tripathi

Clinical Psychologist

0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो इंटरनेट के द्वारा बहुत सारी मानसिक बीमारियों का को समझने की कोशिश करते हैं और कई बार अपनी मां की बीमारी और बढ़ा लेते हैं कुत्ते होते तो क्या करते हो भाई आपकी मां की बीमारी या प्रॉपर्टी ऑफिशल तो मिलकर उन चीजों को समझना उनकी बीमारी के लिए तो अपन जरूरी है

hello internet ke dwara bahut saree mansik bimariyon ka ko samjhne ki koshish karte hain aur kai baar apni maa ki bimari aur badha lete hain kutte hote toh kya karte ho bhai aapki maa ki bimari ya property official toh milkar un chijon ko samajhna unki bimari ke liye toh apan zaroori hai

हेलो इंटरनेट के द्वारा बहुत सारी मानसिक बीमारियों का को समझने की कोशिश करते हैं और कई बार

Romanized Version
Likes  44  Dislikes    views  478
WhatsApp_icon
user

Pushpendra Sharma

Clinical Psychologist

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर किसी को डायबिटीज के बारे में मालूम नहीं है अपने आपको किसी और से करीब 400 किलोमीटर कितना नुकसान हो सकता

agar kisi ko diabetes ke bare mein maloom nahi hai apne aapko kisi aur se kareeb 400 kilometre kitna nuksan ho sakta

अगर किसी को डायबिटीज के बारे में मालूम नहीं है अपने आपको किसी और से करीब 400 किलोमीटर कितन

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  591
WhatsApp_icon
user

Dr. Pallavee Trivedi

REHABILITATION PSYCHOLOGIST

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत डेंजरस है अगर हम कहें कि हम सच है अगर वह अभी भी सीक्रेट इसमें तो एक जिसको कुछ भी पता नहीं है वह कैसे अपने आप को ढालना पड़ेगा जब मैं अपने साइकोलॉजी के स्टूडेंट को भी एक बताती हूं कि कभी भी जजमेंटल नहीं होना है कभी भी एक नतीजे पर नहीं पहुंच जाना है जब तक कि आप वह चीज के बारे में सब कुछ पता ना करें इमोशंस है उसको बेड कैसे करेगा उसको नहीं कर पाएंगे कहीं ना कहीं जाएगा शाम को हम कहते हैं कि आपको कोई ऐसी समस्याएं बोला नहीं नहीं मुझे तो कोई प्रॉब्लम ही नहीं है क्या कोई एक बंदा हो जाता है और अगर नहीं देखेंगे तो फिर वह प्रॉब्लम या तो बढ़ जाएगी ऐसा कपड़ा खरीदने जाते हैं तो भी अच्छा लग रहा है

bahut dangerous hai agar hum kahein ki hum sach hai agar wah abhi bhi secret ismein toh ek jisko kuch bhi pata nahi hai wah kaise apne aap ko dhalana padega jab main apne psychology ke student ko bhi ek batati hoon ki kabhi bhi jajamental nahi hona hai kabhi bhi ek natije par nahi pohch jana hai jab tak ki aap wah cheez ke bare mein sab kuch pata na karein emotional hai usko bed kaise karega usko nahi kar payenge kahin na kahin jayega shaam ko hum kehte hain ki aapko koi aisi samasyaen bola nahi nahi mujhe toh koi problem hi nahi hai kya koi ek banda ho jata hai aur agar nahi dekhenge toh phir wah problem ya toh badh jayegi aisa kapda kharidne jaate hain toh bhi accha lag raha hai

बहुत डेंजरस है अगर हम कहें कि हम सच है अगर वह अभी भी सीक्रेट इसमें तो एक जिसको कुछ भी पता

