चिंता के लिए सबसे अच्छी दवा कौन सी है?...


user

Deapti Mishra

Clinica Psychologist

1:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एंजायटी एंजायटी एंड सिस्टर बोलने का मेरा नहीं है क्षेत्र के केमिकल साइकोलॉजिस्ट के लिए होती है पर वो एक सेक्रेटरी शिकायत करते हैं क्लीनिकल साइकोलॉजी में काउंसलिंग के माध्यम से साइकोथेरेपी के माध्यम से उनका इलाज करना होता है और एंजाइटी के लिए फिर और चीजें दिया जाते हैं कि हम को हर समय कुछ लोगों को हर समय कोई न कोई चीज को लेकर घबराहट होती रहती है या कोई चीज से डर लगता है उसे फोबिया होता है कि कुत्ते से डर लगता है या खुली जगह में जाने से डरबन में जोरों से डर लगता है इसलिए छोड़ दिया होता है पेज पर कुछ नहीं बोल सकते बहुत ज्यादा लोग हैं तो वहां पर नहीं था फोन कर पाते एग्जामिनेशन कॉपी ऑफ एग्जाम नहीं दे पाते रखिए मां के चरण बहुत अच्छे से पढ़ते हैं तो वहीं से ज्यादा चिकित्सा को ज्यादा महत्व दिया जाता है बहुत सीरियल हो जाते तभी दवाई खाने के लिए बजाते पर दवाइयों में यह होता है कि वह डिपेंडेंस का भी रहता है तो वह भी आपको किसी से किस की निगरानी में खाना लोग एक बार खाने लगे तो फिर खाते में आ जाते हैं बोलते बार-बार आएंगे कि हमको यही रिपीट कर दीजिए नहीं वह दवाई होती है हम सो जाते हैं उनकी लत लग जाती लोगों को तो उसके छोड़ने से फिर उनको और ज्यादा इन गई थी होती है तो उसको जब तक डॉक्टर भेजते दिन के लिए उतने ही दिन खाना चाहिए अपने से कभी नहीं खाना चाहिए

enjayati enjayati and sister bolne ka mera nahi hai kshetra ke chemical psychologist ke liye hoti hai par vo ek secretary shikayat karte hain clinical psychology me kaunsaling ke madhyam se psychotherapy ke madhyam se unka ilaj karna hota hai aur anxiety ke liye phir aur cheezen diya jaate hain ki hum ko har samay kuch logo ko har samay koi na koi cheez ko lekar ghabarahat hoti rehti hai ya koi cheez se dar lagta hai use phobia hota hai ki kutte se dar lagta hai ya khuli jagah me jaane se darban me joron se dar lagta hai isliye chhod diya hota hai page par kuch nahi bol sakte bahut zyada log hain toh wahan par nahi tha phone kar paate examination copy of exam nahi de paate rakhiye maa ke charan bahut acche se padhte hain toh wahi se zyada chikitsa ko zyada mahatva diya jata hai bahut serial ho jaate tabhi dawai khane ke liye bajaate par dawaiyo me yah hota hai ki vaah dipendens ka bhi rehta hai toh vaah bhi aapko kisi se kis ki nigrani me khana log ek baar khane lage toh phir khate me aa jaate hain bolte baar baar aayenge ki hamko yahi repeat kar dijiye nahi vaah dawai hoti hai hum so jaate hain unki lat lag jaati logo ko toh uske chodne se phir unko aur zyada in gayi thi hoti hai toh usko jab tak doctor bhejate din ke liye utne hi din khana chahiye apne se kabhi nahi khana chahiye

एंजायटी एंजायटी एंड सिस्टर बोलने का मेरा नहीं है क्षेत्र के केमिकल साइकोलॉजिस्ट के लिए होत

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  93
KooApp_icon
WhatsApp_icon
18 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
acchi dava ; ki dava kaun si hai ; sabse acchi chij kaun si hai ; sabse acchi dava ; sabse acchi dawai ; चिंता और चिंतन में अंतर ; सबसे अच्छी दवा ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!