क्या कोई मन की चाल है जो आलस्य का इलाज बन सकता है?...


play
user

J.P. Y👌g i

Psychologist

2:44

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आलस मन की ही दशा है जो मतलब अच्छा दी कि वे बड़े आराम से निरंतर चाहता है और वह आगे की प्रतिक्रिया नहीं करता क्योंकि भविष्य बहुत आगे होता है और लक्ष्मी जीवन के अंदर ऐसा लक्ष्मण आता है और दूसरी बात उसको मन की स्थिति यह है कि लेट संकल्प होना चाहिए और अपने आप को ऑर्डर में रखना चाहिए जैसे सलमान खान ने कहा किचन में एक बारी कॉमेंट्स कर देता हूं तो मैं खुद की भी नहीं सुनता बातें हैं संवाद है बहुत अच्छे हैं लेकिन वास्तव में उसमें सच्चाई भी होती है अगर आप किसी प्रिंसिपल के सहारे में उठ खड़े हुए हैं और आप अपनी भूमिका को बना रहे हैं प्लीज भगवान के स्वरुप में उत्साह अर्थ में जागृत हो रहे हैं आप अपने आप को इंट्रोड्यूस करेंगे संसार के लिए तो आपको यह गरिमा मांग के संकलन करना कि हमें इसको डालना है अपने आपको तो हम दूसरों क्या सुधार सकते हैं जब हमने खुद ब खुद आर्डर करके खुश को चलाना नहीं कहा जा सकता तो इस तरह की खुद अपनी परिपक्वता के साथ मजबूती के साथ संकल्प और आदेश करना चाहिए और मन मन नहीं गुमराह करके हमें उसका कारण क्या है कुछ भी नहीं है तो इससे परे जब उठेंगे इसकी सोच के दायरे को है तो वहां पर ऐसी कोई चीज नहीं है संघर्ष विराम का सुख देती है चलना फिरना उठना बैठना और स्टेंगल में अपने आप को झोंकना लोगों के बीच में आना इस सब चीजें वाक्य तो आप अपने शरीर के पीछे रहकर आप ड्राइविंग के रूप से अपने शरीर को आगे प्रेरित करें कि यह तो मेरा यंत्र है सूजन है और यह मेरे मुताबिक पीच कलर होना चाहिए जहां पर भी मैं चाहता हूं शरीर का उपयोग कर सकता हूं रिकॉर्ड गिफ्ट श्री विकास वाहन मिला भाई मेरा शरीर उसके पीछे में है दिल बैठ कर अपना सफर करना चाह रहा हूं तो इसमें किसी प्रकार के आदेश की जरूरत ही नहीं पड़ती आप अपने आपको प्रक्रम में रखें साहसिक बने सहित हूं प्रफुल्लित रहें मांगी तरह तो एक विचारधारा को आराम बार-बार सुनने चिंतनशील हो आपके अंदर सोता ही जागृति आती जाएगी धन्यवाद

aalas man ki hi dasha hai jo matlab accha di ki ve bade aaram se nirantar chahta hai aur vaah aage ki pratikriya nahi karta kyonki bhavishya bahut aage hota hai aur laxmi jeevan ke andar aisa lakshman aata hai aur dusri baat usko man ki sthiti yah hai ki late sankalp hona chahiye aur apne aap ko order mein rakhna chahiye jaise salman khan ne kaha kitchen mein ek baari comments kar deta hoon toh main khud ki bhi nahi sunta batein hai samvaad hai bahut acche hai lekin vaastav mein usme sacchai bhi hoti hai agar aap kisi principal ke sahare mein uth khade hue hai aur aap apni bhumika ko bana rahe hai please bhagwan ke swarup mein utsaah arth mein jagrit ho rahe hai aap apne aap ko introduce karenge sansar ke liye toh aapko yah garima maang ke sankalan karna ki hamein isko dalna hai apne aapko toh hum dusro kya sudhaar sakte hai jab humne khud bsp khud order karke khush ko chalana nahi kaha ja sakta toh is tarah ki khud apni paripakvata ke saath majbuti ke saath sankalp aur aadesh karna chahiye aur man man nahi gumrah karke hamein uska karan kya hai kuch bhi nahi hai toh isse pare jab uthenge iski soch ke daayre ko hai toh wahan par aisi koi cheez nahi hai sangharsh viraam ka sukh deti hai chalna phirna uthna baithana aur stengal mein apne aap ko jhonkana logo ke beech mein aana is sab cheezen vakya toh aap apne sharir ke peeche rahkar aap driving ke roop se apne sharir ko aage prerit kare ki yah toh mera yantra hai sujan hai aur yah mere mutabik peach color hona chahiye jaha par bhi main chahta hoon sharir ka upyog kar sakta hoon record gift shri vikas vaahan mila bhai mera sharir uske peeche mein hai dil baith kar apna safar karna chah raha hoon toh isme kisi prakar ke aadesh ki zarurat hi nahi padti aap apne aapko prakram mein rakhen sahasik bane sahit hoon prafullit rahein maangi tarah toh ek vichardhara ko aaram baar baar sunne chintanashil ho aapke andar sota hi jagriti aati jayegi dhanyavad

आलस मन की ही दशा है जो मतलब अच्छा दी कि वे बड़े आराम से निरंतर चाहता है और वह आगे की प्रति

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  1228
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!