जब मानसिक रूप से बीमार लोग गरीब होते हैं तो मनोवैज्ञानिक इतने महंगे क्यों होते हैं?...


user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब मानसिक रूप से बीमार लोग गरीब होते हैं तो मैं इतनी महंगी क्यों होते हैं ओके मानसिक रूप से बीमार होते हैं गरीबों से वही होते हैं मनोवैज्ञानिक महंगी क्यों होते गवर्नमेंट हॉस्पिटल में मनोवैज्ञानिक गैलरी गवर्नमेंट देते जबकि प्राइवेट में मनोवैज्ञानिक हो या डॉक्टर हो उनके जितने की सीट रहती है ठीक है ओके जो भी चलते में भी सब फ्री सेवा होती है लेकिन उसने सारा खर्चा

jab mansik roop se bimar log garib hote hain toh main itni mehengi kyon hote hain ok mansik roop se bimar hote hain garibon se wahi hote hain manovaigyanik mehengi kyon hote government hospital mein manovaigyanik gallery government dete jabki private mein manovaigyanik ho ya doctor ho unke jitne ki seat rehti hai theek hai ok jo bhi chalte mein bhi sab free seva hoti hai lekin usne saara kharcha

जब मानसिक रूप से बीमार लोग गरीब होते हैं तो मैं इतनी महंगी क्यों होते हैं ओके मानसिक रूप स

Romanized Version
Likes  320  Dislikes    views  4571
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!