NGO के द्वारा बैंक खातें खोलने से भारत की मदद कैसे होगी?...


user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोहरम दिखे तो होम मिनिस्ट्री ऑफ यूनियन मिनिस्टर ऑफ स्टेट फॉर होम किरेन रिजिजू ने यह चीज बताई थी कि जितने NGO है या बिज़नस इन टाइटंस है या जितने भी लोग हैं जिन्हें बाहर से पंडित मिल रहे हैं यह कह सकते हो भारत को छोड़कर बाकी देशों से स्वर्ण जो मिल रहे हैं उन्हें अकाउंट खोलना पड़ेगा सरकार ने 132 बैंक की लिस्ट दिया जा पर एनजीओ जा बिजनेस एनटीटी या फिर वह लोग जिंहें फंड बाहर से मिलता है वह 32 बैंकों में अपना अकाउंट खोलेंगे जिनमें से एक फॉरेन बैंक के 1 महीने के अंदर मेरे हिसाब से यह इसलिए उन्होंने भारत भर से कर रहे हैं ऐसा किया है ताकि इससे ट्रांसपेरेंसी रहे और इसे सरकार देख पर कितने पैसे कहा से मिल रहा है किससे मिल रहा है और कितना मिल रहा है क्योंकि अगर हम देखें पहले कैसे एनजीओ को बहुत सारे फल मिलते थे और इसे घोटाले वह भी सकते थे इस सेट टॉप देना भी NGO और टाइम देने से भी भक्त होता तो मेरे हिसाब से NGO के द्वारा बैंक खाते बोलने से भारत को बहुत मदद मिलेगी इससे ट्रांसफर ऐसे लेवल बढ़ जाएगा और इसे भारत को पता चलेगा कि इनमें से क्या फर्क इस साल इस्तेमाल हो रहा है या फिर ओपन से ऐसे कोई गतिविधिया तो नहीं हो रही जगदीश के खिलाफ हो

moharam dikhe toh home ministry of union minister of state for home kiren rijiju ne yah cheez batai thi ki jitne NGO hai ya business in taitans hai ya jitne bhi log hain jinhen bahar se pandit mil rahe hain yah keh sakte ho bharat ko chhodkar baki deshon se swarn jo mil rahe hain unhe account kholna padega sarkar ne 132 bank ki list diya ja par ngo ja business ntt ya phir vaah log jinhen fund bahar se milta hai vaah 32 bankon mein apna account kholenge jinmein se ek foreign bank ke 1 mahine ke andar mere hisab se yah isliye unhone bharat bhar se kar rahe hain aisa kiya hai taki isse transparency rahe aur ise sarkar dekh par kitne paise kaha se mil raha hai kisse mil raha hai aur kitna mil raha hai kyonki agar hum dekhen pehle kaise ngo ko bahut saare fal milte the aur ise ghotale vaah bhi sakte the is set top dena bhi NGO aur time dene se bhi bhakt hota toh mere hisab se NGO ke dwara bank khate bolne se bharat ko bahut madad milegi isse transfer aise level badh jaega aur ise bharat ko pata chalega ki inmein se kya fark is saal istemal ho raha hai ya phir open se aise koi gatividhiya toh nahi ho rahi jagdish ke khilaf ho

मोहरम दिखे तो होम मिनिस्ट्री ऑफ यूनियन मिनिस्टर ऑफ स्टेट फॉर होम किरेन रिजिजू ने यह चीज बत

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  22
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!