भारत में सबसे ग़रीब राज्य कौन सा हैं?...


user
3:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्तों हाउ आर यू कैसे हैं आप लोग देखें यह तो हमारे सामने आया है कि भारत का कौन सा राज्य गरीब है तू पहले तो हम यह देखेंगे कि गरीबी के बारा मीटर्स किस आधार पर निर्धारित किए जाते हैं और फिर इन पैरामीटर्स के आधार पर राज्यों का डिवीजन कैसे किया गया है सबसे पहली बात है कि गरीबी को निर्धारित करने के लिए कई आधार होते हैं जिसको योजना आयोग द्वारा निर्धारित किया गया है क्या है मतलब अगर स्टेट का टोटल जीडीपी में प्रति व्यक्ति की हिस्सेदारी कितनी कितनी है या एक व्यक्ति की पर कैपिटा इनकम स्थित के जीडीपी के अनुसार किस आधार पर हम गरीबी का आकलन करते हैं तो हम देखते हैं कि सबसे ज्यादा अगर स्टेट पर कैपिटा इनकम की बात करें तो गोवा या फिर तमिलनाड दक्षिण के जितने भी राज्य हैं पर कैपिटा इनकम काफी ज्यादा है और जबकि उत्तर भारत के 2 राज्य है जिसमें बिहार यूपी मध्य प्रदेश उड़ीसा राजस्थान इन राज्यों में पर कैपिटा इनकम काफी कम है तू पहला आधार होता है पर कैपिटा इनकम और स्टेट जीडीपी दूसरा जो गरीबी का आकलन किया जाता है उसमें होता है कि वहां पर इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट की स्थिति क्या है और रोजगार की संभावना या उपलब्धता की स्थिति क्या है इस आधार पर हम देखते हैं तो फिर वही हमें स्थिति दिखती है कि उत्तरी क्षेत्रों में इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कम है और ज्यादातर लोग अभी भी प्राथमिक क्षेत्र पर नियोजित है या कृषि के ऊपर निर्भर है जिसके कारण उनकी जो इनकम है ज्ञान कम का स्त्रोत है वह केवल कृषि पर आधारित होता है और उत्पादन गतिविधियां जोशी के अलावा अन्य क्षेत्रों में इंडस्ट्रियल क्षेत्रों में कम होते हैं इसीलिए रोजगार कम है और किसके कारण जो है लोगों की उत्पादन क्षमता कम होने के कारण गरीबी का स्तर ज्यादा पाया जाता है इसीलिए उत्तर भारत के राज्यों में गरीबी ज्यादा है और दक्षिण भारत के राज्यों में गरीबी का स्तर कम है तीसरा जो नापा जाता है पैरामीटर वह है शिक्षा की स्थिति के आधार पर की किसी भी राज्य में शिक्षा की स्थिति कैसी है तो हम देखते हैं कि जो लिटरेसी रीत का निर्धारण होता है कि दक्षिण भारत के राज्यों में साक्षरता की स्थिति बहुत अच्छा है और जिन राज्यों में साक्षरता बेहतर है वहां का जो सोशल मूवमेंट्स में लिंगानुपात की स्थिति मानी जाती है इसके अलावा कुछ राज्य में लोगों के बीच में नोट की स्थिति है वह दक्षिण भारत के राज्यों में लिंगानुपात उत्तर भारत के राज्यों से बेहतर पाया जाता है और लायन आर्डर की स्थिति पर भी यह राज्य बेहतर परफॉर्मेंस करते हैं तो किसी भी राज्य की गरीबी का मापन करना है तो फिर हम सोशल इकोनामिक और वहां के जो जो सांप्रदायिक आधार पर जो मिल तालमेल होता है मेलजोल होता है शांति व कानून व्यवस्था के आधार पर हम अंकन करते हैं कि किसी राज्य में किस स्तर पर गरीबी है और कौन सा राज्य पशु नीति आयोग ने अपने एक नौकर ने स्टेट ऑफ इंडेक्स रिपोर्ट जारी की है जिसमें इन पैरामीटर्स को नापा है और देखा है कि कुछ जो भारत के बीमारू राज्य है जिसमें उत्तर भारत के सभी राज्यों को लिया जाता है तो वह भी नहीं गरीबी की स्थिति में जी रहे हैं और इन राज्यों के लिए विशेष होकर के विशेष प्रावधानों का इंतजाम किया गया