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  501
WhatsApp_icon
user

Ayushi Madaan

Clinical Psychologist

3:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी आप बहुत ज्यादा खतरनाक हो सकता है इस तरीके से कि जो हमारे साथ डायग्नोसिस होता है वह कई बार हमें गलत डायग्नोस्टिक की तरफ ले जाता है जैसे कि और डिप्रेशन मोस्ट कॉमन डिसऑर्डर की बात करेगा करो कि डिप्रेशन इंजेक्शन भी गए और डिप्रेशन एक अपने आप में पूरी एक अलग बीमारी भी है अगर हम बाकी डिसऑर्डर की बात करें तो देखो फिर से कंपल्सिव डिसऑर्डर जो कि कॉमेंट बीमारी आजकल हम बहुत ज्यादा देख रहे हैं जिसमें अलग-अलग तरीकों के लक्षण होते हैं उसमें बहुत सारे टाइप होते हैं पैसे की बहुत ज्यादा हाथ धोना और नहाने में चाचा घंटे लगना छोटी छोटी चीजों पर सफाई होने पर ध्यान देना और छुटकी याद होना दौर के गुंडे ढूंढना पहले दो ना पूरा पूरे दिन ऐसे लोगों का पूरे समय अपने पूरे 24 घंटों में पूरा समय अपना सपाइयों में निकल जाता है लोग अक्सर उसको कल अड्डा इग्नोर कर देते हैं कि अरे इस फोटो और सफाई का कीड़ा है या फिर सफाई कर रहा है लेकिन बुक अड्डा इग्नोर कर देते हैं उसको कैसे बोल देते हो कि अक्षय कुमार अकेला पन काटता है इसलिए ज्यादा सफाई कर रही है तो शायद ऑपरेशन है तो यह जो अपने आप लोग बिना सोचे समझे गलत डायलॉग करते हैं कि मुझे सफाई का कीड़ा है या फिर मैं अकेली रहती हूं इसलिए मैं 4 घंटे नहा लेती हूं 4 घंटे लगाती हूं नहाने में क्योंकि अकेली रहती हूं तुझे कोई वाले देवर नहीं हुआ इन कामों में गोल होने का सिर्फ एक बहुत बड़ा रीजन बनता है इसकी वजह से जो हमारी इंटेंसिटी होती है मानसिक रोगों की रोक की ओर लौटना पड़ जाता है जबकि हमें इसको अगली क्रिस्टी क्लिप करना चाहिए डॉक्टर की हेल्प लेनी चाहिए लोग अक्सर का लाइसेंस उसकी वजह से और हम यह उसकी की लोक थप्पड़ लगाएंगे कि मैं डॉक्टर के पास जा रही हूं मानसिक रोगी के पास जारी है लोग अपने आपको खुद ही डायग्नोस्टिक रिपीट करना शुरू कर देते हैं कई बार यह बहुत अच्छी बात है कि बहुत सारे कैमरा कैसे हैं क्योंकि कोई भी सरकार टेक मेडिसिन बिना प्रिसक्रिप्शन कि नहीं देते हैं लेकिन मैं पर कुछ ऐसे कैसे जाएं हैं जिसमें लोगों ने अमेरिकी को थोड़ा गांव में यादा कोड एरिया में रहते हैं जहां पर आज भी कुछ कहना बिना और प्रशिक्षण के मेडिसन दे देते हैं तो लोग अपने आप ही सेंड आई नोट करके गलत दवाइयां खाते रहते हैं जिसकी वजह से उनकी दिमाग पर बहुत गलत असर पड़ता है यह जानलेवा हो सकता है पर डांस करना किसी भी बीमारी को आपको हर छोटी से छोटी बीमारी के लिए बुखार तक के लिए जब डॉक्टर को दिखाते हैं तो उनकी एक एक चीज के लिए और मानसिक रोगों के लिए ना दिखाना यह बहुत गलत बात है जो कि जो हमारा क्यों दिमाग इतना संस्कृत पाठ होता है हमारे शरीर का हम हर छोटी चीज के लिए जब डॉक्टर को कैंसिल करते हैं तो इस चीज के लिए तो हमेशा ही हमें डॉक्टर को कंफर्म करना चाहिए अपने आप से ना दवाई नहीं चाहिए ना एकदम करना चाहिए उसको ही करने देना

