जब मानसिक रूप से बीमार लोग गरीब होते हैं तो मनोवैज्ञानिक इतने महंगे क्यों होते हैं?...


user

Anil Maniya

Clinical Psychologist

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आप मानसिक अगर आप मानसिक रूप से बीमार हो तो ऐसा कोई कंपलसरी नहीं है क्या भाई आपको कोई प्राइवेट काहे काट रहे सायकोलॉजी या फिर कोई काउंसलर के पास जाना ना यह तो अभी गवर्नमेंट हॉस्पिटल में विश्वा बराबर होते हैं चाहे काट रहे साइक्लोसिस काउंसलर आपका फ्री हो पेट में होता है तो वहां पर भी अब जा सकते हो

agar aap mansik agar aap mansik roop se bimar ho toh aisa koi compulsory nahi hai kya bhai aapko koi private kaahe kaat rahe saykolaji ya phir koi counselor ke paas jana na yah toh abhi government hospital mein vishva barabar hote hain chahen kaat rahe saiklosis counselor aapka free ho pet mein hota hai toh wahan par bhi ab ja sakte ho

अगर आप मानसिक अगर आप मानसिक रूप से बीमार हो तो ऐसा कोई कंपलसरी नहीं है क्या भाई आपको कोई प

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  109
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब मानसिक रूप से बीमार लोग गरीब होते हैं तो मैं इतनी महंगी क्यों होते हैं ओके मानसिक रूप से बीमार होते हैं गरीबों से वही होते हैं मनोवैज्ञानिक महंगी क्यों होते गवर्नमेंट हॉस्पिटल में मनोवैज्ञानिक गैलरी गवर्नमेंट देते जबकि प्राइवेट में मनोवैज्ञानिक हो या डॉक्टर हो उनके जितने की सीट रहती है ठीक है ओके जो भी चलते में भी सब फ्री सेवा होती है लेकिन उसने सारा खर्चा

jab mansik roop se bimar log garib hote hain toh main itni mehengi kyon hote hain ok mansik roop se bimar hote hain garibon se wahi hote hain manovaigyanik mehengi kyon hote government hospital mein manovaigyanik gallery government dete jabki private mein manovaigyanik ho ya doctor ho unke jitne ki seat rehti hai theek hai ok jo bhi chalte mein bhi sab free seva hoti hai lekin usne saara kharcha

जब मानसिक रूप से बीमार लोग गरीब होते हैं तो मैं इतनी महंगी क्यों होते हैं ओके मानसिक रूप स