hello doston how R you kaise hain aap log dekhen yah toh hamare saamne aaya hai ki bharat ka kaun sa rajya garib hai tu pehle toh hum yah dekhenge ki garibi ke bara metres kis aadhaar par nirdharit kiye jaate hain aur phir in parameters ke aadhaar par rajyo ka division kaise kiya gaya hai sabse pehli baat hai ki garibi ko nirdharit karne ke liye kai aadhaar hote hain jisko yojana aayog dwara nirdharit kiya gaya hai kya hai matlab agar state ka total gdp mein prati vyakti ki hissedaari kitni kitni hai ya ek vyakti ki par capita income sthit ke gdp ke anusaar kis aadhaar par hum garibi ka aakalan karte hain toh hum dekhte hain ki sabse zyada agar state par capita income ki baat kare toh goa ya phir tamilnad dakshin ke jitne bhi rajya hain par capita income kaafi zyada hai aur jabki uttar bharat ke 2 rajya hai jisme bihar up madhya pradesh odisha rajasthan in rajyo mein par capita income kaafi kam hai tu pehla aadhaar hota hai par capita income aur state gdp doosra jo garibi ka aakalan kiya jata hai usme hota hai ki wahan par Industrial development ki sthiti kya hai aur rojgar ki sambhavna ya upalabdhata ki sthiti kya hai is aadhaar par hum dekhte hain toh phir wahi hamein sthiti dikhti hai ki uttari kshetro mein Industrial development kam hai aur jyadatar log abhi bhi prathmik kshetra par niyojit hai ya krishi ke upar nirbhar hai jiske karan unki jo income hai gyaan kam ka satrot hai vaah keval krishi par aadharit hota hai aur utpadan gatividhiyan joshi ke alava anya kshetro mein Industrial kshetro mein kam hote hain isliye rojgar kam hai aur kiske karan jo hai logo ki utpadan kshamta kam hone ke karan garibi ka sthar zyada paya jata hai isliye uttar bharat ke rajyo mein garibi zyada hai aur dakshin bharat ke rajyo mein garibi ka sthar kam hai teesra jo napa jata hai parameter vaah hai shiksha ki sthiti ke aadhaar par ki kisi bhi rajya mein shiksha ki sthiti kaisi hai toh hum dekhte hain ki jo literacy reet ka nirdharan hota hai ki dakshin bharat ke rajyo mein saksharta ki sthiti bahut accha hai aur jin rajyo mein saksharta behtar hai wahan ka jo social muvaments mein linganupat ki sthiti maani jaati hai iske alava kuch rajya mein logo ke beech mein note ki sthiti hai vaah dakshin bharat ke rajyo mein linganupat uttar bharat ke rajyo se behtar paya jata hai aur lion order ki sthiti par bhi yah rajya behtar performance karte hain toh kisi bhi rajya ki garibi ka maapan karna hai toh phir hum social economic aur wahan ke jo jo sampradayik aadhaar par jo mil talmel hota hai meljol hota hai shanti va kanoon vyavastha ke aadhaar par hum ankan karte hain ki kisi rajya mein kis sthar par garibi hai aur kaun sa rajya pashu niti aayog ne apne ek naukar ne state of index report jaari ki hai jisme in parameters ko napa hai aur dekha hai ki kuch jo bharat ke Bimaru rajya hai jisme uttar bharat ke sabhi rajyo ko liya jata hai toh vaah bhi nahi garibi ki sthiti mein ji rahe hain aur in rajyo ke liye vishesh hokar ke vishesh pravdhano ka intajam kiya gaya

हेलो दोस्तों हाउ आर यू कैसे हैं आप लोग देखें यह तो हमारे सामने आया है कि भारत का कौन सा रा

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  159
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!