ji aap bahut zyada khataranaak ho sakta hai is tarike se ki jo hamare saath diagnosis hota hai vaah kai baar hamein galat dayagnostik ki taraf le jata hai jaise ki aur depression most common disorder ki baat karega karo ki depression injection bhi gaye aur depression ek apne aap mein puri ek alag bimari bhi hai agar hum baki disorder ki baat kare toh dekho phir se kampalsiv disorder jo ki comment bimari aajkal hum bahut zyada dekh rahe hai jisme alag alag trikon ke lakshan hote hai usme bahut saare type hote hai paise ki bahut zyada hath dhona aur nahane mein chacha ghante lagna choti choti chijon par safaai hone par dhyan dena aur chutki yaad hona daur ke gunde dhundhana pehle do na pura poore din aise logo ka poore samay apne poore 24 ghanto mein pura samay apna sapaiyon mein nikal jata hai log aksar usko kal adda ignore kar dete hai ki are is photo aur safaai ka kida hai ya phir safaai kar raha hai lekin book adda ignore kar dete hai usko kaise bol dete ho ki akshay kumar akela pan katata hai isliye zyada safaai kar rahi hai toh shayad operation hai toh yah jo apne aap log bina soche samjhe galat dialogue karte hai ki mujhe safaai ka kida hai ya phir main akeli rehti hoon isliye main 4 ghante naha leti hoon 4 ghante lagati hoon nahane mein kyonki akeli rehti hoon tujhe koi waale devar nahi hua in kaamo mein gol hone ka sirf ek bahut bada reason banta hai iski wajah se jo hamari intention hoti hai mansik rogo ki rok ki aur lautna pad jata hai jabki hamein isko agli cristy clip karna chahiye doctor ki help leni chahiye log aksar ka license uski wajah se aur hum yah uski ki lok thappad lagayenge ki main doctor ke paas ja rahi hoon mansik rogi ke paas jaari hai log apne aapko khud hi dayagnostik repeat karna shuru kar dete hai kai baar yah bahut achi baat hai ki bahut saare camera kaise hai kyonki koi bhi sarkar take medicine bina prescription ki nahi dete hai lekin main par kuch aise kaise jaye hai jisme logo ne american ko thoda gaon mein yaada code area mein rehte hai jaha par aaj bhi kuch kehna bina aur prashikshan ke medicine de dete hai toh log apne aap hi send I note karke galat davaiyan khate rehte hai jiski wajah se unki dimag par bahut galat asar padta hai yah janleva ho sakta hai par dance karna kisi bhi bimari ko aapko har choti se choti bimari ke liye bukhar tak ke liye jab doctor ko dikhate hai toh unki ek ek cheez ke liye aur mansik rogo ke liye na dikhana yah bahut galat baat hai jo ki jo hamara kyon dimag itna sanskrit path hota hai hamare sharir ka hum har choti cheez ke liye jab doctor ko cancel karte hai toh is cheez ke liye toh hamesha hi hamein doctor ko confirm karna chahiye apne aap se na dawai nahi chahiye na ekdam karna chahiye usko hi karne dena

जी आप बहुत ज्यादा खतरनाक हो सकता है इस तरीके से कि जो हमारे साथ डायग्नोसिस होता है वह कई ब

Romanized Version
Likes  38  Dislikes    views  506
WhatsApp_icon
user

Pratishtha Trivedi

Clinical Psychologist

3:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर मैं खुद डायग्नोज करते हैं पहली बार तो देखिए आपको अगर शुगर है तो आप क्या खूब डांस करेंगे मैं डॉक्टर के पास मंत्रियों के साथ विस्कोमीटर डायग्नोस्टिक्स उदास तो सभी रहते हैं जो कि स्कूटर आम उदासी मानते छोड़ देना वह क्या कहते हैं गलती होती है क्योंकि अंदर ज्यादा पर बड़ी परेशानी का रिफ्लेक्शन होती है उदास लोगों को लगता है कि नहीं यार मेरे कुछ मतलब बोर हो रहा हूं मैं लाइफ में इतना उदास हूं या मेरा ब्रेकअप हो गया है इसलिए मैं उदास हूं ब्रेकअप परेशानी नहीं है लेकिन अगर आपका ब्रेकअप हुआ और 1 साल हो गया है 6 महीने हो गए और आप उससे आगे नहीं बढ़ता है और आपको दूसरी चीजों में भी मन नहीं लग रहा है तो कहीं पड़ी है उदासी तो ज्यादा आगे बढ़ जाते हैं तो अगर आप अपने डिलीट करें डिलीट करो और उसको पहचान दूसरा डायनोसोर करके आप करेंगे क्या आप अगर मान लीजिए कौन सी दवाई लेना चाहिए आपको दवाई तो दी होती है कोई भी बिना प्रिसक्रिप्शन कि नहीं मिलेगी आपको अगर आपने डायग्नोज भी कर दिया तो भी आपको डॉक्टर की झांकी दिखा नहीं पड़ेगा दूसरी बात यह है कि क्या प्रॉब्लम क्या गूगल पर पड़ी ठीक कर देंगे कि आप ठीक से समझ पाएंगे और उसमें जो जरूरत है वह आप खुद की जरूरत नहीं कोई डॉक्टर अपनी परिवार में किसी की शादी नहीं कर सकता या खुद की सर्दी नहीं कर सकता और ना ही करनी चाहिए वैसे ही मानसिक परेशानी का इलाज करने से बेहतर है कि आप किसी प्रोफेशनल को दिखाएं क्योंकि मैं जानती हूं आपको बहुत कम होता है वह नींद ना तो लेकिन नींद ना आना जो सिस्टम है वह एंग्लाई टीमें भी होता है डिप्रेशन में भी होता है इस चैट में भी होता है और नींद ना आना अपने आप ने दिए बीमारी होती है तब आपने सोचा कि नहीं मुझे नींद नहीं आ रही है तो इसका कारण है कि मुझे नींद ना आने वाली बीमारी है अंग्रेजी में हम बोलते ही नहीं है तो आप क्या करेंगे इन सौम्या के लिए जो भी थोड़े से आयुर्वेदिक घरेलू उपचार क्या को नींद आने लग जाएगी लेकिन उसके पीछे क्या एंजाइटी थी या डिप्रेशन था या क्या कहते हैं उसका किसी और को सब ठीक नहीं होगा और डिप्रेशन नींद नहीं आ रही है डिप्रेशन में आपका मन भारी रहता है आपका कॉन्फिडेंस कम हो जाता है आपको थकान लगती रहती है आपको किसी भी चीज में इंटरेस्ट नहीं आता है काम करने से खुशी नहीं मिलती है वह सारी कि आपने सिर्फ डायग्नोज किया कि मुझे नींद ना आने की बीमारी है और आपने उसके लिए दवाई तो आपकी पिक नींद की परेशानी ही ठीक होगी और आपने क्योंकि जो एक करेक्ट प्रोफेशनल है उनको नहीं दिखाया तो नहीं आपकी बीमारी में जो है वही आपको उसका सही उपचार है सही ट्रीटमेंट बाय