Romanized Version
Likes  320  Dislikes    views  4571
WhatsApp_icon
play
user

Ayushi Madaan

Clinical Psychologist

2:13

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आगे कई बार लोग गलत समझ लेते हैं कि टाइप और भी उतनी ही होते हैं अगर हम बात करेंगे तो जैसे मैं जहां पर हूं अभी वहां पर मेरी कंडीशन ऑफ ₹700 एंड ऑफ 40 से 50 मिनट का मीरा एक फैशन होता है तो आगे दिखाइए 2000 3 दिन बाद भी लोग ले लेते हैं साइकिल रुप ले लेते हैं लेकिन और पहले तो यह समझना जरूरी है कि आप भी नंबर दो बाकी मेडिसिन डॉक्टर होते हैं उन पर कम पर ना करें कि वह टेक 10 मिनट आपकी बात सुनते हैं आपकी पिक बेसिक लक्षण जानते हैं और उसके अकॉर्डिंग भी आपको मेडिसिन दे देते हैं लेकिन अगर आपको कभी बिना मेडिसिन की ट्रीटमेंट दिया जा रहा है जिसका कुम साइड इफेक्ट नहीं है तो आपको 1 दिन के पर बिना मेडिसिन की गई और सपोर्ट कर रहा है साइकोथेरेपी दे रहे हैं तो अगर तू प्रोसीजर लंबा है अगर उसने 50 मिनट लग रहे हैं अमृता को महंगा तो सीजन नहीं है क्योंकि अगर आप ₹500 मेडिसिन वाले डॉक्टर को देते हैं और 10 मिनट उनसे बात करते हैं और बाहर जाकर मेडिसन भी खरीदते हैं तो आई थी मगर आप मेडिसिन और मेडिसन के डॉक्टर की दोनों की कन्फर्मेशन और की और जो मेडिसिन का प्राइस उनसे जुड़ेंगे तो वह 15 सो ₹2000 पहुंचेगा जबकि इनका कॉल की शुभ होता है वह अगर आपको 50 मिनट देता है तो इतनी देर में तो एक साथ आए थे उसका कोई और मेडिसिन डॉक्टर अगर देखें तो वह 50 मिनट में पांच विषम देख लेता है तो पंचर कैसे टाइट रखे तो 1 साल कॉलेज की फीस बहुत नॉमिनल है उतनी ज्यादा नहीं है अगर आप एरिया किए जाएंगे तो हां कहीं पर ज्यादा कहीं पर कमजोर है लेकिन अगर आपको चींटी चींटी हो जाए तो कुछ टाइम के लिए अगर आप चाहे तो जवाब बाकी चीजों पर शॉपिंग पर खाने पर और बेफिजूल की चीजों में खर्च कर देते हैं और हम सोचते नहीं हैं कि ₹500 की चीज भी होती है तो एकदम उठाते हैं और ले लेते हैं बिना सोचे तो अगर हम डॉक्टर के ऊपर लगा रहे हैं तो मेरे साथ पर वहां सोचना नहीं चाहिए

aage kai baar log galat samajh lete hain ki type aur bhi utani hi hote hain agar hum baat karenge toh jaise main jaha par hoon abhi wahan par meri condition of Rs and of 40 se 50 minute ka meera ek fashion hota hai toh aage dikhaaiye 2000 3 din baad bhi log le lete hain cycle roop le lete hain lekin aur pehle toh yah samajhna zaroori hai ki aap bhi number do baki medicine doctor hote hain un par kam par na kare ki vaah take 10 minute aapki baat sunte hain aapki pic basic lakshan jante hain aur uske according bhi aapko medicine de dete hain lekin agar aapko kabhi bina medicine ki treatment diya ja raha hai jiska Kum side effect nahi hai toh aapko 1 din ke par bina medicine ki gayi aur support kar raha hai psychotherapy de rahe hain toh agar tu procedure lamba hai agar usne 50 minute lag rahe hain amrita ko mehnga toh season nahi hai kyonki agar aap Rs medicine waale doctor ko dete hain aur 10 minute unse baat karte hain aur bahar jaakar medicine bhi kharidte hain toh I thi magar aap medicine aur medicine ke doctor ki dono ki conformation aur ki aur jo medicine ka price unse judenge toh vaah 15 so Rs pahunchaega jabki inka call ki shubha hota hai vaah agar aapko 50 minute deta hai toh itni der mein toh ek saath aaye the uska koi aur medicine doctor agar dekhen toh vaah 50 minute mein paanch visham dekh leta hai toh puncher kaise tight rakhe toh 1 saal college ki fees bahut nominal hai utani zyada nahi hai agar aap area kiye jaenge toh haan kahin par zyada kahin par kamjor hai lekin agar aapko chinti chinti ho jaaye toh kuch time ke liye agar aap chahen toh jawab baki chijon par shopping par khane par aur befijul ki chijon mein kharch kar dete hain aur hum sochte nahi hain ki Rs ki cheez bhi hoti hai toh ekdam uthate hain aur le lete hain bina soche toh agar hum doctor ke upar laga rahe hain toh mere saath par wahan sochna nahi chahiye

आगे कई बार लोग गलत समझ लेते हैं कि टाइप और भी उतनी ही होते हैं अगर हम बात करेंगे तो जैसे म

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  503
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!