agar main khud dayagnoj karte hain pehli baar toh dekhiye aapko agar sugar hai toh aap kya khoob dance karenge main doctor ke paas mantriyo ke saath viskomitar diagnostics udaas toh sabhi rehte hain jo ki scooter aam udasi maante chod dena vaah kya kehte hain galti hoti hai kyonki andar zyada par badi pareshani ka reflection hoti hai udaas logo ko lagta hai ki nahi yaar mere kuch matlab bore ho raha hoon main life mein itna udaas hoon ya mera breakup ho gaya hai isliye main udaas hoon breakup pareshani nahi hai lekin agar aapka breakup hua aur 1 saal ho gaya hai 6 mahine ho gaye aur aap usse aage nahi badhta hai aur aapko dusri chijon mein bhi man nahi lag raha hai toh kahin padi hai udasi toh zyada aage badh jaate hain toh agar aap apne delete kare delete karo aur usko pehchaan doosra daynosor karke aap karenge kya aap agar maan lijiye kaun si dawai lena chahiye aapko dawai toh di hoti hai koi bhi bina prescription ki nahi milegi aapko agar aapne dayagnoj bhi kar diya toh bhi aapko doctor ki jhanki dikha nahi padega dusri baat yah hai ki kya problem kya google par padi theek kar denge ki aap theek se samajh payenge aur usme jo zarurat hai vaah aap khud ki zarurat nahi koi doctor apni parivar mein kisi ki shadi nahi kar sakta ya khud ki sardi nahi kar sakta aur na hi karni chahiye waise hi mansik pareshani ka ilaj karne se behtar hai ki aap kisi professional ko dikhaen kyonki main jaanti hoon aapko bahut kam hota hai vaah neend na toh lekin neend na aana jo system hai vaah englai teamen bhi hota hai depression mein bhi hota hai is chat mein bhi hota hai aur neend na aana apne aap ne diye bimari hoti hai tab aapne socha ki nahi mujhe neend nahi aa rahi hai toh iska karan hai ki mujhe neend na aane wali bimari hai angrezi mein hum bolte hi nahi hai toh aap kya karenge in saumya ke liye jo bhi thode se ayurvedic gharelu upchaar kya ko neend aane lag jayegi lekin uske peeche kya anxiety thi ya depression tha ya kya kehte hain uska kisi aur ko sab theek nahi hoga aur depression neend nahi aa rahi hai depression mein aapka man bhari rehta hai aapka confidence kam ho jata hai aapko thakan lagti rehti hai aapko kisi bhi cheez mein interest nahi aata hai kaam karne se khushi nahi milti hai vaah saree ki aapne sirf dayagnoj kiya ki mujhe neend na aane ki bimari hai aur aapne uske liye dawai toh aapki pic neend ki pareshani hi theek hogi aur aapne kyonki jo ek correct professional hai unko nahi dikhaya toh nahi aapki bimari mein jo hai wahi aapko uska sahi upchaar hai sahi treatment bye

अगर मैं खुद डायग्नोज करते हैं पहली बार तो देखिए आपको अगर शुगर है तो आप क्या खूब डांस करेंग

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  505
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!